फाइब्रॉएड होने पर अपने डॉक्टर से जरूर पूछे ये फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल

    फाइब्रॉएड होने पर अपने डॉक्टर से जरूर पूछे ये फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल

    डॉक्टर जैसे ही फाइब्रॉएड के बारे में महिला को सूचित करते है, वैसे ही महिला के मन में फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल आते है। फाइब्रॉएड को लेकर भ्रम भी काफी ज्यादा पाए जाते है लेकिन अगर समय रहते डॉक्टर से फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल पूछे जाएं तो भ्रम से काफी हद तक छुटकारा पाया जा सकता है। फाइब्रॉएड और फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल को लेकर महिलाओं में जागरूकता भी कम है। महिलाओं को जब पीरियड्स में अनियमितता या ज्यादा ब्लीडिंग होती है, तब वे उसे सामान्य समझ कर डॉक्टर से संपर्क तक नहीं करती। कोई भी अजीब लक्षण का अनुभव करने पर डॉक्टर से संपर्क कर सलाह जरूर लेना चाहिए। जब आपको पता चलें कि आपको फाइब्रॉएड है तो डॉक्टर से फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल जरूर पूछें। अधिकतर महिलाओं को फाइब्रॉएड्स के बारे में काफी देर से पता चलता है, क्योंकि अधिकतर महिलाओं को फाइब्रॉएड्स के लक्षणों के बारे में पता नही होता है। अगर आपको भी फाइब्रॉएड्स होने के बारे में पता चला है तो आपको इसके बारे में सभी बातें पता होना जरूरी है। इसलिए फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल एक नहीं बल्कि कई सवाल आते हैं तो पूछें, अन्यथा इस आर्टिकल में कुछ जरूरी सवाल है, जो आपकी सेहत की देखभाल के लिए जरूरी है।

    और पढ़ें- यूटेरिन प्रोलैप्स: गर्भाशय क्यों आ जाता है अपनी जगह से नीचे?

    फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल और उनके जवाब –

    सवाल- 1 फाइब्रॉएड गर्भाशय में किस जगह पर है?

    कारण- अगर किसी महिला को फाइब्रॉएड है तो उसे पता होना चाहिए कि वह किस जगह पर है। फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल में यह पहले नंबर पर है फाइब्रॉएड गर्भाशय में किस जगह है, इस पर इलाज और जोखिम निर्भर करता है। फाइब्रॉएड जगह के अनुसार ही विभाजित किये गए है। कुछ फाइब्रॉएड योनि के द्वार पर होते है, कुछ गर्भाशय के अंदर की दीवार पर तो कुछ गर्भाशय की बाहर की दीवार पर मौजूद होते है। हर फाइब्रॉएड का इलाज अलग तरह से होता है इसलिए ये पता होना बेहद जरूरी है कि फाइब्रॉएड किस जगह पर है। फाइब्रॉएड किस जगह पर है, इससे ये पता चल पाता है कि फाइब्रॉएड से किस तरह के खतरे है और यह कितनी जल्दी ठीक हो सकता है।

    और पढ़ें- प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

    सवाल- 2 फाइब्रॉएड का आकार कितना बड़ा है?

    कारण- फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल करते समय ये जरूर पूछे कि फाइब्रॉएड का आकार कितना बड़ा है। फाइब्रॉएड का आकार ही तय करता है कि इसका इलाज तुरंत शुरू करना है या नहीं। डॉक्टर से आप फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल में इस सवाल को भी शामिल करें। अक्सर छोटा फाइब्रॉएड होने पर डॉक्टर हार्मोन के लिए दवाई देते है, ताकि फाइब्रॉएड का साइज न बढ़े। बड़ा फाइब्रॉएड होने पर डॉक्टर विशेष तौर पर फाइब्रॉएड छोटी करने के लिए दवाई या फिर सर्जरी की सलाह देते है। इसलिए आप डॉक्टर से जरूर पूछें कि फाइब्रॉएड का आकार कितना बड़ा है?

    और पढ़ें- Fibroids: फाइब्रॉइड्स (रसौली) क्या है?

    सवाल- 3 फाइब्रॉएड की वजह से क्या जोखिम रहेंगे?

    कारण- फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल करते समय ये जरूर पूछे कि फाइब्रॉएड होने की वजह से आगे किस तरह के जोखिम रहेंगे। फाइब्रॉएड के कारण सेहत पर क्या असर पड़ेगा, ये महिला को जरूर जानना चाहिए। फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल में जोखिम के सवाल भी पूछना चाहिए। क्या फाइब्रॉएड की वजह से पूरा गर्भाशय तो नहीं निकालना पड़ेगा। फाइब्रॉएड के कारण कहीं प्रेग्नेंसी धारण करने में तो दिक्कत नहीं आएगी। क्या फाइब्रॉएड से ग्रसित महिला को बार बार गर्भपात का सामना तो नहीं करना पड़ेगा। ये कुछ जरूरी फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल है, जिसके बारे में ग्रसित महिला को जानकारी होना जरूरी है। कई केस में फाइब्रॉएड महिला को कोई परेशानी नहीं देती, इसलिए ये जानना जरूरी है कि आपको होने वाले फाइब्रॉएड से किस तरह के जोखिम रहेंगे।

    और पढ़ें- Fibromyalgia : फाइब्रोमायल्जिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    सवाल- 4 फाइब्रॉएड के कारण क्या सेक्स लाइफ प्रभावित होगी?

    कारण- फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल करते समय ये जरूर पूछे कि फाइब्रॉएड की वजह से सेक्स लाइफ प्रभावित होगी या नहीं। दरअसल फाइब्रॉएड होने पर इंटरकोर्स के समय दर्द होता है और यह अनुभव महिला को हर बार होता है। हालांकि कुछ तरह की फाइब्रॉएड में दर्द नहीं होता है। लेकिन कई मामलों में यह भी देखा गया है कि फाइब्रॉएड होने पर इंटरकोर्स के समय ब्लीडिंग तक होती है । अगर आपको फाइब्रॉएड है तो डॉक्टर से फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल करते समय इस सवाल को शामिल करें और जरूर पूछे कि क्या फाइब्रॉएड शारीरिक संबंध बनाने में समस्या पैदा करेगी।

    सवाल- 5 फाइब्रॉएड के कारण प्रेग्नेंसी पर क्या फर्क पड़ेगा?

    कारण- फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल करते समय ये जरूर पूछे कि फाइब्रॉएड प्रेग्नेंसी पर क्या असर पड़ेगा। दरअसल फाइब्रॉएड का प्रेग्नेंसी पर बहुत फर्क पड़ता है, कभी-कभी यह गर्भस्थ शिशु के साथ बढ़ने लगता है इसलिए फाइब्रॉएड के साथ प्रेग्नेंट होने पर इसके जोखिम के बारे में पता होना जरूरी है। कई बार फाइब्रॉएड होने पर महिलाओं को कंसीव करने में दिक्कत आती है। यदि फाइब्रॉएड दूसरे प्रकार की है तो डिलिवरी नॉर्मल होने में समस्या आती है। यदि कंसीव करने से पहले ही आपको पता है कि आपको फाइब्रॉएड है तो प्रेग्नेंसी की योजना डॉक्टर की सलाह से करें। यदि बार बार गर्भपात होने पर आपको पता चले कि फाइब्रॉएड है तो डॉक्टर प्रेग्नेंसी को बरकरार रखने के लिए दवाई देते है। यह सवाल फाइब्रॉएड से जुड़े सवाल में मुख्य स्थान रखता है।

    और पढ़ें- पुरुषों के लिए प्रेग्नेंसी गाइडलाइन, जरूर करें इसे फॉलो

    सवाल- 6 फाइब्रॉएड का इलाज कब से शुरू किया जाए और इसमें किस तरह का इलाज लेना बेहतर रहेगा?

    कारण- फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल फाइब्रॉएड होने पर डॉक्टर से ये सवाल जरूर पूछे कि फाइब्रॉएड का इलाज कब और कैसे किया जाएगा। आपको इस बता का पता होना जरूरी है कि आपको होने वाला फाइब्रॉएड कौन सा है और उसका इलाज कैसे किया जाना है। कुछ फाइब्रॉएड में जोखिम नही रहते है और ये साधारण इलाज से ही ठीक हो जाते है। कुछ केस में डॉक्टर फाइब्रॉएड के लिए बेसिक दवाइयां दे देते है। कुछ तरह की फाइब्रॉएड में लंबा इलाज तक चलता है। कई बार डॉक्टर मरीज की परिस्थितियां देख कर सर्जरी की सलाह तक देते है। कई बार फाइब्रॉएड सिकुड़ जाएं, इसके लिए दवाई भी दी जाती है। इसलिए आपको पता होना जरूरी है कि आपको होने वाले फाइब्रॉएड का इलाज कितने दिनों तक चलेगा।

    और पढ़ें- गर्भावस्था और काम के बीच कैसे बनाएं बैलेंस?

    यह कुछ दिए गए फाइब्रॉएड्स से जुड़े सवाल है, जिसे महिला को डॉक्टर से जरूर पूछना चाहिए। यह जानकारी उन्हें भविष्य के जीवन की रुपरेखा तैय्यार करने में मदद करेगी। एक बात का ध्यान रखें, डॉक्टर जो सलाह दे, उसका सख्ती से पालन करें।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    संबंधित लेख:

    प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

    क्या प्रेग्नेंसी में प्रॉन्स खाना सुरक्षित है?

    प्रेग्नेंसी में सीने में जलन से कैसे पाएं निजात

    प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन क्या सुरक्षित है? जानें इसके फायदे और नुकसान

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Dr Sharayu Maknikar


    sudhir Ginnore द्वारा लिखित · अपडेटेड 26/05/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement