home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Cowslip: काउस्लिप क्या है?

परिचय|उपयोग|सावधानी और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|डोसेज|उपलब्ध
Cowslip: काउस्लिप क्या है?

परिचय

काउस्लिप (cowslip) क्या है?

काउस्लिप एक पौधा है। इसके फूल और जड़ों का प्रयोग दवाओं में किया जाता है। इसका बोटैनिकल नाम परीमूला वैरीस Primula veris है और यह Primulaceae परिवार से ताल्लुक रखता है। प्रिमरोज परिवार का यह एक इकलौता ऐसा पौधा है जिसमें जहरीले पदार्थ होते हैं। इस वजह से इसका इस्तेमाल घर पर करने की सलाह नहीं दी जाती है। इसे काउस्लिप प्रिमरोज (Cowslip Proimrose), की फ्लावर (Key flower), की ऑफ हेवन (Key of heaven), पाल्सीवॉर्ट (Palsywort) और फेयरी कप्स (Fairy cups) के नाम से भी जाना जाता है।

यह पौधा पूरी तरह से सीधे धूप के साथ छायादार स्थानों और जहां मिट्टी पर्याप्त नम हो वहां उगता है। इसके फूल पीले रंग के होते हैं जिसे चाय बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह पौधा हीलिंग प्रॉपर्टीज के लिए जाना जाता है। इसकी सुगंधित जड़ का प्रयोग एक्सपेक्टोरेंट और ड्यूरेटिक के रूप में उपयोग किया जाता है। इसकी नई और ताजी पत्तियों को सैलेड के रूप में डायट में शामिल किया जाता है।

और पढ़ें : देवदार के फायदे एवं नुकसान; Health Benefits of Deodar Tree (Devdaru)

[mc4wp_form id=”183492″]

उपयोग

काउस्लिप (Cowslip) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

काउस्लिप का इस्तेमाल निम्नलिखित परेशानियों के लिए किया जाता है:

  • सालों से इसका इस्तेमाल पेट में दर्द, ऐंठन, लकवा और रयूमेटिक रोगों के लिए किया जा रहा है।
  • इसके फूल की पंखुडियां बच्चों में अति-सक्रियता और नींद न आने के इलाज के लिए दी जाती हैं।
  • अस्थमा और दूसरी एलर्जी कंडिशंस के लिए भी ये उपयोगी है।
  • इसकी जड़ ड्यूरेटिक और एंटीह्यूमेटिक है। ये ब्लड क्लॉट को बनने से रोकता है।
  • इसको पूरानी खांसी, ब्रोंकाइटिस और फ्लू में भी प्रयोग किया जाता है (Helps in Bronchitis and Flu)
  • होम्योपैथिक दवाओं में भी इसका इस्तेमाल होता है
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (Urinary Tract Infection)
  • किडनी संबंधित परेशानियों में भी ये लाभदायक है (Kidney related problems)
  • दिल को स्वस्थ रखता है
  • अस्थमा पेशेंट्स के लिए है वरदान (Good for Asthma Patients)
  • स्किन संबंधित परेशानियों को करे दूर (Skin Related Problems)
  • साइनस (Sinus)
  • इंसोम्निया (Insomnia)
  • सिरदर्द (Headache)
  • घबराहट होना
  • हिस्टीरिया (Hysteria)
  • तंत्रिका में दर्द

कैसे काम करता है काउस्लिप (Cowslip)?

इसे लेकर कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है कि काउस्लिप कैसे काम करता है। हालांकि कुछ रिसर्च बताते हैं कि इसमें कुछ ऐसे केमिकल्स पाए जाते हैं जो बलगम या कफ को मुंह के रास्ते बाहर निकालने में मदद करते हैं। इसके फूलों और पत्तियों में एनोडायन, डायपहोरेटिक और डयूरेटिक गुण होते हैं।

सावधानी और चेतावनी

कितना सुरक्षित है काउस्लिप (Cowslip) का उपयोग?

डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें, यदि:

  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान डॉक्टर के परामर्श के बिना किसी दवा या हर्बल का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसे में मां और बच्चे दोनों की सुरक्षा को लेकर सावधानी बरतनी जरूरी होती है।
  • अगर आप किसी दूसरी दवा का सेवन कर रहे हैं। अपने डॉक्टर को उस दवा का बताएं जिसका आप बिना प्रिसक्रिप्शन के सीधा मेडिकल स्टोर से लेकर सेवन कर रहे हैं।
  • अगर आपको किसी दवा या हर्बल से एलर्जी है। तो इसकी जानकारी भी आपके डॉक्टर को जरूर होनी चाहिए।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या कोई चिकित्सीय उपचार चल रहा है।
  • हाई ब्लड प्रेशर और लो ब्लड प्रेशर वाले इसका सेवन न करें।

हर्बल सप्लिमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लिमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: अरबी (अरवी) के फायदे एवं नुकसान; Health Benefits of Arbi (Colocasia)

साइड इफेक्ट्स

काउस्लिप (Cowslip) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

का सीमित मात्रा में सेवन ज्यादातर सभी लोगों के लिए सुरक्षित है। इसे दूसरी हर्बल्स जैसे जेनेटिएन रूट, यूरोपियन एल्डर, वेरबेना और सोरेल के साथ मिलाकर दिया जाता है। दवा की मात्रा में इसे लेने के कोई नुकसान नहीं देखने को मिले हैं। कई लोगों में इसे लेने से निम्नलिखित परेशानियां देखने को मिली हैं।

हालांकि, हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हों या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें। यदि आपको इसको लेने के बाद किसी तरह के साइड इफेक्ट नजर आते हैं तो तुरंत इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को जरूर दें। इमरजेंसी की स्थिती में अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी वॉर्ड जाएं।

डोसेज

काउस्लिप (Cowslip) को लेने की सही खुराक क्या है?

इस हर्बल सप्लिमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। कभी भी काउस्लिप की खुराक खुद से निर्धारित करने की गलती न करें। आपके द्वारा की गई जरा सी लापवाही के घातक परिणाम हो सकते हैं।

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

और पढ़ें: Rice Bran Oil: राइस ब्रैन ऑयल क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है काउस्लिप (Cowslip)?

काउस्लिप निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • रॉ काउस्लिप हर्ब (Raw Cowslip Herb)
  • काउस्लिप सिरप (Cowslip Syrup)
  • इन्फ्यूजन (Infusion)
  • काउस्लिप चाय (Cowslip Tea)

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है, न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

और पढ़ेंः कदम्ब के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kadamba Tree (Neolamarckia cadamba)

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हेलो हेल्थ के इस आर्टिकल में इस हर्बल से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो इस हर्ब का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। बस इस बात का ध्यान रखें कि हर हर्ब सुरक्षित नहीं होती। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें तभी इसका इस्तेमाल करें। काउस्लिप से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/09/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड