home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स करते समय ध्यान दें ये बातें

पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स करते समय ध्यान दें ये बातें

पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स (Sexual Intercourse) करते वक्त लड़का-लड़की दोनों को परेशानी होती है। क्योंकि, उन्हें फोरप्ले और सेक्स करने का स्टेप नहीं पता होता है। पहली बार सेक्स करने में किसी को ब्लीडिंग तो किसी को प्राइवेट पार्ट या पेट के निचले हिस्से दर्द की समस्या देखने को मिल ही जाती है। अगर आप भी पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स करेंगे और आपको इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, तो ये आर्टिकल आप पूरा पढ़ें। जानिए कि फर्स्ट टाइम सेक्स करते समय किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत होती है।

और पढ़ें: फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

फर्स्ट टाइम सेक्स (First time sex) करते समय ध्यान दें ये बातें

जल्दबाजी न करें

पहली बार इंटरकोर्स करते वक्त सबसे ज्यादा समस्या जल्दबाजी देखी गई है। फर्स्ट टाइम इंटरकोर्स में यह बहुत बड़ी गलती है। अगर आप फर्स्ट टाइम इंटरकोर्स कर रहे हैं तो जल्दबाजी न करें। हर काम धीरे-धीरे करें। यह लड़का-लड़की दोनों के लिए है। आप फर्स्ट टाइम सेक्स का भरपूर आनंद लेने के लिए एक दूसरे के हाव-भाव को समझें।

एक्साइटमेंट लिमिट में

पहली बार सेक्स करते वक्त बहुत ज्यादा एक्साइटेड होने की जरूरत नहीं है। चाहे आप गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स कर रहे हों या वाइफ के साथ। एक्ससाइटमेंट में दोनों से गलतियां हो सकती है। फर्स्ट टाइम सेक्स करते वक्त थोड़ी-सी भी गलती दोनों का मजा खराब कर सकती है।

सेफ्टी है जरूरी

फर्स्ट टाइम सेक्शुअल इंटरकोर्स (Sexual Intercourse) करते वक्त एक और बड़ी सावधानी बरतने की जरूरत है। अगर आप वाइफ के साथ पहली बार सेक्स कर रहे हैं और बच्चा नहीं चाहते हैं, तो आपको सेफ्टी लेना जरूरी है। अगर आप बहुत ज्यादा एक्साइटेड होकर जल्दबाजी करते हैं, तब आप अनचाहे गर्भ की समस्या से जूझ सकते हैं। आप सेफ्टी के तौर पर कॉन्डोम या ऐसा कोई भी ऑप्शन ले सकते हैं, जिससे आप अनचाहे गर्भ की समस्या का शिकार न हों।

फोरप्ले करें

पहली बार सेक्शुअल इंटरकोर्स (Sexual Intercourse) करने से पहले फोरप्ले जरूर करें। फोरप्ले सेक्स का मोस्ट इंपोर्टेंट पार्ट होता है। सेक्स से पहले फोरप्ले करने से आप दोनों मेंटली और फिजिकली सेक्स के लिए तैयार हो जाते हैं। फोरप्ले महिलाओं के लिए काफी सही रहता है। लड़कों की तुलना में लड़कियों को सेक्स के लिए तैयार होने में काफी समय लगता है। अगर आप अपने पार्टनर के साथ सेक्स से पहले फोरप्ले करते हैं, तो वह सेक्स के लिए काफी उत्तेजित हो जाती हैं। इससे सेक्स का आनंद आपका दोगुना हो जाएगा।

महिलाओं के साथ फोरप्ले करना इसलिए जरूरी होता है, क्योंकि योनि (वजायना) में एक नैचुरल ल्यूब्रिकेंट डिस्चार्ज होता है। जिस वजह से महिलाओं को सेक्स करते वक्त चिकनाहट की वजह से दर्द नहीं होता है, और वो सेक्स का भरपूर आनंद लेती हैं।

पहली बार सेक्स करना एक्साइटिंग के साथ-साथ चैलेंजिंग भी हो सकता है, इसलिए जरूरी है कि आप ऊपर बताई गई बातों का विशेष ध्यान रखें। इससे आपका फर्स्ट सेक्स एक यादगार सेक्स बनने में मिलेगी।

और पढ़ें: नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

अपने शरीर को अच्छी तरह पहचानें

अगर आप पहली बार सेक्स करने जा रहे हैं, तो यह टिप आपके बहुत काम की है। सेक्स से पहले आपको अपने शरीर को अच्छी तरह पहचानना जरूरी है। जैसे आपके कौन-से शारीरिक हिस्से ज्यादा संवेदनशील हैं या फिर आपको सेक्स के दौरान क्या करना पसंद आता है और क्या नहीं। इसके अलावा सेक्स प्रति आपका कंफर्ट लेवल क्या है। सेक्स को एंजॉय करने के लिए अपने कंफर्ट का पता होना काफी जरूरी है, क्योंकि इसके बाहर जाने पर आप सेक्स का मजा नहीं उठा पाएंगे।

बातचीत है जरूरी

अगर आप फर्स्ट टाइम सेक्स को बेहतरीन बनाना चाहते हैं, तो आपको पार्टनर से बातचीत करना बहुत जरूरी है। हर किसी व्यक्ति कि अपनी पसंद-नापसंद होती है और इसके बारे में आप उनसे बात करके ही पता कर सकते हैं। जिस तरह आपको अपने शरीर के बारे में पता होना जरूरी है, ठीक वैसे ही आपको पार्टनर के संवेदनशील हिस्सों के बारे में भी बात करके पता करना चाहिए। इससे आप दोनों ही पूरी प्रक्रिया का आनंद उठा पाएंगे। इसके साथ ही पार्टनर के लिए इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि कहीं आप उसके कंफर्ट लेवल से बाहर तो नहीं जा रहे। क्योंकि इससे उनका एक्सपीरियंस बुरा हो सकता है।

प्रैक्टिकल रहें

अक्सर होता यह है कि पॉर्न देख-देखकर हम कई असामान्य चीजों को भी सेक्स का हिस्सा समझ लेते हैं। दरअसल, सेक्स की कोई निर्धारित सीमा या प्रक्रिया नहीं है। आप दोनों अपने कंफर्ट के हिसाब से इसका दायरा बढ़ा या छोटा कर सकते हैं। दूसरी तरफ परफॉर्मेंस एंग्जायटी में बिल्कुल न फंसे कि पार्टनर को ऑर्गैज्म मिलना ही चाहिए या फिर देर तक परफॉर्म करना ही है। ऑर्गैज्म मिलना या न मिलना व्यक्ति से व्यक्ति पर निर्भर कर सकता है। किसी व्यक्ति को आसानी से ऑर्गैज्म प्राप्त हो जाता है और किसी को इसे अचीव करने में काफी समय लगता है। इसी तरह देर तक परफॉर्म करना या न करना बिल्कुल सामान्य है। यह भी व्यक्ति से व्यक्ति पर निर्भर करता है। इसलिए किसी भी तरह का प्रेशर न आने दें, इससे आपका फर्स्ट टाइम खराब हो सकता है। इस प्रक्रिया में धीरे-धीरे एक्सपर्ट बना जाता है।

फर्स्ट टाइम सेक्स के लिए बेस्ट सेक्स पुजिशन

अगर आप पहली बार सेक्स करने के लिए किसी आसान और मजेदार सेक्स पुजिशन के बारे में ढूंढ रहे हैं, तो यहां आपको जवाब मिलेगा। आप मिशनरी, गर्ल ऑन टॉप, डॉगी स्टाइल और 69 पुजिशन को ट्राय कर सकते हैं। यह सभी पुजिशन काफी आसान होती है और ऑर्गैज्म प्राप्त करने में काफी मददगार भी होती है। हालांकि, इन्हीं पुजिशन पर ही मत चिपक जाइएगा, जैसा कि हम बताते आ रहे हैं कि हर किसी की पसंद-नापसंद अलग होती है। इसलिए, अगर आपको इनसे अलग किसी सेक्स पुजिशन में आसानी महसूस हो रही है, तो उसे ट्राय जरूर करें।

ओरल सेक्स और एनल सेक्स

What is Oral sex - ओरल सेक्स क्या है

ऐसा कहीं भी नहीं लिखा कि आप फर्स्ट टाइम ओरल सेक्स या एनल सेक्स नहीं कर सकते। अगर आपका मन सिर्फ एनल सेक्स या ओरल सेक्स करने का है या फिर वजायनल सेक्स के साथ दोनों को ही ट्राय करने का मन है? तो वही करिए, जो आपका मन कहता है। लेकिन कुछ बातों का ध्यान जरूर रखिए, वो यह है कि ओरल सेक्स के दौरान आपको अपने प्राइवेट पार्ट्स की साफ-सफाई का बहुत ध्यान रखना पड़ेगा। क्योंकि अस्वच्छता से संक्रमण का खतरा हो सकता है।

वहीं, एनल सेक्स के दौरान आपको अतिरिक्त ल्यूब्रिकेशन का इस्तेमाल करना पड़ेगा। क्योंकि, वजायना की तरह एनस खुद को नैचुरली ल्यूब्रिकेट नहीं करती और ड्रायनेस की समस्या हो सकती है। ड्रायनेस के साथ पेनिट्रेट करने पर एनस के टिश्यू टीअर हो सकते हैं। जिससे काफी दर्द या संक्रमण हो सकता है।

और पढ़ें: सेफ सेक्स से अनचाही प्रेग्नेंसी तक : जानिए कॉन्डोम के 5 फायदे

पहली बार सेक्स करने के बाद आते हैं ये शारीरिक बदलाव

आइए अब जानते हैं कि फर्स्ट टाइम सेक्स करते समय महिलाओं के शरीर में क्या बदलाव होते हैं :

  1. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स के दौरान उनके ब्रेस्ट में एक तरह की सूजन आ जाती है या वे सामान्य से बड़े नजर आते हैं। ऐसा ब्लड सर्कुलेशन तेज होने की वजह से होता है। हालांकि, सेक्स या ऑर्गैज्म के बाद यह स्थिति सामान्य हो जाती है।
  2. फर्स्ट टाइम सेक्स करने के बाद महिला की योनि में बदलाव आता है। पहले सेक्स के बाद वजायना की इलास्टिसिटी में बदलाव आता है। पहली बार सेक्स करने के बाद वजायना पेनिट्रेशन के लिए एक्सपर्ट होने के लिए कुछ समय ले सकती है। लेकिन, हर बार सेक्स करने पर यह इलास्टिसिटी बेहतर होती जाती है। इसके साथ ही, समय के साथ वजायना नेचुरल ल्यूब्रिकेशन की प्रक्रिया में भी अभ्यस्त होने लगती है।
  3. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स करने के बाद भावनात्मक बदलाव आ सकते हैं। जिसकी वजह से आप, पहली बार सेक्स करने के बाद खुश और दुखी दोनों हो सकती हैं। लेकिन, ऐसा शरीर में हॉर्मोनल चेंज होने की वजह से होता है। इसलिए घबराने की कोई बात नहीं है।
  4. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स करने के बाद सेरोटोनिन, डोपामाइन, ऑक्सीटोसिन आदि हैप्पी हॉर्मोन का उत्पादन होने लगता है। जिससे आपका मूड खुशनुमा होता है और तनाव, डिप्रेशन आदि से राहत मिलती है।
  5. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स के दौरान ब्लड सर्कुलेशन बढ़ने से निपल्स ज्यादा संवेदनशील हो जाते हैं।
  6. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स करने के बाद शरीर में हॉर्मोनल चेंज होने की वजह से पीरियड्स में देरी हो सकती है। लेकिन, घबराने की कोई बात नहीं है, यह प्रेग्नेंसी का लक्षण नहीं होता।
  7. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स के बाद क्लिटोरिस भी सामान्य से बड़ा हो जाता है और यूट्रस थोड़ा एक्टिव होने लगता है। जिसके बाद ये शारीरिक अंग सेक्स के दौरान आने वाले बदलावों के अभ्यस्त हो जाते हैं। हालांकि, सेक्स के बाद यह अपनी सामान्य स्थिति में लौट आते हैं।
  8. महिलाओं के फर्स्ट टाइम सेक्स करते हुए सबसे उत्तेजना होना शुरू हो जाती है। जो कि सेक्शुअल स्टिमुलेशन के शुरू होने के 10 से 30 सेकेंड के भीतर होने लगता है। इसमें, महिलाओं में वजायनल ल्यूब्रिकेशन होने लगता है और वह एक्सपैंड होने लगती है। इस दौरान, महिलाओं की वजायना के आउटर लिप्स, इनर लिप्स, क्लिटोरिस और कभी-कभी ब्रेस्ट भी सूजन आने लगती है। इस दौरान, महिलाओं की धड़कन, ब्लड प्रेशर और सांसें चढ़ने लगती हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या फर्स्ट टाइम सेक्स करते समय दर्द ज्यादा होता है?

सभी महिलाओं के फर्स्ट टाइस सेक्स का अनुभव अलग-अलग हो सकता है। कुछ को ज्यादा दर्द का सामना करना पड़ सकता है और इसके विपरीत कुछ महिलाओं को थोड़े-बहुत दर्द का सामना करना पड़ सकता है।

और पढ़ें: युगल सेक्स के बारे में जानिये कुछ दिलचस्प और रोमांचक बातें

पहली बार सेक्स करते समय ब्लीडिंग क्यों होती है?

अगर महिलाओं के फर्स्ट टाइस सेक्स के बाद ज्यादा ब्लीडिंग या दर्द हो रहा है, तो उन्हें डॉक्टर से बात करनी चाहिए। हालांकि, फर्स्ट टाइम सेक्स के बाद थोड़ी बहुत ब्लीडिंग या दर्द होना स्वाभाविक है। कई बार, यह हाइमन के टूटने की वजह से भी होता है।

अगर आप इससे जुड़ी किसी तरह के अन्य सवालों का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगाे। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। यदि आपका इससे जुड़ा कोई प्रश्न है तो कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

First Time Sex: https://www.plannedparenthood.org/learn/teens/sex/virginity/what-happens-first-time-you-have-sex Accessed July 07, 2020

Safe sex. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/safe-sex. Accessed on 11 January, 2020.

Adolescent Boys’ Experiences of First Sex. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3439130/. Accessed on 11 January, 2020.

HAVING SEX FOR THE FIRST TIME: https://www.brook.org.uk/your-life/having-sex-for-the-first-time/ Accessed July 07, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Sidharth Chaurasiya द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/11/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x