home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Ursodeoxycholic Acid : अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) का उपयोग किसलिए किया जाता है?|अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?|अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड के क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?|कौन सी दवाएं अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?|डॉक्टर की सलाह
Ursodeoxycholic Acid : अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

अर्सोफल कैप्लूस का इस्तेमाल निम्नलिखित बीमारियों में किया जाता है

  • अर्सोफल्क कैप्सूल का इस्तेमाल लीवर संबंधी बीमारी और बाइल कोलेस्ट्रॉल से पैदा होने वाले गालस्टोन को गलाने में किया जाता है। जब गॉल ब्लैडर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है तब गाॅलस्टोन पैदा होता है। यह एक्स-रे की मदद से भी दिखाई नहीं देता है। अगर किसी गॉलस्टोन का साइज बड़ा होगा तो यह दिखाई तो देता है, लेकिन इसे आसानी से गलाया नहीं जा सकता है। हालांकि, गॉलस्टोन होने के बावजूद गॉल ब्लैडर सही काम करता है।
  • बाइल डक्ट जो एक नली की तरह होती है यह लीवर से छोटी आंत की तरफ जाती है। अगर बाइल डक्ट को लिवर या आसपास कहीं नुकसान पहुंचता है तो बाइल का निर्माण होने लगता है। इस दौरान लीवर पर नकारात्मक असर पड़ता है। यह स्थिति प्राइमरी बाइलरी सिरहोसिस कहलाती है।

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) को कैसे इस्तेमाल करूं?

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड कैप्सूल को आप पानी या किसी भी अन्य लिक्विड के साथ पूरा ले सकते हैं। रोजाना इस दवा को रात को सोते समय लेना चाहिए।

मैं अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) को कैसे स्टोर करूं?

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) के रखरखाव के लिए कमरे का तापमान सबसे बेहतर होता है। इसे धूप के सीधे प्रभाव या नमी में आने से बचाना होता है। अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड को कभी भी बाथरूम या ठंडी जगह में न रखें। मार्केट में अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड के अलग-अलग ब्रांड हैं जिन्हें स्टोर करने के लिए दिशा निर्देश भी अलग-अलग हो सकते हैं। जब भी अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड खरीदें सबसे पहले उसके पैकेज पर लिखे जरूरी निर्देशों को अच्छे से पढ़े या फिर अपने डॉक्टर से इसके बारे में पूछें। सुरक्षा के लिहाज से आपको इसे बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए।

बिना निर्देश के अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड को टॉयलेट या किसी नाले में न फेकें। अगर यह एक्सपायर हो चुका है या इसका इस्तेमाल नहीं करना है तो इसका इस्तेमाल न करें। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः क्या आधे लीवर के साथ जीवन संभव है?

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अर्सोफल कैप्लूस (Ursofalk capsules) में अर्सोडियोजायहोलिक एसिड की मात्रा होती है। इसका इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए। डॉक्टर के मुताबिक अगर आपको बाइल एसिड से एलर्जिक, हाइपर-सेंसिटिव जैसी प्रॉब्लम होने लगती है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए। इसकी वजह से आपके गॉलब्लैडर पर गलत असर पड़ सकता है।

अगर आपका गॉल ब्लैडर (पित्ताशय) ठीक से काम नहीं करता है।

एक्स-रे में आपको गॉल ब्लैडर के अंदर स्टोन नजर आया है।

आपके गॉल ब्लैडर में सूजन है तो इस दवा का इस्तेमाल ना करें।

अगर आपके पेट के ऊपरी हिस्से में ऐंठन और दर्द है।

आपके गॉलस्टोन्स का हार्ड होना आपके शरीर में कैल्शियम निर्माण का कारण हो सकता है।

अगर आपको इस तरह की समस्या दवा खाने के बाद होती है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करिए। अगर आपको इस तरह की समस्याएं पहले भी रहीं हैं तो इसकी जानकारी डॉक्टर को जरूर दें।

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) लेना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसके इस्तेमाल करने से महिलाओं को किस तरह की परेशानियां हो सकती हैं इसके बारे में अभी कोई खास जानकारी नहीं है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

और पढ़ें- जानें गाय के दूध से क्यों बेहतर है ब्रेस्टफीडिंग

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड के क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

हर दवा की तरह ही अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड आपकी स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार काम करता है। हालांकि कुछ लोगों को इसके साइड इफेक्ट भी झेलने पड़ सकते हैं। ऐसे किसी भी लक्षण को आप महसूस करते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

इस दवा के कॉमन साइड इफेक्ट में स्टूल का पतला होना और लूजमोशन शामिल है। हालांकि यह 10 में से 1 या 100 में से 1 मरीज में ही देखने को मिलता है। अगर आपको दवा का सेवन करने के बाद लगातार दस्त हो रहे हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करिए। आपकी स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार डॉक्टर दवा के डोज में बदलाव कर सकता है। साथ ही दस्त के दौरान ज्यादा मात्रा में नमक और पानी का घोल पिएं।

इस दवा का ओवरडोज होने पर आपको डायरिया भी हो सकता है।

बहुत ही रेयर साइड इफेक्ट जो 10000 मरीजों में से किसी 1 में देखने को मिलते हैं।

प्राइमरी बिलारी सिरोसिस ट्रीटमेंट के दौरान आपके पेट के दाएं भाग के ऊपरी हिस्से में दर्द, लीवर के खराब होने की आशंका- यह सब आपका ट्रीटमेंट खत्म होने के बाद ठीक होता है।

इसके अलावा अगर कोई लक्ष्ण है तो यह आपके टेस्ट में दिखाई देगा।

इसके इस्तेमाल के कारण होने वाले सभी दुष्प्रभाव यहां पर नहीं बताएं गए हैं। अगर आप किसी भी तरह का जोखिम महसूस करते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

कौन सी दवाएं अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?

हालांकि कुछ दवाओं के साथ इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। अगर आप पहले से ही किसी अन्य दवा का सेवन कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें। साथ ही अगर किसी तरह के घरेलू नुस्खे या बिना डॉक्टर की देख-रेख में काउंटर पर मिलने वाली दवाइयों का सेवन कर रहें तो अपने डॉक्टर से इसकी जानकारी साझा करें। अपनी स्वास्थ्य के लिए बिना डॉक्टर से पूछे अपनी किसी भी दवा की खुराक को घटाएं, बढ़ाएं या लेना बंद ना करें।

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) का इस्तेमाल किया जा सकता है?

अगर किसी भी भोजन या एल्कोहॉल के साथ अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड का सेवन किया जाए तो इसके परिणाम खतरनाक हो सकते हैं। इसलिए इसे किस तरह के खाद्य पदार्थों के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है इसके बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बातचीत करें।

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) खाने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड आपकी स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार काम करता है। कई मामलों में यह दवा घातक भी साबित हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि इसके इस्तेमाल से पहले अपने स्वास्थ्य की मौजूदा स्थिति के बारे में डॉक्टर को बताएं।

और पढ़ें- प्रेग्नेंसी में एल्कोहॉल का सेवन नुकसानदायक है या नहीं? जानिए यहां

डॉक्टर की सलाह

नीचे दी गई जानकारी किसी चिकित्सक की सलाह नहीं है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड (ursodeoxycholic) कैसे उपलब्ध है?

अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड निम्नलिखित खुराकों के तौर पर उपलब्ध है:

कैप्सूल 250 मिलीग्राम

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी वॉर्ड में जाएं।

अगर एक खुराक लेना भूल जाएं तो क्या करना चाहिए ?

अगर अर्सोडिऑक्सीकॉलिक एसिड की खुराक लेना भूल जाते हैं तो याद आने पर जल्द से जल्द अपनी खुराक लें। हालांकि, अगर इसके कुछ ही समय बाद आपको अपनी अगली खुराक लेनी हो तो इसे न लें और अपनी नियमित खुराक के अनुसार ही इसका सेवन करते रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Anoop Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/08/2020 को
Mayank Khandelwal के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x