backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Carpal Tunnel Syndrome Surgery : कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी क्या है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Hello Swasthya Medical Panel द्वारा लिखित · अपडेटेड 22/09/2020

Carpal Tunnel Syndrome Surgery : कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी क्या है?

परिचय

कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी क्या है?

कार्पल टनल सिंड्रोम कलाई (wrist) से संबंधित एक समस्या है। कलाई के बीच में मीडियन नर्व और कई टेंडंस गुजरते हैं। जिसमें प्रेशर और जलन महसूस होता है। जिसके कारण मीडियन नर्व में दर्द, सुन्नपन और कभी-कभी झुनझुनाहट महसूस होती है। इसका इलाज दवाइयों से  विफल होने के बाद डॉक्टर सर्जरी की सलाह देते हैं। इस सर्जरी को कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी कहते हैं।

कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी की जरूरत कब होती है?

ज्यादातर मामलों में डॉक्टर दवाओं से कार्पल टनल सिंड्रोम का इलाज करने की कोशिश करते हैं। लेकिन, जब दवाएं दर्द पर बेअसर हो जाती हैं तो डॉक्टर सर्जरी करते हैं। कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी में कलाई की फ्लेक्सर रेटिना क्यूल नामक फाइब्रस बैंड को काट कर निकाल दिया जाता है।

और पढ़ें : Abscess Surgery : फोड़ा या एबसेस सर्जरी क्या है?

जोखिम

कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी करवाने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

सबसे पहले आपको कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी के प्रकारों के बारे में पता होना चाहिए। ये दो तरीकों से होती है:

  1. ओपन कार्पल टनल सर्जरी
  2. एंडोस्कोपी कार्पल टनल सर्जरी
  3. कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी हर किसी के लिए सुरक्षित नहीं है। ये सर्जरी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य परिस्तिथियों पर निर्भर करता है।

    और पढ़ें : Varicose Veins Surgery: वैरिकोस वेन सर्जरी क्या है?

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी के क्या साइड इफेक्ट्स और समस्याएं हो सकती हैं?

    एंडोस्कोपिक सर्जरी की तुलना में ओपन सर्जरी को रिकवर होने में समय लगता है। इसके साथ ही कलाई और हाथ में दर्द बना रहता है। जोखिम और समस्याएं सभी तरह के ऑपरेशन में होती है। कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी में भी कुछ रिस्क हैं :

    • ब्लीडिंग
    • मीडियन या कलाई में आस पास की नर्व या खून की नसों का डैमेज होना
    • सर्जरी वाले स्थान पर घाव हो जाना

    जनरल एनसथिसिया (बेहोश) के साथ रिस्क हो सकता है। लेकिन, ज्यादातर ओपन सर्जरी सुन्न कर के ही होती है। कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी में रिस्क काफी कम देखे गए हैं। लेकिन फिर भी ये जानना जरूरी है कि इससे क्या समस्या हो सकती है।

    और पढ़ें : Rhinoplasty: नाक की सर्जरी क्या है?

    प्रक्रिया

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

    • सर्जरी कराने से पहले आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए। आपको अपनी दवाओं (जो आप पहले से ले रहे हो), एलर्जी और हेल्थ कंडीशन के बारे में बात करनी चाहिए।
    • आप अपने डॉक्टर से जान लें कि आपको सर्जरी से पहले क्या खाना पीना चाहिए। इसके अलावा आप अपने ये भी पूछ लें कि सर्जरी से कितने घंटे पहले से खाना पीना बंद करना है।
    • परिवार के लोगों को भी आप डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के बारे में बता दें। ज्यादातर मामलों में सर्जरी कराने से छह घंटे पहले से कुछ भी नहीं खाना होता है। ऐसे में डॉक्टर द्वारा बताए गए तरल पदार्थ या ड्रिंक्स ही लें।
    • आप अपने एनेस्थेटिस्ट से भी मिलें और सर्जरी के दौरान बेहोश या सुन्न करने की प्रक्रिया प्लान करें।
    • खून को पतला करने वाली दवाएं जैसे एस्प्रिन अगर आप ले रहे हैं तो डॉक्टर को जरूर बताएं। ताकि, जरूरत के हिसाब से डॉक्टर दवा को बंद कर सकें। क्योंकि कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी में कलाई से ब्लीडिंग होती है। इसलिए डॉक्टर से अपने ब्लड लेवल की जांच पहले करा लें। ताकि अगर खून की कमी हो तो समय रहते ब्लड मिल सके।
    • सर्जरी के लिए आने से पहले नहा लें। लेकिन, किसी भी तरह का कोई लोशन, परफ्यूम, डियोडरेंट या नेल पॉलिश नहीं लगाएं।

    और पढ़ें : Cosmetic surgery : जानिए क्या है कॉस्मेटिक सर्जरी

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी को करने में लगभग 15 से 30 मिनट लगते हैं। जैसा की पहले ही बताया जा चुका है कि कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी दो प्रकार की है- ओपन कार्पल टनल सर्जरी और एंडोस्कोपी कार्पल टनल सर्जरी। दोनों सर्जरी में सबसे पहले एनेसेथेटिस्ट आपकी कलाई को सुन्न करते हैं।

    ओपन सर्जरी में सर्जन कलाई पर एक लंबा चीरा या कट लगाते हैं। इसके बाद कलाई के अंदर से फ्लेक्सर रेटिनाक्यूलम को काट कर निकाल देते हैं।

    वहीं, एंडोस्कोपी कार्पल टनल सर्जरी में सर्जन कलाई में एक छोटा सा चीरा लगाते हैं। इसमें एंडोस्कोप (Endoscope) डालते हैं। एंडोस्कोप में एक छोटा कैमरा लगा होता है जो मॉनिटर में तस्वीरों को भेजता है। इसके जरिए ही सर्जन फ्लेक्सर रेटिनाक्यूलम  को काट कर निकाल देते हैं। फिर एंडोस्कोप को बाहर निकाल कर चीरे पर टांका लगा देते हैं। इसके बाद टांके पर ड्रेसिंग कर देते हैं।

    और पढ़ें : Fissure treatment: बिना सर्जरी के फिशर ट्रीटमेंट कैसे होता है?

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी के बाद क्या होता है?

    • कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी कराने के बाद उसी दिन या अगले दिन घर जा सकते हैं।
    • सर्जरी के बाद कुछ लोगों को हाथों में सुन्नपन महसूस होता है। साथ ही कलाई में दर्द भी महसूस होता है।
    • सर्जरी के बाद अगर आपको अपने अंगूठे की मांसपेशियां कमजोर महसूस हो या आप उसे सही से न हिला पाएं तो परेशान न हो। कुछ समय के लिए ऐसा होगा। बाद में ये ठीक हो जाएगा। लेकिन, ये समस्या अगर लगातार बनी रहे तो डॉक्टर से जरूर बात करें।
    • आपको ऑफिस कितने समय बाद जाना है ये आपके ऑपरेशन के प्रकार पर निर्भर करता है। वैसे लोग छह से सात हफ्ते बाद ऑफिस या काम पर जाना शुरू कर देते हैं। ऐसे में आप अपने डॉक्टर से पूछ कर अपना काम शुरू कर सकते हैं।
    • इन सभी बातों के अलावा अगर आपको किसी भी तरह की समस्या आती है तो अपने सर्जन और डॉक्टर से जरूर मिलें और परामर्श लें।

    रिकवरी

    कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी के बाद मुझे खुद का ख्याल कैसे रखना चाहिए?

    • कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी कराने के बाद रोजाना 10 से 15 मिनट के लिए बर्फ से सिकाई करें।
    • हल्के कपड़े पहनने चाहिए ताकि सर्जरी वाले स्थान पर कोई परेशानी न हो।
    • फोन को हाथों मे लेकर ज्यादा देर तक बात करने से बचें।
    • कोशिश करें कि कुछ दिनों तक सर्जरी वाले स्थान पर पट्टी बांधे रखें।

    अगर आप कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।



    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Dr Sharayu Maknikar


    Hello Swasthya Medical Panel द्वारा लिखित · अपडेटेड 22/09/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement