home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या वाकई में सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं?

क्या वाकई में सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं?

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल न सिर्फ सिंगल महिलाएं और पुरुष बल्कि, शादी-शुदा लोग भी करते हैं। हालांकि, भारत में इसका इस्तेमाल कितने प्रतिशत तक किया जाता है इसका कोई सटीक आंकड़ा उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि, भारत में अभी भी सेक्स टॉयज पर न खुलकर बात की जाती है।

एक ई-कॉमर्स साइट की मानें, तो उसने अपने साल 2018 के ऑनलाइन सर्च से इस बात का खुलासा किया है कि करीब 20 फीसदी भारतीय ल्यूब्रिकेंट्स, सेक्स गेम्स और सेक्स टॉयज के बारे में जानने या खरीदने के लिए ऑनलाइन सर्च करते हैं, जो यह साफ करता है कि भारत में भी सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में लोग दिलचस्पी लेते हैं।

और पढ़ें: हर दिन सेक्स करना कैसे फायदेमंद है, जानिए इसके 9 वजह

क्यों किया जाता है सेक्ट टॉयज का इस्तेमाल?

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल व्यक्ति सेक्स का आनंद उठाने के लिए करता है। यह एक छोटे या बड़े खिलौने के रूप में मिलता है, जिसमें डिल्डो और वाइब्रेटर जैसे खिलौने का निर्माण महिलाओं के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए सेक्स टॉयज महिलाओं की योनि के रूप में डिजाइन किए खिलौने होते हैं। हालांकि, विदेशों में अब सेक्स टॉयज के तौर पर डॉल्स भी मिलती हैं।

सेक्स टॉयज कैसे काम करता है?

ये खिलौने मोबाइल फोन की तरह चार्ज किए जा सकते हैं। या फिर कुछ सेल के जरिए भी चलते हैं, जो कंपनशील या अकंपनशील हो सकते हैं।

बैन है सेक्स टॉय का इस्तेमाल

सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना भारत में गैर कानूनी अपराध माना जाता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 292 के तहत सेक्स टॉय खरीदना या इसकी बिक्री करने पर पाबंदी लगाई है क्योंकि, सेक्स टॉय का इस्तेमाल भारत में ‘अश्लील’ माना जाता है, जिसके तहत इस नियम का उल्लंघन करने पर दो साल तक की जेल हो सकती है।

और पढ़ें: नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

ऑर्गैज्म के लिए कितना सफल है सेक्स टॉयज का इस्तेमाल?

इसमें कोई दोराय नहीं कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसे ही प्लेजर ही देते हैं। हालांकि, यह व्यक्ति के अनुभव पर भी निर्भर करता है। क्योंकि, सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में किसी दूसरे साथी की जरूरत नहीं होती। लेकिन, अगर किसी को सिर्फ साथी के साथ ही सेक्स करना पसंद है, तो उन्हें सेक्स टॉयज से रियल सेक्स जैसा प्लेजर नहीं मिल सकता है।

और पढ़ेंः वर्जिन सेक्स या वर्जिनिटी खोना क्या है? समझें इससे जुड़ी बातें

क्या है डॉक्टर्स की राय?

हैलो स्वास्थ्य की टीम ने कंस्लटिंग होम्योपैथ और क्लिनिकल सेक्सोलॉजिस्ट, डॉ. शाहबाज सायद M.D (Hom), PGDPC के साथ बात की। उनका कहना है, “भारत में सेक्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म या प्लेजर नहीं मिल पाता है। हालांकि, फोरप्ले या हस्थमैथुन के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म का एहसास होता है। वहीं, अगर बार-बार एक ही तरह के सेक्स पुजिशन अपनाई जाएं, तो इससे शारीरिक संबंध से मन धीरे-धीरे हट सकता है। इसलिए, कभी-कभार सेक्स के लिए सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करना सही होता है।”

“सेक्स का आनंद लेने के लिए कभी-कभी रिश्ते में कुछ नयापन लाना जरूरी होता है। साथ ही, जरूरी सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए। यह ध्यान रखें कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल बहुत ज्यादा या लगातार न करें। क्योंकि, यह आपको इसका आदी बना सकता है। इसके अलावा, इन टॉयज का इस्तेमाल साथी के साथ संबंध बनाने के दौरान किया जाए, तो यह रिश्ते को और भी ज्यादा मजबूत और आनंददायक बना सकता है।”

और पढ़ें: फीमेल कंडोम और मेल कंडोम में क्या अंतर है?

सेक्स टॉयज के हेल्थ बेनिफिट्स

अलग-अलग शोध से पता चलता है कि यौन सुख बढ़ाने के लिए सेक्स टॉयज का उपयोग करने से आपको नींद आने, इम्यूनिटी पावर बढ़ाने, दर्द से राहत, तनाव कम करने और मस्तिष्क की शक्ति बढ़ाने में मदद मिल सकती है। सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने के लिए उम्र एक बाधा नहीं है। न्यूयॉक के सेक्सोलॉजिस्ट डॉ इवांस कहते हैं कि, एक महिला ने हमें बताया कि उसने 70 में सेक्स टॉय का उपयोग करके अपने पहले संभोग का आनंद लिया। सेक्स टॉयज से सेक्स करने से दवा के विपरीत कम साइड-इफेक्ट्स हैं और कई महिलाओं को क्लिटोरल ओर्गास्म और जी-स्पॉट ओर्गास्म का आनंद लेने में यह मददगार साबित हो सकता हैं और कई महिलाओं को यह ऐसा सुख देता है जो उन्होंने पहले कभी ना महसूस किया हो। सेक्स टॉयज लोगों को सेक्सुअल प्लेजर और आनंद लेने के लिए जारी रखने में मदद कर सकते हैं जब पेनिट्रेटिव सेक्स संभव नहीं है। ”

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सेक्स टॉयज को इस तरह से पेश किया गया है वे सेक्स के बारे में एक बिना किसी संकोच के बात कर सकें कि उन्हें एख कपल की तरह क्या पसंद है या अकेले उन्हें कैसा सेक्स पसंद है। डॉक्टर कहते हैं, “यह कुछ ऐसा हो सकता है जो शर्मिंदगी या वस्तुओं की खरीद के डर के कारण पहले नहीं आजमाया गया हो, लेकिन विशेषज्ञ इसको इस्तेमाल करने की सलाह देते है।”

सेक्स टॉय चुनते समय सिलिकॉन, कड़े ग्लास, धातु या ABS प्लास्टिक से बने ‘त्वचा-सुरक्षित’ उत्पादों की सलाह देते हैं, क्योंकि कुछ ऐसी सामग्रियों से बने होते हैं जो यौन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। अगर आपके पास कोई स्वास्थ्य समस्या है जो आपके सेक्सुअल हेल्थ को प्रभावित कर रही है तो इसके लिए तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। आपका स्थानीय यौन स्वास्थ्य क्लिनिक भी सलाह देने में सक्षम हो सकता है।

और पढ़ें: सेक्स न करने के भी होते हैं इतने नुकसान, जानकर हैरान रह जाएंगे

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने से होने वाले नुकसान

इन टॉयज का इस्तेमाल करने के कई नुकसान हो सकते हैंः

  • ये टॉयज बस एक खिलौना होते हैं। इससे सिर्फ सेक्स का प्लेजर प्राप्त किया जा सकता है। यह मनुष्य की तरह प्यार नहीं जता सकता है।
  • इन टॉयज के इस्तेमाल की लत बहुत जल्दी लग सकती है।
  • इन टॉयज का इस्तेमाल लोगों को अकेले रहने के लिए आदी बना सकता है। क्योंकि, अगर एक बार इसकी लत लग जाती है, तो फिर उन्हें साथी के साथ चरम सुख प्राप्त करने में कठिनाई हो सकती है।
  • सेक्स टॉयज का इस्तेमाल यौन संचारित रोगों का खतरा बढ़ा सकता है। इसलिए, हर बार इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे अच्छे से साफ करना चाहिए।

सेक्स टॉयज साथ ध्यान रखें ये बातें

अगर आप सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। यह बातें इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि इन्हें नजरअंदाज करने पर आपको स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आइए, जानते हैं कि किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

इस्तेमाल से पहले और बाद में करें सफाई

सेक्स टॉय इस्तेमाल करने की पहली शर्त यह है कि आपको उनकी साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखना होगा। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आप कई इंफेक्शन को दावत दे रहे होते हैं। क्योंकि आपके प्राइवेट पार्ट्स के अंदर या आसपास बाहरी जीवाणु का संपर्क होने से आप कई स्किन या यौन रोगों की चपेट में आ सकते हैं। सेक्स टॉय को जीवाणु मुक्त बनाने के लिए आप उसे इस्तेमाल करने से पहले और बाद में अच्छी तरह धोएं।

ऐसे करें साफ-सफाई

अब सवाल यह आता है कि आप सेक्स टॉयज की साफ-सफाई कैसे करें? ध्यान रखें कि इन्हें धोने के लिए हार्श और सुगंधित मटेरियल का इस्तेमाल करना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। क्योंकि साफ-सफाई के बाद भी इन मटेरियल के कुछ कण आपके सेक्स टॉयज पर रह सकते हैं और फिर इस्तेमाल के समय आपके प्राइवेट पार्ट्स के संपर्क में आ सकते हैं। इससे आपको एलर्जी की समस्या हो सकती है, जो कि आपके लिए दर्दनाक साबित होगी। आप इनकी सफाई के लिए सिर्फ माइल्ड सोप और पानी का इस्तेमाल करें, जो कि सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। इसके अलावा आप कुछ सेक्स टॉयज क्लीनर स्प्रे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। स्प्रे करने के बाद सूखे तौलिये या टिश्यू से सेक्स टॉयज को पोंछ लें।

और पढ़ें: हर्पीस के साथ सेक्स संभव है या नहीं, जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल

‘बेस्ट बिफोर यूज’ का रखें ध्यान

अगर आप सेक्स टॉय का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो यह जान लीजिए कि उसकी भी एक्सपायर डेट होती है। अगर आपके सेक्स टॉय ने इस्तेमाल करना बंद कर दिया है, तो आपको यह समझना होगा कि कहीं वह अपनी एक्सपायरी डेट तक तो नहीं पहुंच गया है। इसे जानने के लिए आप सेक्स टॉय की शेप या क्वालिटी को परख सकते हैं। अगर उनकी शेप में बदलाव आ जाता है या फिर उसमें जगह-जगह छेद देखने को मिल रहे हैं, तो बेहतर होगा कि आप उसे इस्तेमाल करना छोड़ दें।

रखने की जगह पर दें ध्यान

सेल्फ सेक्स के बाद आप सेक्स टॉय को ऐसे ही किसी बक्से या बेड के नीचे नहीं रख सकते। आपको हमेशा उसे साफ और सूखी जगह पर रखना चाहिए। क्योंकि आपके बेड या किसी बक्से में काफी धूल-मिट्टी या नमी हो सकती है, जिससे उनकी क्वालिटी बिगड़ सकती है। साथ ही आपको इंफेक्शन का खतरा भी हो सकता है। इसलिए सेक्स टॉय को इस्तेमाल के बाद धोएं और अच्छी तरह सूखाने के बाद किसी प्लास्टिक या कपड़े में लपेटकर सुरक्षित जगह रख दें।

बैटरी निकालना न भूलें

अगर आप वाइब्रेटर या किसी ऐसे सेक्स टॉय का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसमें कि बैटरी का इस्तेमाल होता है। तो ध्यान रखें कि उसे रखते हुए बैटरी निकाल लें। क्योंकि ऐसा न करने से आपका वाइब्रेटर खराब हो सकता है और बैटरी भी अपना असर खोने लगती है। अगली बार इस्तेमाल करने पर आप उसकी वाइब्रेशन में कमी को महसूस करेंगे। इसलिए इस्तेमाल न होने पर उसकी बैटरी निकालना बिल्कुल न भूलें।

उम्मीद है कि आपको सेक्स टॉयज से जुड़ी जानकारी मिल गई होंगी। लेकिन, अगर आपके में इससे संबंधित और भी कोई सवाल है, तो हमसे जरूर पूछें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Vibrators and other sex toys are commonly recommended to patients, but does size matter? Dimensions of commonly sold products – https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/25631708/

AGE DETERMINATION GUIDELINES: Relating Consumer Product Characteristics to the Skills, Play Behaviors, and Interests of Children – https://www.cpsc.gov/s3fs-public/pdfs/blk_media_adg.pdf

REVOCATION OF TWO RULING LETTERS AND REVOCATION OF TREATMENT RELATING TO THE
TARIFF CLASSIFICATION OF VIBRATING SEX TOYS – https://www.cbp.gov/bulletins/Vol_44_No_22_Title.pdf

Safe sex – https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/safe-sex

लेखक की तस्वीर
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/10/2020 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x