Cotton: कॉटन क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

परिचय

कॉटन ( Cotton) क्या है?

कॉटन एक पेड़ है, जिसकी छाल और बीज का इस्तेमाल दवाइयों को बनाने के लिए किया जाता है। इसका वानास्पतिक नाम गॉसिपिअम हर्बेसिअम (Gossypium herbaceum) है। हिंदी में इसे कपास कहते हैं। ये मालवेसी (Malvaceae) प्रजाती का पौधा है। औषधीय गुणों से भरपूर कपास का प्रयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। इसके पत्ते हरे और फूल हल्के सफेद या पीले रंग के होते हैं। इसके पत्तों को कान के दर्द, कान का बहना और  यूरिन इंफेक्शन आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा, ये  कफ, थकान और जलन को दूर करने के लिए भी किया जाता है। कई लोग इसके अर्क का काढ़ा बनाकर भी पीते हैं।

आधा कप (118 ग्राम) कॉटन की पत्तियों में 277 कैलोरी, 7 ग्राम फैट, 501 मिली ग्राम सोडियम, 908 ग्राम पोटेशियम, 38 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 8 ग्राम डायटरी फाइबर, 19 ग्राम शुगर, 25 ग्राम प्रोटीन, 15% विटामिन ए, 113% विटामिन सी, 57% कैल्शियम और  40% आयरन होता है।

कॉटन का उपयोग किस लिए किया जाता है?

सांस की बीमारी को दूर करता है:

कॉटन की पत्तियों को अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, खांसी, गले में संक्रमण और सांस संबंधित परेशानियों के लिए पारंपरिक हर्बल औषधि के रूप में किया जाता है। यह श्वसन रोगों के लिए एक असरदार दवा है क्योंकि, इसमें हीलिंग प्रोपर्टिज होती हैं, जो रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट के संक्रमण को ठीक करता है।

त्वचा की परेशानियों को दूर करता है:

कॉटन हर्ब में एस्ट्रिंजेंट, एंटी बैक्टीरियलऔर एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। ये स्किन संबंधित परेशानी जैसे घाव, फोड़े, चकत्ते, कीड़े के काटने, दाने, एक्जिमा, मुंहासे, और सूजन के इलाज में कारगर है। 

स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए :

स्तनपान कराने वाली महिलाएं इसे चाय के तौर पर लेती हैं। कई शोध में पता चला है कि कॉटन की पत्तियां ब्रेस्टमिल्क बनाने का काम करती हैं।

मासिक धर्म संबंधित परेशानियां:

महिलाएं मासिक धर्म संबंधित परेशानियां और मेनोपोज के लक्षणों में भी कपास का इस्तेमाल लाभदायक होता है।

बुखार:

बुखार में इसके बीजों का काढ़ा पीना काफी फायदेमंद माना जाता है।

लकवा :

लकवा से पीड़ित व्यक्ति का उपचार करने के लिए कॉटन की सूखी जड़ फायदेमंद मानी जाती है। 

सिर दर्द :

आयुर्वेद में भी कपास का इस्तेमाल कई बीमारियों के लिए किया जाता है। इसमें सिर दर्द भी शामिल है। इसके लेप से सिर दर्द में आराम मिलता है।

पुरुषों में बर्थ कंट्रोल :

कई पुरुषों बर्थ कंट्रोल के तौर पर कॉटन का प्रयोग करते हैं। कई बर्थ कंट्रोल प्रोडक्ट्स जो वेजाइना में लगाए जाते हैं, उनमें भी कॉटन का प्रयोग होता है।

इन बीमारियों में भी मददगार

  • जी मिचलाना
  • सिर दर्द
  • दस्त
  • नसों में दर्द
  • ब्लीडिंग
  • पथरी
  • कब्ज
  • गैस्ट्रिक प्रोब्ल्म
  • आंखों और कान के दर्द
  • बवासीर
  • मूत्र संबंधित परेशानियां

कैसे काम करता है कॉटन?

कपास के फूलों में अधिक मधुर रस (nectar) होता है जो मधुमक्खियों को आकर्षित करता है। ये तीन महत्वपूर्ण तत्वों वात, पित्त और कफ संबंधित रोगों को नियंत्रित कर हमारे स्वास्थ्य को संतुलित रखने का काम करता है।

ये भी पढ़ें: Black Pepper : काली मिर्च क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है कॉटन का उपयोग ?

  • प्रेग्नेंट महिलाएं इसका सेवन न करें।
  • अगर आप कोई दूसरी दवाइयां खा रहे हैं तो भी इसका सेवन न करें।
  • किडनी संबंधित कोई परेशानी है तो  इसका परहेज करें।
  • रिप्रोडक्टिव सिस्टम में किसी तरह की परेशानी है तो भी इससे दूरी बनाकर रखें।

ये भी पढ़ें: जेलेटिन क्या है?

साइड इफेक्ट्स

कॉटन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • कपास का सेवन करने से साइड इफेक्ट्स की संभावना तो नहीं है। इसे अधिक मात्रा में लेना नुकसानदाक हो सकता है।
  • इसकी पत्तियों से रेचक प्रभाव और दस्त हो सकते हैं।
  • मेल इनफर्टिलिटी

ये भी पढ़ें: Green Coffee : ग्रीन कॉफी क्या है?

डोजेज

कॉटन को लेने की सही खुराक क्या है?

इस बारे में कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है कि कॉटन पत्तियों को कितनी मात्रा में लेना चाहिए। ये मरीज की उम्र, स्वास्थ्य और अन्य चिकित्सा कारकों पर निर्भर करता है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कॉटन की पत्तियां समेत किसी भी हर्बल सप्लिमेंट का सेवन लापरवाही के साथ न करें। ये आपके लिए मुसीबत को दावत दे सकता है। इसको लेने से पहले एक बार अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से एक बार जरूर परामर्श करें, तभी इसका सेवन करें।

ये भी पढ़ें: सहजन क्या है? 

उपलब्ध

कॉटन किन रूपों में उपलब्ध है?

  • पाउडर
  • तेल
  • टिंचर
  • इन्फ्यूजन

ये भी पढ़ें: Jasmine : चमेली क्या है?

रिव्यू की तारीख सितम्बर 16, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 19, 2019