Pomegranate During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में अनार का सेवन करना क्या होता है फायदेमंद!

    Pomegranate During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में अनार का सेवन करना क्या होता है फायदेमंद!

    प्रेग्नेंसी के दौरान खानपान का विशेष तौर पर ख्याल रखना पड़ता है। प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन होते हैं और साथ ही शरीर को अधिक पोषक तत्वों की जरूरत पड़ती है। ऐसे में शरीर में न्यूट्रिशन की जरूरत को पूरा करने के लिए महिला को खाने में उन सभी फूड्स को शामिल करना चाहिए, जो प्रेग्नेंसी के दौरान नुकसान न पहुंचाय और पोषक तत्वों से भरपूर हो। प्रेग्नेंसी के दौरान फ्रेश फ्रूट्स और फ्रेश वेजिटेबल्स खाने की सलाह दी जाती है। आपको खाने में फूड्स और वेजिटेबल्स को जरूर शामिल करना चाहिए, जो विभिन्न प्रकार के माइक्रोन्यूट्रिएंट्स की कमी को पूरा करने के साथी आपकी क्रेविंग को भी मिटा सके। प्रेग्नेंसी में अनार (Pomegranate During Pregnancy) का सेवन फायदेमंद होता है। महिलाओं के मन में प्रेग्नेंसी के दौरान ये शंका बनी रहती है कि कहीं कोई फल या सब्जी उन्हें नुकसान न पहुंचाय। आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी में अनार (Pomegranate During Pregnancy) के बारे में विस्तार से।

    और पढ़ें: बी बेली प्रेग्नेंसी क्या है और किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?

    प्रेग्नेंसी में अनार (Pomegranate During Pregnancy)

    प्रेग्नेंसी में अनार (Pomegranate During Pregnancy)

    अनार भले ही फलों का राजा न हो लेकिन पौष्टिक फलों में से एक है। इसका बॉटेनिकल नेम प्यूनिका ग्रेनेटम (Punica granatum) है। इस फल का रंग चटक लाल होता हो और साथ ही इनके अंदर बहुत सारे दाने होते हैं, जो रस से भरे होते हैं। अनार के फल का सेवन किसी भी बीमारी के दौरान किया जा सकता है। इसके फल के साथ इसके पत्ते, छाल, बीज, फूल, जड़ आदि का इस्तेमाल भी किया जाता हैं। आयुर्वेद में अनार को बहुत फायदेमेंद बताया गया है। अनार में विटामिन सी (Vitamin C), फॉस्फोरस, फाइबर (Fiber), कैल्शियम (Calcium), आयरन आदि न्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं। एक कप अनार में 7 ग्राम फाइबर, 3 ग्राम प्रोटीन, 30 % विटामिन-सी, 36% विटामिन-के, 16% फोलेट, 12% पोटेशियम होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अनार (Pomegranate During Pregnancy) बहुत फायदेमंद होता है। जानिए अनार में क्या खूबिया होती है।

    आयरन से भरपूर होता है अनार

    अनार विटामिन सी का एक अच्छा सोर्स होता है। गर्भवती महिला के लिए विटामिन सी बहुत जरूरी होता है क्योंकि ये आयरन के सिंथेसिस में मदद करता है। प्रेग्नेंसी के दौरान आयरन सप्लिमेंट्स की जरूरत होती है। आयरन और विटामिन सी की कमी को पूरा करने के साथ ही अनार एनीमिया जैसी गंभीर बीमारी से भी दूर रखने का काम करता है आपको प्रेगनेंसी के दौरान अनार का सेवन जरूर करना चाहिए

    और पढ़ें: क्या आपको पता है कि आरएच फैक्टर टेस्ट और प्रेग्नेंसी में क्या संबंध है?

    पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है फाइबर

    प्रेग्नेंसी के दौरान कब्ज की समस्या आम होती है। कब्ज की समस्या से निपटने के लिए फाइबर का पर्याप्त मात्रा में सेवन जरूरी होता है। अनार में पर्याप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है। फाइबर का सेवन करने से जहां एक और डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक रहता है, वहीं दूसरी ओर आपको कई परेशानियों से छुटकारा भी मिलता है। प्रेग्नेंसी में कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर फ्रेश वेजिटेबल्स के साथ ही फ्रूट्स और छिलके युक्त आहार को खाने की सलाह देते हैं। आपको फ्रूट्स का सेवन रोजाना जरूर करना चाहिए। आप फ्रूट्स में अनार भी शामिल कर सकते हैं।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग क्या है?

    फ्री रेडिकल्स से लड़ने में करता है मदद

    विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाओं के परिणामस्वरूप शरीर में बनने वाले फ्री रेडिकल्स वेस्ट प्रोडक्ट होते हैं। कुछ तो शरीर से बाहर निकल जाते हैं लेकिन कुछ शरीर में ही रह जाते हैं और हेल्दी सेल्स के साथ ही डीएनए मॉलीक्यूल के साथ इंटरेक्ट करते हैं। ये शरीर को आंतरिक रूप से नुकसान पहुंचाने के साथ ही प्लासेंटा को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। फ्री रेडिकल्स से लड़ने के लिए एंटीऑक्सिडेंट्स जरूरी होते हैं। अनार एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं। अनार में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट सेल्स को किसी भी तरह के नुकसान की मरम्मत में मदद कर सकते हैं और बच्चे के मस्तिष्क को किसी भी नुकसान से बचा सकते हैं।

    और पढ़ें: Subchorionic Bleeding During Pregnancy: प्रेग्नेंसी के दौरान इस ब्लीडिंग का आखिर क्या होता है मतलब?

    ऐंठन की समस्या से मिलती है राहत

    ऐंठन की समस्या प्रेग्नेंसी के दौरानआम समस्या होती है। क्रैम्प की समस्या से बचने के लिए खाने में पोटेशियम युक्त आहार लेना बहुत जरूरी होता है। अनार में पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है। अगर आप रोजाना हफ्ते में तीन से चार बार अनार का जूस पीते हैं, तो आपको प्रेग्नेंसी के दौरान ऐंठन की समस्या से राहत मिल सकती है।

    और पढ़ें: Pregnancy Symptoms: कितना सामान्य है प्रेग्नेंसी के लक्षणों का आना-जाना?

    फोलेट का है अच्छा सोर्स

    प्रेग्नेंसी के दौरान फोलेट का सेवन बहुत जरूरी होता है क्योंकि ये बेबी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अनार में फोलेट पाया जाता है। अनार के रस से रोजाना की जरूरत के मुताबिक फोलेट की आवश्यक मात्रा पाई जाती है।ये जरूरत का 10% पूरा हो सकता है, इसलिए इसे अपने गर्भावस्था में अनार का सेवन जरूर करना चाहिए।

    स्ट्रेस को करता है दूर

    अनार में कई ऐसे तत्व होते हैं जो स्ट्रेस को दूर करने में मदद करते हैं। शरीर में तनाव का स्तर बढ़ने से कई तरह की शारीरिक व मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। प्रेग्नेंसी के दौरान तनाव न केवल मां पर बुरा असर डालता है बल्कि ये होने वाले बच्चे के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। इसके लिए रोजाना अनार का सेवन करें।आप चाहे तो इस बारे में डॉक्टर से भी जानकारी ले सकते हैं।

    किसी भी चीज का अधिक सेवन करने से उसके नुकसान भी हो सकते हैं। जैसा कि इस आर्टिकल में हमने आपको अनार के फायदों के बारे में बताया है लेकिन अगर आप अनार को अधिक मात्रा में खाते हैं तो हो सकता है कि आपको कुछ नुकसान भी हो। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने खाने में अनार को शामिल करें लेकिन इसकी अधिक मात्रा का रोजाना सेवन ना करें। अगर आपको अनार से संबंधित अधिक जानकारी चाहिए, तो आप डॉक्टर से भी इस बारे में परामर्श कर सकते हैं।

    इस आर्टिकल में हमने आपको प्रेग्नेंसी में अनार (Pomegranate During Pregnancy) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/01/2022 को
    Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड