आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

स्लीप एपनिया की समय रहते इलाज है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

    स्लीप एपनिया की समय रहते इलाज है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

    हर कोई जानता है कि नियमित व्यायाम और अच्छी डायट हेल्दी लाइफ के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजें हैं। आज के समय में अधिकतर लोग इन दोनों बातों को लेकर अलर्ट रहने लगे हैं। लेकिन बिगड़ी हुई लाइफस्टाइल का असर हमारी नींद पर जरूर पड़ रहा है। एक्सरसाइज और डायट के साथ हेल्दी स्लीप का होना भी बहुत जरूरी है। नींद की कमी कई शरीरिक दिक्कतों का कारण भी बन सकती है। अनियंत्रित स्लीप एपनिया का सीधा संबंध जीवन की गुणवत्ता में कमी और हृदय की समस्या और मेटाबॉल्जिम संबंधी स्वास्थ्य जोखिम में वृद्धि कर सकता है।

    और पढ़ें: Baby Sleep Apnea: जानिए बच्चों में स्लीप एप्निया के कारण और इलाज!

    स्लीप एपनिया की समस्या क्या है?

    स्लीप एपनिया एक स्लीपिंग डिसऑर्डर है, जो उच्च रक्तचाप और दिल की परेशानी जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है। यदि इसका उपचार न किया जाए, तो स्लीप एपनिया नींद के दौरान बार-बार सांस की दिक्कत हो सकती है। जिससे जोर से खर्राटे आते हैं और दिन में भी थकान महसूस होती है, यहां तक ​​कि पूरी रात की नींद लेने के बाद भी। स्लीप एपनिया किसी को भी प्रभावित कर सकता है, हालांकि इसके अधिकांश प्रभावित लोग ओवर वेट वाले लोगों में भी देखा गया है। स्लीप एपनिया औसत वजन वाले लगभग 3% व्यक्तियों में होता है लेकिन 20% से अधिक मोटे लोगों को प्रभावित करता है। स्लीप एपनिया महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक देखा जाता है, हालांकि रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में स्लीप एपनिया की दर काफी बढ़ जाती है।

    और पढ़ें: 4 Month Old’s Sleep Schedule: 4 महीने के शिशु का स्लीप शेड्यूल कैसा होना चाहिए और पाएं कुछ आसान स्लीप टिप्स!

    स्लीप एपनिया के प्रकार

    स्लीप एपनिया दो प्रकार के होते हैं- ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया और सेंट्रल स्लीप एपनिया। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) तब होता है जब हवा नाक या मुंह से अंदर या बाहर नहीं जा सकती, हालांकि आप सांस लेने की कोशिश कर रहे हैं। सेंट्रल स्लीप एपनिया (सीएसए) तब होता है जब मस्तिष्क आपकी मांसपेशियों को सही संकेत भेजने में विफल रहता है जिससे आप सांस लेना शुरू कर सकें। स्लीप एपनिया का दूसरा रूप कम आम है।

    खर्राटे लेना स्लीप एपनिया का संकेत हो सकता है। लेकिन यह भी जरूरी नहीं है कि आप जोर से खर्राटे ले सकते हैं, तो आपको स्लीप एपनिया ही है। इसके और भी कई कारण हाे सकते हैं। इसके अलावा ऐसा भी हो सकता है कि कुछ लोगों में बिना खर्राटे जैसे लक्षण के भी स्लीप एपनिया हो सकता है। इसके अलावा, स्लीप एपनिया से पीड़ित लोग जरूत से ज्यादा थकान और उलझन की भी शिकायत कर सकते हैं, क्योंकि सांस लेने में रुकावट के कारण आप एक लंबी और गहरी नींद नहीं ले सकते हैं।

    और पढ़ें: क्या बच्चे बहुत ज्यादा सो सकते हैं? बच्चे के अच्छे स्लीप पैटर्न के लिए अपनाएं इन टिप्स को

    स्लीप एपनिया के लक्षण क्या हैं

    ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) के पहले लक्षण अक्सर रोगी द्वारा नहीं बल्कि उनके साथी या पास के लोग द्वारा पहचाने जाते हैं। ओएसए के सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं:

    • खर्राटे आना
    • दिन में नींद आना या थकान महसूस होना
    • नींद के दौरान बेचैनी महसूस होना
    • रात में बार-बार जागना
    • अचानक से जागना
    • जागने पर मुंह सूखना या गले में खराश महसूस करना
    • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी और भूलने की बीमारी या चिड़चिड़ापन
    • चिंता और अवसाद महसूस करना
    • रात में बार-बार पेशाब आना
    • बार-बार सिरदर्द महसूस होना

    सेंट्रल स्लीप एपनिया वाले लोग अक्सर बार-बार जागने की समस्या से परेशान रहते हैं, हालांकि जागने पर उन्हें घुटन या हांफने का अनुभव भी हो सकता है। बच्चों में कुछ सामान्य लक्षणों में स्कूल में पढ़ाई में मन न लगना, दिन के दौरान सुस्ती, मुंह से सांस लेना, खाना निगलने में कठिनाई, सोने की असामान्य स्थिति, बिस्तर में बाथरूम करना, रात में अत्यधिक पसीना आना और लर्निंग संबंधी विकार शामिल हैं।

    और पढ़ें: Cry It Out Method Of Sleep Training: जानिए स्लीप ट्रेनिंग के लिए क्राई इट आउट मेथड के फायदे और नुकसान!

    स्लीप एपनिया के लिए उपचार क्या हैं?

    ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) के हल्के मामलों में, लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करना उपचार हो सकता है। जैसे यदि किसी का वजन अधिक है, तो वजन कम करना एक प्रभावी उपाय है, क्योंकि वजन घटाने से अधिकांश रोगियों के लिए एपनिया की घटनाओं की संख्या कम हो सकती है। हालांकि, भूख में वृद्धि और इसके कारण होने वाले मेटाबॉल्जिम चेंजेस के कारण अनुपचारित ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के साथ वजन कम करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इसके अलावा, ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया वाले व्यक्तियों को शराब के सेवन और नींद की गोलियों के सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि यह उनके वायुमार्ग को प्रभावित कर सकता है। यह लंबे समय तक एपनिया का कारण बन सकता है। साइनस की समस्या या नाक बंद होने वाले मरीजों को खर्राटों को कम करने के लिए नेज़ल स्प्रे या ब्रीदिंग स्ट्रिप्स का उपयोग करना चाहिए। जिन लोगों को स्लीप एपनिया है, उन्हें पर्याप्त नींद लेने का प्रयास करना चाहिए।

    और पढ़ें: कैसे किया जा सकता है ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया सिंड्रोम और डायबिटीज को मैनेज?

    ओएसए के लिए एक अन्य उपचार पद्धति सकारात्मक वायुमार्ग दबाव चिकित्सा है। पीएपी थेरिपी में मरीज नाक और मुंह पर मास्क लगाते हैं। यह एयर ऑक्सिजन धीरे से नाक और मुंह के माध्यम से एयर प्रेशर प्रदान करता है। गंभीर ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया वाले लोगों में और खर्राटे की समस्या से परेशान लोगों में अंत में, सर्जिकल प्रॉसेज अपनाया जा सकता है। सर्जरी अत्यधिक गंभीर केसेज वाले लोगों के लिए होती है, जिनके रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट में प्रॉब्लम होती है, जैसे कि नोज सेप्टम, बढ़ा हुआ टन्सिल, जिससे गला असामान्य रूप से संकीर्ण हो जाता है।

    और पढ़ें: जानिए 2 महीने के शिशु का स्लीप शेड्यूल और इससे जुड़ी इंटरेस्टिंग जानकारियां

    यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो स्लीप एपनिया के परिणामस्वरूप कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें उच्च रक्तचाप, स्ट्रोक, अतालता, कार्डियोमायोपैथी, दिल की विफलता, मधुमेह, मोटापा और दिल के दौरा शामिल हैं। स्लीप एपनिया को नजरअंदाज क्यों नहीं करना चाहिए। स्लीप एपनिया के कारण दिल की विफलता की संभावना बढ़ जाती है, क्योंकि इसके विकार से पीड़ित रोगियों में उच्च रक्तचाप होता है। यदि आपने या आपके साथी ने स्लीप एपनिया के लक्षण देखे हैं, तो हम आपको जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से मिलने की सलाह देते हैं। निगरानी और निदान के लिए मरीजों को स्लीप टेस्टिंग के लिए जाना चाहिए। यदि आप में या आपके परिवार में स्लीप एपनिया के कोई लक्षण दिखाई देते हैं तो कृपया किसी विशेषज्ञ के पास जाएं।

    health-tool-icon

    बीएमआई कैलक्युलेटर

    अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/06/2022 को
    डाॅ. रसिका परब के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: