home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Contact Dermatitis : कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम|उपचार|जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार
Contact Dermatitis : कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस क्या है?

परिचय

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Contact Dermatitis) क्या है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस ( Contact Dermatitis) त्वचा संबंधित समस्या है। इसमें त्वचा पर लालपन के साथ-साथ खुजली और रैशेज हो जाते हैं। ये खुजली घातक तो नहीं होती है, लेकिन मरीज को काफी परेशान करती है। इसके होने का मुख्य कारण किसी चीज से एलर्जी का होना है। एलर्जी के लिए साबुन, कॉस्मेटिक्स, खूशबू, ज्वैलरी और पौधों से आदि शामिल हो सकते हैं। कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस का इलाज आसानी से किया जा सकता है। लेकिन, इसके इलाज के लिए ये जानना बेहद जरूरी होता है कि एलर्जी किस चीज से हुई है। अगर आप एलर्जी पैदा करने वाले वस्तु से दूरी बना लेंगे तो खुजली और रैशेज दो या चार हफ्ते में ठीक हो जाएंगे।

और पढ़ें : कई तरह की होते हैं त्वचा रोग (Skin disease), जानिए इनके प्रकार

कितना सामान्य है कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Contact Dermatitis) होना?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होना बेहद सामान्य बात है। इसलिए ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से बात कर लें। अगर आपको स्किन में खुजली की समस्या हो, तो उसे हल्के में बिल्कुल न लें। भले ही ये बीमारी सामान्य है लेकिन बिना डॉक्टर को दिखाएं बीमारी का इलाज न कराएं।

लक्षण

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस के क्या लक्षण है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस की समस्या होने पर त्वचा पर साफ असर देखने को मिलता है। स्किन में छोटे-छोटे लाल रंग के दानों के साथ ही खुजली की समस्या भी हो सकती है। कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस ( Contact Dermatitis) के सामान्य लक्षण हैं :

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस शरीर के उसी भाग पर होता है जो अंग खुला रहता है। आसान शब्दों में कहा जा सकता है कि कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस शरीर के उस हिस्से पर होता है जो एलर्जी पैदा करने वाले वस्तु के कॉन्टैक्ट में आता है। उदाहरण के लिए आप बिच्छू पौधा यानी कि पॉइजन आईवी के संपर्क में आ जाते है तो आपके त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं।

और पढ़ें : त्वचा के इस गंभीर रोग से निपटने के लिए मिल गयी है वैक्सीन

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ऊपर बताए गए लक्षणों के सामने आने के बाद आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। साथ ही कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस से संबंधित किसी भी तरह के सवाल या दुविधा को डॉक्टर से जरूर पूछ लें। क्योंकि हर किसी का शरीर कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस के लिए अलग-अलग रिएक्ट करता है।

कारण

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होने के कारण क्या है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस तीन प्रकार का होता है :

  • एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस
  • इर्रिटैंट कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस
  • फोटो कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस

एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Allergic contact dermatitis)

एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस किसी चीज से एलर्जी के कारण होता है। इसमें हमारा शरीर जलन पैदा करने वाले केमिकल छोड़ने लगता है। जिससे त्वचा पर खुजली होती है। एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस में निम्न चीजों से एलर्जी हो सकती है :

  • सोने या निकिल की ज्वैलरी से
  • लैटेक्स के बने दस्तानों से
  • परफ्यूम या कॉस्मेटिक के केमिकल से
  • पॉइजन आईवी या पॉइजन ओक से

और पढ़ें : त्वचा के लिए जरूरी है स्क्रबिंग

इर्रिटैंट कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Irritant contact dermatitis)

इर्रिटैंट कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होने के कई कारण है। ज्यादातर मामलों में ये तब होता है, जब आप किसी जहरीली यानी कि टॉक्सिक मटेरियल के संपर्क में आने से होता है। जैसे :

  • बैट्री की एसिड
  • ब्लीच
  • क्लीनर
  • केरोसिन
  • डिटर्जेंट
  • पेपर स्प्रे

जब त्वचा केमिकल के संपर्क में आती है तो इर्रिटैंट कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होता है।

और पढ़ें : चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

फोटो कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Photo contact dermatitis)

फोटो कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस बहुत दुर्लभ है। फोटो कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस सूरज की रोशनी में आने के कारण होता है। जिसके चलते खुजली औक त्वचा पर लालपन होता है।

जोखिम

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस के क्या साइड इफैक्ट हो सकता है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होने का जेखिम निम्न क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों में ज्यादा है :

  • डेंटल या हेल्थ केयर क्षेत्र में काम करने वाले लोग
  • मेटल वर्कर
  • निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले लोग (Construction workers)
  • कॉस्मेटिकोलॉजिस्ट और हेयरड्रेसर
  • ऑटो मेकैनिक्स
  • स्वीमर या स्कूबा डाइवर
  • क्लीनर
  • किसानों को
  • कुक्स यानी कि बावर्ची को

और पढ़ें: Kyphoplasty : कायफ्लोप्लास्टी सर्जरी क्या है?

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस ( Contact Dermatitis) का निदान कैसे किया जाता है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस का निदान शुरुआती लक्षणों के साथ ही करना चाहिए। जब आप डॉक्टर के पास जाएंगे तो वह आपसे निम्न सवाल पूछ सकते हैं :

  • पहली बार कब कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस के लक्षण सामने आए?
  • लक्षणों से आपको कितना ज्यादा या कम परेशानी हो रही है?
  • क्या शरीर पर रैशेज अभी आना शुरू हुए हैं?
  • आपने त्वचा पर कौन सा प्रोडक्ट इस्तेमाल किया था?
  • रोजाना आप किस केमिकल के संपर्क में आते हैं?
  • आप क्या काम करते हैं?

इसके बाद डॉक्टर आपको एक एलर्जी स्पेशलिस्ट या त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास भेजेंगे। फिर त्वचा या एलर्जी विशेषज्ञ पैच टेस्ट करते हैं। इस टेस्ट से उस एलर्जन का पता चलता है जिससे आपको एलर्जी है। इसका पता लगा तक ही डॉक्टर आपका इलाज करते हैं।

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस का इलाज कैसे होता है?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस पर अगर घरेलू इलाज काम नहीं करता है तो डॉक्टर दवाएं देते हैं :

  • स्टेरॉइड क्रीम या मलहम जो कि रैशेज वाले स्थान पर दिन में दो बार लगाने से आराम होता है।
  • इसके अलावा खाने के लिए दवाएं भी दी जाती हैं। जैसे- ओरल कॉर्टिकोस्टेरॉइड जो जलन कोे कम करता है। एंटीहिस्टामिंस जो खुजली से राहत दिलाता है। इसके अलावा एंटीबायोटिक्स जो बैक्टीरियल इंफेक्शन को दूर करता है।

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव या घरेलू उपचार क्या हैं, जो मुझे कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस ( Contact Dermatitis) को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस या त्वचा संबंधी बीमारी को ठीक करने के लिए अपने जीवनशैली में बदलाव के साथ-साथ आप निम्न घरेलू उपायों को अपना सकते हैं :

  • हमेशा उस एलर्जन वस्तु से बचना चाहिए, जिससे एलर्जी होती है। उन प्रोडक्ट की लिस्ट बना लें, जिससे आपको कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस जैसी एलर्जी हो सकती है।
  • एंटी-इच क्रीम यानी कि खुजली को रोकने वाला मलहम लगाने से भी खुजली दूर हो सकती है। वहीं, आप स्टेरॉइड का मलहम भी खुजली रोकने के लिए लगा सकते हैं। इसके अलावा कैलामाइन लोशन का उपयोग भी कर सकते हैं।
  • रैशेज पर बर्फ से सेंकाइ करने से भी रैशेज से आराम मिलता है।
  • आप एंटी-इच दवाएं भी खा सकते हैं। जैसे- ओरल कॉर्टिकोस्टेरॉइड, एंटीहिस्टामिंस, एंटीबायोटिक्स, डाईफेनहाइड्रामिन जैसी दवाएं कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस से राहत पहुंचाती है।
  • नाखून से खुजली कत्तई न करें। इससे रैशेज और ज्यादा फैलेंगे। कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस होने पर अपने नाखून काट लें।
  • नहाते समय पानी में बेकिंग सोडा या ओटमिल बेस्ड बाथ प्रोडक्ट मिला कर नहाएं।
  • अपने हाथों को कोई भी काम करने का बाद अच्छी तरह साबुन से धुल लें। इसके बाद मॉस्चराइजर लगा लें। वहीं, एलर्जी वाले काम करने से पहले दस्ताने पहन लें।
  • इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Contact dermatitis. http://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/contact-dermatitis/home/ovc-20338758. Accessed on December 1, 2019

What Is Contact Dermatitis? aad.org/dermatology-a-to-z/diseases-and-treatments/a—d/contact-dermatitisAccessed on December 13, 2019

Contact dermatitismy.clevelandclinic.org/health/diseases_conditions/hic_Contact_DermatitisAccessed on December 1, 2019

Triggers of contact dermatitis and how to treat it nationaleczema.org/eczema/types-of-eczema/contact-dermatitis/  Accessed on December 1, 2019

 

 

लेखक की तस्वीर badge
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड