महिलाओं में मेनोपॉज का दिल की बीमारी से रिश्ता जानने के लिए खेलें क्विज

By

कम से कम 12 महीने तक माहवारी (पीरियड्स) का न होना मेनोपॉज (Menopause) कहलाता है। महिलाओं में मेनोपॉज का मतलब है कि अब आपकी प्रजनन अवधि खत्म हो गई है। अब आप बच्चे को जन्म नहीं दे सकती हैं। यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया है इसलिए आपको इसके बारे में अधिक चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। वहीं बात की जाए दिल की तो वह मेनोपॉज के बाद बीमार हो सकता है। इसलिए मेनोपॉज के साथ ही अपने दिल का खास ख्याल रखें।

महिलाओं में मेनोपॉज के साथ हार्ट डिजीज होना सामान्य बात होती है क्योंकि उनके शरीर में एस्ट्रोजेन हॉर्मोन कम होता है। ऐसा इसलिए होता है कि मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजेन हॉर्मोन बनना बंद हो जाता है। एस्ट्रोजेन हॉर्मोन महिलाओं को हृदय रोगों से बचाता है। एस्ट्रोजेन हॉर्मोन की कमी से महिलाओं के रक्त में वसा (Fat) की मात्रा बढ़ने की आशंका रहती है। ये बदलाव महिला में दिल की बीमारी और परिसंचरण प्रणाली के कारण होने वाली गड़बड़ियां पैदा करता है। जैसे- हाई ब्लड प्रेशरहाई कोलेस्ट्रॉलस्ट्रोक और हृदय रोग आदि के बढ़ने की आशंका अधिक हो जाती है।

powered by Typeform

Share now :

रिव्यू की तारीख फ़रवरी 18, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया फ़रवरी 18, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे