आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

शारीरिक संबंध पूरी तरह से भावनात्मक एहसास से जुड़ा हुआ है। हालांकि, ऐसा करने के लिए शारीरिक तौर पर भी सेहतमंद होना जरूरी होता है। वहीं, सेक्स का आनंद लेने के लिए अब नशे में सेक्स करना यानी स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स का प्रचलन भी बढ़ रहा है। लेकिन, सुनने में यह जितना उत्तेजित लगता है, इसे लेकर उतने ही सवाल लोगों को मन में भरे हुए हैं। सेक्स करते समय यौन उत्तेजना और आनंद को बढ़ाने के लिए नशे में सेक्स करना कितना सुरक्षित हो सकता है?

और पढ़ें : सेक्स हाइजीन: यौन संबंध बनाने से पहले और बाद जरूर करें इन 5 नियमों का पालन

क्या नशे में सेक्स करना आपको बीमार बना सकता है?

नशे में सेक्स करना काफी रोचक माना जा सकता है। हालांकि,, इसका आंकड़ा भारत में कितना है, इसके बारे में अध्ययन नहीं किए गए हैं। लेकिन, अमेरिका के आंकड़ों पर गौर करें, तो सेक्स के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए वीड और ड्रिंक अधिकतर लोगों की पसंद बन गई है। हालांकि, कई अध्ययन यह दावा कर चुके हैं कि शराब पीने से पुरुषों में स्पर्म काउंट कम हो सकता है। शराब का सीधा असर हॉर्मोन्स पर होता है, जिसके कारण स्पर्म की क्वॉलिटी भी खराब हो सकती है। साथ ही, यौन रोगों का खतरा, सुरक्षित सेक्स न करने की वजह से प्रेग्नेंसी की संभावना भी बढ़ सकती है।

क्या स्मोक सेक्स करना अच्छा है?

कई शोधों में इसका दावा किया गया है कि नशे में सेक्स के लिए स्मोक सेक्स को बेहतर बनाता है। यह यौन सुख को बढ़ाने में मददगार होता है। स्मोक सेक्स करने के उन्हें फायदे भी मिलते हैं। यह पार्किंसंस जैसी बीमारियों के लक्षणों को कम करने के लिए मांसपेशियों में होने वाले दर्द से राहत दिलाने का काम करती है।

सेक्स के दौरान भांग का इस्तेमाल करने से सेक्स की गुणवत्ता और समय में सुधार आती है। स्टिंकब्रुक विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र के प्रोफेसर एरिक गोडे ने इस बारे में एक अध्ययन किया था। उन्होंने अपने अध्ययन में 200 लोगों को शामिल किया। इसमें से 77 प्रतिशत लोगों का कहना था कि भांग की वजह से उनकी सेक्स की उत्तेजना बढ़ी है और 68 प्रतिशत ने कहा कि भांग की वजह से सेक्स के दौरान उन्हें खुशी ज्यादा महसूस हुई।

अध्ययन में शामिल कुछ लोगों का कहना था कि स्मोक की वजह से उनका दिमाग सिर्फ उसी समय पर विचार कर रहा था, जिससे इस दौरान उन्हें कामुकता का एहसास ज्यादा हुआ। वहीं, कुछ और लोगों का भी कहना था कि इस दौरान उन्हें यौन से जुड़े नए विचार भी आए।

और पढ़ें : मास्टरबेशन के अनोखे शारीरिक और मानसिक लाभ

कितना असरदार है ड्रिंक सेक्स करना?

ड्रिंक सेक्स के अध्ययन में शामिल लोगों का अनुभव पूरी तरह से हैरान करने वाले थे। अध्ययन में भाग लेने वालों का कहना था कि शराब का नशा सेक्स और साथी से जुड़े उनके विचार को बदल देता है। ड्रिंक के दौरान वे बस साथी के साथ उस पल का आनंद लेते हैं। अध्ययन में यह भी सामने आया कि ड्रिंक की वजह से उन्हें किसी दूसरे साथी के साथ सोने में कोई परहेज नहीं होता लेकिन, वीड लेने वाले सेक्स के लिए सिर्फ अपने साथी का ही चुनाव करते हैं।

स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स के बीच अंतर क्या है?

  • ड्रिंक के नशे में सेक्स करना लोगों के लिए किसी बुरे अनुभव वाला भी हो सकता है। ऐसे लोगों ने सेक्स के बाद पछतावे का एहसास किया लेकिन, वीड सेक्स वालों में ऐसी कोई भावना नहीं देखी गई।
  • ड्रिंक के नशे में सेक्स करना उल्टी, चक्कर आने की समस्या का भी कारण बन सकता है। लेकिन, वीड सेक्स के दौरान ऐसी स्थितियां नहीं देखी जाती।
  • अध्ययन में यह भी पाया गया कि शराब संवेदनाओं को महसूस करने की स्थिति को प्रभावित करता है, जबकि वीड उन्हें बढ़ाता है।
  • वीड सेक्स के दौरान भी लोगों में यौन संचारित संक्रमण (STI) के होने का खतरा बना रहता है, जबकि ड्रिंक सेक्स के दौरान वो इन बातों का ख्याल नहीं रखते हैं।
  • भांग और शराब दोनों अलग-अलग तरीके से काम करते हैं। हालांकि, दोनों ही मस्तिष्क के सामान्य कामकाज को प्रभावित करते हैं। सेरिबैलम मस्तिष्क का एक हिस्सा है, जो शराब से प्रभावित हो सकता है। सेरिबैलम मानसिक संतुलन को बनाए रखने और नियंत्रित रखने का काम करता है। यही कारण है कि शराब पीने के बाद लोग भावनाओं में बह जाते हैं और बहुत-सी बातें भी करने लगते हैं। इसके अलावा, शराब सेरेब्रल कॉर्टेक्स को भी प्रभावित करती है। यह निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार है, जिस कारण लोग शराब पीने के बाद अक्सर फैसले लेने में चूक जाते हैं।
  • वहीं, भांग एक अलग तरीके से काम करती है। यह उन रिसेप्टर्स को प्रभावित करती है, जो मस्तिष्क, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और शरीर के बाकी हिस्सों में स्वभाविक रूप से मौजूद होते हैं। कैनाबिनोइड्स, Tetrahydrocannabinol (THC) की तरह होते हैं और सीबी1 और सीबी2 जैसे रिसेप्टर्स को रोकने का कार्य करते हैं, जो मानसिक स्तर के परिणामों के लिए जिम्मेदार होते हैं। यही कारण है कि कई व्यक्ति भांग के नशे में होने के कारण भी अच्छा अनुभव करते हैं और सही फैसले ले सकते हैं।

और पढ़ें : सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए महिलाएं खाएं ये फूड्स

[mc4wp_form id=”183492″]

क्या कहते हैं रिसर्च?

न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय और जॉन्स हॉपकिंस विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं की टीमों ने इस विषय अर्काइव्ज ऑफ सेक्शुअल बिहेवियर एंड साइकोफार्माकोलॉजी पर दो अलग-अलग अध्ययन किए।

पहले अध्ययन का मुद्दा रहा कि मारिजुआना और एल्कोहॉल सेक्स को कैसे प्रभावित करते हैं, जिसमें 24 प्रतिभागियों को शामिल किया गया। इनमें 12 पुरुष और 12 महिलाएं थी। हालांकि, अध्ययन के दौरान इन्हें यह नहीं बताया गया कि सेक्स के दौरान उन्होंने वीड का इस्तेमाल किया या ड्रिंक का।

ड्रिंक करने वाले प्रतिभागियों में पाया गया कि वो सेक्स दौरान बात साथी के साथ बात कर रहे थे, उनका सेक्स ज्यादा लंबे समय तक भी चला, लेकिन वो इस दौरान कंडोम के इस्तेमाल पर गौर नहीं करते। इसके अलावा इस दौरान वो ऐसे साथी के साथ भी संबंध बना सकते हैं, जिनके साथ आमतौर पर वो संबंध बनाना पसंद नहीं करेंगे।

वहीं, स्मोक करने वाले प्रतिभागियों का कहना था कि सेक्स के दौरान वो खुद को बहुत शांत महसूस कर रहे थे।

और पढ़ें : क्या वाकई में सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं?

स्मोक या ड्रिंक, क्या है बेहतर?

फायदों को देखें, तो स्मोक सेक्स ज्यादा बेहतर हो सकता है। लेकिन, अगर यह आदत बन जाए, तो कई तरह की परेशानियों का कारण बन सकता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह के नशीले पदार्थों के सेवन को प्रोत्साहित नहीं करता है, न ही किसी नशे में सेक्स करने को प्रमोट करता है। अगर आप ऐसे किसी भी पदार्थ का सेवन करते हैं या अपनी सेक्स लाइफ के लिए इनका इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में बात करें।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Women’s Sexual Arousal: Effects of High Alcohol Dosages and Self-Control Instructions. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3159513/. Accessed On 17 October, 2020.

Sex and Gender Differences in Substance Use. https://www.drugabuse.gov/publications/research-reports/substance-use-in-women/sex-gender-differences-in-substance-use. Accessed On 17 October, 2020.

Alcohol and teenagers. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/alcohol-teenagers. Accessed On 17 October, 2020.

Alcohol and Caffeine. https://www.cdc.gov/alcohol/fact-sheets/caffeine-and-alcohol.htm. Accessed On 17 October, 2020.

Alcohol Use and Your Health. https://www.cdc.gov/alcohol/fact-sheets/alcohol-use.htm. Accessed On 17 October, 2020.

What are the effects of alcohol?. https://www.health.gov.au/health-topics/alcohol/about-alcohol/what-are-the-effects-of-alcohol. Accessed On 17 October, 2020.

लेखक की तस्वीर
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/05/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड