backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Freckles: फ्रेकल्स (झाई) क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 01/10/2020

Freckles: फ्रेकल्स (झाई) क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

फ्रेकल्स क्या है?

फ्रेकल्स को सामान्य भाषा में समझा जाए तो इसे झाई कहते हैं। फ्रेकल्स चेहरे पर छोटे-छोटे धब्बे होते हैं जिनका रंग ब्राउन होता है। हालांकि कभी-कभी इनका रंग लाल, पीला, भूरा या काला होता है। दिन की रोशनी में फ्रेकल्स और ज्यादा नजर आते हैं। यह धब्बे अक्सर समूह में दिखाई देते हैं और आमतौर पर गाल, नाक, हाथ और ऊपरी कंधे पर होते हैं। फ्रेकल्स आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है और न ही यह स्किन कैंसर है।

दो तरह की होती हैं झाई (Jaie)

फ्रेकल्स दो तरह के होते हैं: नार्मल फ्रेकल्स और सनबर्न फ्रेकल्स। सनबर्न फ्रेकल्स ज्यादा गहरे रंग के होते हैं और बड़े भी होते हैं। सनबर्न फ्रेकल्स प्रायः धूप की तेज रोशनी की वजह से होता है। सनबर्न फ्रेकल्स पीठ के ऊपरी हिस्से और कंधे पर होते हैं।

कितना सामान्य है फ्रेकल्स (Freckles)?

फ्रेकल्स बहुत सामान्य है और यह 1 से 2 साल के बच्चे को भी हो सकता है। बहुत गोरे लोगों के चेहरे, लाइट या रेड बाल वाले लोगों पर यह साफ नजर आता है।

[mc4wp_form id=’183492″]

और पढ़ें : Multiple Sclerosis: मल्टीपल स्क्लेरोसिस क्या है?

फ्रेकल्स लक्षण क्या हैं?

फ्रेकल्स पर बहुत छोटे धब्बे होते हैं जिनके आसपास के क्षेत्र की तुलना में गहरा रंग होता है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने पर फ्रेकल्स ज्यादा नजर आते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार सूर्य की रोशनी में फ्रेकल्स बढ़ जाता है।

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

फ्रेकल्स के लिए जरूरी नहीं की इलाज किया जाए। हालांकि, फ्रेकल्स की वजह से चेहरा खराब दिख सकता है। यदि आप वास्तव में उन्हें हटाना चाहते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

किन कारणों से होता है फ्रेकल्स?

सूर्य की तेज रोशनी और जेनेटिक कारणों की वजह से फ्रेकल्स हो सकता है। जेनेटिक्स से भी मेलेनिन की मात्रा का अंदाजा लगाया जा सकता है। डार्क पिग्मेंट की वजह से मेलनोसाइट बनते हैं। ज्यादातर मामलों में त्वचा की किसी खास जगह पर मेलानोसाइट्स के ऊतकों की संख्या ज्यादा होती है। फ्रेकल्स सूर्य की रोशनी में और ज्यादा बढ़ जाते हैं। त्वचा को सूर्य की तेज रोशनी की क्षति से बचाने के लिए ज्यादा मेलेनिन का उत्पादन कर मेलानोसाइट्स कोशिकाओं को बढ़ावा देता है।

झाइयों के अन्य कारण

यह किसी एक वजह से नहीं, बल्कि कई कारणों से हो सकती है। झाइयों के कुछ सामान्य कारण इस प्रकार हैं।

  • पिंपल्स ज्यादा होना भी झाइयों की वजह हो सकता है। आमतौर पर ऑयली स्किन वालों को पिंपल्स की समस्या अधिक होती है। जब पिंपल्स निकलने के बाद खत्म होते हैं तो वह चेहरे पर दाग छोड़ जाते हैं और यही दाग धीरे-धीरे झाइयों का रूप ले सकता है और आपका चेहरा बिगाड़ देता है।
  • झाइयों की एक वजह शरीर को पर्याप्त पोषण न मिलना भी है। पोषक तत्वों की कमी का असर चेहरे पर झाइयों के रूप में दिख सकता है। इसलिए हमेशा संतुलित आहार लें।
  • कुछ महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान झाइयां हो जाती हैं। ऐसा आमतौर पर स्ट्रेस, हार्मोनल के बिगड़े संतुलन या खून की कमी से हो सकता है। दरअसल, इन सब कारणों से त्वचा को पूरा पोषण नहीं मिलता है और नतीजा झाइयों के रूप में दिखने लगता है।
  • कुछ महिलाओं को गर्भनिरोधक दवाओं के साइड इफेक्ट के रूप में भी झाइयां हो जाती है। इसलिए अपनी मर्जी से और बहुत अधिक मात्रा में गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • और पढ़ें : Quiz: क्विज में छिपे हैं पिंपल्स से जुड़े कुछ सवालों के जवाब, क्या आप जानते हैं?

    किन कारणों से बढ़ सकती है फ्रेकल्स की समस्या?

    निम्नलिखित कारणों की वजह से फ्रेकल्स की समस्या बढ़ सकती है, जैसे:

    • हेरीडिटी: अगर ब्लड रिलेशन फ्रेकल्स की समस्या है तो यह आपको भी हो सकता है।
    • वैसे बड़ों और बच्चों में होने की संभावना ज्यादा है जिनके त्वचा और आंखों का रंग हल्का है।
    • देर-देर तक सूर्य की तेज रोशनी में रहना।
    • हॉर्मोन्स के इलाज की वजह से।

    और पढ़ें : Piles : बवासीर क्या है?

    निदान और उपचार को समझें

    दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

    फ्रेकल्स (Freckles) का निदान कैसे किया जाता है?

    फ्रेकल्स को आसानी से आंखों से देखा जाता है लेकिन, कंप्लीट बॉडी चेकअप से ही इसका पता चल सकता है। फ्रीकल्स की वजह से स्किन और ज्यादा सेंसेटिव हो जाती है। रूटीन चेकप से और बताए गए निर्देशों के आधार पर इसे ठीक किया जा सकता है।

    फ्रेकल्स (Freckles) का इलाज कैसे किया जाता है?

    फ्रेकल्स की वजह से कोई नुकसान नहीं होता है। लेकिन, अगर आप फ्रेकल्स होने से निराश महसूस करते हैं और इलाज करवाना चाहते हैं, तो निम्नलिखित तरीके से इसे हटाया जा सकता है:

    • ब्लीचिंग या क्रीम: हाइड्रोक्विनोन युक्त क्रीम के इस्तेमाल से इसे कम किया जा सकता है। डॉक्टर से अपने स्किन टाइप को समझकर और एक्सपर्ट द्वारा बताए गए क्रीम का इस्तेमाल करना फायदेमंद हो सकता है।
    • रेटिनॉइड: रेटिनॉइड विटामिन-ए से बनाई जताई है और यह फ़ूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा मान्या प्राप्त है।
    • कॉस्मेटिक प्रोसीजर: फ्रेकल्स को हटाने के लिए लेजर थेरिपी, क्रायोसर्जरी, इंटेंस पुलस्ड लाइट थेरेपी (IPL) या केमिकल पील्स से किया जाता है।

    और पढ़ें: Double Uterus: डबल यूट्रस होना क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

    जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

    निम्नलिखित जीवनशैली और घरेलू उपचार से फ्रेकल्स रोकने में मदद कर सकते हैं:

    • SPF युक्त सनस्क्रीम का इस्तेमाल करें।
    • धूप से बचाव के लिए धूप से बचने वाले चश्मे का इस्तेमाल करें साथ ही शरीर को पूरी तरह से ढके हुए कपड़े पहने और कैप का प्रयोग करें।
    • छाते का प्रयोग करें और धूप की बजाए छाव में खड़े रहें।
    • सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के दौरान बाहर न निकलें।
    • अगर ब्लड रिलेशन में फ्रेकल्स की समस्या है तो बचपन से ही तेज धूप से बचने की कोशिश करें।
    • हर रात को सोने से पहले नींबू का रस लगाना न भूलें। दिन भर किए गए मेकअप को धोने के बाद नींबू की बूंदे अपने चेहरे पर लगाएं। ध्यान रहें नींबू का रस लगाते समय आंखों को जरूर बचाएं। लगाने के बाद थोड़ी-सी जलन होगी लेकिन, कुछ देर बाद यह ठीक हो जाएगा।
    • चंदन गोरी रंगत देने के अलावा, यह एलर्जी और पिंपल को भी दूर करता है। पेस्‍ट बनाने के लिए चंदन पाउडर में एक चम्‍मच नींबू और टमाटर का रस मिलाएं और पेस्‍ट को अपने चेहरे और गदर्न पर अच्‍छी तरह से लगा लें। फिर सूखने के बाद सादे पानी से चेहरा धो लें।
    • गुलाब जल में दूध, नींबू का रस और चने का आटा मिलाएं। इस पेस्ट को दिन में एक बार चेहरे पर लगाएं और 15 मिनट बाद इसे धोलें। इस पेस्ट के नियमित इस्तेमाल से आपकी त्वचा में निखार आ जाएगा।

    और पढ़ें: Malocclusion: मैलोक्लूजन क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

    किचन में मौजूद इन चीजो से दूर करें झाइयां

    आपके किचन में ऐसी बहुत सी देसी चीजे उपलब्ध हैं जिसे दवा के रूप में इस्तेमाल करके आप झाइयों की समस्या से राहत पा सकती हैं।

    मूली- झाइयों का इलाज करने के लिए कच्ची मूली बहुत फायदेमंद होती है। इसमें विटामिन सी और फोनोलिक योगिक होते हैं जो झाइयों को दूर करने का काम करता है। पुरानी झाइयों का इलाज करने के लिए कच्ची मूली का रस रोज चेहरे पर लगाएं। इससे कुछ ही दिनों में झाइयां फीकी पड़नी शुरू हो जाएंगी।

    छाछ- छाछ पीने से पेट ठंडा रहता है और पाचन दुरुस्त रहता है, लेकिन क्या आपको पता है कि इसे चेहरे पर लगाने से झाइयां भी हल्की हो जाती हैं। दरअसल, छाछ में लैक्टिक एसिड होता है जो झाइयां दूर करने में सहायक है। चेहरे को साफ और बेदाग बनाने क लिए रोजाना चेहरे पर छाछ लगाकर 5 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर पानी से धो लें।

    नींबू का रस- नींबू भी चेहरे के दाग-धब्बे दूर करने में बहुत मददगार है। इसमें साइट्रिक एसिड होता है जो दाग-धब्बे दूर करता है। झाइयां हटाने के लिए नींबू के रस में बराबर मात्रा में छाछ मिलाकर चेहरे पर लगाएं र 5 मिनट बाद धो लें। आप चाहें तो सिर्फ नींबू के रस को भी कॉटन बॉल की मदद से चेहरे पर लगा सकती हैं और 15-20 मिनट बाद पानी से चेहरा धो लें। ऐसा हफ्ते में दो बार करें। ध्यान रहे सेंसिटिव स्किन वालों को यह नुस्खा नहीं आजमाना चाहिए, वरना स्किन इरिटेशन की समस्या हो सकती हैं।

    एलोवेरा- एलोवेरा के अनगिनत फायदे होते हैं। बालों से लेकर चेहरे की कई समस्यों को यह दूर करता है। झाइयां कम करने में भी यह मददगार है। ताजे एलोवेरा का जेल निकालकर उसमें नींबू का रस और छाछ मिलाकर मिश्रण तैयार करें और इसे पूरे चेहरे पर लगाकर 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर पानी से चेहरा धो लें।

    कच्चा पपीता-यह नुस्खा भी झाई दूर करने में बहुत कारगर है। कच्चे पपीते को छिलके सहित पीसकर रस निकाल लें और इस रस को चेहरे पर लगाएं। 5-10 मिनट बाद पानी से चेहरा धो लें। आप चाहें तो चेहरे पर कच्चा पपीता रगड़ भी सकती हैं। नियमति इस्तेमाल से झाई कम होने लगेंगी।

    हल्दी- हल्दी को यूं ही गुणकारी नहीं कहा जाता, बल्कि यह चेहरे के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। रंग निखारने के साथ ही यह दाग-धब्बे भी हल्के करता है। झाइयां दूर करने के लिए पानी मिलाकर हल्दी का पेस्ट बनाएं और इसे चेहरे पर लगाएं। सूख जाने के बाद गुनगुने पानी से धो लें।

    शहद- शहद में मौजूद तत्व त्वचा पर मेलेनिन के अतिरिक्त उत्पादन को रोकता है जिससे झाई कम होने लगती है। शहद में बराबर मात्रा में नींबू का रस मिलाकर मिश्रण तैयार करें और इसे चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट बाद पानी से धो लें।

    उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और फ्रेकल्स से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Dr Sharayu Maknikar


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 01/10/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement