बच्चे को डायबिटीज होने पर कैसे संभालें?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

“आज हर दूसरा व्यक्ति डायबिटीज (Diabetes)का शिकार हैं। ये बात बड़ों में सुनने में काफी सामान्य लगती है। लेकिन, यही बात अगर बच्चों के लिए कही जाए तो! शायद आप थोड़ा सोच में पड़ जाएंगे। लेकिन, वर्तमान में बच्चे को डायबिटीज हो रहा है। बच्चे को डायबिटीज का कारण है अनहेल्दी लाइफस्टाइल और जंक फूड्स। डायबिटीज के कारण इंसुलिन हॉर्मोन बनाने वाले बीटा सेल्स सही से काम नहीं करते हैं। 

बच्चे को डायबिटीज के साथ जिंदगी थोड़ी मुश्किल हो जाती है। वहीं, जब बच्चे को डायबिटीज हो तो और भी ध्यान देना पड़ता है। इसके लिए हैलौ स्वास्थ्य ने वाराणसी स्थित सृष्टि क्लीनिक के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. पी.के. अग्रवाल से बात की। डॉ. अग्रवाल ने डायबिटीज के साथ बच्चे के जीवन को सामान्य बनाने के लिए कुछ बातें बताई हैं।

यह भी पढ़ें : Diabetes : मधुमेह से बचने के प्राकृतिक उपाय

क्या है डायबिटीज (Diabetes)?

डायबिटीज को मेडिकल भाषा में डायबिटीज मेलिटस कहते हैं| यह मेटाबॉलिज्म से जुड़ी बहुत पुरानी और आम बीमारी है| डायबिटीज में, इंसान का शरीर इंसुलिन नाम के हॉर्मोन को बनाने और उसे इस्तेमाल करने की क्षमता खो देता है| डायबिटीज की बीमारी होने पर आपके शरीर में ग्लूकोस की मात्रा का बढ़ जाती है|

डायबिटीज के क्या लक्षण होते हैं?

यह भी पढ़ें : क्या मधुमेह में उपयोगी है ग्रीन-टी? जानें इसके फायदे

डायबिटीज का इलाज

  • डायबिटीज के इलाज के लिए बच्चे को अगर मोटापा है तो उसे कम किया जाए। इसके लिए बच्चे को एक्सरसाइज कराएं। 
  • बच्चे को जॉगिंग कराएं और व्यायाम से अतिरिक्त कैलोरी बर्न कराने की कोशिश करें।
  • बच्चे के खान-पान ध्यान दें। 
  • समय-समय पर बच्चे की डॉक्टर से नियमित जांच कराएं।
  • बच्चे का वजन हर हफ्ते नापते रहें।

बच्चे को डायबिटीज है तो अपनाएं ये टिप्स

बच्चे का शुगर लेवल नियंत्रित रखें

अपने बच्चे को समय-समय पर डॉक्टर के यहां ले कर जाएं। इसके साथ ही बल्ड शुगर टेस्ट भी कराते रहें। अमूमन बच्चे सूई से डरते हैं। लेकिन, आप बच्चे को बहला फुसला कर उनका ब्लड आसानी से निकलवा कर टेस्ट करा सकती हैं। बच्चे को अगर सूई लगाने से डर लगता है तो ब्रिथिंग एक्सरसाइज कराएं। बच्चे को कहें कि वह लंबी सांस ले और बाहर छोड़े। इसके अलावा बच्चे को प्यार से समझाए कि ये सब उसके अच्छे के लिए हो रहा है।

यह भी पढ़ें : क्या मधुमेह रोगी चीनी की जगह खा सकते हैं शहद?

बच्चे को डायबिटीज में हेल्दी खाना खिलाएं

बच्चे को डायबिटीज में खाने में कई तरह के परहेज करने होते हैं। इसलिए पैरेंट्स को चाहिए कि बच्चे के लिए जो भी खाना बनाएं वो हेल्दी बनाएं। जिससे उसका शुगर लेवल नियंत्रित रहेगा। इसके अलावा कोशिश करें कि आप भी बच्चे के साथ वही खाना खाएं। ताकि बच्चा कुछ ऐसा खाने की जिद ना करे, जो उसके लिए नुकसानदेह है। अगर बच्चे का जन्मदिन है तो कोशिश करें कि उसके लिए शुगर फ्री केक और मिठाइयां लेकर आएं।

बच्चे को एक्सरसाइज कराएं

बच्चे को डायबिटीज हो तो उसके लिए मोटापा घातक साबित हो सकता है। इसलिए बच्चे को एक्सरसाइज कराते रहें। इससे बच्चे का शुगर लेवल निय़ंत्रित रहने में मदद मिलती है। उसे किसी ना किसी स्पोर्ट्स में शामिल होने के लिए प्रेरित करें। 

यह भी पढ़ें : लीन डायबिटीज क्या होती है? हेल्दी वेट होने पर भी होता है इसका खतरा

स्कूल में बच्चे के डायबियिक होने की जानकारी दें

बच्चे के डॉक्टर से एक मेडिकल मैनेजमेंट प्लान बनवा लें और उसकी एक कॉपी बच्चे के स्कूल में दे दें। ये प्लान स्कूल में बच्चे की मदद कर सकता है। इसके अलावा क्लासरूम में टीचर्स बच्चे की देखभाल करेंगे।

यह भी पढ़ें- बच्चे की नाखून खाने की आदत कैसे छुड़ाएं

बच्चे को डायबिटीज के साथ स्वतंत्रता से सामान्य जीवन जीने दें

आपका बच्चा अगर टीनएजर है तो उसे आप एक सामान्य जीवन जीने दें। उस पर भरोसा करें वो अपना ध्यान रख सकता है। अगर वह ऐसा नहीं कर पा रहा है तो आप उसे भरोसा दिलाएं कि वह कर सकता है। आप उसके साथ हमेशा हैं।

बच्चे को डायबिटीज में कौन से फल खिलाएं?

  • सेब स्वाद में मीठा होता है शुगर फ्री भी होता है। बच्चे को डायबिटीज है तो सेब खाना फल खाने के लिए सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (ADA) के अनुसार, सेब में शुगर, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा होती है, हालांकि, सेब टाइप-1 डायबिटीज और टाइप-2 डायबिटीज (मधुमेह) के जोखिमों को कम करने में विशेष रूप से फायदेमंद होता है।
  • नाशपाती को भी आप बच्चे को डायबिटीज में फल के तौर पर दे सकते हैं। यह पौष्टिक गुणों से भरा एक फल है। इसका वानस्पातिक नाम पाइरस कम्यूनिस है। नाशपाती रोसेशिए (Rosaceae) परिवार का सदस्य है। इसका प्रयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। मिनेसोटा विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. जोनने स्लाविन के नेतृत्व में हुए एक अध्ययन में पाया कि नाशपाती फाइबर का अच्छा स्रोत है। नाशपाती डायबिटीज के जोखिमों को कम करने, आंतों  को तंदुरुस्त रखने, वजन कम करने, कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने, दिल को स्वस्थ्य रखने, हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ-साथ कैंसर से भी शरीर का बचाव करता है।
  • स्ट्रॉबेरी स्वाद में हल्का खट्टा-मीठा फल होता है। यह फ्रागर्या (Fragaria) जाति का एक पौधा होता है। इसके फल और पत्तियों का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए किया जाता है। स्ट्रॉबेरी मिनिरल्स से भरपूर होता है, साथ ही इसमें प्रोटीन, नियासिन और खनिजों का एक अच्छा प्राकृतिक स्त्रोत भी पाया जाता है। इसे बच्चे को डायबिटीज में फल के तौर पर दे सकते हैं।
  • केले में 93 फिसदी कैलोरी कार्ब्स से आती है। ये कार्ब्स, शुगर, स्टार्च, एंटी-ऑक्सीडेंट, विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर के रूप में होते हैं। एक मध्यम आकार के केले में 14 ग्राम शुगर और 6 ग्राम स्टार्च की मात्रा होती है। अगर बच्चे को डायबिटीज में फल का चुनाव कर रहें हैं, तो केला सबसे बेहतर विकल्प होता है। हाल ही में हुए एक अध्ययन के मुताबिक, केला टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों में बढ़ते ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है। 

इन टिप्स से बच्चे को डायबिटीज होते हुए भी वह सामान्य जीवन जी सकता है। इसके अलावा आप उसे ऐसा महसूस कराएं कि कुछ हुआ ही नहीं है। सब ठीक है, बस जरा सा अपना ध्यान रखना है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:

पिता के लिए ब्रेस्टफीडिंग की जानकारी है जरूरी, पेरेंटिंग में मां को मिलेगी राहत

वजायनल सीडिंग (Vaginal Seeding) क्या सुरक्षित है शिशु के लिए?

ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

प्रेग्नेंसी के दौरान होता है टेलबोन पेन, जानिए इसके कारण और लक्षण

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    नेशनल डॉक्टर्स डे पर कहें डॉक्टर्स को ‘थैंक यू’ और जानें भारत के टॉप 10 डॉक्टर्स के नाम

    भारत के टॉप 10 डॉक्टर्स कौन-कौन से हैं? भारत में, डॉक्टर्स डे 1 जुलाई को मनाया जाता है। इसलिए, राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे (National Doctor Day) के खास मौके पर आपको भारत के टॉप 10 डॉक्टर्स के बारे में बता रहे हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    Weakness : कमजोरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    आखिर कमजोरी होती क्यों है? क्या इसको नैचुरल तरीके से कम किया जा सकता है? कमजोरी का पता लगाने के लिए कौन-से टेस्ट किये जाते हैं? Weakness in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    फैटी लिवर जो कि सिरोसिस के बाद लिवर फेलियर तक का कारण बन सकती है। आइए जानते हैं कि, इसे कैसे कंट्रोल किया जाए। Fatty Liver in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Throat Ulcers : गले में छाले क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    गले में छाले होने की वजह से आपको खाने-पीने, बात करने आदि में दर्द व परेशानी हो सकती है। आइए, जानते हैं कि गले में छाले के लक्षण, कारण और इलाज क्या होता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    डायबिटिक न्यूरोपैथी

    जानें क्या है डायबिटिक न्यूरोपैथी, आखिर क्यों होती है यह बीमारी?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जुलाई 9, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
    डायबिटीज में हाइपरग्लेसेमिया क्या है

    हाइपरग्लेसेमिया : जानिए इसके लक्षण, कारण, निदान और उपचार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन में संबंध क्या है

    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन – जानिए कैसे लायें सुधार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ग्लिजिड एम (Glizid M)

    Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जुलाई 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें