home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

सेक्स न करने के नुकसान, जानकर हैरान रह जाएंगे

सेक्स न करने के नुकसान, जानकर हैरान रह जाएंगे

सेक्स न सिर्फ शारीरिक तौर पर जरूरी माना जाता है, बल्कि यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी जरूरी माना जाता है। पहले जहां लोग सेक्स के बारे में बात करने में संकोच करते थे, वहीं अब लोग सेक्स के बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए अपने निजी डॉक्टर से इसके बारे में सलाह भी लेते हैं। जहां सेक्स करने के हजार फायदे हैं, वहीं सेक्स न करने के नुकसान भी हैं। जिस तरह खाने-पीने की चीजों से लेकर, एक नियमित समय तक सोना सेहत के लिए लाभकारी होता है। वैसे ही सेक्स भी एक नियमित समय तक करना सेहत के लिए लाभकारी होता है। हालांकि, अगर बहुत ज्यादा सेक्स किया जाए, तो स्वास्थ्य पर इसके बुरे प्रभाव भी देखे जा सकते हैं। इसी तरह अगर लंबे समय तक सेक्स न किया जाए, तो इसके भी नुकसान हो सकते हैं।

और पढ़ें: सेक्स के दौरान या बाद में ऐंठन के कारण और उनसे राहत पाने के उपाय

[embed-health-tool-bmi]

सेक्स न करने के नुकसान क्या हैं?

एक तरह से सेक्स किसी औषधि की तरह काम करता है, जो शारीरिक और मानसिक स्थितियों से जुड़ी कई बीमारियां दूर करता है। तो आइए जानते हैं, सेक्स न करने के नुकसान।

1. घट सकती है इम्यूनिटी (Immunity may decrease)

सेक्स न करने के नुकसान में इसको न करने का असर सबसे अधिक इम्यूनिटी पर पड़ता है। डॉक्टर्स की मानें तो, सेक्स न करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता घट सकती है, जिसकी वजह से हमारा शरीर छोटी-मोटी बीमारियों की चपेट में बहुत जल्दी आ सकता है। यहां तक कि बदलते मौसम का भी असर सेहत पर पड़ सकता है। जो लोग हफ्ते में कम से कम तीन बार सेक्स करते हैं, उनके शरीर का आईजीए लेवल भी ठीक रहता है, जिससे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता का स्तर बना रहता है।

और पढ़ें: कंडोम कैसे इस्तेमाल करें? जानिए इसके सुरक्षित टिप्स

2. नये साथी की तलाश (Looking for a new partner)

सेक्स न करने के नुकसान में एक नुकसान ये है कि इसकी वजह से दोनों पार्टनर में दूरी आ जाती है। अगर कोई कपल लंबे समय तक सेक्स नहीं करता है, तो हो सकता है कि वो नये साथी की तलाश शुरू कर दें। क्योंकि, लंबे समय तक सेक्स न करने से फ्रस्ट्रेशन लेवल काफी बढ़ सकता है। लोग अपनी प्रोफाइल डेटिंग ऐप्स पर डाल सकते हैं। ऐसे अधिकतर कपल वन नाइट स्टैंड के बारे में सोचने से भी नहीं कतराते। सेक्स न करने के नुकसान में सबसे ज्यादा कपल्स में दूरी वाले केस देखे जाते हैं।

3. सेक्स न करने के नुकसान : सेक्स ड्राइव में कमी (Decreased sex drive)

सेक्स न करने के नुकसान में सेक्स ड्राइव में कमी होना भी शामिल है। लंबे समय तक सेक्स से दूरी बनाए रखने के कारण आपके शरीर में सेक्स ड्राइव का स्तर घट सकता है या यह भी हो सकता है कि आपकी सेक्स इच्छा चरम पर पहुंच जाए। लेकिन, यह साबित हो चुका है कि जो लोग सेक्स नहीं करते या बहुत कम करते हैं, वो काफी सुस्त रहते हैं।

4. इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction)

अमेरिकन जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकशित रिपोर्ट के मुताबिक, इरेक्टाइल डिसफंक्शन की बीमारी होने पर पुरुषों के लिंग में कसाव नहीं हो पाता है। ऐसे पुरुष, जो लंबे समय तक सेक्स से दूर रहते हैं, उनमें इसका खतरा अधिक बना रहता है। पुरूषों में सेक्स न करने के नुकसान में इरेक्टाइल डिसफंक्शन की परेशानी देखी जाती है, जो उनकी सेक्स लाइफ को खराब कर सकता है।

और पढ़ें: किस करने के दौरान आती है मुंह से बदबू? जानिए क्या है कारण

5. तनाव या अनिद्रा (Stress or Insomnia)

सेक्स मन को शांत करने और अच्छी नींद लाने में बहुत मददगार होता है। वहीं, अगर इससे दूरी बना ली जाए, तो हो सकता है कि आप तनाव या अनिद्रा के शिकार हो जाएं। सेक्स करने से शरीर से ओक्सीटोसिन हॉर्मोन रिलीज होता है, जो पुरुषों के वीर्य या सीमन में पाया जाता है। जब शरीर से वीर्य के जरिए मेलाटोनीन या सेरोटोनीन जैसे हॉर्मोन रिलीज होते हैं, तो यह अच्छी नींद के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। इससे मन भी शांत होता है। इसी के विपरीत, अगर लंबे समय तक सेक्स न किया जाए, तो ये दोनों समस्याएं हो सकती हैं। सेक्स न करने के नुकसान में बहुत से लोगों को तनाव या अनिद्रा की परेशानी भी होती है। डॉक्टर भी कहते हैं कि सेक्स करने से तनाव कम होता है।

6. योनि की मांसपेशियों में गड़बड़ी (Vaginal Walls and Lubrication)

सेक्स करने से महिलाओं की योनि की मांसपेशियों में कसाव बना रहता है, जो प्राकृतिक तौर पर मेनोपॉज की स्थिति में पहुंचने पर अपने आप घटने लगती है। इसलिए योनि की मांसपेशियों में कसाव बनाए रखने के लिए सेक्स जरूरी हो सकता है। ऐसी महिलाएं, जो लंबे समय तक सेक्स नहीं करती हैं, उनकी योनि में खून का प्रवाह कम हो सकता है। जिसकी वजह से योनि के टिश्यू पतले होने लगते हैं और सूखने लगते हैं। सेक्स न करने के नुकसान में योनि की मांसपेशियों में गड़बड़ी भी रहती है। योनि की मांसपेशियों में परेशानी होने की वजह से महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है। जिसके लिए उन्हें खुद का इलाज कराना पड़ता है। ऐसे में बेहतर विकल्प है कि नियमित रूप से सेक्स किया जाए।

7. सेक्स न करने के नुकसान : घबराहट (Anxiety)

शायद अधिकतर लोग अभी भी इस बात से बेखबर हो सकते हैं कि लंबे समय से सेक्स न करने से मन में घबराहट हो सकती है। लोग बेवजह छोटी-छोटी चीजों को लेकर परेशान हो सकते हैं, सेक्स करने से एंडोर्फिन हॉर्मोन रिलीज होता है, जिसे फील गुड हॉर्मोन भी कहा जाता है। सेक्स न करने के नुकसान में घबराहट होना भी एक बड़ी समस्या है। जो लोग कम सेक्स करते हैं, उन्हें घबराहट की समस्या रहती है। ऐसे में सही समय पर सेक्स करना जरूरी होता है।

8. प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा बढ़ता है (Increases risk of prostate cancer)

एक शोध में पाया गया कि जिन पुरुषों ने महीने में 21 बार से ज्यादा स्खलन किया, उनमें महीने में चार से सात बार स्खलन करने वाले पुरुषों के मुकाबले प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना कम थी।

और पढ़ें: शादी से पहले सेक्स, सही या गलत जानें फायदे और नुकसान

सेक्स से दूर क्यों भागते हैं लोग

सेक्स न करने के नुकसान के साथ आपको यह भी समझना चाहिए कि किन कारकों के कारण पुरुषों या महिलाओं का सेक्स से मन हटने लगता है। इसके पीछे लो सेक्स ड्राइव औऱ सेलिबसी हो सकते हैं। लो सेक्स ड्राइव के कारणों पर बात करने से पहले हम जान लेते हैं कि आखिर ये सेलिबसी क्या है?

सेलिबसी

सेलिबसी को अमूमन असेक्शुअलिटी से जोड़ लिया जाता है, जबकि यह दोनों अलग-अलग होते हैं। असेक्शुअलिटी का सामान्यतः मतलब होता है कि व्यक्ति ने कभी सेक्शुअल रिलेशन का अनुभव नहीं किया है और उसे ऐसा करने की इच्छा भी कभी महसूस नहीं हुई। यह ऐच्छिक नहीं होती यानी कोई व्यक्ति इच्छा के मुताबिक असेक्शुअलिटी हासिल नहीं कर सकता है। जबकि दूसरी तरफ सेलिबसी ऐच्छिक होती है। इसमें व्यक्ति चाहे पुरुष हो या महिला अपनी इच्छा से जीवन में कुछ समय या हमेशा के लिए यौन संबंध न बनाने का फैसला लेता है। इसके पीछे कोई मकसद, घटना या भावना हो सकती है। इसे आम बोलचाल की भाषा में ब्रह्मचर्य भी कहा जाता है।

लो सेक्स ड्राइव

सेक्स ड्राइव आपकी यौनेच्छा को कहा जाता है यानी आपके अंदर अंदर यौन संबंध बनाने के लिए किस हद तक इच्छा होती है। जिन पुरुषों या महिलाओं में यौन संबंध को लेकर इच्छा कम होती जाती है, उनमें लो सेक्स ड्राइव की समस्या मानी जाती है। इसी कारण सेक्स न करने के नुकसान का उन्हें सामना करना पड़ता है। लो सेक्स ड्राइव के पीछे कई कारण हो सकते हैं, आइए इन पर एक नजर डाल लेते हैं।

  • सेक्स ड्राइव कम होने के पीछे उम्र एक बड़ा कारण बन सकती है। क्योंकि, जैसे-जैसे उम्र बढ़ती रहती है, हमारे शरीर में सेक्स को लेकर इच्छा घटने लगती है। इसके पीछे हमारे शरीर के यौन संबंध की इच्छा के लिए जिम्मेदार हॉर्मोन्स में कमी होती है। उम्र की वजह से सेक्स करने की इच्छा घटना पुरुष और महिला दोनों में बराबर देखी जाती है। इस दौरान आपको खुद को और पार्टनर को समझने की जरूरत है, क्योंकि उम्र बढ़ने के कारण शरीर में होने वाले बदलावों के साथ हमें तालमेल बैठाना होता है।
  • इसके अलावा, जो कारक पुरुष और महिला दोनों में सेक्स की इच्छा को कम करने के लिए जिम्मेदार हो सकता है, वो है क्रॉनिक बीमारी। क्रॉनिक बीमारी वो बीमारी होती हैं, जो शरीर में धीरे-धीरे विकसित होती हैं और उन्हें ठीक होने में भी काफी समय लगता है। जैसे- मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग, किडनी रोग, लिवर रोग आदि। इनके कारण शरीर अपनी ताकत खोने लगता है और उसके अन्य कार्यों जैसे सोचने-समझने की क्षमता, यौन संबंध बनाने की क्षमता आदि पर बुरा असर पड़ता है।
  • इसके अलावा, डिस्परेयूनिया के कारण भी महिला और पुरुषों में सेक्स ड्राइव कम होने लगती है, जिस कारण वह सेक्स न करने के नुकसानों का सामना करने लगते हैं। डिस्परेयूनिया उस स्थिति को कहा जाता है, जब संभोग के दौरान आपके जननांगों में असहनीय दर्द महसूस हो और इसके पीछे किसी बीमारी या कारण को ढूंढने में मुश्किल हो। वैसे तो यह समस्या पुरुष और महिला किसी को भी हो सकता है, लेकिन पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को इस स्थिति का ज्यादा सामना करना पड़ता है। इसके पीछे जननांगों में कोई चोट, वजायनल ड्राईनेस या जननांगों में सूजन की स्थिति हो सकती है।
  • कई दवाइयां भी आपकी यौनेच्छा पर सीधा प्रहार करती हैं। जो कि आपके शरीर में सेक्स के लिए जिम्मेदार हॉर्मोन को घटा देती हैं या उन्हें निष्क्रिय करने लगती हैं। इन दवाइयों में क्रॉनिक बीमारी, एचआईवी/एड्स, कैंसर आदि बीमारियों के ट्रीटमेंट में दी जाने वाली दवाइयां मुख्य हो सकती हैं।
  • सेक्स दो लोगों के बीच होता है, जो कि शारीरिक जरूरत होने के बाद भी भावनात्मक होता है। किसी भी यौन संबंध को बनाने में भावनाएं अहम रोल निभाती हैं। इसी तरह भावनाओं को ठेस लगने के कारण भी आपकी सेक्स ड्राइव में कमी आ सकती है। रिश्ते में झगड़ा, बेवफाई, घरेलू हिंसा, अपने शरीर को लेकर अस्वीकार्यता, तनाव, अवसाद या किसी मानसिक व भावनात्मक समस्या के कारण भी लो सेक्स ड्राइव की समस्या हो सकती है।
  • इसके अलावा अगर लैंगिक भेद की बात करें, तो पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोन की कमी के कारण और महिलाओं में मेनोपॉज के कारण सेक्स ड्राइव में कमी दिख सकती है। इन कारणों की जांच के लिए आपको डॉक्टर से परामर्श व कुछ टेस्ट्स की मदद लेनी पड़ सकती है। जो कि आपके स्वास्थ्य की जांच करके आपको उचित जानकारी दे सकते हैं।
  • वहीं, एल्कोहॉल और गैरकानूनी पदार्थों का सेवन करने के कारण भी आपकी सेक्स ड्राइव में कमी हो सकती है। ये चीजें आपके दिमाग और हॉर्मोन्स को प्रभावित करती हैं और आपके शरीर की हर कार्यक्षमता को घटाती हैं। इसलिए इनके सेवन से बचकर रहना चाहिए।

और पढ़ेंः सेक्स के लिए सोमवार सबसे बुरा दिन : टिंडर सर्वे

लो सेक्स ड्राइव को कैसे सही कर सकते हैं?

लो सेक्स ड्राइव को कम करने के लिए आपको डॉक्टर की मदद की जरूरत पड़ सकती है। लेकिन उसके अलावा, आप घर भी कुछ तरीकों की मदद से उसे बूस्ट करके समस्या को दूर कर सकते हैं। आइए, जानते हैं कि किन बातों का ध्यान रखकर सेक्स ड्राइव को बूस्ट किया जा सकता है और सेक्स न करने के नुकसान से बचा जा सकता है।

  • कुछ फलों का सेवन करने से आपकी सेक्स ड्राइव बूस्ट होती है। हालांकि, इसे सपोर्ट करने के लिए पर्याप्त अध्ययन नहीं है, लेकिन इस टिप को अपनाने में किसी भी तरह की कोई बुराई नहीं है। क्योंकि फलों का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है। केला, एवोकाडो, फिग जैसे फल लिबिडो यानी सेक्स ड्राइव को बूस्ट करने में मदद करते हैं।
  • फलों के अलावा, डार्क चॉकलेट का सेवन करना भी सेक्स ड्राइव के लिए फायदेमंद माना जाता है और इससे अपने सेक्शुअल प्लेजर को बेहतर बनाया जा सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक, चॉकलेट का सेवन शरीर में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ाता है, जो कि आपके मूड को रिलैक्स बनाता है। इस तरह चॉकेलट आपको शारीरिक स्तर से ज्यादा मानसिक स्तर पर फायदा पहुंचाकर सेक्शुअल प्लेजर में बेहतरी करती है।
  • रोजाना अपने आहार में तुलसी और लहसुन को शामिल करने से आप सेक्स ड्राइव में कमी को दूर कर सकते हैं। इनके सेवन से शरीर में ब्लड फ्लो बेहतर होता है और इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या दूर होती है।
  • कई बार लो सेक्स ड्राइव के पीछे आपके आत्मसम्मान में कमी हो सकती है। यह कमी आपकी खुद की इमेज या शरीर से जुड़ी हो सकती है, जिसे दूर करने के लिए आपको एक्सरसाइज करनी चाहिए। एक्सरसाइज करने से आप अपने शरीर के प्रति सकारात्मक नजरिया अपनाने लगते हैं और आपका खोया हुआ आत्मसम्मान भी लौटने लगता है।
  • ध्यान लगाना न सिर्फ आपका तनाव कम करने और फोकस होने में मदद करता है। बल्कि यह आपके सेक्शुअल प्लेजर को भी बेहतर बनाने में मदद करता है। ध्यान लगाने से आपका मन और दिमाग शांत होता है और अनचाहे विचारों से परेशान नहीं होते हैं। यह आपकी काफी हद तक मदद करता है।
  • रोजाना 8 से 9 घंटे की नींद जरूर लें। इससे आपका शरीर रिलैक्स होता है और आपकी शारीरिक व मानसिक थकान दूर होती है। थकावट दूर कर आपके एक्सपीरियंस को बेहतर बनाकर आपको सेक्स की तरफ फिर से खींचने में नींद मदद कर सकती है।

सेक्स दो पार्टनर के बीच दूरी को कम करता है और यह बहुत सारी बीमारियों का इलाज भी है। सेक्स न करने के नुकसान अनगिनत है, इसलिए नियमित रूप से कपल्स को सेक्स की सलाह डॉक्टर भी देते हैं। तो आपने जानें कि सेक्स न करने से नुकसान कितने सारे हो सकते हैं। इसके अलावा, सेक्स से जुड़ी और भी अधिक बातों को जानने के लिए आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। सेक्स न करने के नुकसान के बारे में आप हमेशा अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

The association between daily stress and sexual activity: https://doi.apa.org/doiLanding?doi=10.1037%2Fa0019365 Accessed July 14, 2020

Abstinence and Outercourse: https://www.plannedparenthood.org/learn/birth-control/abstinence-and-outercourse Accessed July 14, 2020

Correlates of Sexually Related Personal Distress in Women with Low Sexual Desire: https://www.jsm.jsexmed.org/article/S1743-6095(15)32554-6/fulltext Accessed July 14, 2020

Puberty and Adolescent Sexuality: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3761219/ Accessed July 14, 2020

Sexual Desire Disorders: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2695750/ Accessed July 14, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/06/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x