home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय जिनके बारे में शायद ही कोई बताएगा

प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय जिनके बारे में शायद ही कोई बताएगा

प्रेग्नेंसी के दौरान खुश रहना जरूरी होता है क्योंकि इसका सीधा असर बच्चे पर पड़ता है। लेकिन अब आप पूछेंगें कि प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय क्या है? प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय जानना बेहद जरूरी है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में हो रहे बदलाव अक्सर उनके मूड को प्रभावित करते हैं। जिससे कई बार महिलाएं उदास और निराश रहने लगती हैं। पेट का आकार बढ़ने के साथ वे बाहर जाने में हिचकिचाती हैं। ऐसे में गर्भावस्था का समय उनके लिए बोरिंग और परेशानी देने वाला बन जाता है। इस आर्टिकल में हम आपको प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय बता रहे हैं जिनको फॉलो करके आप गर्भावस्था को एंजॉय कर सकती हैं और इस टाइम में खुश रह सकती हैं।

और पढ़ें: गर्भावस्था में लिनिया नाइग्रा: क्या ये प्रेग्नेंसी में त्वचा संबधी बीमारी है?

प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय? (Tips to be happy in pregnancy)

हम आपको प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय के बारे में बताएंगे जिससे आप अपनी प्रेग्नेंसी को यादगार बना सकती है साथ ही आप प्रेग्नेंसी के समय को इंजॉय कर सकती हैं।

1. प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में पॉजिटिव सोचें (Think positively)

इस दौरान कई प्रकार की शारीरिक और मानसिक परेशानियां होती हैं। इन्हें अपने ऊपर हावी न होने दें। पॉजिटिव सोच रखें। खुश रहने की कोशिश करें। नकारात्मक सोच को दूर रखना हेल्दी प्रेग्नेंसी की पहली सीढ़ी है। प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में आपको अपने आप को निगेटिविटी से दूर रखने की जरूरत है।

2. प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में आपको आराम करना है जरूरी (Take rest)

शरीर को आराम देने का सबसे सही वक्त गर्भावस्था माना जाता है। बाकी दिनों में तो हमारा समय भाग-दौड़ करने में ही निकल जाता है। इसलिए इन नौ महीनों का आनंद लें। प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में आपको ठीक से आराम करने की जरूरत है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को ठीक से आराम करने की जरूरत होती है। प्रेग्नेंसी में आराम करना मां और भ्रूण दोनों के लिए सही है।

3. प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय? शिशु से बात करें (Talk to the child)

यह जरूरी नहीं है की डिलिवरी के बाद ही आप अपने बच्चे से बात करें। गर्भावस्था की जानकारी मिलने के बाद ही आप और आपके पार्टनर गर्भ में पल रहे बच्चे से बात कर सकते हैं। इससे पेरेंटस बॉन्डिंग में भी मदद मिलती है। ऐसा माना जाता है कि गर्भ में पल रहे बच्चे से बात करने से मां औऱ बच्चे के बीच बॉन्डिंग होती है। शुरूआत के महीनों से माता-पिता और बच्चे के बीच बॉन्डिंग होना जरूरी है। शिशु से बात करने का कॉन्सेप्ट बहुत पुराना है। भ्रूण से मां के रिश्ते को गर्भधारण भी कहा जाता है।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में सबसे पौष्टिक आहार है साबूदाना

4. प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में फोटो शूट कराएं (photoshoot)

प्रेग्नेंसी को यादगार बनाने के लिए यह सबसे अच्छा आईडिया है। कपल्स बेबी बम्प के साथ अपनी तस्वीरें कैमरे में कैद कर सकते हैं। आप गर्भावस्था के ट्राइमेस्टर के अनुसार भी फोटोशूट करवा सकती हैं। प्रेग्नेंसी में खुश रहने के लिए आपके पास यादों का होना जरूरी है। इसके लिए आप फोटोशूट करा सकते हैं। यह आपकी प्रेग्नेंसी मैमोरी को संजोने में मदद करता है।

5. प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में इस वक्त के बारे में लिखें (Write diary)

ये ठीक प्रेग्नेंसी फोटोशूट के जैसा ही है। कपल्स अपनी फीलिंग्स डायरी में लिख सकते हैं। यकीन मानिए जब कुछ सालों बाद आप अपनी लिखी डायरी पढ़ेंगी तो आपको बेहद खुशी मिलेगी। प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय के बारे में आप अपनी प्रेग्नेंसी के बारे में डायरी में लिख सकते हैं। अपने खट्टे मीठे अनुभवों के बारे में आप डायरी लिखें ये आपको इस समय को इंजॉय करने में आपकी मदद कर सकता है।

6. पार्लर जाएं (Go to parlour)

प्रेग्नेंसी में अपने आहार का ख्याल रखने के साथ-साथ अपनी त्वचा का भी ध्यान रखें। पार्लर में बॉडी मसाज, पेडीक्योर, मैनीक्योर और हेयर स्पा करवाएं। गर्भावस्था में पार्लर जाना इग्नॉर न करें।

और पढ़ें: कैसे बनें परफेक्ट बर्थ पार्टनर?

7. शॉपिंग करें (Go to Shopping)

लाइफ पार्टनर, परिवार के लोगों या अपने दोस्तों के साथ शॉपिंग पर जाएं या घूमने जाएं। प्रेग्नेंसी के दौरान थकावट जल्दी होती है, ऐसे में शॉपिंग पर जाते समय या फिर घूमने जाते समय एक बैग अपने साथ जरूर रखें जिसमे खाने-पीने का सामान, जरूरी मेडिसिन आदि होना चाहिए। अगर आपको थकावट का एहसास हो तो बेहतर होगा कि कुछ देर बैठकर आराम कर लें।

8. डेट पर जाएं (Go on a Date)

डेट पर जाएं … डेटिंग सिर्फ शादी के पहले ही नहीं होती है बल्कि कपल्स को प्रेग्नेंसी के दौरान भी डेट पर तो अवश्य जाना चाहिए। इससे आप दोनों को रिफ्रेश रहने और खुश रहने में मदद मिलेगी। हसबैंड को भी इस दौरान अपनी लाइफ पार्टनर का विशेष ख्याल रखना चाहिए। दोनों ही एक दूसरे को सरप्राइज डेट पर ले जा सकते हैं।

9. नवजात से जुड़ी किताबे पढ़ें (read books)

अब आप दोनों पेरेंट्स बनने वाले हैं। इसलिए आप दोनों को चाहिए कि इस दौरान पेरेंटिंग के बारे में ज्यादा से ज्यादा पढ़ें और समझें कि आने वाले शिशु का ख्याल कैसे रखें? पेरेंटिंग को लेकर बहुत-सी किताबें मार्केट में उपलब्ध हैं। आप चाहे तो सोशल मीडिया के पॉपुलर पेरेंटिंग पेज को पढ़ सकती हैं। इससे आपको अहम जानकारी मिलने में मदद मिलेगी।

10. बेबी बंप आउटफिट पहनें (Wear baby bump outfit)

प्रेग्नेंसी के दौरान बेबी बंप को छुपाने की बजाए स्टाइलिश कपड़े पहने। इन दिनों बाजार में आकर्षित मेटरनिटी ऑउटफिट्स भी आसानी से मिल जाते हैं। अक्सर महिलाओं को लगता है कि बेबी बंप दिखाना ठीक नहीं होता है और लोग क्या कहेंगे आदि। आपको इन बातों से बाहर निकलना होगा। प्रेग्नेंसी का मतलब ये नहीं है कि आप घर के अंदर बंद रहे। प्रेग्नेंसी कोई बीमारी नहीं है। आपको इसे पूरी तरह से एंजॉय करना चाहिए। ऐसे में आप किसी बात को लेकर संकोच न करें बल्कि इस अनमोल समय का पूरा मजा लें।

और पढ़ें: क्या प्रेग्नेंसी के दौरान एमनियोसेंटेसिस टेस्ट करवाना सेफ है?

11. गर्भावस्था में खुश रहने के तरीके : नय दोस्त बनाएं (Make new friends)

आप चाहें तो इन दिनों प्रेग्नेंट लेडी या न्यू मॉम बनी महिलाओं से दोस्ती कर लें। इनसे जानने की कोशिश करें कि प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद के सिचुएशन को कैसे हैंडल करें? अगर आपके मन में ये प्रश्न है कि ऐसी मॉम कहां मिलेंगी तो आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं। जब आप डॉक्टर के पास चेकअप के लिए जाती है तो आपको बहुत सी ऐसी दोस्त मिल जाएंगी जो आने वाले समय में मॉम बनने वाली है। बेहतर बॉन्डिंग के लिए आप दोनों फोन पर बात कर सकते हैं या फिर कुछ स्पेशल प्लान भी कर सकते हैं।

12. एक्सरसाइज करें (Exercising regularly)

गर्भावस्था के दौरान आसानी से किए जाने वाले एक्सरसाइज करें। इससे शरीर में एनर्जी बनी रहेगी और इस दौरान होने वाली परेशानी भी कम होगी। प्रेग्नेंसी के दौरान पर्याप्त एक्सरसाइज करने से आपको डिलिवरी के दौरान भी मदद मिलती है और इससे नॉर्मल डिलिवरी की संभावना बढ़ती है। इसलिए, एक्सरसाइज को नजरअंदाज करना एक अच्छा विकल्प नहीं हो सकता। प्रेग्नेंसी के दौरान आप स्वीमिंग का भी सहारा ले सकती हैं। प्रेग्नेंसी में स्वीमिंग करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। अगर आपको स्विमिंग आती है तो आप रोजाना या अल्टरनेट डे पर इसे इंजॉय कर सकते हैं। बेहतर होगा कि आप एक्सरसाइज या स्विमिंग के पहले एक बार डॉक्टर से भी परामर्श लें।

13. बच्चे के लिए शॉपिंग (Shopping for child)

अपने आने वाली लाडली या लाडले के लिए शॉपिंग करें। इससे मूड अच्छा रहेगा और आपको बच्चे से बॉन्डिंग का अहसास होगा। इसका दूसरा फायदा यह होगा कि उत्साह में आप शॉपिंग पर जाएंगी और आपके शरीर का इस कारण थोड़ा-बहुत व्यायाम भी हो जाएगा। जिससे न सिर्फ आप शारीरिक रूप से स्वस्थ रहेंगी, बल्कि मानसिक रूप से भी मजबूत रह पाएंगी।

14. गर्भावस्था में खुश रहने के तरीके : अपनी मां के साथ बिताएं सुनहरे पल

हम सभी अपनी मां को बहुत प्यार करते हैं लेकिन जब खुद मां बनते हैं तो हमारा प्यार मां के लिए अधिक बढ़ जाता है। आप भी इस बात को जरूर एहसास करेंगे। आप अपने हसीन पलों को अपनी मां के साथ बिताएं और उनसे पूछें कि जब आप उनके पेट में थी, तब आपकी मां क्या खास करती थीं या फिर ऐसे उन्होंने प्रेग्नेंसी के पलों को एंजॉय किया। यकीन मानिए ऐसी बातें आपको अधिक मजबूत बनाएंगी और आपको हिम्मत मिलेगी। ऐसा करने से आपको एक सुरक्षा का एहसास भी होगा। अक्सर प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं कई बातों को लेकर स्ट्रेस लेने लगती है, जिनका मां के साथ ही शिशु के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ता है। आप कुछ टिप्स अपनाकर प्रेग्नेंसी में खुश रह सकती हैं।

15. बॉडी को रिलेक्स करने के लिए लें मालिश

प्रेग्नेंसी के बाद अधिकतर महिलाएं शरीर की मालिश करवाती हैं लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं ऐसा नहीं करवाती हैं। आप प्रेग्नेंसी के दौरान भी बॉडी को रिलेक्स करने के लिए मालिश का सहारा ले सकती हैं। ऐसा करने से आपको पीठ दर्द के साथ ही सूजन की समस्या से भी राहत मिलेगी। मालिश कराने से रक्त के संचार में भी सुधार होता है।

प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय? इसका जवाब अब आपको मिल गया होगा। ऊपर दी गई एक्टिविटी के साथ-साथ अपने अन्य पसंदीदा काम जैसे म्यूजिक सुनना, टीवी देखना या स्पेशल कुकिंग कर सकती हैं। ध्यान रहे कोई भी शारीरिक परेशानी महसूस होने पर जल्द से जल्द अपने डॉक्टर को मिलें। प्रेग्नेंसी में खुश रहने के उपाय में आप हर वो काम कर सकते हैं जो आपको पसंद है। वह शॉपिंग हो या कहीं घूमने जाने हो, फिल्म देखना हो या फिर लॉन्ग ड्राइव पर जाना हो। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Pregnancy stages and changes – https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/HealthyLiving/pregnancy-stages-and-changes Accessed on 10/12/2019

Emotional health for parents during pregnancy and after the birth – https://healthywa.wa.gov.au/Articles/A_E/Emotional-health-for-parents-during-pregnancy-and-after-the-birth Accessed on 10/12/2019

Happiness and Related Factors in Pregnant Women – https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/16623032/ Accessed on 10/12/2019

First time pregnant women’s experiences in early pregnancy – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3077216/ Accessed on 10/12/2019

Health Tips for Pregnant Women – https://www.niddk.nih.gov/health-information/weight-management/healthy-eating-physical-activity-for-life/health-tips-for-pregnant-women?dkrd=/health-information/weight-management/health-tips-pregnant-women Accessed on 10/12/2019

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/10/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड