home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी और सेक्स: प्रेग्नेंसी में सेक्स को लेकर हैं सवाल तो पढ़ें ये आर्टिकल

प्रेग्नेंसी और सेक्स: प्रेग्नेंसी में सेक्स को लेकर हैं सवाल तो पढ़ें ये आर्टिकल

जब तक आप दोनों थे और बीच में प्यार और सेक्स था, तब तक जीवन में रोमांच था, लेकिन अब दोनों के बीच तीसरा भी आ चुका है। वही प्यार और रोमांच महसूस करने के लिए अब थोड़ी सी मुश्किल उठानी पड़ सकती है। महिलाओं के मन में डर रहता है कि कहीं प्रेग्नेंसी और सेक्स के दौरान पार्टनर का गुप्तांग बच्चे को चोट न पहुंचाए। बता दें कि प्रेग्नेंसी और सेक्स के दौरान पार्टनर का गुप्तांग आपको चोट नहीं पहुंचा सकता है। आपके मन में इससे संबंधित प्रश्न जरूर होंगे। इस आर्टिकल के माध्यम से अपने अंदर चल रहे प्रश्नों का जवाब पाएं।

क्या कहना है डॉक्टर का?

हैलो स्वास्थय ने फोर्टिस हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. सगारिका बसु से जब इस बारे में पूछा तो उनका कहना था कि, ‘सेक्स के दौरान पार्टनर का गुप्तांग होने वाले बच्चे को किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचाता है। बच्चा मां के पेट में पूरी तरह से सुरक्षित रहता है। इस बारे में लोगों को मन में बहुत प्रश्न रहते हैं। अगर मां और बच्चे को किसी प्रकार की समस्या नहीं है तो सेक्स के दौरान पार्टनर का गुप्तांग किसी भी प्रकार की समस्या उत्पन्न नहीं करता है।’

और पढ़ें : दूसरी तिमाही में गर्भवती महिला को क्यों और कौन से टेस्ट करवाने चाहिए?

प्रेग्नेंसी के दौरान ये प्रश्न लोगों को करते हैं परेशान

1. पार्टनर का गुप्तांग बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है?

गर्भाशय के अंदर बच्चा एमनियोटिक द्रव और मोटी पेशी की दीवार में पूरी तरह से सुरक्षित रहता है। गर्भाशय ग्रीवा और म्यूकस प्लग में बच्चा आंतरिक सुरक्षा पाता है। यही कारण है कि पार्टनर का गुप्तांग बच्चे को किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचा पाता है। सेक्स के दौरान पुरुष का प्राइवेट पार्ट बच्चे के संपर्क में नहीं आता है। प्लासेंटा प्रीविया के दौरान या फिर वाटर ब्रेक के दौरान गर्भाशय ग्रीवा थोड़ी कमजोर हो जाती है। इस दौरान सेक्स न करने की सलाह दी जाती है। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में अपनाएं ये डायट प्लान

2.ऑर्गेज्म के दौरान संकुचन मिसकैरिज का कारण बन सकता है?

डॉक्टर के अनुसार संकुचन और मिसकैरिज में कोई संबंध नहीं है। अगर आपको ब्लीडिंग की समस्या हो रही है तो डॉक्टर आपको सेक्स न करने की सलाह दे सकता है। नॉर्मल प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स और ऑर्गेज्म को सेफ माना जाता है। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

3. सेक्स के दौरान प्रीमैच्योर लेबर हो सकता है?

कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. सगारिका बसु कहती हैं कि, ‘प्रेग्नेंसी के दौरान जुड़वां या फिर तीन बच्चे होते हैं तो सेक्स के दौरान संकुचन होने पर लेबर का खतरा बढ़ सकता है। हम जुड़वां या उससे ज्यादा बच्चों की प्रेग्नेंसी के मामले में सेक्स की सलाह नहीं देते हैं। अगर प्रेग्नेंसी का नॉर्मल केस है तो सेक्स के दौरान संकुचन से कोई फर्क नहीं पड़ता है। कॉम्पिलकेटेड केस में भी सेक्स की सलाह नहीं दी जाती है। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।’

और पढ़ें : गर्भावस्था में पेरेंटल बॉन्डिंग कैसे बनाएं?

4. पार्टनर के गुप्तांग के बारे में क्या बेबी को भी जानकारी हो जाएगी?

आप इस बात का जवाब खुद ही दे सकते हैं। क्या आपको गर्भ के नौ महीनों के दौरान की कोई भी बात याद है? आपका जवाब न होगा। सेक्स के दौरान बच्चा थोड़ी हलचल महसूस कर सकता है। हो सकता है वो कुछ देर बाद किक करके रिस्पॉन्स भी दे। सेक्स के बाद सर्क्युलेशन बढ़ जाता है जिसके कारण बेबी का मूमेंट बढ़ सकता है। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

5. सेक्स के दौरान क्या ब्लीडिंग हमेशा खतरे का ही संकेत होती है?

ऐसा नहीं है। ये बात महिला पर भी डिपेंड करती है। ज्यादातर केस में ये सीरियस नहीं होती है। कभी-कभार ब्लीडिंग इंफेक्शन के कारण भी हो सकती है। आपकी नॉर्मल डिलिवरी है और आपको ब्लीडिंग हुई है तो सेफ यही रहेगा कि एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

[mc4wp_form id=”183492″]

6. प्रेग्नेंसी और सेक्स के दौरान क्या कुछ समस्या हो सकती है?

प्रेग्नेंसी और सेक्स शरीर के लिए बुरा नहीं होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में हार्मोंनल परिवर्तन होते हैं। हार्मोन बदलने की वजह से लुब्रिकेशन कम होता है। प्रेग्नेंसी में सेक्स करने के दौरान अगर पार्टनर ठीक से पेनिट्रेशन नहीं कर पाता है तो महिला को दर्द का अनुभव हो सकता है। इस बात का ये मतलब बिलकुल नहीं हैं कि पार्टनर का गुप्तांग होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान लुब्रिकेंट के कारण ठीक से पेनिट्रेशन नहीं हो रहा है तो इस बारे में परेशान होने की जरूरत नहीं है। ये प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव के कारण होता है। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

गर्भावस्था के दौरान सेक्स सुरक्षित है जब तक कि महिला को प्रेग्नेंसी से जुड़ी कोई समस्या न हो लेकिन, कुछ स्थितियां ऐसी भी हैं जब डॉक्टर आपको सेक्स न करने की सलाह दे सकते हैं।

इन स्थितियों में शामिल हैं:

  • समय से पहले डिलिवरी का खतरा
  • पहले कभी गर्भपात हुआ हो
  • अगर वाटर ब्रेक हो गया है
  • यदि वजायनल ब्लीडिंग हो रही हो
  • अगर पार्टनर या महिला को यौन संचारित रोग है
  • यदि गर्भाशय ग्रीवा समय से पहले खुलने लगे
  • संकुचित सर्विक्स (cervix) होने की स्थिति में
  • यदि महिला दो या दो से अधिक बच्चों से गर्भवती है।
  • प्लासेंटा प्रीविया की स्थिति में

गर्भावस्था के दौरान हर महिला के अनुभव अलग-अलग होते हैं, जिसमें से सेक्स भी एक है। कुछ महिलाएं गर्भावस्था के दौरान सेक्स को लेकर उदासीन हो जाती हैं तो वहीं कुछ महिलाएं इसके लिए काफी उत्तेजित रहती हैं। डॉक्टर के परामर्श के अनुसार गर्भवती महिला एवं आपके पार्टनर को सेक्स का आनंद लेना चाहिए।

और पढ़ें : 5 तरह के फूड्स की वजह से स्पर्म काउंट हो सकता है लो, बढ़ाने के लिए खाएं ये चीजें

7. प्रेग्नेंसी और सेक्स एंजॉय कर रहे हैं तो अपना सकते हैं ये पुजिशन

प्रेग्नेंसी और सेक्स किसी भी प्रकार की समस्या नहीं खड़े करते हैं। पेनिट्रेशन के दौरान होने वाले बच्चे को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होती है। पेनिट्रेशन अगर किसी खास पुजिशन में किया जाए तो हो सकता है कि ज्यादा अच्छा महसूस हो। प्रेग्नेंसी के दौरान टॉप पुजिशन अपनाना बेहतर हो सकता है। मिशनरी पुजिशन ऐसे समय में अपनाना अनफंर्टेबल हो सकता है क्योंकि महिला का पेट बड़ा हो चुका होता है। प्रेग्नेंसी में डॉगी स्टाइल, स्पून या साइड बाई साइड पुजिशन भी अपनाई जा सकती है। अगर बेहतर महसूस कर रहे हैं तो स्टैंडिंग अप पुजिशन भी अपनाकर देख सकते हैं। प्रेग्नेंसी और सेक्स को एंजॉय करने के लिए अलग पुजिशन अपनाना बेहतर रहेगा। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी और कौन सी पुजिशन सही रहेगी इसकी जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

8. प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स से इंफेक्शन हो सकता है?

हां, ये बात सच है कि प्रेग्नेंसी और सेक्स कपल की मर्जी पर निर्भर करता है। अगर पार्टनर को इंफेक्शन है तो पार्टनर का गुप्तांग होने वाले बच्चे को भी संक्रमित कर सकता है। सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन की संभावना प्रेग्नेंसी के दौरान भी रहती है। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान प्रोटक्शन (कंडोम) का यूज किया गया तो इंफेक्शन की संभावना खत्म हो सकती है। अगर पार्टनर को ये महसूस हो रहा है कि उसे इंफेक्शन है तो तुरंत चेकअप कराएं। प्रेग्नेंसी और सेक्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से बात करें।

प्रेग्नेंसी का समय बहुत ही नाजुक समय होता है। सभी महिलाओं का शरीर प्रेग्नेंसी के समय अलग तरह के लक्षण दिखा सकता है। हो सकता है जो समस्या आपको हो वो दूसरी महिला को कभी न हुई हो। प्रेग्नेंसी और सेक्स के समय किसी भी तरह की समस्या महसूस होने पर बेहतर रहेगा कि आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

 

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/11/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड