home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Mifepristone : मिफेप्रिस्टोन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

मिफेप्रिस्टोन Mifepristone) का उपयोग किसलिए किया जाता है?|मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के इस्तेमाल से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?|मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के इस्तेमाल से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?|कौन सी दवाएं मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?|डॉक्टर की सलाह
Mifepristone : मिफेप्रिस्टोन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

मिफेप्रिस्टोन Mifepristone) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

मिफेप्रिस्टोन (जिसे आरयू 486 भी कहा जाता है), प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में अबॉर्शन (Abortion) के लिए इस्तेमाल की जाती है। यह प्रेग्नेंसी के 10 हफ्तों (मेंस्ट्रुअल पीरियड के पहले दिन के बाद से 70 दिनों तक) तक इस्तेमाल की जाती है। मिफेप्रिस्टोन नैचुरल प्रोजेस्टेरॉन को ब्लॉक करती है जो कि प्रेग्नेंसी को आगे बढ़ाने के लिए जरूरी होता है। आमतौर पर यह दूसरी दवा मिसोप्रोस्टॉल के साथ इस्तेमाल की जाती है।

मिफेप्रिस्टोन को असामान्य प्रेग्नेंसी जोकि गर्भाशय के बाहर (जिसे एक्टोपिक प्रेग्नेंसी कहते हैं) होती है में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस स्थिति में अबॉर्शन नहीं होगा।

मैं मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) को कैसे इस्तेमाल करूं?

संपूर्ण इलाज और जरूरी जांच के लिए आपको डॉक्टर के पास कम से कम दो बार जाना चाहिए। क्लिनिक या हॉस्पिटल में यह ट्रीटमेंट केवल मेडिकल देखरेख में दिया जाता है। इमरजेंसी की स्थिति में क्या करना है? इस बारे में डॉक्टर द्वारा बताए गए निर्देशों को ठीक से समझ लें।

आपकी प्रेग्नेंसी 10 हफ्तों से कम की ना हो और यह एक्टोपिक प्रेग्नेंसी यानी गर्भाशय के बाहर की प्रेग्नेंसी है या नहीं, इस बात को जानने के लिए डॉक्टर एक अल्ट्रासाउंड कर सकता है।

डॉक्टर के निर्देश के मुताबिक सामान्य रूप से मिफेप्रिस्टोन की एक खुराक लें। मिफेप्रिस्टोन को लेने के बाद दूसरी दवा (मिसोप्रोस्टॉल) की एक खुराक लेने के लिए डॉक्टर को 24 से 48 घंटे इंतजार करने का आपको निर्देश देना चाहिए। अगर आप मिफेप्रिस्टोन लेने के 24 घंटे के भीतर या लेने के 48 घंटे के बाद मिसोप्रोस्टॉल को लेते हैं तो मिफेप्रिस्टोन ठीक से काम नहीं करती है। अपने डॉक्टर के निर्देशों को सावधानी से फॉलो करें। वजायना से ज्यादा ब्लीडिंग होने का यह मतलब नहीं कि अबॉर्शन पूरा हो गया है।

जब तक डॉक्टर ना कहे तब तक इस दवा का इस्तेमाल करते समय मौसंबी के जूस से दूर रहें।

अगर आपको कोई समस्या नहीं है तब भी मिफेप्रिस्टोन लेने के 7 से 14 दिन बाद आप डॉक्टर पास जरूर जाएं।

अगर अबॉर्शन नहीं होता है या पूरा नहीं होता है या गंभीर मेडिकल समस्या आती है तो सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है। अगर ट्रीटमेंट फेल हो जाता है और प्रेग्नेंसी बनी रहती है तो बच्चे को खतरा हो सकता है।

मैं मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) को कैसे स्टोर करूं?

मिफेप्रिस्टोन को प्रकाश और नमी से दूर कमरे के तापमान पर स्टोर करना बेहतर होता है। मिफेप्रिस्टोन को कभी भी बाथरूम या ठंडी जगह में न रखें। मार्केट में मिफेप्रिस्टोन के अलग-अलग ब्रांड हैं जिन्हें स्टोर करने के लिए दिशा-निर्देश भी अलग-अलग हो सकते हैं। जब भी मिफेप्रिस्टोन खरीदें सबसे पहले उसके पैकेज पर लिखे जरूरी निर्देशों को अच्छे से पढ़े या फिर अपने फार्मासिस्ट से इसके बारे में पूछें।

सुरक्षा के लिहाज से आपको इसे बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। बिना निर्देश के मिफेप्रिस्टोन को टॉयलेट या किसी नाले में न फेकें। अगर यह एक्सपायर हो चुका है या इसका इस्तेमाल नहीं करना है तो इसे नष्ट कर दें। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने फार्मासिस्ट से संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- जब जानवर घर पर हो तो शिशु की सुरक्षा के लिए इन बातों का ध्यान रखें

मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के इस्तेमाल से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अगर आपको मिसोप्रोस्टॉल या दूसरे प्रोजेस्टिन (जैसे नारएथिनड्रोन) या किसी दूसरे तरह की एलर्जी हो तो मिफेप्रिस्टोन का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर को जरूर बताएं। इस प्रोडक्ट में ऐसे सामग्री होते हैं जिसकी वजह से एलर्जी या दूसरी समस्याएं हो सकती हैं इसलिए इस बारे में डॉक्टर या फार्मासिस्ट को विस्तार से बताएं।

अगर आपको दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं है तो आपको यह दवा इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए। इस दवा के इस्तेमाल से पहले डॉक्टर से सलाह लें अगर आपको ये सारी समस्याएं हैं जैसे; एब्डॉमिनल ग्रोथ (ऐडनेक्सल मास), एड्रिनल ग्लैंड से जुड़ी समस्याएं ( क्रोनिक एड्रिनल फेलियर, chronic adrenal failure), ब्लड संबंधी डिसॉर्डर (इनहेरिटेड पोरफाईरियाज़), आईयूडी (इंट्रायूटेराइन बर्थ कंट्रोल डिवाइस) का इस्तेमाल करते हों, 10 हफ्तों से ज्यादा की प्रेग्नेंसी, गर्भाशय के बाहर की प्रेग्नेंसी (एक्टोपिक प्रेग्नेंसी, ectopic pregnancy), 7 से 14 दिनों के भीतर डॉक्टर के पास आने में असमर्थ हों, मिफेप्रिस्टोन लेने के दो हफ्ते बाद आसानी से इमरजेंसी सेवाएं ना प्राप्त हों आदि।

अगर आप आईयूडी (IUD, इंट्रायूटेराइन बर्थ कंट्रोल डिवाइस) का इस्तेमाल कर रहें है तो मिफेप्रिस्टोन का इलाज शुरू होने से पहले इस डिवाइस को हटाना चाहिए।

इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले आप डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं खासतौर पर अगर आपको एनीमिया है और आप एक दिन में 10 से ज्यादा सिगरेट लेते हैं।

गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं की स्थिति में आप तभी इस दवा का इस्तेमाल करें जब पर्याप्त मात्रा में इमरजेंसी सेवाएं उपलब्ध हों।

इस दवा से आपको सुस्ती हो सकती है। अगर इसके साथ आप एल्कोहॉल या मारिजुआना का सेवन करते हैं तो आपको सुस्ती ज्यादा हो सकती है। इस दवा के इस्तेमाल के दौरान ड्राइव या कोई मशीनरी काम या कोई ऐसा काम जिसमें सतर्क रहने की जरूरत हो, ना करें जब तक कि आप इन्हें करने में खुद को सुरक्षित ना महसूस करें। अगर आप मारिजुआना का इस्तेमाल कर रहें हैं तो डॉक्टर या फार्मासिस्ट को जरूर बताएं।

सामान्य रूप से मिफेप्रिस्टोन के इस्तेमाल से होने वाले बच्चे की मृत्यु हो सकती है। ट्रीटमेंट के बाद अगर आपकी प्रेग्नेंसी बनी रहती है तो होने वाले बच्चों में दिक्कत हो सकती है।

अबॉर्शन ट्रीटमेंट के बाद और नार्मल समय शुरू होने के पहले दूसरी प्रेग्नेंसी हो सकती है। जितनी जल्दी यह ट्रीटमेंट पूरा होगा उतनी जल्दी बर्थ कंट्रोल शुरू हो सकता है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

यह दवा आपके ब्रेस्ट मिल्क में जा सकती है। चूंकि बच्चों में मिफेप्रिस्टोन के प्रभाव को लेकर अभी जानकारी मौजूद नहीं है।

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) का इस्तेमाल करना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान महिलाओं में मिफेप्रिस्टोन के इस्तेमाल को लेकर अभी पर्याप्त जानकारी नहीं है। मिफेप्रिस्टोन लेने से पहले इसके फायदों और नुकसान के बारे में डॉक्टर से जरुर सलाह लें। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के अनुसार मिफेप्रिस्टोन प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी एक्स (pregnancy risk category X) के अंतर्गत आता है।

एफडीए प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी का संदर्भ नीचे दिया गया है,

  • A= कोई नुकसान नहीं
  • B= कुछ शोध में कोई नुकसान नहीं
  • C= थोडा नुकसान हो सकता है
  • D= नुकसान का पॉजिटिव प्रमाण
  • X= निषेध (CONTRAINDICATED)
  • N= कुछ पता नहीं

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी पीरियड: ये वक्त है एंजॉय करने का

मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के इस्तेमाल से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस दवा के इस्तेमाल से मिचली, उल्टी, डायरिया, कमजोरी या सुस्ती आदि साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। अगर दूसरी ड्रग मिसोप्रोस्टॉल लेने के 24 घण्टे से ज्यादा ये साइड इफेक्ट्स मौजूद रहते हैं तो आपको मेडिकल अटेंशन की जरूरत है क्योंकि इससे गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

इस ट्रीटमेंट के दौरान ब्लीडिंग और मांसपेशियों में खिंचाव हो सकता है। सामन्यतः इन लक्षणों का मतलब है कि दवा काम कर रही है। हालांकि कभी कभी क्रैम्प्स और ब्लीडिंग होने के बावजूद आप प्रेग्नेंट भी होते हैं। इसलिए आप डॉक्टर के पास जरूर जाएं। दूसरी ड्रग मिसोप्रोस्टाल लेने के 24 घण्टे बाद मिचली और मांसपेशियों का खिंचाव और अधिक खराब हो सकता है। आपका डॉक्टर इन लक्षणों को दूर करने के लिए आपको दूसरी दवा लेने के लिए निर्देश दे सकता है। अगर ये सारे इफेक्ट्स ज्यादा दिन तक बने रहते हैं या खराब स्थिति में पहुंच गए हैं तो तुरंत डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं।

ब्लीडिंग और स्पॉटिंग 30 दिनों तक हो सकती है और यह सामान्य से भी ज्यादा भारी हो सकता है। बहुत कम केस में इस ब्लीडिंग को सर्जरी के द्वारा रोक सकते हैं। अगर हर दो घण्टे में दो मोटे फुल साइज के सैनिटरी पैड ब्लीडिंग से गीले होते हैं या फिर आप इस ब्लीडिंग को लेकर चिंतित हैं तो आपको तुरंत मेडिकल अटेंशन की जरूरत है।

याद रखें आपका डॉक्टर आपको यह दवा इसलिये लिखता है क्योंकि वह जानता है कि इस दवा के साइड इफेक्ट्स के खतरे की तुलना में इसके फायदे ज्यादा हैं। ऐसे बहुत से लोग हैं जो इस दवा का इस्तेमाल कर रहें हैं और उन्हें साइड इफेक्ट्स भी नहीं होते हैं।

अगर आपको 100.4 डिग्री फारेनहाइट (38 डिग्री सेल्सियस) या उससे ज्यादा बुखार, बेहोशी, हार्ट रेट तेज होना, पेट दर्द आदि महसूस हों तो आपको तुरंत मेडिकल अटेंशन की जरूरत है।

इस दवा के इस्तेमाल से एलर्जी की समस्या कभी कभी होती है। अगर आपको एलर्जी के लक्षण जैसे चकते/सूजन/खुजली होना (खासतौर पर चेहरे/जीभ/गले में) सुस्ती, सांस लेने में दिक्कत होना आदि महसूस हों तो आपको मेडिकल अटेंशन की जरूरत है।

सभी को ये साइड इफेक्ट्स महसूस नहीं होते हैं। यहां पर सारे साइड इफेक्ट्स नहीं बताये गए हैं। अगर आपको इनमे से कोई भी साइड इफेक्ट्स महसूस हों तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें- बच्चे को प्री-स्कूल भेजने से पहले पेरेंट‌्स फॉलो करें ये टिप्स

कौन सी दवाएं मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?

कुछ प्रोडक्ट इस दवा के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं जैसे; लॉन्ग टर्म कॉर्टिकोस्टरॉयड थेरिपी (प्रेडनिसोन); वे दवाएं जो लिवर एंजाइम जो कि मिफेप्रिस्टोन को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है, को प्रभावित करती हैं (जैसे; ऐजोल एंटीफंगल जैसे इट्राकोनाजॉल/कीटोकोनाजॉल, मैक्रोलाइड एंटीबायोटिक जैसे एरीथ्रोमाइसिन, डेक्सामेथासोन, रीफामाइसिन जिसमे रीफाब्यूटिन, सेंट जॉन वर्ट शामिल हैं, कुछ एंटीसीजर मेडिसिन जिसमें कार्बामेजापाइन/फेनिटोइन/फीनोबर्बिटल शामिल हैं), दूसरे ड्रग जिनसे ब्लीडिंग हो सकती है (जिसमें एंटी प्लेटलेट ड्रग जैसे क्लोपिडोग्रेल, एनएसएआईडी, NSAID जैसे आइबूप्रोफेन/नैपरोक्सेन, ब्लड थिनर जैसे वरफैरिन/ डाबीगेट्रान)

अगर इस दवा के साथ एस्प्रिन का इस्तेमाल किया जाए तो ब्लीडिंग होने का खतरा और बढ़ सकता है। अगर आपका डॉक्टर हार्ट अटैक या स्ट्रोक की स्थिति में एस्प्रिन की 81 से 325 mg की खुराक एक दिन में लेने को कहे तो आपको डॉक्टर के सलाह के अनुसार इसका इस्तेमाल करना चाहिए। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

मिफेप्रिस्टोन दूसरी दवाइयों को शरीर से निकलने की प्रक्रिया को धीमा कर सकता है जिससे उनका कार्य प्रभावित हो सकता है। प्रभावित दवाएं इस प्रकार हैं; साइक्लोस्पोरिन, एर्गोट एल्कलॉइड (जैसे डाईहाइड्रोएर्गोटामीन, एर्गोटामीन), फेंटानिल, पिमोजाइड, क्विनीडीन, कुछ स्टैटिन ड्रग (जैसे फ्लुवास्टैटिन, लोवास्टैटिन, सिम्वास्टैटिन), सिरोलीमस, टैक्रोलीमस, वरफेरिन, और दूसरे।

अगर आप वर्तमान में कोई दवा ले रहें हैं तो यह मिफेप्रिस्टोन उसके साथ इंटरैक्ट कर सकती है जिससे दवा का एक्शन प्रभावित होगा या फिर गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इस चीज को रोकने के लिए आप उन दवाओं की लिस्ट रखें जो डॉक्टर द्वारा पर्चे पर लिखी गई हों या ना लिखी गई हों या हर्बल प्रोडक्ट्स हो और उन्हें डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ शेयर करें। सुरक्षा के लिहाज से आप बिना डॉक्टर के सहमति के ना तो कोई दवा अपने से शुरू करें, ना ही बंद करें और ना ही उसकी खुराक को बदलें।

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) लेना सुरक्षित है?

मिफेप्रिस्टोन भोजन या एल्कोहॉल के साथ इंटरैक्ट कर सकता है जिससे दवा का एक्शन प्रभावित हो सकता है या फिर गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। अगर भोजन या एल्कोहॉल के साथ इस दवा का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो डॉक्टर या फार्मासिस्ट से जरूर सलाह लें।

यह भी पढ़ें- 3 सबसे आम भोजन विकार (Eating disorder) और उनके लक्षण

मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) का इस्तेमाल करने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

मिफेप्रिस्टोन आपके स्वास्थ्य स्थिति के साथ इंटरैक्ट कर सकता है। इससे आपकी स्वास्थ्य स्थिति और अधिक खराब हो सकती है या फिर दवा का एक्शन प्रभावित हो सकता है। अपने मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति के बारे में डॉक्टर को या फार्मासिस्ट को जरूर बताएं।

डॉक्टर की सलाह

मिफेप्रिस्टोन (Mifepristone) कैसे उपलब्ध है?

मिफेप्रिस्टोन निम्नलिखित खुराक और क्षमता में उपलब्ध है।

  • ओरल टैबलेट

इमरजेंसी या ओवरडोज की स्थिति में क्या करना चाहिए?

इस स्थिति में अपने लोकल स्वास्थ्य सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी वार्ड में जाएं।

क्या करना चाहिए अगर आप एक खुराक लेना भूल जाएं?

अगर आप मिफेप्रिस्टोन की खुराक लेना भूल जाते हैं तो याद आने पर जल्द से जल्द अपनी खुराक लें। हालांकि, अगर इसके कुछ ही समय बाद आपको अपनी अगली खुराक लेनी हो तो इसे न लें और अपनी नियमित खुराक के अनुसार ही इसका सेवन करते रहें। डबल खुराक ना लें।

यह भी पढ़ें- बच्चा खाना खाते समय करता है आना-कानी तो अपनाएं ये टिप्स

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Anoop Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/12/2019 को
Mayank Khandelwal के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x