आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) करना है बेहद जरूरी, इन बातों का रखें विशेष ख्याल

    अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) करना है बेहद जरूरी, इन बातों का रखें विशेष ख्याल

    अबॉर्शन जब सामान्य होता जा रहा है। अबॉर्शन दो प्रकार का होता है दवा से होने वाला अबॉर्शन जिसे मेडिकल अबॉर्शन कहते हैं और सर्जिकल एबॉर्शन। महिला प्रेग्नेंसी के 10वे वीक में पहुंचने से पहले पिल का यूज कर सकती है। इसके बाद सर्जिकल अबॉर्शन ऑप्शन की मदद लेनी पड़ती है। भले ही महिला अबॉर्शन पिल या सर्जिकल ऑप्शन को अपनाएं दोनों में ही देखभाल की जरूरत पड़ती है। अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) बहुत जरूरी है। फिर चाहे वह फिजिकल केयर हो या मेंटल केयर।

    एक क्लिनिक के अंदर एक लाइसेंस प्राप्त मेडिकल प्रोफेशनल की देखरेख में होने वाला गर्भपात आमतौर पर कुछ जटिलताओं के साथ सुरक्षित प्रक्रिया होती है। हालांकि, कई महिलाओं को कुछ साइड इफेक्ट्स का अनुभव होगा, जिनमें पेट में ऐंठन, लाइट वजायनल ब्लीडिंग, मतली, स्तनों में दर्द और थकान शामिल हैं। ऐसे में अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) जरूरी हो जाती है। इसके साथ ही कई महिलाएं मेंटल ट्रॉमा से भी गुजरती हैं। उनको सपोर्ट करना और उनका ख्याल रखना पार्टनर और परिवार के लोगों के लिए जरूरी हो जाता है।

    अबॉर्शन के बाद होने वाली ब्लीडिंग (Bleeding after abortion)

    कई महिलाएं अबॉर्शन के बाद ब्लीडिंग का अनुभव करती हैं। इस दौरान लाइट से हैवी स्पॉटिंग हो सकती है। इसके साथ ब्लड क्लॉट पास होना भी सामान्य है। कई बार बड़े ब्लड क्लॉट्स भी पास होते हैं, लेकिन अगर 12 घंटे तक लगातार हैवी ब्लीडिंग होती है और हर घंटे दो पैड से ज्यादा बदलने पड़ रहे हैं तो यह कॉम्प्लिकेशन का संकेत हो सकता है। अगर ब्लड का कलर ब्राइट रेड है और ब्लीडिंग के साथ ही लगातार दर्द हो रहा है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसलिए जरूरी है कि पार्टनर या कोई फैमिली मेंबर महिला के साथ रहे और अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) करे।

    और पढ़ें: गर्भावस्था में शतावरी के सेवन से कम हो सकती है मिसकैरिज की संभावना!

    अबॉर्शन के बाद सेक्स (Sex after abortion)

    अबॉर्शन के बाद केयर

    किसी प्रकार के अबॉर्शन प्रॉसीजर का उपयोग किया गया हो। ऐसी सलाह दी जाती है कि अबॉर्शन के बाद सेक्स के लिए दो हफ्ते इंतजार करना चाहिए। इसके साथ ही वजायना में कोई भी इंसर्सन नहीं करना चाहिए। अगर आप अबॉर्शन के बाद अनप्रोटेक्टेड सेक्स करते हैं तो डॉक्टर से इस बारे में बात करें कि प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए क्या करना चाहिए। अगर अबॉर्शन के बाद सेक्स के बाद तेज दर्द होता है तो डॉक्टर से संपर्क करें। अबॉर्शन के बाद जब तब महिला पूरी तरह अच्छा महसूस नहीं करती तब तक उस पर सेक्स के लिए दवाब ना बनाएं।

    अबॉर्शन और साइड इफेक्ट्स (Abortion and side effects)

    • अबॉर्शन के नॉर्मल साइड इफेक्ट्स में निम्न शामिल हैं।
    • एब्डोमिनल पेन
    • लाइट वजायनल ब्लीडिंग
    • ब्रेस्ट पेन
    • थकान

    हालांकि मेडिकल और सर्जिकल दोनों तरह के गर्भपात को आमतौर पर सुरक्षित माना जाता है, लेकिन कभी-कभी ये गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकते हैं।

    सबसे आम जटिलताओं में से एक संक्रमण है। यह इनकंप्लीट अबॉर्शन या वजायना में बैक्टीरिया एक्सपोज के कारण हो सकता है, जैसे कि बहुत जल्दी सेक्स करना। सेक्स करने के लिए प्रतीक्षा करके और टैम्पोन के बजाय पैड का उपयोग करके संक्रमण के जोखिम को कम किया जा सकता है।

    और पढ़ें: मिसकैरिज से रिकवरी के लिए भावनात्मक सहयोग है जरूरी, इन चीजों का भी रखें ध्यान

    संक्रमण के लक्षण (Infections symptoms)

    संक्रमण के लक्षणों में स्ट्रॉन्ग स्मेलिंग वजायनल डिस्चार्ज, बुखार और गंभीर पेल्विक पेन शामिल है। अगर समय पर संक्रमण का इलाज ना किया जाए तो पेल्विक इंफ्लामेटरी डिजीज हो सकती है, इसलिए जैसे ही लक्षण दिखाई दें, इलाज के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। गर्भपात से या बाद में एक महिला को जिन अन्य संभावित जटिलताओं का अनुभव हो सकता है उनमें शामिल हैं:

    • इंकम्प्लीट या असफल गर्भपात जिसमें भ्रूण के कुछ टिशूज अभी भी गर्भाशय में हैं या जो अभी भी पूरी तरह से बाहर नहीं आए हैं। ये गंभीर मेडिकल कॉम्पिलकेशन का कारण बन सकता है।
    • यूटेराइन इंफेक्शन जिसमें गंभीर एब्डोमिनल पेन, ब्लीडिंग और फीवर होता है।
    • सेप्टिक शॉक जिसके लक्षणों में फीवर, ठंड लगना, एब्डोमिनल पेन और लो ब्लड प्रेशर शामिल है।

    ऊपर बताए गए लक्षणों के दिखाई देने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

    और पढ़ें: गर्भपात के बाद कब प्लान कर सकती हैं प्रेग्नेंसी?

    अबॉर्शन के बाद केयर कैसे करें? (How to take care after abortion?)

    अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) कैसे करें इसको लेकर डॉक्टर इंस्ट्रक्शन प्रदान करते हैं। कई बार यह अबॉर्शन के बाद होने वाले साइड इफेक्ट्स को कम करने के लिए पर्याप्त नहीं होता है। साइड इफेक्ट्स को कम करने के लिए और अबॉर्शन के बाद कंफर्ट को बढ़ाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) के लिए आप निम्न टिप्स को अपना सकते हैं।

    • हीटिंग पैड्स का यूज करें जो दर्द को कम कर सकते हैं
    • अगर आप उल्टी या डायरिया का अनुभव कर रहे हैं तो हायड्रेटेड रहने की कोशिश करें।
    • अपने पास एक इमोशनल सिस्टम जरूर रखें क्योंकि अक्सर हॉर्मोनल चेंजेस की वजह से इमोशनल बदलाव होते हैं।
    • अगर संभव हो सके तो एक से दो दिन पूरी तरह आराम करें ताकि आप अपने घर पर आसानी से रिकवर कर सके।
    • डॉक्टर की सलाह पर क्रैम्प के लिए पेन किलर लें। जिससे दर्द से लड़ने में राहत मिलेगी।
    • इस दौरान क्या आप मसाज करवा सकती हैं इसके बारे में डॉक्टर से सलाह लें। मसाज रिलैक्स करने का एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है।

    अबॉर्शन के बाद बर्थ कंट्रोल का उपयोग करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान (Keep these things in mind while using birth control after abortion)

    गर्भपात होने के लगभग तुरंत बाद आप गर्भवती हो सकती हैं, इसलिए गर्भधारण से बचने के लिए आपको तुरंत गर्भनिरोधक का उपयोग करना चाहिए। यदि आप गर्भपात के तुरंत बाद गर्भनिरोधक शुरू नहीं करती हैं, तो तब तक यौन संबंध बनाने की प्रतीक्षा करें जब तक कि आप गर्भनिरोधक का अपना पहला सप्ताह पूरा नहीं कर लेतीं या कंडोम जैसे बैकअप गर्भनिरोधक का उपयोग नहीं करतीं। यदि आपके डॉक्टर ने एक आईयूडी डाला है, तो यह तुरंत गर्भावस्था को रोकना शुरू कर देगा, हालांकि आपको गंभीर संक्रमण से बचने के लिए अभी भी दो सप्ताह इंतजार करना चाहिए।

    और पढ़ें: क्या गर्भावस्था में केसर का इस्तेमाल बन सकता है गर्भपात का कारण?

    उम्मीद करते हैं कि आपको अबॉर्शन के बाद केयर (After Abortion Care) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Abortion/plannedparenthood.org/learn/abortion/ Accessed on 22/06/2022

    Abortion/https://www.who.int/news-room/fact-sheets/detail/abortion/Accessed on 22/06/2022

    What Are the Types of Abortion Procedures?/https://www.webmd.com/women/abortion-procedures/Accessed on 22/06/2022

    Unsafe Abortion: Unnecessary Maternal Mortality/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2709326/Accessed on 22/06/2022

    Abortion/https://medlineplus.gov/abortion.html/Accessed on 22/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड