home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट क्या होता है, क्यों पड़ती है इसकी जरूरत?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट क्या होता है, क्यों पड़ती है इसकी जरूरत?

एस्ट्रोजन हार्मोन महिलाओं के शरीर में पाए जाने वाले हार्मोन में मुख्य है। ऐस्ट्रोजन हार्मोन महिलाओं के फिजिकल फीचर, रिप्रोडक्टिव फंक्शन, ब्रेस्ट और यूट्रस की ग्रोथ के साथ ही पीरियड्स (menstrual) साइकिल के रेगुलेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एस्ट्रोजन हार्मोन सिर्फ महिलाओं के ही नहीं, बल्कि पुरुषों के शरीर में भी बनता है, लेकिन बहुत ही कम मात्रा में बनता है। एस्ट्रोजन हार्मोन के लेवल को चेक करने के लिए एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट किया जाता है। अगर आपको अब तक इस हार्मोन के बारे में जानकारी नहीं थी तो ये आर्टिकल पढ़ें और जानें कि कैसे किया जाता है एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट।

और पढ़ें :अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के 7 घरेलू नुस्खे

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट से पहले ये जान लें

एस्ट्रोजन हार्मोन के बहुत से प्रकार होते हैं लेकिन एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के दौरान केवल कुछ ही एस्ट्रोजन की जांच की जाती है।

एस्ट्रोन (Estrone)

एस्ट्रोन जिसे ई-1 भी कहा जाता है, ये महिलाओं में मेनोपॉज के बाद रिलीज होता है। मेनोपॉज यानी महिलाओं के जीवन में ऐसे समय का आना जब पीरियड्स आना बंद हो जाते हैं। आमतौर पर महिलाओं को 50 साल की उम्र तक मीनोपॉज हो जाता है।

एस्ट्राडियोल (Estradiol)

एस्ट्राडियोल हार्मोन को E2 भी कहते हैं। ये हार्मोन वजायनल लक्षण जैसे कि मीनोपॉज के कम उम्र में रोकने का काम करता है। इसे 17 बीटा-एस्ट्राडियोल ( 17 beta-estradiol) भी कहते हैं। ओवरीज, ब्रेस्ट और एड्रेनल ग्लैंड्स ये हार्मोन बनाती हैं। प्रेग्नेंसी में प्लासेंटा भी एस्ट्राडियोल हार्मोन बनाने का काम करता है। इस हार्मोन की मदद से सेक्स ऑर्गन जैसे कि यूट्रस, फैलोपियन ट्यूब, वजायना और ब्रेस्ट का डेवलपमेंट होता है। एस्ट्राडियोल हार्मोन पुरुषों में भी पाया जाता है, लेकिन ये बहुत ही कम मात्रा में पाया जाता है।

और पढ़ें : पीरियड्स के दौरान दर्द को कहना है बाय तो खाएं ये फूड

एस्ट्रिऑल( Estriol)

एस्ट्रिऑल हार्मोन को E3 भी कहते हैं। ये हार्मोन प्रेग्नेंसी के समय बढ़ जाता है।

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट क्यों किया जाता है ?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट की हेल्प से महिलाओं के शरीर की जरूरी जानकारी मिल जाती है। महिला की फर्टिलिटी (प्रेग्नेंट होने की क्षमता) की जानकारी, प्रेग्नेंसी के बारे में जानकारी, पीरियड्स के बारे में और अदर हेल्थ कंडीशन के बारे में जानकारी मिल जाती है। एस्ट्रोन (Estrone),एस्ट्राडियोल (Estradiol) और एस्ट्रिऑल( Estriol) हार्मोन के शरीर में लेवल की जांच की हेल्प से डॉक्टर को कई बातों की जानकारी मिल जाती है। जानिए एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट से डॉक्टर को क्या बातें जानने को मिलती हैं।

और पढ़ें: फाइब्रॉएड होने पर अपने डॉक्टर से जरूर पूछे ये फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल

क्या मुझे एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट कराना चाहिए ?

ऐसा जरूरी नहीं है कि सभी लड़कियों और महिलाओं को एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट कराना चाहिए। कुछ महिलाओं और लड़कियों को एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट की जरूरत पड़ सकती है। लेकिन ये बात आपका डॉक्टर तय करेगा कि आपको एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट कराना है या फिर नहीं। सभी लड़कियों और महिलाओं को इस बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए।

अगर आपको

बर्थ डिफेक्ट की है हिस्ट्री तो कराना पड़ सकता है टेस्ट

अगर कोई महिला प्रेग्नेंट है तो डॉक्टर उसे एस्ट्रिऑल टेस्ट के लिए सलाह दे सकता है। एस्ट्रिऑल टेस्ट 15वें और 20वें सप्ताह के दौरान किया जाता है। लेकिन ये टेस्ट सभी महिलाओं को नहीं करवाना पड़ता है। जिन महिलाओं के परिवार में बर्थ डिफेक्ट की हिस्ट्री रह चुकी है, डॉक्टर उन्हें ये टेस्ट कराने की सलाह दे सकता है। एस्ट्रिऑल टेस्ट की सहायता से जेनेटिक बर्थ डिफेक्ट जैसे कि डाउन सिंड्रोम आदि का पता लगाया जा सकता है। जो महिलाएं 35 से अधिक उम्र की हैं, डायबिटीज की समस्या है या फिर प्रेग्नेंसी में वायरल इंफेक्शन हो गया है, उन्हें इस टेस्ट की सलाह दी जा सकती है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : व्हाइट डिस्चार्ज (सफेद पानी) की समस्या से राहत पाने के 10 घरेलू उपाय

पुरुषों में भी हो सकता है एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट

जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया कि एस्ट्रोजन केवल महिलाओं में ही नहीं बल्कि पुरुषों में भी बनता है। पुरुषों में एस्ट्रोजन का लेवल कम पाया जाता है। अगर कभी एस्ट्रोजन में गड़बड़ी हो जाती है तो पुरुषों में भी एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट की जरूरत पड़ सकती है। कुछ लक्षणों के आधार पर पुरुषों को टेस्ट की सलाह दी जाती है। जानिए क्या हैं लक्षण,

  • प्युबर्टी अगर लड़के में सही समय पर नहीं आती है तो डॉक्टर एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट की सलाह दे सकता है।
  • अगर पुरुषों में अचानक से ब्रेस्ट बढ़ने लगते हैं तो उस कंडीशन को गाइनेकोमास्टिया (gynecomastia) कहते हैं। ऐसी कंडीशन में भी डॉक्टर जांच की सलाह दे सकता है।
  • अगर लो टेस्टोस्टेरॉन ( testosterone) के कारण एस्ट्रोजन का लेवल हाई हो रहा है तो भी डॉक्टर एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए कह सकता है।
  • पुरुषों में ट्यूमर की पहचान करने के लिए एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट किया जाता है।

और पढ़ेंः महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार, कारण, इलाज और समाधान

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के दौरान क्या होता है ?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए डॉक्टर ब्लड, यूरिन या फिर सलाइवा का सैंपल ले सकता है। ब्लड और यूरिन टेस्ट डॉक्टर के ऑफिस या फिर लैब में हो जाता है। सलाइवा की जांच घर में भी की जा सकती है।

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए डॉक्टर आपकी आर्म से निडिल का यूज करके ब्लड सैंपल लेगा। ज्यादातर लोगों को निडिल से बहुत डर महसूस होता है और उन्हें निडिल देखकर चक्कर आने लगता है। खासतौर पर महिलाओं के साथ ऐसा होता है। ये बात ध्यान रखें कि हेल्थ केयर प्रोवाइडर या फिर डॉक्टर इतने अच्छे ढंग से ब्लड निकालते हैं कि कुछ भी पता ही नहीं चलता है। जांच के दौरान डरने की जरूरत नहीं है। कुछ ही मिनट में ब्लड टेस्ट हो जाता है।

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए यूरिन सैंपल

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए डॉक्टर यूरिन का सैंपल लेता है। यूरिन टेस्ट के लिए डॉक्टर आपसे 24 घंटे के दौरान जितनी भी बार आपने यूरिन पास किया है, उसका सैंपल मांग सकता है। इसे 24-आवर यूरिन सैंपल टेस्ट भी कहते हैं। हेल्थ केयर प्रोवाइडर या फिर लैबोरेट्री प्रोफेशनल आपको यूरिन कलेक्ट करने के लिए कंटेनर देगा और साथ ही कुछ निर्देश भी देगा। जानिए यूरिन टेस्ट के दौरान क्या स्टेप अपनाएं जाते हैं।

  • सुबह उठने के बाद यूरिन करें। फिर यूरिन कितने बजे की है, उस टाइम को नोट कर लें। इसे कलेक्ट करने की जरूरत नहीं है।
  • अगले 24 घंटे के लिए जितनी बार भी यूरिन पास करें, उस यूरिन के सैंपल को कंटेनर में इकट्ठा करें।
  • आपको यूरिन को अधिक तापमान में नहीं रखना चाहिए। यूरिन कंटेनर को रेफ्रिजरेटर या फिर आईस की हेल्प से ठंडा रखें।
  • फिर हेल्थ केयर प्रोवाइडर को सैंपल दें।

घर में सलाइवा टेस्ट

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए घर में सलाइवा टेस्ट भी किया जा सकता है। इस बारे में आप डॉक्टर से भी बात कर सकते हैं। सलाइवा टेस्ट के लिए किस किट का यूज करना है और किस तरह से सलाइवा का सैंपल प्रिपेयर करना है, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें।

और पढ़ेंः क्या मेनोपॉज के बाद महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट से कोई रिस्क है ?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट में अपनाई गई प्रक्रिया बहुत ही सरल होती है। किसी भी व्यक्ति को एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के लिए पहले से प्रिपरेशन करने की जरूरत नहीं पड़ती है। रिस्क फैक्टर की बात की जाए तो टेस्ट के दौरान या फिर बाद में किसी भी तरह का रिस्क नहीं होता है। जिन महिलाओं या फिर पुरुषों को निडिल से डर लगता है, उन्हें हल्का सा दर्द महसूस हो सकता है। लेकिन निडिल का दर्द भी कुछ सेंकेंड ही महसूस होता है। बाकी टेस्ट के दौरान डरने की जरूरत नहीं है। कुछ लोगों को टेस्ट के दौरान परेशानी भी महसूस हो सकती है, जानिए किस तरह की परेशानी से गुजरना पड़ सकता है,

  • ब्लीडिंग की समस्या
  • इंफेक्शन
  • चोट लगने की संभावना
  • चक्कर आना या बेहोशी महसूस होना
  • सुटेबल वेंस न मिल पाने पर डॉक्टर मल्टीपल पंचर कर सकता है।
  • स्किन के नीचे ब्लड बिल्डिंग

और पढ़ें- जानिए क्या है ब्रेस्ट मिल्क पंप और कितना सुरक्षित है इसका प्रयोग?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के रिजल्ट का क्या मतलब है ?

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के रिजल्ट में एस्ट्राडियोल और एस्ट्रोन का स्तर दिया रहता है। अगर एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के रिजल्ट में आपका एस्ट्राडियोल (estradiol ) या एस्ट्रोन (estrone ) का स्तर सामान्य से अधिक है तो यह निम्नलिखित कारणों से हो सकता है,

  • ओवरीज, एड्रेनल ग्लैंड्स ( adrenal glands) या टेस्टिकल्स (testicles) का ट्यूमर।
  • लड़कियों में अर्ली प्युबर्टी और लड़कों में लेट प्युबर्टी
  • हाइपरथाइरोडिज्म (Hyperthyroidism)
  • सिरोसिस, लिवर डैमेज (Cirrhosis)

अगर हार्मोन का लेवल कम है तो निम्न कारण हो सकते हैं,

  • महिलाओं में प्राइमरी ओवरी इनसफिशियंसी नामक स्थिति बनना। ऐसी स्थिति में महिलाओं की ओवरी 40 साल से पहले ही काम करना बंद कर देती है।
  • ईटिंग डिसऑर्डर एनोरेक्सिया नर्वोसा (Anorexia Nervosa) के कारण
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जिसमें महिलाएं को प्रेग्नेंसी के लिए समस्या का सामना करना पड़ता है। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम महिलाओं में इनफर्टिलिटी के मुख्य कारणों में से एक होता है।
  • अगर महिला प्रेग्नेंट है और उसका एस्ट्रिऑल का स्तर सामान्य से कम है, तो इसका मतलब है कि उसकी गर्भावस्था को खतरा है। साथ ही होने वाले बच्चे में बर्थ डिफेक्ट का भी खतरा है। अगर टेस्ट के दौरान पॉसिबल बर्थ डिफेक्ट के बारे में जानकारी मिलती है तो डॉक्टर अन्य टेस्ट की सलाह भी देगा और फिर निदान करेगा।
  • एस्ट्रिओल का हाई लेवल लेबर को भी जल्दी शुरू कर सकता है। लेबर से करीब चार सप्ताह पहले ही एस्ट्रिओल का लेवल बढ़ जाता है।

अन्य टेस्ट की सलाह

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट के रिजल्ट आने के बाद डॉक्टर लक्षणों के आधार पर अन्य टेस्ट की सलाह भी दे सकता है। फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन (FSH) के लेवल को भी चेक किया जा सकता है। FSH हार्मोन की हेल्प से मेंस्ट्रुअल साइकिल मैनेज होती है और सही समय पर ओवरी में एग का प्रोडक्शन होता है। वहीं पुरुषों में FSH स्पर्म के प्रोडक्शन को प्रमोट करने का काम करता है। अगर महिला या पुरुष में इनफर्टिलिटी की समस्या है तो डॉक्टर FSH का टेस्ट और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन ( luteinizing hormone ) की जांच की जा सकती है। लड़के और लड़कियों में अर्ली प्युबर्टी के दौरान भी टेस्ट किए जा सकते हैं।

मेडिसिन के कारण एस्ट्राडियोल लेवल पर प्रभाव

कुछ मेडिसिन आपके एस्ट्राडियोल लेवल को प्रभावित कर सकती हैं। अगर आप टेस्ट कराने जा रही हैं तो डॉक्टर को इस संबंध में जरूर बताएं कि आप कौन सी दवा रोजाना ले रही हैं। हो सकता है कि आपका डॉक्टर किसी मेडिसिन को जांच के कुछ समय पहले तक बंद कर दें। जानिए कौन सी मेडिसिन आपके एस्ट्राडियोल लेवल को प्रभावित कर सकती है।

  • गर्भनिरोधक गोलियां (Birth control pills)
  • एस्ट्रोजन थेरेपी (Estrogen therapy)
  • ग्लूकोकॉर्टिकॉइड्स (Glucocorticoids)
  • फेनोथियाजिनेस, जिसका यूज स्किजोफ्रेनिया ( schizophrenia) और अन्य मानसिक विकारों के इलाज के लिए किया जाता है।
  • एंटीबायोटिक्स टेट्रासाइक्लिन ( Tetracycline ), पैनामाइसिन और एम्पीसिलीन (Ampicillin)
  • पीरियड्स के दौरान भी महिलाओं के एस्ट्राडियोल लेवल में अंतर पाया जा सकता है। ऐसे में डॉक्टर ब्लड टेस्ट के लिए किसी खास दिन का चुनाव कर सकता है

इन कारणों से भी प्रभावित हो सकता है एस्ट्राडियोल लेवल

डॉक्टर का सुझाव

एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट का रिजल्ट आ जाने के बाद हार्मोन के कम या फिर ज्यादा लेवल के बारे में जानकारी मिल जाती है। ऐसे में डॉक्टर रिजल्ट के आधार पर कुछ मेडिसिन का सुझाव दे सकता है या फिर मेडिसिन को चेंज कर सकता है।

  • दवा में परिवर्तन
  • नई दवा लेने का सुझाव
  • स्पेशलिस्ट से जांच की सलाह
  • एडिशनल टेस्ट और प्रोसीजर के बारे में जानकारी
  • एस्ट्राडियोल लेवल की मॉनिटरिंग और अन्य जांच

अगर आपके मन में एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट को लेकर कोई भी प्रश्न हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

(Accessed on 22/1/2020

The role of estradiol in male reproductive function

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4854098/

What Is an Estrogen Test?

https://www.webmd.com/women/guide/estrogen-test#1

Estrogen Levels Test

https://medlineplus.gov/lab-tests/estrogen-levels-test/

Estradiol Test

https://www.healthline.com/health/estradiol-test

What is an estradiol test and why is it used?

https://www.medicalnewstoday.com/articles/323178.php

Estradiol Test

https://labtestsonline.org/tests/estrogens

लेखक की तस्वीर
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x