home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Pubic Lice : प्यूबिक लाइस (क्रैब्स) क्या है?

परिचय |लक्षण |कारण |जोखिम |उपचार |घरेलू उपचार
Pubic Lice : प्यूबिक लाइस (क्रैब्स) क्या है?

परिचय

प्यूबिक लाइस (क्रैब्स) क्या है?

प्यूबिक लाइस को जघन जूँ या क्रैबस भी कहते हैं। एक बहुत ही छोटा कीड़ा होता है जो आपके जननांगो वाले क्षेत्र में बढ़ता रहता है। तीन प्रकार के जूँ होते हैं जो मनुष्य को प्रभावित करते हैं ;

  • पेडिकुलस ह्यूमन्स केपिटिस : सिर की जूँ
  • पेडिक्युलस ह्यूमन्स कोर्पोरिस : शरीर की जूँ
  • फ्थीरस जघन : प्यूबिक लाइस

क्रैब्स मनुष्य का खून चूसते हैं और प्रभावित क्षेत्र में अत्यधिक खुजली की समस्या पैदा करते हैं। प्यूबिक लाइस ज्यादातर गुप्तांगों के बालों में पैदा होते हैं जो धीरे-धीरे करके सैक्सुअल क्षेत्रों में पहुँच जाते हैं। कुछ मामलों में, ये आँखों की पलकों, बगलों के बालों में और चेहरे के बालों में भी पैदा होने लगते हैं। क्रैब्स रोग उन लोगों में भी बेहद आम है जिन्हें सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इन्फेक्शन होता है।

तीन प्रकार की जुएं होती हैं –

सिर की जुएं – सिर की जुएं सफेद ग्रे रंग की होती हैं जो गंदगी, धूल-मिटटी या किसी जूँ पीड़ित व्यक्ति के साथ बैठने से होती हैं। सिर की जुओं को आप बहुत ही आसानी से देख सकते हैं और ये मेडिकल शैम्पू से खत्म भी हो जाती हैं।

शरीर की जुएं – शरीर में जुएं ज्यादातर कपड़ों में होती हैं और फिर वो शरीर में चढ़ जाती हैं। इससे शरीर में खुजली होती है, लाल चकत्ते पड़ते हैं। बेड बग्स जुओं से ही संबंधित होती हैं। ये ज्यादातर कपड़ों, चदरों और फर्नीचर में घुस जाती हैं और खासकर ये शरीर में ज्यादा चढ़ती हैं।

क्रैबस क्रैब्स से आपको आपको डरने की जरूरत नहीं है प्यूबिक लाइस टॉयलेट का इस्तेमाल करने से नहीं फैलती। साथ ही कॉन्डम से क्रैब्स से बचाव नहीं हो सकता। क्रैब्स के बारे में अन्य जानकारियों के लिए आगे पढ़ें।

कितना सामान्य है क्रैब्स होना?

हर साल लाखों लोग प्यूबिक लाइस से संक्रमित होते हैं। ये छोटे कीड़े हैं जो समुद्र तट पर दिखाई देने वाले केकड़ों के छोटे संस्करणों की तरह दिखते हैं। ये त्वचा और मोटे बालों पर रहते हैं जो आपके जननांगों के आसपास होते हैं, इनका खाना आपका खून होता है। प्यूबिक लाइस यौन संपर्क के दौरान आसानी से फैलता है।

क्रैब्स होने का मतलब ये नहीं है कि आप अस्वच्छ हैं या सफाई रूप में गंदे हैं। किसी को भी क्रैब्स पड़ सकते है अगर वो संक्रमित व्यक्ति के साथ पर्सनल रूप से सम्पर्क में हो।

ये भी पढ़ें : गर्भावस्था में हर्पीस: लक्षण, कारण और इलाज

लक्षण

क्रैब्स के लक्षण?

पहले संपर्क के बाद 5 दिनों से 3 सप्ताह तक जूँ की उपस्थिति स्पष्ट नहीं हो सकती। ऐसे में खुजली और त्वचा में जलन एक मुख्य लक्षण है।

  • प्यूबिक एरिया में खुजली हमेशा या कभी-कभी हो सकती है, न कि तब जब जूँ उस क्षेत्र में काटता है लेकिन काटने से उसके मुंह से लुस सलाइवा और मल निकलता है जिसकी वजह से एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है। खुजली की समस्या आमतौर पर रात के समय और बदत्तर हो सकती है।
  • लाल चकत्ते और घाव भी दिखाई दे सकते हैं, आमतौर पर ये लाल चकत्ते या घाव जघन वाली त्वचा पर कहीं-कहीं छोटे छोटे आकार में दिखाई देते हैं। खरोचने से भी धब्बे पड़ सकते हैं।
  • नीले धब्बे जांघ की त्वचा पर भी दिखाई दे सकते हैं या पेट के निचले क्षेत्र पर भी दिख सकते हैं।
  • शरीर के अन्य अंगों पर इसके लक्षण देखने को मिल सकते हैं जैसे पेट, जांघ का ऊपरी क्षेत्र, छाती, मूंछ और दाढ़ी।
  • बच्चों में इसके लक्षण आंखों की पलकों के आसपास देखने को मिल सकते हैं।
  • लूस निकलने से त्वचा व अंडरवियर पर गहरे भूरे रंग या काला पाउडर जैसे धब्बे दिख सकते हैं।
  • अंडरवियर पर खून भी दिखाई दे सकता है, आमतौर पर खरोचने से जिसकी वजह से त्वचा फटने लगती है।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

कई मामलों में, ओटीसी दवाइयां प्रभावित क्षेत्र का इलाज सफलतापूर्वक करने में मदद करती हैं।

चिकित्सीय जांच की जरूरत है तब ;

  • जब ओटीसी दवाइयां जूँ को मार नहीं पाती
  • महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान जूँ हो जाट है क्योंकि ओटीसी का इलाज उन्हें सूट नहीं हो पाता
  • तब जब खरोचने से स्किन इन्फेक्शन हो जाता है
  • मरीज जो 18 साल से कम उम्र का है।

ये भी पढ़ें : Oral Sex: ओरल सेक्स के दौरान इन सावधानियों को नजरअंदाज करने से हो सकती है मुश्किल

कारण

प्यूबिक लाइस (क्रैब्स) के क्या कारण हैं?

जो व्यक्ति पहले से ही प्यूबिक लाइस से पीड़ित होता है तो उसके आसपास रहने से या सम्पर्क में आने से भी ये समस्या हो सकती है। ये जूँ न उड़ सकते हैं और न ही तैर सकते हैं, लेकिन ये एक बाल से दूसरे बाल में घूमते रहते हैं।

कुछ अन्य कारण भी हैं जिसकी वजह से जूँ फ़ैल सकते हैं ;

  • किसी भी तरह का यौन गतिविधि करने से
  • बिना सेक्सुअल तरीकों से सम्पर्क में आने से जैसे, गले लग्न, किस करना, लेकिन इससे ये मामले कम देखने को मिलते हैं।
  • तौलिया, बेड और अन्य पर्सनल आइटम शेयर करने से
  • कॉन्डम से किसी भी तरह से प्यूबिक लाइस से बचाव नहीं होता।

ये भी पढ़ें : इन असरदार टिप्स को अपनाने के बाद दूर रहेंगी मौसमी बीमारी

जोखिम

प्यूबिक लाइस (क्रैब्स) के साथ मुझे क्या समस्याएं हो सकती हैं?

  • जननांगो में तेज खुजली
  • सेक्स पार्टनर में क्रैब्स फैलने का खतरा
  • रैशेज पड़ना

उपचार

प्यूबिक लाइस का निदान कैसे किया जाता है?

प्रभावित क्षेत्र को देखने के बाद जूँ और अंडों को देखना बेहद आसान होता है। डॉक्टर मैग्नीफाइंग ग्लास की मदद ले सकता है। अगर जीवित जूँ देखे जाते हैं तो प्यूबिक लाइस की समस्या डॉक्टर आपको बताएगा। अगर अंडे मौजूद हैं तो इसका मतलब जरूरी नहीं है कि आपको प्यूबिक लाइस की समस्या है। सफलतापूर्वक इलाज करने के बाद, कुछ निर्जीव अंडे रह सकते हैं। बचाव के लिए डॉक्टर आपको एसटीडीएस की जांच करवाने के बोल सकता है।

जघन (प्यूबिक ) जूँ का इलाज कैसे होता है?

खुद से इस समस्या को खत्म करने से प्यूबिक लाइस का इलाज हो सकता है, जैसे कपड़ों, बेड आदि चीजों को साफ रखना। शरीर से प्यूबिक लाइस को खत्म करने के लिए मेडिकल स्टोर से लोशन और शैम्पू ले सकते हैं। इन इलाजों में जैसे परमेथ्रिन लोशन : आरआईडी, निक्स और A-200 शामिल है। अगर आप प्रेग्नेंट हैं स्तनपान कराती हैं तो अपने डॉक्टर से इस बारे में बात जरूर करें या फिर शिशु का इस समस्या को लेकर इलाज करना है तब भी।

जिसे भी जूँ है उन्हें अन्य लोगों के सम्पर्क में नहीं आना चाहिए तब तक जब तक जूँ की समस्या खत्म नहीं हो जाती। जो भी व्यक्ति अगर उस मनुष्य के सम्पर्क में आ भी गया है तो उसे भी इलाज करवाना चाहिए। इसे आमतौर पर सैक्सुअल पार्टनर कहते हैं। कुछ जूँ, कुछ दवाइयों से और तेजी पकड़ लेती हैं। अगर दवाइयां अपना काम नहीं कर पा रही हैं तो पहले ये देखें कि आप उस दवा को सही तरह से लगा पा रहे हैं या नहीं, अगर तब भी कुछ नहीं होता है तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से अन्य विकल्प के बारे में बात करें।

इलाज करने से पहले, अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से इसके इस्तेमाल के बारे में बात कर लें, और फिर ध्यानपूर्वक इसका पालन के साथ उपयोग करें।

अगर ओटीसी दवा जूँ को नहीं मार पाती हैं तो डॉक्टर आपको अधिक प्रभावी लोशन या शैम्पू दे सकता है।

  • आइवरमेक्टिन लोशन प्यूबिक लाइस के लिए बेहद प्रभावी है। ओरल आइवरमेक्टिन प्यूबिक लाइस का सफलतापूर्वक इलाज करने के लिए उपयोग की जाती है, लेकिन इसे एफडीए द्वारा मंजूरी नहीं मिली है।
  • मालथायीओं (ओविड) एकुअस लोशन 6 साल से ऊपर की किसी भी उम्र के लिए प्रभावी है। मालथायीओं ज्वलनशील होती है, तो इसे सिगरेट, हेयर ड्रायर और अन्य गर्म उपकरणों से दूर रखें। हालांकि इसे एफडीए द्वारा मंजूरी नहीं मिली है।

आइवरमेक्टिन क्रीम या मालथायीओं (ओविड) लोशन को इस्तेमाल करने के निर्देश, कुछ मामलों में, जैसे :

  • लोशन को पूरे शरीर पर लगाएं, जैसे सिर की त्वचा, चेहरे, गर्दन और कान साथ ही प्रभावित क्षेत्र पर।
  • लोशन को आंखों से दूर रखें। अगर लोशन आंख में चला जाता है तो आंखों को पानी से धो लें।
  • एक बार में लोशन का उपयोग 100ml 30 ग्राम से 60 ग्राम हो सकता है।
  • आइवरमेक्टिन लोशन – दस मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें।
  • मालथायीओं लोशन – 12 घंटे या रातभर लगाकर छोड़ दें।
  • दवा को आराम-आराम से और धीरे-धीरे गर्म पानी से धो दें।
  • बालों को मुलायम कंघी से काढ़े जिससे जूँ के अंडे साफ़ हो सकें।
  • प्रक्रिया को 7 दिन बाद फिर से दोहराएं।
  • जितना निर्देश इस्तेमाल करने के दिए गए हैं उतना ही इस्तेमाल करें, उससे ज्यादा नहीं और तीन बार लगातार लगाने के बाद फिर से दोहराएं नहीं।

घरेलू उपचार

जीवनशैली में होने वाले वदलाव क्या हैं, जो मुझे क्रैब्स को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

  • इलाज करने के लिए किसी लोशन का इस्तेमाल 7 से दिन तक लगातार करें।
  • जूँ निकालने के लिए कंघी का इस्तेमाल करें।
  • गर्म पानी में कपड़ों और बेड चादरों को साफ करें।
  • आईब्रो और आंखों की पलकों को देखें। अगर जूँ देखने को मिलती भी हैं, तो पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल आठ दिन के लिए दिन में दो बार करें।
  • मेडिकल स्टोर से खुजली के लिए एंटीहिस्टामाइन का खरीदें।
  • परिवार के सदस्यों को रोजाना जूँ देखनी चाहिए क्योंकि वो फिर से वापस आ सकती हैं।
  • सेक्सुअल सम्बन्ध ध्यानपूर्वक बनाएं जिससे प्यूबिक लाइस और अन्य रोग के बढ़ने के जोखिम कम हो सकें।

औप पढ़ें :

पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anoop Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/05/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x