Rice Bran Oil: राइस ब्रैन ऑयल क्या है?

By

परिचय

राइस ब्रैन ऑयल क्या है?

राइस ब्रैन ऑयल चावल की भूसी से तैयार किया जाता है। इसमें विटामिन-ई, प्रोटीन और फैटी एसिड शामिल होते हैं। एशियाई देशों में इसका प्रयोग बहुत ज्यादा किया जाता है। इस तेल की खास बात ये है कि इसमें फैट नहीं होता है। देखने में ये बिल्कुल मूंगफली के तेल जैसा होता है, लेकिन उससे कई गुना ज्यादा फायदेमंद होता है।

राइस ब्रैन ऑयल का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

कोलेस्ट्रॉल को करें कम:

राइस ब्रैन ऑयल कई तरह के विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। इसमें पाए जाने वाले पॉलीअनसैचुरेटेड फैट सेहत के लिए गुणकारी होते हैं। ये कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है।

हारमोर्न को नियंत्रित करने में मददगार:

ब्रैन राइस ऑयल में कई पोषक तत्व ऐसे पाए जाते हैं जो हारमोर्न को संतुलित रखने में मददगार हैं। शरीर में अगर हार्मोरन संतुलित नहीं होते तो कई बीमारियां जैसे मोटापा, पीरियड्स में अनियमिता, अनचाहे बालों की ग्रोथ, पाचन क्रिया में गड़बड़ी जैसी समस्या होने की संभावना रहती है।

दिल को रखे स्वस्थ:

कई शोध में इस बात पुष्टी हुई है कि राइस ब्रैन ऑयल का सेवन करने से ह्रदय रोग के खतरे को कम किया जा सकता है। इस तेल में ओरिजेनॉन नामक पदार्थ होता है जो दिल संबंधित परेशानियों से राहत दिलाता है।

इन परेशानियों में भी है मददगार:

कैसे काम करता है राइस ब्रैन ऑयल?

राइस ब्रैन ऑयल में अनसैपोनीवबल्स (unsaponifiables) मौजूद होता है, जो लीवर में मौजूद सीरम कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। विटामिन-ई और बायोएक्टिव फाइटोन्यूट्रिएंट्स कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के खतरे को कम करने में मददगार होते हैं। त्वचा के लिए भी ये काफी फायदेमंद होता है। इसमें बायोएक्टिव कंपाउंड (bioactive compound) होते हैं जो एलर्जी से सुरक्षा करने वाली कोशिकाओं को बढ़ाता है। इससे एलर्जी होने का खतरा कम होता है।

ये भी पढ़ें: केल क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है राइस ब्रैन ऑयल का उपयोग?

  • राइस ब्रैन ऑयल का इस्तेमाल लिमिटेड मात्रा में लेना तो सुरक्षित है लेकिन इस बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है कि इसकी बड़ी मात्रा कितनी सुरक्षित है?
  • यदि आपको डाइजेस्टिव ट्रैक्ट की समस्या हो, जैसे कि इंटेस्टाइनल अल्सर, एडहेसन, स्लो डायजेसन, दूसरे पेट या इंटेस्टाइनल डिसऑर्डर तो राइस ब्रैन ऑयल का उपयोग करें। राइस ब्रैन में मौजूद फाइबर आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को ब्लॉक कर सकता है।
  • यदि आपको निगलने में परेशानी हो तो राइस ब्रैन के इस्तेमाल में सावधानी बरतें। इसमें मौजूद फाइबर से चोकिंग हो सकती है।
  • आप प्रेग्नेंट हैं या ब्रेस्ट फीडिंग करा रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान गर्भवती मां की इम्यूनिटी काफी कमजोर होती है, ऐसे में किसी भी तरह की दवाई लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए।
  • आप पहले से ही दूसरी दवाइयां ले रहे हैं या बिना डॉक्टर के प्रिसक्रीप्शन वाली दवाइयां ले रहे हैं।
  • आपको राइस ब्रैन या दूसरी दवाओं या फिर हर्ब्स से एलर्जी है।
  • आपको कोई दूसरी तरह की बीमारी, डिसऑर्डर, या मेडिकल कंडीशन है।
  • आपको किसी तरह की एलर्जी है, जैसे किसी खास तरह के खाने से, डाय से , प्रिजर्वेटिव या फिर जानवर से।दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा सख्त नहीं हैं। बहरहाल यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें। हो सके तो अपने हर्बल स्पेशलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसे यूज करें।

ये भी पढ़ें: कलौंजी क्या है?

साइड इफेक्ट्स

राइस ब्रैन ऑयल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • राइस ब्रैन ऑयल का सेवन ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित है। शुरुआत के कुछ हफ्तों के दौरान किसी किसी को अन प्रेडिक्टेबल बॉवेल मूवमेंट, इंटेस्टाइनल गैस और पेट की परेशानी हो सकती है।
  • राइस ब्रैन ऑयल नहाने में इस्तेमाल करने वाले कुछ लोगों को खुजली और स्किन में रेडनेस की शिकायत हो सकती है।
  • कुछ लोगों को राइस ब्रैन ऑयल से दाने और खुजली की शिकायत देखने को मिली है, लेकिन यह रेयर है।

ये भी पढ़ें: Calendula: केलैन्डयुला क्या है?

डोसेज

राइस ब्रैन ऑयल को लेने की सही खुराक क्या है?

  • उच्च कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए: प्रति दिन 12-84 ग्राम राइस ब्रैन या रोजाना 4.8 ग्राम राइस ब्रैन ऑयल।
  • किडनी स्टोन के रिस्क को कम करने के लिए:10 ग्राम राइस ब्रैन रोजाना दो बार।

ये भी पढ़ें: Caffeine : कैफीन क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • राइस ब्रैन ऑयल
  • इनकैप्सूलेटेड राइस ब्रैन ऑयल

ये भी पढ़ें: Astragalus: अस्ट्रागुलस क्या है?

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 9, 2019