Total Pancreatectomy: जानिए टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी की जरूरत कब पड़ती है!

    Total Pancreatectomy: जानिए टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी की जरूरत कब पड़ती है!

    कुछ बीमारियों के इलाज में दवाओं के साथ-साथ सर्जरी की भी जरूरत पड़ सकती है। ऐसी ही एक समस्या है क्रोनिक पैंक्रिएटाइटिस (chronic pancreatitis) की, जिसके इलाज में टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी (Total Pancreatectomy) की जरूरत पड़ सकती है। टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी क्या है और टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी की जरूरत कब पड़ सकती है ऐसे ही कई सवालों का जवाब जानेंग।

    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी क्या है?
    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी की जरूरत कब पड़ सकती है?
    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के पहले की प्रक्रिया क्या है?
    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के दौरान क्या किया जाता है?
    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के बाद की प्रक्रिया क्या है?
    • टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी के बाद कब डॉक्टर से कंसल्ट करना जरूरी है?

    चलिए अब टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी (Total Pancreatectomy) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    और पढ़ें: लंग कैंसर क्या होता है, जानें किन वजहों से हो सकती है ये खतरनाक बीमारी

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी (Total Pancreatectomy) क्या है?

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी (Total Pancreatectomy)

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जिकल प्रक्रिया है। इसकी जरूरत क्रोनिक पैंक्रिएटाइटिस (Chronic pancreatitis) की तकलीफ को दूर करने के लिए इस सर्जरी की जरूरत पड़ती है। इस सर्जिकल प्रोसेस में पैंक्रियाज को पूरी तरह से रिमूव किया जाता है। टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी प्रोसेस के दौरान पैंक्रियाज के साथ-साथ गॉलब्लैडर (Gallbladder), कॉमन बाइल डक्ट (Common bile duct), स्मॉल इंटेस्टाइन (Small intestine) और स्टमक का कुछ हिस्सा एवं आवश्यकता पड़ने पर स्प्लीन (Spleen) के भी कुछ पार्ट को रिमूव किया जा सकता है। टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के साथ-साथ आइलेट सेल ट्रांसप्लांट (Islet cell transplant) भी की जा सकती है। ट्रांसप्लांटेशन की सहायता से इंसुलिन (Insulin) प्रोड्यूस करने वाले सेल्स को मदद मिलती है। यह डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए लाभकारी होती है। वहीं अगर टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के दौरान आइस्लेट सेल ट्रांसप्लांट ना किया जाए तो मरीज को पूरी उम्र इंसुलिन की जरूरत पड़ सकती है। हालांकि यहां ये समझना जरूरी है कि टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जिकल प्रक्रिया की जरूरत कब पड़ती है।

    और पढ़ें: Gallbladder Cancer: पित्त का कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी की जरूरत कब पड़ सकती है? (When Total Pancreatectomy Surgery is performed)

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी की जरूरत कई हेल्थ कंडिशन (Health Condition) के दौरान पड़ सकती है, क्योंकि कैंसर की संभावना बढ़ जाती है या मरीज कैंसर का शिकार हो जाए। इसलिए निम्नलिखित स्थितियों में टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जिकल प्रोसेस अपनाई जा सकती है। जैसे:

    • एसिनल सेल ट्यूमर
    • एम्पुलरी कैंसर
    • एडिनोकार्सिनोमा
    • पित्त की नले के निचले हिस्से में कैंसर
    • ड्यूडेनल कैंसर
    • आइलेट सेल ट्यूमर
    • लिम्फोमा
    • सिस्टेडिनोकार्सिनोमा
    • नियोप्लाज्म
    • पैपिलरी सिस्टिक नियोप्लाज्म
    • सिस्टेडिनोमा

    इन ऊपर बताई गई शारीरिक परेशानियों को दूर करने के लिए टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी (Total Pancreatectomy Surgery) की जरूरत पड़ सकती है।

    और पढ़ें : इन टेस्ट से चलता है वजायनल कैंसर का पता, जानिए इनके बारे में विस्तार से

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी (Total Pancreatectomy Surgery) के पहले की प्रक्रिया क्या है?

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जिकल प्रोसेस के कुछ दिन पहले डॉक्टर निम्नलिखित टेस्ट करवाते हैं। जैसे:

    और पढ़ें: स्टेज-0 सर्वाइकल कार्सिनोमा क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

    इन टेस्ट को करने के साथ ही डॉक्टर पहले ही पेशेंट को निम्नलिखित सलाह देते हैं। जैसे:

    • अगर पेशेंट को एल्कोहॉल (Alcohol) या स्मोकिंग (Smoking) की आदत है, तो इलाज के दौरान से ही इसके सेवन की सलाह नहीं दी जाती है। वहीं सर्जरी से दो या तीन सप्ताह पहले से स्मोकिंग एवं एल्कोहॉल का सेवन बर्जित होता है।
    • सर्जरी से पहले अगर हाल ही के दिनों में कोई शारीरिक परेशानी हुई है। आपको बुखार (Fever) या सर्दी जुकाम (Cold and Cough) की भी अगर समस्या हो, तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को जरूर दें।
    • सर्जरी के कुछ घंटे पहले से खाने-पीने की सलाह डॉक्टर नहीं देते हैं। इसलिए इस बात का ध्यान रखें और जितने देर पहले से खाने की सलाह ना दी गई हो तो उसे फॉलो करें।
    • अगर मरीज किसी तरह के दवा (Medication) का सेवन करते हैं, तो इसकी सूचना भी डॉक्टर को दें।

    इन बातों को ध्यान रखना बेहद जरूरी है, क्योंकि सर्जरी से पहले इन बातों को फॉलो करने से सर्जरी के दौरान आसानी होती है।

    और पढ़ें: स्टेज 4 सर्वाइकल कैंसर: कैंसर के लक्षणों और इलाज को समझें यहां!

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी के दौरान क्या किया जाता है? (During Total Pancreatectomy Surgery)

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी के दौरान निम्नलिखित तरह से सर्जरी की जाती है। जैसे:

    1. पेशेंट को एनेस्थिसिया (Anesthesia) का इंजेक्शन दिया जाता है, जिससे सर्जरी के दौरान पेशेंट को परेशानी या दर्द महसूस ना हो।
    2. पेशेंट के यूरिनरी ब्लैडर (Urinary Bladder) में कैथीटर डाला जाता है, यूरिन एक बैग में जमा होते रहता है।
    3. नाक से एक ट्यूब लगाई जाती है, जिसे मेडिकल टर्म में नैसोगैस्ट्रिक ट्यूब (Nasogastric Tube) कहा जाता है। यह ट्यूब मरीज को सांस लेने में मदद करती है।

    पहले ऊपर बताई इन तीन प्रोसेस को पूरा किया जाता है फिर सर्जरी शुरू की जाती है।

    और पढ़ें: आपको जरूर पता होना चाहिए, प्रोस्टेट कैंसर के ये प्रभावकारी घरेलू इलाज

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी के बाद की प्रक्रिया क्या है? (After Total Pancreatectomy Surgery)

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी प्रक्रिया के बाद डॉक्टर सर्जरी वाली जगह को मॉनिटर करते हैं और ध्यान रखते हैं कि घाव जल्दी भर जाए और इंफ्केशन (Infection) की समस्या ना हो। वहीं सर्जरी के बाद दवाएं प्रिस्क्राइब की जाती है। टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी (Total Pancreatectomy surgery) के बाद पेशेंट को ठीक होने में तीन से चार महीने का वक्त लग सकता है। हालांकि इस बीच पेशेंट या उनके केयर टेकर को भी विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है।

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी के बाद कब डॉक्टर से कंसल्ट करना जरूरी है? (Consult Doctor if-)

    टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी सर्जरी के बाद निम्नलिखित स्थितियों में डॉक्टर से कंसल्ट करें। जैसे:

    • तेज बुखार (Fever) आना।
    • घाव (Wound) में पस बनना या घाव के जल्द नहीं भरना।
    • मल (Stool) के रंग में बदलाव आना।
    • त्वचा या आंखों का रंग पीला पड़ना।
    • कब्ज (Constipation) या दस्त (Diarrhea) की समस्या होना।
    • सर्जरी वाली जगह में तेज दर्द (Pain) महसूस होना।
    • उल्टी आना या जी मिचलाना।
    • सांस लेने में कठिनाई (Breathing problem) होना।
    • सर्जरी वाली जगह में सूजन (Swelling) आना या लाल (Redness) पड़ना।

    अगर ऐसी कोई भी स्थिति नजर आये तो डॉक्टर से जल्द से जल्द कंसल्ट करें।

    कैंसर का नाम सुनते ही ज्यादातर मरीज या उनके केयर टेकर परेशान हो जाते हैं। जबकि डॉक्टर्स एवं अलग-अलग रिसर्च रिपोर्ट की मानें तो किसी भी गंभीर बीमारी की जानकारी अगर शुरुआती स्टेज में मिल जाए तो उस बीमारी को हराना आसान होता है। इसलिए शरीर में होने वाले अच्छे बुरे सभी तरह के बदलाव पर ध्यान दें और परेशानी महसूस होने पर डॉक्टर से कंसल्ट करें।

    अगर आप टोटल पैनक्रिएटेक्टॉमी (Total Pancreatectomy) से जुड़े किसी तरह के सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज पर कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे।

    स्वस्थ रहने के लिए अपने डेली रूटीन में योगासन शामिल करें। यहां हम आपके साथ योग महत्वपूर्ण जानकारी शेयर कर रहें हैं, जिसकी मदद से आप अपने दिनचर्या में योग को शामिल कर सकते हैं। नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर योगासन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जानिए।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 12/04/2022

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement