Pulmonary Hypertension: पल्मोनरी हायपरटेंशन क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

परिचय |लक्षण |कारण |जोखिम |निदान |उपचार
    Pulmonary Hypertension: पल्मोनरी हायपरटेंशन क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

    परिचय

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन (Pulmonary Hypertension) क्या है?

    पल्मोनरी हायपरटेंशन या फुफ्फुसीय हायपरटेंशन एक ऐसी स्थिति है जो समय के साथ खराब होती जाती है, यह एक प्रकार की हाई ब्लड प्रेशर है जो आपके फेफड़ों में धमनियों और आपके दिल के दाईं ओर को प्रभावित करता है। लेकिन उपचार आपके लक्षणों को ठीक करने में मदद कर सकते हैं ताकि आप बेहतर हो सकें।

    इसके कारण आपके फेफड़ों में ब्लड वेसेल्स संकुचित, ब्लॉक या नष्ट हो जाती हैं। ये क्षति आपके फेफड़ों से रक्त के प्रवाह को धीमा कर देती है, और फेफड़ों की धमनियों में रक्तचाप (Blood pressure) बढ़ जाता है।

    दिल को आपके फेफड़ों के माध्यम से रक्त पंप करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए। लेकिन ज्यादा प्रयास करने पर आपके हृदय की मांसपेशियों को कमजोर और विफल होने का कारण बनाता है।

    और पढ़ेंः Bedwetting : बिस्तर गीला करना (बेड वेटिंग) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    लक्षण

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Pulmonary Hypertension)

    हो सकता है कि आपको कुछ समय तक कोई लक्षण नजर न आए। जब आप सक्रिय हों तो मुख्य लक्षण सांस की तकलीफ है। यह आमतौर पर धीरे-धीरे शुरू होता है और समय के साथ खराब हो जाता है। आप देख सकते हैं कि आप कुछ ऐसे काम नहीं कर सकते हैं, जिन्हें आप बिना हवा दिए करते हैं।

    फुफ्फुसीय उच्च रक्तचाप (Pulmonary hypertension)के लक्षणों में शामिल हैं:

    और पढ़ेंः Spondylosis : स्पोंडिलोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    कारण

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन के कारण क्या हैं? (Cause of Pulmonary Hypertension)

    कभी-कभी डॉक्टर फेफड़ों में हाई ब्लड प्रेशर का कारण नहीं खोज पाते हैं। उस स्थिति में, कंडिशन को इडियोपैथिक पल्मोनरी हायपरटेंशन( idiopathic pulmonary hypertension) कहा जाता है।

    आपके दिल में दो ऊपरी कक्ष (एट्रिया) और दो निचले कक्ष (वेंट्रिकल) हैं। हर बार ब्लड आपके हृदय से होकर गुजरता है, निचला दाहिना कक्ष (right ventricle) एक बड़े ब्लड वेसेल्स (pulmonary artery) के माध्यम से आपके फेफड़ों में रक्त पंप करता है।

    आपके फेफड़ों में, ब्लड कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ता है और ऑक्सीजन उठाता है। ब्लड आपके फेफड़ों (pulmonary arteries, केशिकाओं और नसों) में ब्लड वेसेल्स के माध्यम से सामान्य रूप से आपके दिल के बाईं ओर आसानी से बहता है।

    हालांकि, सेल्स में परिवर्तन जो आपकी फुफ्फुसीय धमनियों(pulmonary arteries) को लाइन करते हैं, जिसके कारण धमनियों की दीवारों का कठोर, सूजन और मोटी हो जाती हैं। ये परिवर्तन फेफड़ों के माध्यम से रक्त प्रवाह को धीमा या ब्लॉक कर सकते हैं, जिससे पल्मोनरी हायपरटेंशन हो सकता है।

    पल्मोनरी हायपरटेंशन को पांच समूहों में बांटा गया है, जो इसके कारण पर निर्भर करता है:

    पहला भाग- इसमें ये कारण शामिल हो सकते हैं:

    • अज्ञात कारण (idiopathic pulmonary arterial hypertension)
    • एक आनुवांशिक म्यूटेशन परिवारों के माध्यम से हो गया हो (heritable pulmonary arterial hypertension)
    • कुछ नुस्खे डाएट दवाओं या अवैध दवाओं जैसे मेथामफेटामाइन(methamphetamines) – और अन्य दवाओं का उपयोग
    • जन्म के समय हार्ट की समस्याएं (congenital heart disease)
    • अन्य स्थितियां, जैसे connective tissue disorders (स्क्लेरोडर्मा(scleroderma), ल्यूपस, अन्य), एचआईवी संक्रमण या पुरानी यकृत रोग (cirrhosis)

    दूसरा भाग- बाएं तरफा हृदय रोग के कारण होता है, इसमें ये कारण शामिल हो सकते हैं:

    • बाएं तरफा हृदय वाल्व रोग(heart valve disease), जैसे माइट्रल वाल्व(mitral valve) या महाधमनी वाल्व रोग(aortic valve disease) (महाधमनी वाल्व के ठीक से बंद न होने पर महाधमनी अपर्याप्तता होती है।)
    • निचले बाएं हृदय कक्ष की विफलता (left ventricle)

    तीसरा भाग- फेफड़े की बीमारी के कारण, इसमें ये कारण शामिल हो सकते हैं:

    • क्रोनिक प्रतिरोधी फुफ्फुसीय रोग (Chronic obstructive pulmonary disease, COPD)
    • फुफ्फुसीय फाइब्रोसिस(Pulmonary fibrosis), एक ऐसी कंडिशन है जो फेफड़ों के वायु थैली (interstitium) के बीच टिशू में खरोंच का कारण बनती है
    • निंद के समय सांस लेने में समस्या

    चौथा भाग- क्रोनिक ब्लड के थक्के के कारण, इसमें ये कारण शामिल हो सकते हैं:

    • फेफड़ों में क्रोनिक ब्लड के थक्के (pulmonary emboli)
    • अन्य थक्के डिसऑर्डर

    पांचवा भाग- इसमें ये कारण शामिल हो सकते हैं:

    • पॉलीसिथेमिया वेरा (polycythemia vera) और आवश्यक थ्रोम्बोसाइटेमिया(thrombocythemia) सहित ब्लड डिसऑर्डर
    • सूजन संबंधी डिसऑर्डर जैसे कि सारकॉइडोसिस( sarcoidosis) और वास्कुलिटिस(vasculitis)
    • ग्लाइकोजन स्टोरेज रोग सहित मोटाबोलिक संबंधी डिसऑर्डर
    • किडनी की बीमारी

    और पढ़ेंः Viral Fever : वायरल फीवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    जोखिम

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन के जोखिम क्या हैं? (Risk factor of Pulmonary Hypertension)

    बढ़ती उम्र के साथ पल्मोनरी हायपरटेंशन या फुफ्फुसीय हायपरटेंशन के विकास का खतरा बढ़ सकता है। 30 से 60 वर्ष की उम्र के लोगों में इस बीमारी का अक्सर पता चलता है। हालांकि, युवा वयस्कों में इडियोपैथिक पीएएच(idiopathic PAH) अधिक आम है।

    अन्य चीजें जो पल्मोनरी हायपरटेंशन के जोखिम को बढ़ा सकती हैं, उनमें शामिल हैं:

    • किसी का पारिवारिक इतिहास रहा हो
    • वजन ज़्यादा होना
    • रक्त के थक्के विकार या फेफड़ों में रक्त के थक्कों का पारिवारिक इतिहास
    • अभ्रक के लिए एक्सपोजर
    • जन्मजात हृदय रोग सहित आनुवंशिक डिसऑर्डर
    • अधिक ऊंचाई पर रहना
    • कुछ वजन घटाने वाली दवाओं का उपयोग
    • कोकीन जैसे अवैध ड्रग्स का इस्तेमाल
    • अवसाद और चिंता का इलाज करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सेरोटोनिन रीपटेक इनहिबिटर (serotonin reuptake inhibitors (SSRIs)) का उपयोग

    [mc4wp_form id=”183492″]

    निदान

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Pulmonary Hypertension)

    यदि आपको सांस की तकलीफ हो रही है, तो अपने डॉक्टर को दिखाएं। वह आपसे आपके मेडिकल इतिहास के बारे में पूछेगा और साथ ही यह कुछ सवाल पूछ सकते हैं:

    • क्या आप धूम्रपान करते हैं?
    • क्या आपके परिवार में किसी को दिल या फेफड़ों की बीमारी है?
    • आपके लक्षण कब शुरू हुए?
    • आपके लक्षण को क्या बेहतर या बदतर बनाते हैं?
    • क्या आपके लक्षण कभी चले जाते हैं?

    आपका डॉक्टर टेस्ट करवाने के लिए कह सकते हैं, जिसमें ये शामिल हैं:

    आपका डॉक्टर ब्लड टेस्ट के जरिए एचआईवी और ल्यूपस जांच करवा सकता है।

    आप चाहे तो अपने डॉक्टर से कुछ सवाल पूछ सकते हैं। आप अपने डॉक्टर से मिलने से पहले प्रश्नों की एक सूची बना लें, ताकि आप यह सुनिश्चित कर सकें कि आप अपने डॉक्टर से वह सब कुछ पूछ सके, जो आप चाहते हैं। यह आपके साथ, आपके दोस्त या परिवार के सदस्य के लिए भी मदद कर सकता है ताकि आप जो जवाब चाहते हैं उसका जवाब मिल सकें। जैसे:

    • मेरे लिए सबसे अच्छा इलाज क्या है?
    • मुझे अपनी स्थिति के लिए डॉक्टर को कितनी बार दिखाना चाहिए?
    • क्या मुझे किसी विशेषज्ञ को दिखाने की आवश्यकता है?
    • मुझे आपातकालीन कमरे में कब जाना चाहिए?
    • क्या मुझे अपने आहार में नमक या तरल पदार्थों को सीमित करने की आवश्यकता है?
    • मैं किस तरह का व्यायाम कर सकता हूं?
    • क्या ऐसी कोई गतिविधियाँ हैं जिनसे मुझे दूर रहना चाहिए?
    • क्या मुझे निमोनिया का टीका और फ्लू की गोली लेनी चाहिए?

    और पढ़ेंः Knee Pain : घुटनों में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    उपचार

    पल्मोनरी हाइपरटेंशन का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Pulmonary Hypertension)

    पल्मोनरी हायपरटेंशन या फुफ्फुसीय हायपरटेंशन हर व्यक्ति की भिन्न होती है, इसलिए ये व्यक्तिक कंडिशन पर निर्भर करता है। अपने डॉक्टर से पूछें कि आपके विकल्प क्या हैं और क्या उम्मीद है। सबसे पहले, आपका डॉक्टर आपकी स्थिति के कारण का इलाज करेगा। उदाहरण के लिए, यदि वातस्फीति(emphysema) समस्या पैदा कर रही है, तो आपको अपने फुफ्फुसीय उच्च रक्तचाप(Pulmonary hypertension) में सुधार करने के लिए इलाज करने की आवश्यकता होगी।

    अधिकांश लोगों को सांस लेने की समस्या को दूर करने के लिए उसका उपचार किया जाता है। जिससे व्यक्ति एक्टिव रहता है और उसके लिए दैनिक कार्य करना आसान हो जाता है।

    और पढ़ें :Bedwetting : बिस्तर गीला करना (बेड वेटिंग) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    यदि आपको गंभीर फुफ्फुसीय उच्च रक्तचाप है, तो आपका डॉक्टर कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (calcium channel blockers)नामक दवाओं को लिख सकता है। ये दवाएं फेफड़ों और शरीर के बाकी हिस्सों में ब्लड प्रेशर को कम करती हैं।

    यदि कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स पर्याप्त नहीं हैं, तो आपका डॉक्टर आपको एक विशेष उपचार केंद्र में भेज सकता है। आपको अधिक लक्षित उपचारों की आवश्यकता हो सकती है जो आपके संकुचित ब्लड वेसेल्स को खोल सकते हैं। वे गोलियां हो सकती हैं, आप जिन दवाओं से सांस लेते हैं या जो दवाएं एक IV के माध्यम से दी जाती हैं। इनमें शामिल हैं:

    • गोलियां: अम्ब्रीसेंटन (Letairis), बोसेनटैन (Tracleer), मैकिटेंटन (Opsumit), रीओसिगुआट (Adempas), सेलेक्सिपाग (Uptravi), सिल्डेनाफिल (Revatio), टैडालफिल (Adcirca), ट्रेप्रिस्टिनिल (Orenitram)
    • इनहेलर्स: इलोप्रोस्ट ट्रोमेथमाइन (Ventavis), ट्रेप्रोस्टिनिल (Tyvaso)
    • IV दवाएं: एपोपोस्टेनॉल सोडियम (Flolan, Veletri)), ट्रेप्रोस्टीनिल

    अधिक गंभीर मामलों में, यदि दवाएं मदद नहीं करती हैं, तो आपका डॉक्टर फेफड़ों के प्रत्यारोपण या आलिंद सेप्टोस्टॉमी (atrial septostomy)नामक प्रक्रिया के लिए कह सकता है। एक सर्जन दिल के दाएं और बाएं पक्षों के बीच को खोलती है। इस सर्जरी के गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

    उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Pulmonary hypertension. https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/pulmonary-hypertension/symptoms-causes/syc-20350697. Accessed on/11/April/2020/

    About Pulmonary Hypertension. https://phassociation.org/patients/aboutph/. Accessed on/11/April/2020/

    Pulmonary Hypertension. https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/pulmonary-hypertension. Accessed on/11/April/2020/

    Pulmonary Hypertension/https://www.cdc.gov/heartdisease/pulmonary_hypertension.htm/ Accessed on 27th August 2021

    Pulmonary hypertension/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/Pulmonary-hypertension/Accessed on 27/01/2022

    Pulmonary hypertension/https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT04778046/Accessed on 27/01/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/01/2022 को
    डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड