backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Marigold : गेंदे का फूल क्या है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr. Shruthi Shridhar


Nikhil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 01/06/2020

Marigold : गेंदे का फूल क्या है?

परिचय

गेंदे का फूल क्या है ?

गेंदे का फूल एक खूबसूरत फूल होता है जो पीले, नारंगी, हल्के पीले, कत्थई लाल आदि कई रंगों में पाया जाता है। इसका उपयोग भारतीय घरों में अक्सर पूजा-माला बनाने, सजावट की सामग्री के रुप में किया जाता है। गेंदा शरीर के लिए एक प्रभावशाली हर्ब के रुप में काम करता है। गेंदे के फूल के फायदे स्वास्थ्य के लिए अनेक है। इसमें जीवाणुरोधी, सूजनरोधी, कवक रोधी, विषाणुरोधी और एंटी-सेप्टीक गुण पाए जाते हैं। गेंदे में घावों को ठीक करने के लिए आवश्यक गुण होते हैं इसलिए गेंदा का उपयोग दवा के रुप में किया जा सकता है।

गेंदे का फूल का उपयोग मांसपेशियों की ऐंठन को रोकने, मासिक धर्म शुरू करने और बुखार को कम करने के लिए किया जाता है। यह गले में खराश और मुंह, मासिक धर्म में ऐंठन, कैंसर और पेट और ग्रहणी संबंधी अल्सर के इलाज के लिए भी प्रयोग किया जाता है। कैलेंडुला का उपयोग खसरा, चेचक और पीलिया के लिए भी किया गया है।

गेंदे का फूल कैसे काम करता है?

यह माना जाता है कि कैलेंडुला में रसायन नए ऊतकों को घावों में बढ़ने और मुंह और गले में सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

उपयोग

गेंदे के फूल की क्या उपयोगिता है?

गेंदा एक पौधा है। गेंदे का फूल का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए किया जाता है, जिसका उपयोग मांसपेशियों की ऐंठन को रोकने, मासिक धर्म शुरू करने और बुखार को कम करने के लिए किया जाता है। यह गले और मुंह के खराश, मासिक धर्म में ऐंठन, कैंसर और पेट और डुओडेनल अल्सर के इलाज के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

डायबिटीज : 

मानक देखभाल और स्वच्छता के अलावा इसके स्प्रे का उपयोग संक्रमण को रोक सकता है और मधुमेह को कम कर सकता है।

डायपर रैश :  

10 दिनों के लिए त्वचा पर गेंदे केफूल का मरहम लगाने से डायपर दाने में सुधार होता है। लेकिन अन्य शुरुआती शोध से पता चलता है कि कैलेंडुला क्रीम लगाने से डायपर दाने में बेंटोनाइट समाधान के रूप में प्रभावी रूप से सुधार नहीं होता है।

एक्सफोलीएटिव चीलाइटिस :

प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि 15 दिनों के लिए कैलेंडुला मरहम का उपयोग करना होंठों को छीलने से रोकने में मदद कर सकता है।

मसूड़ों में सूजन :

प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि 6 महीने के लिए एक विशिष्ट गेंदे का फूल के टिंचर के साथ मुंह को रगड़ने से पानी के कुल्ला करने की तुलना में पट्टिका, मसूड़ों की सूजन और रक्तस्राव में 10% से 18% तक की कमी हो सकती है। अन्य प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि कैलेंडुला, मेंहदी और अदरक के संयोजन के साथ माउथवॉश को 2 सप्ताह तक रिंस करने से प्लेसबो माउथवॉश की तुलना में पट्टिका, मसूड़ों की सूजन और रक्तस्राव कम हो जाता है। वास्तव में, यह संयोजन माउथवॉश क्लोरहेक्सिडाइन माउथवॉश के रूप में प्रभावी रूप से काम करता है।

गेंदे का त्वचा पर इस्तेमाल

  • दर्द और सूजन को कम करने के लिए
  • घाव और पैर के अल्सर के इलाज के लिए
  • नकसीर, वैरिकाज़ वेंस, बवासीर, मलाशय (प्रोक्टाइटिस) की सूजन, और पलक की सूजन (कंजंकटिवाईटिस) का इलाज करने के लिए।
  • गेंदे के कई और दूसरे उपयोग भी हो सकते है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

सावधानियां और चेतावनी

गेंदे का उपयोग करने से पहले किन जानकारियों का होना जरूरी है ?

  • आप प्रेग्नेंट हैं या ब्रेस्ट फीडिंग करा रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान गर्भवती मां की इम्यूनिटी काफी कमजोर होती है, ऐसे में किसी भी तरह की दवाई लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए।
  • आप पहले से ही दूसरी दवाइयां ले रहे हैं या बिना डॉक्टर के प्रिसक्रीप्शन वाली के दवाइयां ले रही हों।
  • आपको गेंदे या दूसरी दवाओं या फिर हर्ब्स से एलर्जी है।
  • आपको कोई दूसरी तरह की बीमारी, डिसऑर्डर, या मेडिकल कंडीशन है।
  • आपको किस तरह की एलर्जी है, जैसे किसी खास तरह के खाने से, डाय से, प्रिजर्वेटिव या फिर जानवर से,जैसे कि रैगवेड, गुलदाउदी, मैरीगोल्ड्स, डेजी आदि।

दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा सख्त नहीं हैं। बहरहाल यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें। हो सके तो अपने हर्बल स्पेशलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसे यूज करें।

गेंदे का फूल कितना सुरक्षित है?

बच्चे : 

इस जड़ी बूटी का उपयोग केवल बच्चों की त्वचा पर ही किया जाना चाहिए।

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग

यह भी पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ब्रेस्ट में दर्द से इस तरह पाएं राहत

इन दिनों गेंदा आपके लिए कितना सुरक्षित होगा इस बारे में सही सही जानकारी उपलब्ध नहीं है इसलिए बेहतर होगा आप इसके इस्तेमाल से बचें।

सर्जरी

इस दौरान या इसके बाद होने वाली दवाओं के साथ गेंदे का फूल का इस्तेमाल ड्राउजिनेस की समस्या को पैदा कर सकता है। इसलिए सर्जरी की निर्धारित तिथि से 2 सप्ताह पहले ही गेंदे का इस्तेमाल बंद कर दें। सर्जरी के दौरान और बाद में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के साथ संयुक्त होने पर मैरीगोल्ड बहुत अधिक उनींदापन का कारण हो सकता है। निर्धारित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले मैरीगोल्ड लेना बंद करें।

यह भी पढ़ें : Cosmetic surgery : जानिए क्या है कॉस्मेटिक सर्जरी

साइड इफेक्ट्स

गेंदे के फूल से मुझे किस तरह के दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

गेंदे का फूल से त्वचा पर दाने हो सकते हैं

जरूरी नहीं कि गेंदे का इस्तेमाल करने वाले हर लोग इन साइड इफेक्ट्स का अनुभव करें। कुछ साइड इफेक्ट्स हमारी लिस्ट में नहीं भी हो सकते हैं। साइड इफेक्ट्स यदि आप की चिंता का सबब बना हुआ है तो कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

गेंदे के फूल का प्रभाव

गेंदे का शरीर पर क्या असर हो सकता है?

आप कौन सी दवाइयां ले रहे हैं या आपके मेडिकल कंडीशन क्या है इस बात पर निर्भर करता है कि आप गेंदे का इस्तेमाल करें या नहीं?

इसलिए गेंदे को यूज करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर्स से सलाह लें।

सेडेटिव दवाएं

इस के इस्तेमाल से नींद और ड्राउजनेस जैसी समस्या पैदा हो सकती है। नींद लाने वाली दवाओं को सेडेटिव कहा जाता है। इन दवाओं के साथ गेंदा लेने से बहुत अधिक नींद सकती है।

कुछ सेडेटिव दवाइयां जैसे कि क्लोनाजेपम (क्लोनोपिन), लॉराजेपम (एटिवन), फेनोबार्बिटल (डोनाटल) और जोलपिडेम (एंबियन) के साथ गेंदे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

खुराक

गेंदे की सामान्य खुराक क्या है?

  • 250 मिलीलीटर उबलते पानी में 5-10 ग्राम सूखे फूलों को डालकर एक जलसेक बनाया जा सकता है। इसे 10-15 मिनट तक छोड़ दीजिए। रोजाना 2-3 कप जलसेक पिएं।
  • 90% अल्कोहल में, 1: 5 के रेशियो में एक टिंचर तैयार कीजिए। 5-10 बूंदों (1-2 मिली) को तीन बार रोजाना लें।
  • गेंदे का एक मरहम भी तैयार किया जा सकता है जिसमें 2-5% गेंदा होना चाहिए (जैसे 2-5 ग्राम मैरीगोल्ड / 100 ग्राम मरहम) इसे जरूरत के मुताबिक हर दिन 2-4 बार लगाया जा सकता है।
  • इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपने उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

    गेंदा किस रूप में आता है?

    गेंदे के डोज इन रूपों में उपलब्ध हो सकते हैं :

    • गेंदा टिंचर
    • गेंदा मरहम
    • गेंदा इंफ्यूजन

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Dr. Shruthi Shridhar


    Nikhil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 01/06/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement