प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को कैसे बढ़ाएं?

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को कैसे बढ़ाएं?

    गर्भावस्था के दौरान शरीर में होने वाले परिवर्तनों की वजह से प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी महसूस हो सकती है। हो सकता है कि आप प्रेग्नेंसी के पहले सेक्स को जितना एंजॉय करते थे, अब वैसा महसूस न हो रहा हो। प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को लेकर जब हैलो स्वास्थ्य ने फोर्टिस हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्‍ट डॉ. सगारिका बसु से बात की तो उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण बातें शेयर की।

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव क्यों कम हो जाती है?

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव कम होने का मुख्य कारण महिलाओं के शरीर में होने वाले परिवर्तन हैं। महिलाएं शरीर में होने वाले चेंजेस को इग्नोर नहीं कर पाती है और इस कारण सेक्स ड्राइव में कमी आ जाती है। यहां कुछ कारण दिए गए हैं जिसके कारण प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी आ जाती है।

    ‘मैं बहुत थक गई हूं’ यह बात लाती है सेक्स ड्राइव में कमी

    प्रेग्नेंसी में सेक्स के दौरान महिलाएं यही बात कहती हैं। प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी थकान की वजह से भी हो सकती है। गर्भावस्था के लिए तैयार होना ही बड़ी ऊर्जा इकट्ठा करने के समान है। इस दौरान सेक्स के बारे में सोचना महिलाओं को थकावट का अहसास दे सकता है। कई बार महिलाएं समस्या होने पर आठ घंटे की नींद भी नहीं ले पाती हैं। इस दौरान मसाज और किंसिंग राहत महसूस करा सकते हैं।

    ये भी पढ़ें : कैसे स्ट्रेस लेना बन सकता है इनफर्टिलिटी की वजह?

    मैं आकर्षक महसूस नहीं कर रही

    शरीर में हो रहे बदलाव के कारण अक्सर महिलाओं के मन में कई तरह की बातें चलती है। वे पेट बढ़ने के बाद से खुद को आकर्षक महसूस नहीं करती। साथ ही वजन बढ़ने से कई महिलाओं का आत्मविश्वास भी कम होने लगता है। ये नकारात्मक विचार प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी लाते हैं।

    सेक्स से बच्चे को परेशानी हो सकती है ऐसा सोचना प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी लाता है

    कई महिलाओं के सेक्स को लेकर ये डर बैठ जाता है कि कहीं सेक्स के दौरान बच्चे को कोई समस्या न हो जाए। उन्हें लगता है कि सेक्स की वजह से बच्चा ज्यादा हिल सकता है या उसे चोट लग सकती है। ये बात भी प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी लाती है।

    ये भी पढ़ें : आईवीएफ (IVF) को लेकर मन में है सवाल तो जरूर पढ़ें ये आर्टिकल

    मुझे अच्छा नहीं लग रहा है ये कारण भी जिम्मेदार है प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी के लिए

    प्रेग्नेंसी के समय सेक्स के दौरान हो सकता है आपकी फीमेल पार्टनर को अच्छा महसूस न हो रहा हो। पुजिशन की वजह से भी ये दिक्कत हो सकती है। हो सकता है कि आपने कोई नई पुजिशन ट्राई की हो जो उन्हें कंफर्टेबल न लगा हो और यह प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी का कारण बन गया हो।

    ये भी पढ़ें : स्पर्म काउंट किस तरह फर्टिलिटी को करता है प्रभावित?

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव कैसे बढ़ाएं?

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए मैटरनिटी लिंजरीज का लें सहारा

    हो सकता है कि आपको अपने फिगर को लेकर असहज महसूस हो रहा हो, लेकिन आप अपने बेहतरीन समय को एंजॉय करने के लिए मैटरनिटी लिंगरीज का सहारा ले सकती हैं। इससे आपको भी अच्छा लगेगा और पार्टनर को भी। प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव बढ़ाने का यह तरीका बेहद आसान है।

    ये भी पढ़ें : दूसरी तिमाही में गर्भवती महिला को क्यों और कौन से टेस्ट करवाने चाहिए?

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए बेबीमून करें प्लान

    प्रेग्नेंसी के दौरान बॉडी में हो रहे बदलाव को एक्सेप्ट करने में थोड़ा समय लग सकता है। दो से तीन महीने बाद आप बेहतर महसूस करेंगी। आप इस दौरान वेकेशन प्लान कर सकती हैं। बेबीमून प्लान करना आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। इससे प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को भी बढ़ाया जा सकता है।

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को इम्प्रूव करने में फोटोसेशन कर सकते हैं मदद

    अगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान खुद के शेप को लेकर परेशान हैं और यही वजह प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को कम कर रही है तो आप बेबीमून के दौरान अच्छा फोटोसेशन कराएं। यकीन मानिए आपका आत्मविश्वास बढ़ जाएगा। ये तरकीब काम कर सकती है।

    जल्दबाजी न करें

    आपकी पार्टनर प्रेग्नेंट है और उनका सेक्स करने का मन नहीं कर रहा है तो आपको जल्दबाजी करने की जरूरत नहीं है। आप अपने पार्टनर की मालिश कर सकते हैं ताकि उन्हें अच्छा महसूस हो। अध्ययन से भी पता चला है कि प्रेग्नेंसी के दौरान प्यारा टच पार्टनर को प्लेजर फील करवाता है।

    प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए दूसरी तिमाही का उठाएं फायदा

    प्रेग्नेंसी के पहले तीन महीनों और तीसरी तिमाही में महिलाएं शरीर में हो रहे बदलाव के कारण सेक्स का ज्यादा मजा नहीं ले पाती है। आपको दूसरी तिमाही का फायदा उठाना चाहिए। इस दौरान न तो पेट बहुत बढ़ा हुआ होता है और शरीर में हो रहे बदलाव जैसे उल्टी या चक्कर भी कम हो जाते हैं।

    बच्चे को नहीं होगी परेशानी

    अगर सेक्स के दौरान आपके मन में ये बात चल रही है कि कहीं बच्चे को कोई समस्या न हो जाए, तो परेशान न होइए। गायनेकोलॉजिस्‍ट डॉ. सगारिका बसु कहती हैं कि, ‘बच्चा गर्भाशय ग्रीवा में सुरक्षित रहता है। उसे सेक्स के दौरान चोट नहीं पहुंच सकती है। आप बिना परेशान हुए सेक्स का आनंद लीजिए।

    बरतें ये सावधानियां

    हालांकि, गर्भावस्था के पूरे समय में सेक्स करना सुरक्षित माना जाता है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान महिलाएं सेक्स से असहजता और प्रतिकूल प्रभाव का अनुभव कर सकती हैं। महिलाएं थकान, तनाव और गंभीर चिकित्सा के मुद्दों से जूझ सकती हैं।

    सेक्स के परिणामस्वरूप स्पॉटिंग या ब्लीडिंग हो सकती है या प्लेसेंटा प्रीविया जैसी स्थिति हो सकती है। ऐसी परिस्थितियों में सेक्स करने से बचना सबसे अच्छा है और आगे की मदद के लिए तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। वॉटर ब्रेक के बाद सेक्स करने से बचना चाहिए।

    प्रेग्नेंसी में सेक्स एंजॉय करना या न करना आपका पर्सनल डिसीजन है। अगर आपके मन में प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव में कमी को लेकर कोई भी प्रश्न हो तो एक बार अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता।

    और पढ़ें :

    आसान डिलिवरी के लिए अपनाएं ये 10 उपाय

    प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में अपनाएं ये डायट प्लान

    गर्भावस्था में पेरेंटल बॉन्डिंग कैसे बनाएं?

    IVF को सक्सेसफुल बनाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

    डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 09/11/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement