home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Fainting (vasovagal syncope) : बेहोशी (वैसोवेगल सिनकोप) क्या है?

परिचय |लक्षण |कारण |जोखिम |उपचार |घरेलू उपचार

परिचय

बेहोशी (वैसोवेगल सिनकोप) क्या है?

कोई व्यक्ति जब खून और इंजेक्शन देखकर या किसी चीज के डर और आंतक या अधिक भावुक होने के कारण बेहोश हो जाता है तो उस स्थिति को वैसोवेगल सिनकोप कहते हैं। इस बीमारी को न्यूरोकार्डियोजेनिक सिनकोप भी कहते हैं। इस बीमारी के कारण ब्लड प्रेशर घट जाता है जिससे मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है और व्यक्ति अचानक अचेत हो जाता है।

वैसोवेगल सिनकोप बेहोशी का सबसे आम कारण है। अगर समस्या बढ़ जाती है तो आपके लिए गंभीर स्थिति बन सकती है । इसलिए इसका समय रहते इलाज जरूरी है। इसके भी कुछ लक्षण होते हैं ,जिसे ध्यान देने पर आप इसकी शुरूआती स्थिति को समझ सकते हैं।

कितना सामान्य है बेहोशी होना?

बेहोशी एक आम समस्या है। ये महिला और पुरुष दोनों में सामान प्रभाव डालता है। पूरी दुनिया में लगभग लाखों लोग वैसोवेगल सिनकोप से पीड़ित हैं। वैसे तो वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी किसी को भी हो सकती है लेकिन बच्चों और युवाओं को यह बीमारी सबसे अधिक प्रभावित करती है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें : हाई ब्लड प्रेशर से क्यों होता है हार्ट अटैक

लक्षण

बेहोशी के क्या लक्षण है?

वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी से पहले कोई लक्षण सामने नहीं आते हैं। लेकिन कुछ लोगों में बेहोशी से पहले हल्के लक्षण नजर आते हैं। बेहोशी से पहले ये लक्षण सामने आते हैं :

कभी-कभी कुछ लोगों में इसमें से कोई भी लक्षण सामने नहीं आते हैं और अचानक से तेज बेचैनी और घबराहट होने लगती है। यदि बेहोशी से पहले ये लक्षण नजर आते हैं तो किसी स्थान पर लेट जाना चाहिए। इससे मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह होने में मदद मिलती है और व्यक्ति बेहोश नहीं होता है।

ये भी पढ़ें : विटामिन डी के फायदे पाने के लिए खाएं ये 7 चीजें

वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी के दौरान व्यक्ति में कुछ अन्य लक्षण नजर आते हैं :

  • नाड़ी धीमी चलना
  • झटके आना
  • शरीर में असामान्य हलचल
  • आंखों की पुतली बड़ी होना

वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी होने पर व्यक्ति को 1 मिनट से भी कम समय में होश आ जाता है। जबकि कुछ मामलों में 15 से 30 मिनट बाद होश आता है।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ऊपर बताएं गए लक्षणों में किसी भी लक्षण के सामने आने के बाद आप डॉक्टर से मिलें। हर किसी के शरीर पर वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी अलग प्रभाव डाल सकता है। इसके साथ ही मधुमेह, हृदय रोग, पार्किंसन डिजीज होने या एंटीडिप्रेसेंट दवाओं का सेवन करने से ब्लड प्रेशर प्रभावित होता है जिसके कारण बेहोशी की समस्या बढ़ सकती है। इसलिए किसी भी परिस्थिति के लिए आप डॉक्टर से बात कर लें।

कारण

बेहोशी होने के कारण क्या है?

हमारे पूरे शरीर में विशेष तंत्रिकाएं होती हैं जो तेज हृदय गति को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। इसके अलावा यह रक्त वाहिकाओं को फैलने से बचाती है और ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करती हैं। ये तंत्रिकाएं मस्तिष्क में ऑक्सीजन युक्त ब्लड भेजने का भी कार्य करती हैं।

लेकिन जब रक्तवाहिकाएं अचानकर से खुलकर चौड़ी हो जाती हैं और ब्लड प्रेशर घट जाता है तो तंत्रिकाओं को मिक्स सिग्नल मिलने लगता है और मस्तिष्क में पर्याप्त मात्रा में रक्त का प्रवाह नहीं हो पाता है जिससे व्यक्ति बेहोश हो जाता है।

ये भी पढ़ें : कैल्शियम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जोखिम

बेहोशी के साथ मुझे क्या समस्याएं हो सकती हैं?

वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी एक आम समस्या है जो किसी भी समय किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। वैसोवेगल सिनकोप के कारण ऊंचाई से गिरने या बेहोश होने से सिर में चोट लग सकती है। साथ ही सांस लेने में तकलीफ होती है, छाती में तेज दर्द हो सकता है, बोलने, सुनने और देखने में परेशानी हो सकती है और व्यक्ति किसी भी जगह बेहोश हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें : क्या ऑटिज्म का इलाज संभव है?

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

बेहोशी का निदान कैसे किया जाता है?

बेहोशी का पता लगाने के लिए डॉक्टर शरीर की जांच करते हैं और मरीज का पारिवारिक इतिहास भी देखते हैं। इस बीमारी को जानने के लिए कुछ टेस्ट कराए जाते हैं :

  • टिल्ट टेबल टेस्ट के जरिए मरीज की हृदय की धड़कन और ब्लड प्रेशर की जांच की जाती है।
  • पोर्टेबल होल्टर मॉनीटर एक डिवाइस है जिसे मरीज को पहनाकर 24 घंटों तक उसे हार्ट रिद्धम का विश्लेषण किया जाता है।
  • इकोकॉर्डियोग्राम-इस टेस्ट में हृदय और रक्त प्रवाह का चित्र लेने के लिए ध्वनि तरंगों का प्रयोग किया जाता है।
  • एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्ट में व्यक्ति को तेज चलने या ट्रेडमिल पर दौड़ने के लिए कहा जाता है और शारीरिक गतिविधि के दौरान यह देखा जाता है कि हृदय कैसे कार्य करता है।

कुछ मरीजों में ब्लड टेस्ट के द्वारा बेहोशी का पता लगाया जाता है। जरूरत पड़ने पर परिवार के अन्य सदस्यों में भी इसकी पुष्टि के लिए जांच की जाती है।

ये भी पढ़ें : Hepatitis-B : हेपेटाइटिस-बी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

बेहोशी का इलाज कैसे होता है?

ज्यादातर मामलों में वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी के इलाज की आवश्यकता नहीं पड़ती है। लेकिन, कुछ थेरिपी और दवाओं से व्यक्ति में बेहोशी के असर को कम किया जाता है। बेहोशी के लिए तीन तरह की मेडिकेशन की जाती है :

  1. ब्लड प्रेशर बढ़ाने के लिए अल्फा-1 एड्रीनेर्जिक एगोनिस्ट दवा दी जाती है।
  2. शरीर में सोडियम और फ्लुइड लेवल को बढ़ाकर ब्लड प्रेशर को मेंटेन करने के लिए एक प्रकार का कॉर्टिकोकोस्टेरॉइड फ्लूड्रोकोर्टिसोन नाम की दवा दी जाती है।
  3. सेलेक्टिव सेरोटोनिन रीअपटेक इनहिबिटर्स (एसएसआरआई) एक एंटीडिप्रेसेंट दवा है जो नर्वस सिस्टम को सही तरीके से काम करने में मदद करती है।

इसके अलावा डॉक्टर पैरों में रक्त की पूलिंग को कम करने के लिए फुट एक्सरसाइज करने के साथ ही कंप्रेशन स्टॉकिंग पहनने की सलाह देते हैं। साथ ही डायट में बदलाव करने से भी इसका जोखिम कम होता है।

ये भी पढ़ें : पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

घरेलू उपचार

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे बेहोशी को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

अगर आपको वैसोवेगल सिनकोप के कारण बेहोशी होती है तो आपके डॉक्टर आहार में अधिक मात्रा में नमक शामिल करने के लिए बताएंगे। इसके साथ ही पर्याप्त मात्रा में पानी पीने की सलाह देंगे। जीवनशैली और आदतों में बदलाव करके भी इस समस्या से काफी हद तक बचा जा सकता है। बेहोशी होने पर ये आहार लेने चाहिए:

  • जूस
  • सूप
  • खट्टे फल
  • हरी सब्जियां

Avoiding triggers, such as standing for a long time or the sight of blood

Drinking plenty of fluids, to maintain blood volume (ADD)

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

ये भी पढ़ें : जानें ऑटोइम्यून बीमारी क्या है और इससे होने वाली 7 खतरनाक लाइलाज बीमारियां

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

REVIEWED

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

https://www.healthline.com/health/vasovagal-syncope#prevention

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/vasovagal-syncope/diagnosis-treatment/drc-20350531

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2998831/

https://academic.oup.com/qjmed/article/109/12/767/2631729

 

लेखक की तस्वीर
07/04/2020 पर Anoop Singh के द्वारा लिखा
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
x