आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Menopause Cause Itching: क्यों हो सकती है मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या?

    Menopause Cause Itching: क्यों हो सकती है मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या?

    त्वचा में खुजली होना सामान्य परेशानी है, लेकिन एक खास उम्र के पड़ाव में त्वचा या शरीर के अलग-अलग हिस्से पर खुजली होना कुछ और ही इशारा करता है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) या स्किन से जुड़ी समस्या हो सकती है। इसलिए आज इस आर्टिकल में मेनोपॉज (Menopause) और मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) के बारे में समझने की कोशिश करते हैं।

    • मेनोपॉज क्या है?
    • क्या मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या हो सकती है?
    • मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या शरीर के कौन-कौन से हिस्से पर ज्यादा देखी जाती है?
    • मेनोपॉज के कारण खुजली होने पर घरेलू उपाय क्या किये जा सकते हैं?
    • मेनोपॉज के कारण खुजली का इलाज कैसे किया जाता है?
    • मेनोपॉज के कारण खुजली ना हो इसलिए क्या करें उपाय?

    चलिए अब मेनोपॉज (Menopause) और मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    और पढ़ें : PCOS, Acne, And Acne Treatment: पीसीओएस, एक्ने और एक्ने ट्रीटमेंट के बारे में समझें यहां!

    मेनोपॉज (Menopause) क्या है?

    मेनोपॉज (Menopause) हर एक महिला को अपने जीवन में मेनोपॉज का सामना करना ही पड़ता है। अगर इसे सामान्य शब्दों में समझें तो 12 महीने तक माहवारी यानी पीरियड्स नहीं आने और पीरियड्स (Periods) बंद होने की स्थिति मेनोपॉज कहलाता है। ध्यान रखें यह कोई बीमारी नहीं है, लेकिन तकरीबन 50 साल या उसके आसपास की उम्र होते-होते महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती है। यह एक तरह का बायोलॉजिकल प्रॉसेस है, इसलिए मेनोपॉज की वजह से महिलाओं को टेंशन नहीं लेना चाहिए। इस दौरान शरीर में हो रहे बदलाव और हॉर्मोनल इम्बैलेंस की वजह से महिलाओं की शारीरिक परेशानी बढ़ जाती है, जिसकी वजह से चिड़चिड़ापन, मूड स्विंग होना या इंसोमनिया जैसी अन्य शारीरिक परेशानियों के साथ-साथ मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) की भी समस्या हो सकती है।

    और पढ़ें : Vitiligo On Black Skin: काली त्वचा पर विटिलिगो की समस्या क्या है? जानते विटिलिगो यानी सफेद दाग से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    क्या मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या हो सकती है? (Menopause Cause Itching)

    मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching)

    महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान हॉर्मोन लेवल कम होने लगता है, जिसे एस्‍ट्रोजन हॉर्मोन (Estrogen hormone) कहते हैं। एस्‍ट्रोजन स्किन हेल्थ के लिए बेहद जरूरी है, क्योंकि इस हॉर्मोन की वजह से ही स्किन मॉस्चराइज रहती है और ऐसा नैचुरल ऑयल्स (Natural oils) एवं कोलेजन (Collagen) के निर्माण की वजह से होता है। बॉडी में मौजूद कोलेजन स्किन की इलास्टिसिटी यानी त्वचा में कसाव बनाये रखने में सहायक होती है। अब अगर नैचुरल ऑयल्स एवं कोलेजन का निर्माण कम होने लगे तो त्वचा सामान्य से ज्यादा पतली और रूखी होने लगती है। इसलिए मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या शुरू हो सकती है।

    और पढ़ें : Hard Lump Under The Skin: त्वचा के नीचे कठोर गांठ की समस्या है? जानिए इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें।

    ​​मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या शरीर के कौन-कौन से हिस्से पर ज्यादा देखी जाती है? (Itchy skin can occur on which part of body)

    रजोनिवृत्ति यानी मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या शरीर के निम्नलिखित हिस्सों में देखी जा सकती है। जैसे:

    • चेहरे (Face) पर
    • लिंब्स (Limbs) पर
    • गर्दन (Neck) पर
    • चेस्ट (Chest) पर
    • पीठ (Back) पर

    इन शारीरिक हिस्सों के अलावा जेनाइटल ऑर्गन (Genital Organ) में भी खुजली महसूस हो सकती है। वैसे मेनोपॉज के कारण खुजली के साथ-साथ कुछ स्किन प्रॉब्लेम भी देखी जा सकती है। जैसे:

    • एक्ने (Acne) की समस्या होना।
    • स्किन पर रैश (Rashes) की समस्या होना।
    • स्किन पिग्में टेशन (Pigmentation) की समस्या होना।
    • चेहरे पर झुर्रियां (Wrinkling) नजर आना।

    महिलाओं में मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या के साथ-साथ ऊपर बताई गई परेशानियां हो सकती हैं, लेकिन मेनोपॉज के कारण कुछ रेयर स्किन कंडिशन भी देखी जा सकती है जैसे पैरेस्थेसिया (Paresthesia)। पैरेस्थेसिया की समस्या होने पर त्वचा का सुन्न पड़ना, झुनझुनी महसूस होना या सुई जैसी चुभन की भी समस्या महसूस की जा सकती है। वहीं कुछ महिलाओं में फॉर्मिकेशन (Formication) की भी समस्या महसूस की जा सकती है। फॉर्मिकेशन एक ऐसी स्किन प्रॉब्लेम (Skin problem) है जिसमें व्यक्ति को शरीर पर चीटियों के चलने या अन्य कीड़े-मकोड़ों के चलने की फीलिंग होती है।

    और पढ़ें : ऑस्टियोपोरोसिस और मेनोपॉज भी! सिर्फ 7 बातों का रखें ध्यान

    मेनोपॉज के कारण खुजली होने पर घरेलू उपाय क्या किये जा सकते हैं? (Home remedies for Itching due to Menopause)

    मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या होने पर निम्नलिखित घरेलू उपाय किये जा सकते हैं। जैसे:

    1. ओटमील बाथ (Oatmeal baths) लें। आप खुद से इसे बना सकती हैं या बाजार से ओटमील बाथ सोप खरीद भी सकती हैं।
    2. त्वचा को हमेशा मॉस्चराइज (Moisturize) रखें, क्योंकि रूखी त्वचा के कारण भी स्किन इचिंग की समस्या शुरू हो सकती है।
    3. स्किन के लिए विटामिन सी (Vitamin C) बेहद जरूरी है। इसलिए विटामिन सी रिच फूड का सेवन करें या डॉक्टर से सलाह लेकर विटामिन सी सप्लिमेंट्स (Vitamin C Supplement) का भी सेवन किया जा सकता है।

    मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या होने पर ये तीन उपाय बेहद कारगर माने जाते हैं। वैसे अगर घरेलू उपाय से परेशानी कम ना हो, तो डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें।

    नोट: अगर आप बाजार से खरीदे गए सोप का इस्तेमाल करती हैं, तो कभी-कभी सोप में मौजूद इंग्रीडिएंट्स की वजह से भी खुजली की समस्या शुरू हो जाती है।

    और पढ़ें : Skin Lesions: स्किन लीजन क्या है? जानिए स्किन लीजन का कारण, इलाज और घरेलू उपाय

    मेनोपॉज के कारण खुजली का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Itching due to Menopause)

    मेनोपॉज के कारण खुजली का इलाज निम्नलिखित तरीके से किया जाता है। जैसे:

    • स्टेरॉयड क्रीम (Steroid creams) के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है।
    • एनेस्थेटिक क्रीम (Anesthetic creams) के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है।
    • एंटिहिस्टामाइन्स (Antihistamines) प्रिस्क्राइब की जाती है।
    • हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरिपी (Hormone Replacement Therapy [HRT]) दी जा सकती है।
    • फाइटोएस्ट्रोजन (Phytoestrogens) भी प्रिस्क्राइब की जा सकती है।

    इन दवाओं एवं ऑइंटमेंट से खुजली की समस्या करने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : Hyaluronic Acid For Skin: जानिए शरीर एवं त्वचा के लिए हाईऐल्युरोनिक एसिड के 10 फायदे!

    मेनोपॉज के कारण खुजली ना हो इसलिए क्या करें उपाय? (Tips to avoid Itching due to Menopause)

    मेनोपॉज के कारण खुजली की समस्या से बचाव के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो किये जा सकते हैं। जैसे:

    1. गर्म पानी से स्नान ना करें।
    2. स्नान के बाद या शरीर गिला होने पर अच्छी तरह पोंछ लें।
    3. बॉडी को बार-बार स्क्रेच ना करें।
    4. सेंट फ्री स्किन केयर प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करें।
    5. एल्कोहॉल एवं निकोटिन का सेवन ना करें।
    6. सॉफ्ट और ढ़ीले कपड़े पहनें।
    7. तेज धूप में बाहर ना निकलने।
    8. बॉडी को हाइड्रेट रखें।

    ये आठ टिप्स खुजली से बचाव में सहायक हो सकते हैं।

    और पढ़ें : पीरियड्स से मेनोपॉज तक महिलाओं के शरीर में होने वाले बदलाव कौन से हैं?

    अगर आप मेनोपॉज (Menopause) और मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप मेनोपॉज के कारण खुजली (Menopause Cause Itching) की समस्या से परेशान हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हेल्थ एक्सपर्ट आपके हेल्थ को ध्यान में रखकर आपको आवश्यक दवा प्रिस्क्राइब कर सकते हैं और जरूर सलाह दे सकते हैं जिसे आपको फोलो करना चाहिए।

    महिलाओं में हॉर्मोन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के लिए नीचे दिए इस 👇 वीडियो लिंक पर क्लिक करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Dermatosis associated with menopause/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4264279/Accessed on 09/06/2022

    The pros and cons of plant estrogens for menopause/http://www.scicompdf.se/femarelle/bedell_2013.pdf/
    Itching/https://medlineplus.gov/itching.html/Accessed on 09/06/2022

    Menopause symptoms and relief/https://www.womenshealth.gov/menopause/menopause-symptoms-and-relief/Accessed on 09/06/2022

    Hormone replacement therapy (HRT)/https://www.nhs.uk/conditions/hormone-replacement-therapy-hrt/risks/Accessed on 09/06/2022

    Menopause/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/menopause/Accessed on 09/06/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: