Hair Transplant : हेयर ट्रांसप्लांट कैसे होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

हेयर ट्रांसप्लांट (Hair Transplant) क्या है?

हेयर ट्रांसप्लांट यानी बालों का प्रत्यारोपण, ये एक प्रकार की सर्जरी है। इसमें जिनके सिर पर बाल नहीं है या बाल झड़ गए हैं, उनके सिर पर डर्मेटोलॉजिकल सर्जन हेयर ट्रांसप्लांटेशन की सहायता से हेयर ग्रो कराते हैं। हेयर ट्रांसप्लाट का मुख्य उद्देश्य सिर पर बालों की संख्या में इजाफा या बालों को घना करना है। 

हेयर ट्रांसप्लांट की जरूरत कब होती है?

हेयर ट्रांसप्लांट की जरूरत उन्हें पड़ती है जो गंजे होते है या उनके सिर पर बाल कम होते हैं। ऐसे में ही डॉक्टर हेयर ट्रांसप्लांट कराने की सलाह देते हैं। 

और पढ़ें : हेयर ट्रांसप्लांट के फायदे और साइड इफेक्ट्स

जोखिम

हेयर ट्रांसप्लांट करवाने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

हेयर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया हर किसी के लिए सुरक्षित नहीं होती है। हेयर ट्रांसप्लांट उन्हें ही कराने को कहा जाता है जो :

  • जिन पर बाल झड़ने से रोकने की दवा का असर न हो
  • जिनके ज्यादा बाल झड़ते हैं
  • अन्य कारणों से बालों का तेजी से झड़ना
  • जिन्हें सर्जरी के बाद किसी तरह की समस्या न हो

कुछ लोगों के लिए हेयर ट्रांसप्लांट अच्छा विकल्प नहीं है : 

  • जिन औरत का बाल जड़ों से झड़ गया हो
  • जिसके पास पर्याप्त डोनर न हो
  • जिन्हें कभी चोट लगी हो और केलॉयड स्कार्स जिन्हें हो
  • किमोथेरेपी के कारण जिनके बाल झड़ गए हो

और पढ़ें : हेयर स्पा ट्रीटमेंट से बाल होंगे हेल्दी, स्पा लेने के बाद रखें इन बातों का ध्यान

हेयर ट्रांसप्लांट के क्या साइड इफेक्ट्स और समस्याएं हो सकती हैं?

हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी को सुरक्षित माना जाता है। लेकिन, हर सर्जरी की तरह इस सर्जरी के भी थोड़े रिस्क हैं :

  • संक्रमण
  • ब्लीडिंग होना
  • हेयर फॉलिकल में जलन होना
  • स्कैल्प में पपड़ी की तरह जमना
  • अप्राकृतिक पैच जैसे नए बालों का निकलना 
  • स्कैल्प में उभार हो जाना

और पढ़ें : डैंड्रफ के लिए हेयर स्पा है फायदेमंद, घर पर ही करें ऐसे स्पा

कभी-कभी वास्तविक बाल झड़ जाते हैं, लेकिन फिर बाद में आ भी जाते हैं। इस तरह के हेयर फॉल को शॉक लॉस कहते हैं। कई बार सर्जरी सफल नहीं होती है ऐसे में हेयर ट्रांसप्लांट दोबारा करना पड़ सकता है। एनस्थीसिया के बाद थोड़ा असहज महसूस होता है। स्कैल्प में सूजन जैसी समस्या भी हो सकती है। इसके साथ ही सिर की त्वचा पर घाव के निशान से उभर जाते हैं और खुजली भी हो सकती है। डोनर द्वारा दिए गए बालों को ट्रांसप्लांट करने के बाद सिर पर पपड़ी पड़ सकती है और भविष्य में ट्रांसप्लांट कराए गए बाल झड़ सकते हैं। 

जरूरी नहीं की ये समस्याएं सभी के साथ हो, लेकिन फिर भी आपको सभी तरह के जोखिम के बारे में जान लेना चाहिए। 

प्रक्रिया

हेयर ट्रांसप्लांट के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

हेयर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया आपके ट्रांसप्लांट कराने के प्रकार पर निर्भर करता है। हेयर ट्रांसप्लांट के लिए कुछ सामान्य गाइडलाइन हैं :

  • सर्जरी कराने से 24 घंटे पहले स्मोकिंग बंद कर देनी चाहिए। स्मोकिंग सर्जरी को दौरान होने वाले घाव को जल्दी भरने नहीं देता है। 
  • सर्जरी से तीन दिन पहले से शराब का सेवन करना बंद कर देना चाहिए। अच्छा होगा अगर आप एल्कोहॉल लेना एक हफ्ते पहले से ही बंद कर दें।
  • हेयर ट्रांसप्लांट कराने से पहले बाल कतई न कटवाएं। बाल आपके हेयर ट्रांसप्लांट में मदद करेंगे। क्योंकि सर्जरी के दौरान होने टांकों को ढकने का काम करेंगे। 
  • अपने स्कैल्प को सर्जरी से दो हफ्ते पहले मसाज कर लें। लेकिन, मसाज 10 मिनट से कम और 30 मिनट से ज्यादा की न हो। इससे आपके सिर की त्वचा मुलायम हो जाएगी, जिससे सर्जरी करने में आसानी होगी। 
  • आपको मिनॉक्सिडिल (MINOXIDIL) नामक दवा का सेवन सर्जरी से पहले करना चाहिए। लेकिन डॉक्टर के परामर्श पर ही लें। वहीं, डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक्स दे सकते हैं ताकि सर्जरी के बाद किसी तरह के संक्रमण का खतरा न हो। 
  • वहीं, अगर आपकी उम्र 45 साल से ज्यादा है तो डॉक्टर आपका ईसीजी (ECG) भी करा सकते हैं। साथ ही कुछ ब्लड टेस्ट भी कराएंगे। ताकि पता चल सके कि आप हेयर ट्रांसप्लांट करा सकते हैं या नहीं। 
  • वहीं, एंटी डिप्रेशन, बीटा ब्लॉकर और खून को पतला करने जैसी दवाओं को सर्जरी से पहले लेना बंद कर दें। 
  • सर्जरी से पहले मल्टीविटामिन के सप्लिमेंट्स जैसे गिंग्को बाइलोबा को दो हफ्ते पहले से लेना बंद कर दें। 

और पढ़ें : इन 7 होममेड हेयर मास्क से घर पर करें हेयरस्पा

हेयर ट्रांसप्लांट में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी की प्रक्रिया बहुत ज्यादा प्रचलन में है। 

  • फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी (FUSS)
  • फॉलिक्यूलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE)

फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी [Follicular unit strip surgery (FUSS)]

फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी में सिर के त्वचा की स्ट्रीप हटाई जाती है। इसके बाद उस स्थान को बालों से ढका जाता है। सबसे पहले आपके सिर को सुन्न किया जाता है। इसके बाद सर्झन आपके स्कैल्प की स्ट्रीप निकाल कर छोटे-छोटे छेद (Graft) बनाते हैं। इसके बाद उसमें एक या कुछ बालों को डाला जाता है। इससे गंजे हुए भाग पर बालों का प्रत्यारोपण किया जाता है। जिसमें रिसिपिएंट साइट कहते हैं। 

इस हेयर ट्रांसप्लांट की कीमत आपके ग्राफ्टिंग के आधार पर तय होती है। ये उनके लिए फायदेमंद होता है जिन्हें कम जगह पर ही ग्राफ्टिंग करानी होती है। वहीं, फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी का एक नुकसान ये है कि जहां पर बालों का प्रत्यारोपण किया जाता है वहां पर चोट या पपड़ी जम जाती है। कुछ लोगों के सिर में सूजन जैसी समस्या भी सामने आती है।

फॉलिक्यूलर यूनिट एक्सट्रैक्शन [Follicular unit extraction (FUE)]

फॉलिक्यूलर यूनिट एक्सट्रैक्शन सर्जरी करने से पहले आपके सिर को सुन्न किया जाता है। इसमें सिर में सभी जगह पर छेद कर के बालों को रोपा जाता है। जिसके बाद बालों के जड़ों पर बहुत छोटे डॉट्स पता चलते हैं। बाकी पूरा सिर बालों से ढक दिया जाता है। फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी (FUSS) की तुलना में जल्दी रिकवर होती है। साथ ही रिस्क और घाव होने के मौके भी बहुत कम होते हैं। वहीं फॉलिक्यूलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE) विधि की तुलना में फॉलिक्यूलर यूनिट स्ट्रीप सर्जरी (FUSS) ज्यादा महंगी होती है। 

हेयर ट्रांसप्लांट के बाद क्या होता है?

  • हेयर ट्रांसप्लांट के बाद आपके स्कैल्प बहुत सेंसटिव हो जाते हैं। इसलिए आपको कुछ दिनों तक सिर पर पट्टियां बंधनी होगी। साथ ही डॉक्टर द्वारा सुझाए गए दवाओं को खाते रहना पड़ेगा। ताकि संक्रमण का रिस्क कम हो जाएगा। 
  • FUSS की तुलना में FUE में रिकवरी काफी तेजी से होती है। वहीं, अगर टांके लगे हैं तो वह 10 दिन बाद निकाल दिए जाते हैं। 
  • अमेरिकन सोसाइटी ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स के मुताबिक, ट्रांसप्लांट किए गए बाल ज्यादातर छह हफ्ते में झड़ जाते हैं। फिर उसके जगह पर नए बाल उगते हैं। जो एक महीने में आधे इंच लंबं हो जाते हैं। 
  • इन सभी बातों के अलावा अगर आपको किसी भी तरह की समस्या आती है तो अपने सर्जन और डॉक्टर से जरूर मिलें और परामर्श लें।

रिकवरी

हेयर ट्रांसप्लांट के बाद मुझे खुद का ख्याल कैसे रखना चाहिए?

  • कुछ दिनों तक आप ऑफिस या काम पर न जाएं। ताकि सिर पर जो सूजन हुई है वह ठीक हो सके। 
  • आपको अगर शैम्पू करना हो तो डॉक्टर द्वारा बताए गए शैम्पू का ही इस्तेमाल करें।
  • अगर आपके सिर में बड़े ग्राफ्ट किए गए हैं तो पूरे सिर पर पट्टियों को बांधे रहें। ताकि वह साफ सुथरे रहें और उनमें संक्रमण न हो। 
  • सर्जरी के बाद सोते समय थोड़ा ध्यान रखें। आप आधी सीधी स्थिति में सोएं और अपने सिर को दो तकियों पर टिका कर सोएं। ऐसा आपको सर्जरी के बाद लगभग तीन दिनों तक करना होगा। क्योंकि अगर सोने में ट्रांसप्लांट किए गए बालों में रगड़ लगी तो आपो परेशानी हो सकती है। इसके अलावा बाल निकल भी सकते हैं। 
  • सर्जरी कराने के 48 घंटे तक स्मोकिंग न करें और शराब न पिएं।
  • सर्जन आपको स्प्रे या लोशन देते हैं जिसे आपको अपने सिर पर स्प्रे करना होगा। ताकि जो ग्राफ्ट किए गए हैं, वे जल्दी ठीक हो जाए। 
  • सूजन आने पर बर्फ से सिकाई करें।
  • सर्जरी के बाद धूप में जाने से बचना चाहिए। 
  • एक हफ्ते तक आप न खेलें और न ही किसी तरह की एक्सरसाइज करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Auditory Brainstem Implants : ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट क्या है?

जानें ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट के प्रक्रिया के पहले और बाद में क्या होता है, विस्तार से जानें। ऑडिटरी ब्रेनस्टोम इंप्लांट के क्या रिस्क होते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Achilles Tendon Rupture: अकिलिस टेंडन सर्जरी क्या है?

The Achilles tendon injures the lower back behind your feet. This is mostly the problem for people who play Recreational Games.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
सर्जरी अप्रैल 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Dental Bonding: डेंटल बॉडिंग क्या है?

डेंटल बॉडिंग कैसे होती है? Dental bonding in hindi डेंटल बॉडिंग के ज्यादा खतरे नहीं होते हैं, लेकिन यह बहुत लंबे समय तक के लिए टिकाउ नहीं होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Trapeziectomy: ट्रेपेजेक्टोमी क्या है?

ट्रेपेजेक्टोमी सर्जरी कैसे की जाती है और ऑपरेशन क्यों जरूरी होता है। सर्जरी की चुनौतियां क्या होती हैं, जानें इसके बारे में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया shalu
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लेसिक सर्जरी

‘लेसिक सर्जरी का प्रभाव केवल कुछ सालों तक रहता है’, क्या आप भी मानते हैं इस मिथ को सच?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी-Endoscopic Sinus Surgery

Endoscopic Sinus Surgery: एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
गॉलब्लेडर स्टोन सर्जरी-Gallbladder Stone Surgery

Gallbladder Stone Surgery : गॉलब्लेडर स्टोन सर्जरी क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
केश ट्रांसप्लांट हेयर ट्रांसप्लांटेशन

केश ट्रांसप्लांट कितना सफल है? हेयर ट्रांसप्लांट की कीमत के बारे में जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें