home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ट्राइकोमोनिएसिस के इलाज के लिए आप अपना सकते हैं यह सप्लिमेंटस...

ट्राइकोमोनिएसिस के इलाज के लिए आप अपना सकते हैं यह सप्लिमेंटस...

यह महिला में होने वाला एक प्रकार का सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (Sexually transmitted infections)) है, जिसे हम यौन संक्रमित कहते हैं। इसे ट्रिक के नाम से भी जाना जाता है और यह ट्राइकोमोनास वैजिनैलिस नाम के कोशिकीए प्रोटोजोआ के कारण होता है। प्रोटोजोआ (Histolytica) सेक्स के दौरान एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत आसानी से प्रवेश कर जाता है। पुरुषों की अपेक्षा यह इंफेक्श महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलता है। यह ज्यादातर 15 से 50 साल बीच की महिलाओं को अपना शिकार बनाता है। इस इंफेक्शन होने पर महिला या पुरुष को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, जैसे कि तेज गंध, योनि से डिस्चार्ज (Discharge) आदि। जिसका समय पर इलाज बहुत जरूरी है, ताकि स्थति आगे जाकर गंभीर न हो। जानें ट्राइकोमोनिएसिस का उपचार क्या है और ट्राइकोमोनिएसिस के लिए सप्लिमेंट (Natural Supplements For Trichomoniasis) के बारे में।

और पढ़ें: कई लोगों के साथ ओरल सेक्स करने से काफी बढ़ जाता है सिर और गले के कैंसर का खतरा

ट्राइकोमोनिएसिस के लक्षण ( Symptoms of Trichomoniasis)

ट्राइकोमोनिएसिस की समस्या होने पर कुछ लक्षण इस प्रकार नजर आते हैं, जैसे कि:

महिलाओं में नजर आने वाले लक्षण

पुरुषों में दिखने वाले लक्षण

  • यूरिन के दौरान दर्द और जलन महसूस करना
  • पीनस में जलन होना
  • पीनस में खुजली की समस्या
  • बार-बार पेशाब महसूस होना और अन्य समस्याएं भी हो सकती है

और पढ़ें: जानिए कहां होते हैं एक्यूप्रेशर सेक्स पॉइंट्स और कैसे लगा सकते हैं ये सेक्स लाइफ में तड़का

ट्राइकोमोनिएसिस के कारण (Causes of Trichomoniasis)

जैसा कि यह बीमारी प्रोटोाजोआ के कारण होती है। इसके अलावा, इसके होने के अन्य कारण भी हो सकते हैं, जैसे कि-

  • जैनेटिक (Genetic) होने पर, यदि फैमिली में इस तरह की हिस्ट्री रही है, तो आपमें भी यह समस्या हो सकती है।
  • सेक्स के दौरान एक से दूसरे व्यक्ति में प्रवेश करना
  • एक के अलावा कई साथ संबंध बनाने के दौरान इसका खतरा ज्यादा रहता है।
  • पब्लिक टॉयलेट से भी यह इंफेक्शन फैल सकता है।

और पढ़़ें: फिंगर सेक्स(Finger sex): सेक्स के इस तरीके के बारे में जानकारी हैरान कर देगी आपको!

नैचुरल ट्रीटमेंट: ट्राइकोमोनिएसिस के लिए सप्लिमेंट (Natural Supplements For Trichomoniasis)

ट्राइकोमोनिएसिस का घरेलू इलाज निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है। जैसे:

ट्राइकोमोनिएसिस का नैचुरल उपचार: एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar)

ट्राइकोमोनिएसिस का घरेलू इलाज के तौर पर आप एप्पल साइडर विनेगर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें एंटी-बैक्टेरियल (Antibacterial) गुण होने के साथ इसमें एंटी सेप्टिक और सिट्रिक जैसे गुण पाए जाते हैं। इसी के साथ इसमें विटामिन और कई प्रकार के मिनरल पाए जाते हैं, साथ ही एमिनो एसिड भी होता है इसमें। जो कि त्वचा के लिए लाभकारी होता है। एप्पल साइडर विनेगर में मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण सूजन की समस्या को भी कम करते हैं। किसी भी प्रकार के इंफेक्शन को दूर करने में इसके कई प्रकार के बेनेफिट्स हैं। यह ट्राइकोमोनिएसिस का नैचुरल उपचार है।

और पढ़ें : एप्पल साइडर विनेगर से क्या कम होता वजन?

नैचुरल ट्रीटमेंट: टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil)

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेकनोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार त्वचा में होने वाले कई प्रकार के इंफेक्शन के उपचार के लिए टी ट्री ऑयल को लाभकारी माना गया है। इसमें मेलेलुका अल्टीफोलिया(Melaleuca alternifolia) नामक विशेष गुण होते हैं। जैसा कि यह एक नैचुलर ऑयल है और इसमें कई एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल जैसे गुण पाए जाते हैंजो स्किन में मौजूद बैक्टीरिया को दूर करने के साथ, सूजन की समस्या को भी कम करने में टी ट्री ऑयल लाभकारी है। ट्राइकोमोनिएसिस के इलाज के लिए टी ट्री ऑयल के कई बेनेफिट्स हैं।

और पढ़ें : टी-ट्री ऑयल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Tea Tree Oil

ट्राइकोमोनिएसिस का नैचुरल उपचार: लहसुन (Garlic)

ट्राइकोमोनिएसिस के लिए सप्लिमेंट (Natural Supplements For Trichomoniasis) की बात करें, तो लहसुन भी इसके लिए काफी प्रभावकारी है। लहसुन को आयुर्वेद में भी काफी लाभदायक माना गया है। इसमें कई एंटीऑक्सिडेंट्स (Antioxidant) और एंटीफंगल गुण होते हैं। इसमें विटामिन, मैग्नीज और एंटीवॉयरल(ANTIVIRAL) जैसे गुण् होते हैं। यह कई प्रकार के इंफेक्शन (Infection) को दूर करने के लिए लाभकारी माना जाता है। अगर आप सेक्शुअल ट्रांसमेटिड इंफेक्शन परेशान हैं, तो आप इसे घरेलू उपचार के तौर पर भी अपना सकते हैं।

और पढ़ें : Calcium : कैल्शियम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

नैचुरल ट्रीटमेंट: बर्गमोट ऑयल (Bergamot oil)

बर्गमोट कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसके तेल खाने के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ये हमारे स्वास्थ्य के लिए कई तरीकों से लाभदायक हो सकता है। लेकिन इसका इस्तेमाल सही ढंग से करना बहुत जरूरी है। नहीं तो यह इसके साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं। आयुर्वेद में इसे कई प्रकार से लाभदायक माना गया है। यह सूजन की समस्या को भी खत्म करता है। यह कई प्रकार के इंफेक्शन के इलाज (Treatment of infection) के लिए भी काफी प्रभावकारी माना जाता है। इसमें कई एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो त्वचा में होने वाले रैशेज को भी दूर करता है।

और पढ़ें : एसेंशियल ऑयल के फायदे बेशुमार, तो होते हैं कुछ नुकसान भी

ट्राइकोमोनिएसिस का नैचुरल उपचार: हायड्रोजन पेरोक्साइड (Hydrogen peroxide)

हायड्रोजन पेरोक्साइड एक प्राकृतिक हर्ब है और इसका इस्तेमाल इंफेक्शन को कम करने के लिए किया जाता है। इसमें कई एंटीसेप्टिक और डिसइन्फेक्टेंट जैसे गुण होते हैं। ट्राइकोमोनिएसिस के घरेलू इलाज के लिए हायड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह बैक्टीरिया को दूर करने के साथ सूजन की प्रॉब्लम को भी कम करता है

नैचुरल ट्रीटमेंट: अनार (pomegranate)

अनार में कई प्रकार के जीवाणुरोधी और संक्रामक रोग के खिलाफ एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं। एक अनार सौ बीमारी की दवा माना जाता है। इसमें विटामिन्स, फोलिक एसिड और एमिनो एसिड होता है। इसमें मौजूद एंटी आक्सीडेंट, एंटी वाइरल की विशेषता पायी जाती है। यह कई प्रकार के इंफेक्शन को दूर करने में साहयक माना जाता है। यह इंफेक्शन को शरीर में फैलने नहीं देता है।

नोट: ट्राइकोमोनिएसिस के लिए सप्लिमेंट (Natural Supplements For Trichomoniasis) को लेने से पहले एक बार डॉक्टर से बात करें। इसकी खुराक भी डॉक्टर की सलाह पर ही लें।

और पढ़ें : हर्पीज के इलाज के लिए आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट है प्रभावकारी, जानें इसके बारे में

इन घरेलू उपायों को करने के बाद भी अगर आपको निम्नलिखित लक्षण महसूस हो, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें। इन लक्षणों में शामिल है-

  • शारीरिक संबंध बनाने के दौरान दर्द महसूस होना (Feeling pain while making a physical connection)
  • पेशाब करने के समय दर्द होना (Pain During Urine)
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना (Stomach Pain)
  • वजायना से बदबूदार डिस्चार्ज (यह सफेद, ग्रे, पीला या हरा हो सकता है)
  • वजायना का लाल होना, जलना या खुजली होना (Itching Problem)

अगर आपको ऐसी परेशानी महसूस हो रही है, तो देर ना करें और डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : Trichomoniasis: प्रेग्नेंसी में सेक्शुअल ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन होने पर दिखते हैं ये लक्षण

अगर आप ट्राइकोमोनिएसिस या ट्राइकोमोनिएसिस से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। यह जरूरी नहीं है कि यह सभी होम रेमेडीज सभी के लिए फादेमंद हो। इसे कैसे और कितनी मात्रा में लेना है, यह डॉक्टर की सलाह पर लें। हो सकता है कि डॉक्टर आपको कोई और सप्लिमेंट की सलाह दें। अधिक जानकारी के लिए डाॅक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/04/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड