स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer): कारण, लक्षण, इलाज और बचाव

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer): कारण, लक्षण, इलाज और बचाव

    कैंसर एक जानलेवा बीमारी है, जिसके कई प्रकार है। सर्वाइकल कैंसर, लंग कैंसर, ब्रेन ट्यूमर जैसे इसके कई घातक रूप अभी भी लाइलाज है। वहीं, अगर कैंसर के ही एक अन्य प्रकार ब्रेस्ट कैंसर की बात करें, तो इसका आंकड़ा भारत में सबसे अधिक है। स्तन कैंसर के चार स्टेज होते हैं, जिनमें से पहले, दूसरे व तीसरे के साथ ही स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) को भी जीवन के लिए घातक स्थिति मानी जा सकती है।

    आंकड़ों के अनुसार, भारतीय महिलाओं में स्तन कैंसर के मामले सबसे अधिक देखे जा सकते हैं। प्रति 1,00,000 महिलाओं में लगभग 25.8% की दर में इसका मामला हर साल रिकॉर्ड किया जाता है, जिस पर मृत्यु दर का आंकड़ा 12.7% है। अध्ययनों में यह भी बताया गया है कि स्तन कैंसर का जोखिम 20 साल से कम उम्र की महिलाओं से लेकर 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में भी देखा जा सकता है। यानि स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) किसी भी उम्र की महिला को अपना शिकार बना सकता है।

    और पढ़ें : Lobular breast cancer: लोब्यूलर ब्रेस्ट कैंसर क्या है?

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) क्या है?

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer)

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर, स्तन कैंसर का आखिरी चरण है। अगर समय रहते डॉक्टर से सटीक तरीकों से कैंसर के शुरुआती चरणों का इलाज कराया जाए, तो ब्रेस्ट कैंसर को स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर तक पहुंचने की संभावना को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

    वहीं, अगर स्तन कैंसर की कोशिकाएं स्तनों से बढ़ते हुए शरीर के अलग-अलग अंगों, टिश्यू या लिम्फ नोड्स में फैलने लग जाए, तो यह स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम बढ़ा सकता है। मेडिकल टर्म में स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर को एडवांस कैंसर, सेकंडरी स्तन कैंसर या मेटास्टैटिक ब्रेस्ट कैंसर (Metastatic Breast Cancer) के रूप में भी जाना जाता है।

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) या मेटास्टैटिक ब्रेस्ट कैंसर कहां फैलता है?

    स्तन कैंसर की कोशिकाएं शरीर के किसी भी अंग, टिश्यू व ऑर्गेन में फैल सकती है। हालांकि, स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के अधिकतर मामले स्तन कैंसर से होकर फेफड़े और फिर लिवर तक फैल सकती है। यानी अगर किसी को स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर हुआ है, तो इसकी संभावाना अधिक हो सकती है कि कैंसर की कोशिकाएं फेफड़े और लिवर तक फैल चुकी हैं।

    और पढ़ें : ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम कर सकता है अखरोट

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Stage 4 Breast Cancer)

    जैसे-जैसे स्तन कैंसर की कोशिकाएं फैलते जाएंगी, जाहिर है कि शारीरिक क्षमता घटने लगेगी और यही स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण की पहचान हो सकती है। इसके अलावा, स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण भी स्तन कैंसर के पहले से तीसरे स्टेज में दिखाई वाले विभिन्न लक्षणों जैसे ही हो सकते हैं, जैसेः

    • स्तन में या बगल दर्द व सूजन के साथ गांठ होना, जो धीरे-धीरे मोटा महसूस हो रहा हो
    • स्तन के आकार में परिवर्तन होना
    • स्तन की त्वचा में छोटे-छोटे गड्ढे होना, ऐसा होने पर स्तन की त्वचा संतरे के छिलके के समान दिखाई दे सकती है।
    • ब्रेस्ट डिस्चार्ज में दूधिया रंग के पदार्थ के साथ ही खून बहना
    • निप्पल या स्तन की त्वचा पपड़ीदार, लाल या सूजी हुई होना
    • स्तनों में तेज दर्द होने के साथ ही सांस लेने में तकलीफ होना
    • अगर स्तर कैंसर की कोशिकाएं स्टेज 4 में हड्डियों तक पहुंच गई हैं, तो इससे हड्डियों में दर्द का अनुभव हो सकता है। इसकी वजह से कई बार बिना किसी चोट के बोन फ्रैक्चर भी हो सकता है।

    और पढ़ें : रेड मीट बन सकता है ब्रेस्ट कैंसर का कारण, खाने से पहले इन बातों का ख्याल रखना जरूरी

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के कारण क्या हैं? (Cause of Stage 4 Breast Cancer)

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं, जैसे:

    • ब्रेस्ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों व चरणों की पहचान में देरी होना
    • ब्रेस्ट कैंसर के पहले, दूसरे व तीसरे चरण का सही उपचार न कराना
    • धूम्रपान करना
    • मादक पदार्थों का सेवन करना
    • प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना
    • विभिन्न दवाओं का सेवन करना
    • कुछ मामलों में दवाओं के सेवन से जीन परिवर्तन हो सकते हैं, जो स्तन कैंसर का कारण बन सकते हैं।
    • परिवार में आनुवंशिक परिवर्तन का इतिहास होना
    • प्रदूषित वातावरण में रहना, आदि।

    एक बात का ध्यान रखें कि स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) तभी होगा, जब स्तन कैंसर के पहले, दूसरे व तीसरे चरण के इलाज में किसी तरह की चूक रह जाए या इलाज में देरी की जाए। इसके अलावा, अगर स्तन कैंसर के साथ ही कोई अन्य बीमारी होती है, जो इम्यूनिटी को कमजोर कर सकती है, तो इसके कारण भी स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर होने का जोखिम अधिक बढ़ सकता है।

    और पढ़ें : Lobular breast cancer: लोब्यूलर ब्रेस्ट कैंसर क्या है?

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Stage 4 Breast cancer)

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के निदान के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ की देखरेख में निम्नलिखित टेस्ट किए जा सकते हैं, जैसेः

    • शारीरिक परीक्षण (Physical test)- इस दौरान स्तनों में हो रहे परिवतर्न की जांच की जा सकती है, जैसे पहले, दूसरे या तीसरे चरण के मुकाबले स्तनों के रंग, रूप व आकार में किसी तरह के परिवर्तन हुए हैं।
    • क्लीनिकल ब्रेस्ट एग्जाम (Clinical Breast Exam) – इस टेस्ट के जरिए स्तनों के अंदर बनने वाले गांठ के आकार व प्रकार की पुष्टि की जा सकती है।
    • इमेजिंग परीक्षण (Imaging Test)- मैमोग्राम, अल्ट्रासाउंड, ब्रेस्ट बायोप्सी या एमआरआई टेस्ट के जरिए भी स्तनों के अंदर बने हुए गांठ की पुष्टि की जा सकती है।
    • रक्त परीक्षण (Blood Test)- इसमें रक्त के नमूने की जांच की जा सकती है। इससे रक्त में मौजूद विभिन्न पदार्थों जैसे – इलेक्ट्रोलाइट्स, फैट, प्रोटीन, ग्लूकोज व एंजाइम की मात्रा की जांच की जा सकती है।

    अगर ऊपर बताए गए विभिन्न परीक्षण स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) की पुष्टि करते हैं, तो स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्तन से अन्य अंगों तक फैली कैंसर कोशिकाओं की भी जांच कर सकते हैं। इससे यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर शरीर के किन-किन अंगों तक फैल गया है।

    और पढ़ें : कैंसर को हराकर असल जिंदगी में भी ‘ हीरोइन ‘ बनीं ये अभिनेत्रियां

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment of Stage 4 Breast cancer)

    मेटास्टेटिक स्तन कैंसर यानी स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर का इलाज महिला के शरीर में दिखाई दे रहे लक्षणों व उसके स्वास्थ्य की स्थिति के आधार पर किया जा सकता है। मौजूदा समय में स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) को पूरी तरह से खत्म करने के इलाज की प्रक्रिया पर अध्ययन किए जा रहे हैं।

    हालांकि, कुछ दवाओं, इलाज की प्रक्रियाओं व कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखते हुए स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर (Stage 4 Breast Cancer) की कोशिकाओं के प्रसार को धीमा किया जा सकता है। इससे महिला के जीवनकाल को बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए निम्नलिखित इलाज की विधियां अपनाई जा सकती हैं, जैसेः

    • कीमोथेरिपी (Chemotherapy)- इस थेरिपी में दवाओं का इस्तेमाल करके कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट किया जा सकता है।
    • रेडिएशन थेरिपी (Radiation Therapy)- विकिरण या रेडिएशन थेरिपी की मदद से कैंसर कोशिकाओं के विकास को धीमा किया जा सकता है। हालांकि, स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर में इसकी प्रक्रिया पूरी तरह से महिला के स्वास्थ्य की स्थिति पर निर्भर कर सकता है, क्योंकि इस प्रक्रिया में कैंसर कोशिकाओं के साथ ही उसके आस-पास की स्वस्थ कोशिकाएं भी नष्ट हो सकती हैं।
    • हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरिपी (Hormone Replacement Therapy)- हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरिपी की मदद से शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने वाले हॉर्मोन की पूर्ति की जा सकती है। इससे कैंसर कोशिकाओं के विकास को धीमा करने में मदद मिल सकती है।
    • बायोलॉजिकल थेरिपी (Biological Therapy)- इस प्रकार के उपचार में स्तन कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का उपयोग किया जा सकता है।
    • सर्जरी (Surgery)- सर्जरी की प्रक्रिया में न सिर्फ कैंसर कोशिकाओं को शरीर से काटकर हटाया जा सकता है, बल्कि कुछ गंभीर स्थितियों में कैंसर कोशिकाओं के कारण पूरी तरह से नष्ट हो चुके अंगों व शरीर के हिस्सों को भी काटकर हटाया जा सकता है। ऐसा करने से कैंसर की कोशिकाओं को अन्य अंगों तक फैलने से रोका जा सकता है।

    एक बात का ध्यान रखें कि स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर का इलाज करने के लिए चिकित्सक किस प्रक्रिया को अपना सकते हैं, यह पहले, दूसरे व तीसरे चरण के दौरान की गई इलाज की प्रक्रिया पर भी निर्भर कर सकता है। इसके अलावा, इनमें से किस तरह की प्रक्रिया महिला के शरीर के लिए सुरक्षित है, इस बात का ध्यान रखते हुए उचित इलाज की प्रक्रिया को शुरू किया जा सकता है।

    स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर से बचाव कैसे किया जा सकता है? (Prevention of Stage 4 Breast cancer)

    अगर किसी महिला को स्तन कैंसर है, जिसका निदान उसने देरी से कराया है, तो ऐसी स्थिति में उसे स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर के होने का जोखिम अधिक हो सकता है। हालांकि, महिला स्तन कैंसर के शुरुआती लक्षणों या चरणों का इलाज करा रही है, तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखते हुए वह स्टेज 4 ब्रेस्ट कैंसर से बचाव कर सकती है, जैसेः

    • स्तन कैंसर के इलाज के साथ ही शारीरिक स्वास्थ्य व स्तनों में आ रहे परिवर्तन की निगरानी करना।
    • ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के लिए निर्धारित की गई दवाओं का कोर्स पूरा करना।
    • स्मोकिंग की आदत बंद करना।
    • पौष्टिक खाद्यों को आहार में शामिल करना।
    • अधिक से अधिक आराम करना।
    • ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) के इलाज के साथ ही नियमित रूप से मैमोग्राफी करवाना। इससे फैल रही कोशिकाओं की स्थिति का आंकलन लगाना आसान हो सकता है।

    कैंसर का हर प्रकार जीवन के लिए खतरे का जोखिम माना जा सकता है। पर ध्यान रखें कि अगर समय रहते ब्रेस्ट कैंसर या अन्य कैंसर के प्रकार का निदान किया जाए, तो इन्हें अगले चरण तक फैलने से रोका जा सकता है। अगर ब्रेस्ट कैंसर या ब्रेस्ट कैंसर के किसी भी स्टेज से जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो इस बारे में बिना देरी किए अपने डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि किसी भी बीमारी का इलाज उसके बचाव से ही सुनिश्चित किया जा सकता है

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Epidemiology of breast cancer in Indian women/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/28181405/Accessed on 18/02/2022

    Breast Cancer Treatment (Adult) (PDQ®)–Health Professional Version/https://www.cancer.gov/types/breast/hp/breast-treatment-pdq/Accessed on 18/02/2022

    Treatment of Stage IV (Metastatic) Breast Cancer/https://www.cancer.org/cancer/breast-cancer/treatment/treatment-of-breast-cancer-by-stage/treatment-of-stage-iv-advanced-breast-cancer.html/Accessed on 18/02/2022

    Breast Cancer/https://medlineplus.gov/breastcancer.html/Accessed on 18/02/2022

    Metastatic (Advanced) Breast Cancer/https://cancer.ucsf.edu/breastcarecenter/treatment/metastatic_breastcancer/Accessed on 18/02/2022

    Metastatic Breast Cancer/https://www.breastcancer.org/symptoms/types/recur_metast/Accessed on 18/02/2022

    Metastatic or locally advanced breast cancer patients: towards an expert consensus on nab-paclitaxel treatment in HER2-negative tumours-the MACBETH project/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/30460489/Accessed on 18/02/2022

    Targeting metastatic and advanced breast cancer/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17303515/Accessed on 18/02/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/02/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड