backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Parathyroid cancer: पैराथायरॉइड कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 27/12/2021

Parathyroid cancer: पैराथायरॉइड कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिभाषा

पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) क्या है ?

पैराथायरॉइड ग्लैंड थायरॉइड ग्लैंड से जुड़े पाए जाने वाले चार छोटे ग्लैंड हैं। ये गले में एडम एप्पल के पीछे पाए जाते हैं। पैराथायरॉइड ग्लैंड (Parathyroid Cancer) में असाधारण रूप से हो रही बढ़त की वजह से कैंसर बनता है। पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) ऐसा कैंसर है, जो शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में आसानी से फैल सकता है।

पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) होना कितना आम है ?

पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) बहुत कम लोगों में पाया जाता है लेकिन इसके होने की सम्भावना 30 या उससे ज्यादा उम्र के लोगो में ज्यादा रहती है। किसी भी और जानकारी के लिए अपने नजदीकी डॉक्टर से जरूर मिलें।

और पढ़ें :Cervical Dystonia : सर्वाइकल डिस्टोनिया (स्पासमोडिक टोरटिकोलिस) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

पैराथायरॉइड कैंसर के क्या लक्षण हो सकते हैं? (Symptoms of Parathyroid Cancer)

नीचे दिए गए लक्षण पैराथायरॉइड के आम लक्षण हो सकते हैं :

और पढ़ें :Anaphylactic shock: अनफिलक्टिक शॉक क्या है?

यहां दिए गए लक्षणों के अलावा भी और लक्षण हो सकते हैं, और लक्षणों की जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से जरूर मिलें।

डॉक्टर से कब मिलें ?

किसी भी और संकेत या लक्षण के दिखने पर अपने डॉक्टर से मिलें और सलाह ले। हर किसी का शरीर अलग स्थिति में अलग तरीके से प्रतिक्रिया करता है। इसलिए अपने शरीर के हिसाब से सही इलाज के लिए अपने डॉक्टर से जरूर मिलें।

और पढ़ें : Cholecystitis : कोलसिस्टाइटिस क्या है?

कारण

पैराथायरॉइड कैंसर के क्या कारण हो सकते हैं? (Cause of Parathyroid Cancer)

पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) के निम्न संभावित कारण ये हो सकते हैं :

  • रेडिएशन (Radiation): गले पर एक्स-रे (X-Ray) या फिर किसी और प्रकार की किरणों का पड़ना पैराथायरॉइड कैंसर का बड़ा कारण हो सकता है।
  • फैमिलियल आइसोलेटेड ह्यपरथायरॉइडिज्म : ऐसी स्थिति जिसमें किडनी में पथरी , बेचैनी , उलटी , ब्लड प्रेशर का बढ़ना या फिर थकान या कमजोरी हो उसमें भी पैराथायरॉइड कैंसर हो सकता है।
  • मल्टीप्ल न्यूरोएंडोक्राइन नियोप्लेजिया (MEN 1 सिंड्रोम ): ये स्थिति ट्यूमर बनाने वाली या फिर हॉर्मोन बनाने वाले ग्लैंड्स से जुड़ी हुई है और ये भी पैराथायरॉइड कैंसर को बढ़ावा दे सकती है।

खतरों के कारण

पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) के खतरे को क्या बढ़ा देता है ?

अगर आपके परिवार में किसी को पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) रहा है तो आपको इसके होने की सम्भावना बढ़ जाती है। मल्टीप्ल एंडोक्राइन न्यूरोप्लासिया की स्थिति में भी संभव है कि आपको पैराथायरॉइड कैंसर हो जाए। MEN से जुड़े सभी कैंसर (Cancer) स्थिर होते हैं और ये शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में नहीं जाते। पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) के लिए कोई भी जेनेटिक कारण नहीं है।

जिन लोगो के परिवार में किसी को कभी भी पैराथायरॉइड कैंसर नहीं हुआ है उस स्थिति में आपको कैंसर होने की सम्भावना कम है।

जांच और इलाज

पैराथाइरॉइड कैंसर का उपचार कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Parathyroid Cancer)

आपकी मेडिकल हिस्ट्री या फिर फिजिकल एग्जामिनेशन : डॉक्टर आपके गले में गाठ या फिर कोई ऐसी स्थिति जो असाधारण है उसकी जांच कर सकते हैं जिससे कि पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) का पता लगाया जा सके।

खून और पेशाब के जांच : इससे भी आपके कैंसर का पता लगाया जा सकता है। इस टेस्ट में कैल्शियम की मात्रा और पैराथायरॉइड हॉर्मोन (Parathyroid hormone) की जांच की जाती है और उसी के परिणाम के आधार पर कैंसर के बारे में जानकारी दी जाती है।

पैराथायरॉइड स्कैन : इस टेस्ट में आपके शरीर में पैराथायरॉइड हॉर्मोन (Parathyroid hormone) की मात्रा का पता लगाया जाता है। टेस्ट में आपको रेडियोएक्टिव पदार्थ खिलाया जाएगा और काम कम से कम 30 मिनट तक लेटने को कहा जाएगा। इस दौरान आपके सर और गले की तस्वीरें ली जाएंगी और तीस मिनट के अंतराल के बाद फिर से तस्वीरें ली जाएंगी। कुछ समय बाद दोनों तस्वीरों के बीच तुलना की जाएगी और अन्तर के आधार पर पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) के होने या न होने की पुष्टि की जाएगी।

CT स्कैन ( कंप्यूटेड टोमोग्राफी ): कंप्यूटेड टोमोग्राफी की मदद से भी आपके शरीर के अंदर के तस्वीरें देखी जा सकती हैं।

मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग ( MRI ) : इस तकनीक से कंप्यूटर , एक्स-रे (X-Ray) और मैगनेट की मदद से चित्र बनाए जाते हैं। इनसे शरीर के अंदर हो रहे बदलावों को देखा जा सकता है।

सोनोग्राम : सोनोग्राम में साउंड वेव्स की मदद से भी पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) का पता लगाया जाता है।

ब्लड वेसल में एक डाई डालकर शरीर के सारे भागों में भेजी जाएगी और इसी दौरान एक्स-रे भी लिया जाएगा जिससे कि गांठों का पता लगाया जा सके।

शरीर की सभी नसों में से खून लिया जाएगा और पैराथायरॉइड हॉर्मोन के लिए जांचा जाएगा जिससे पैराथायरॉइड कैंसर का पता लगाया जा सके।

पैराथायरॉइड कैंसर का इलाज कैसे किया जा सकता है ? (Treatment for Parathyroid Cancer)

पैराथायरॉइड कैंसर के होने का पता लगने पर डॉक्टर ये पता लगाएंगे की वह कहां तक पहुंचा है। कभी-कभी कैंसर एक जगह से टूटकर दूसरी जगह जाकर नया कैंसर (Cancer) बनाने लगेगा। हर स्थिति में इलाज के तरीके में बदलाव आ सकता है।

पैराथायरॉइड कैंसर के इलाज का सबसे कारगर उपाय है सर्जरी। सर्जन कैंसर को निकाल सकते हैं साथ ही अगर कैंसर और जगहों पर भी पहुंच चुका है तो आसपास के टिशूज को भी निकाला जा सकता है।

रेडिएशन थेरेपी (Radiation therapy) में हम एक्स रे (X-Ray) या फिर या फिर ऊर्जावान किरणों की मदद से कैंसर की कोशिकाओं का इलाज किया जाता है।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन में ऊर्जा या गर्मी की मदद से कैंसर कोशिकाओं को नष्ट किया जाता है साथ ही पैराथायरॉइड हॉर्मोन का लेवल भी कम किया जाएगा।

कीमोथेरपी में दवाओं की मदद से भी कैंसर का इलाज किया जा सकता है।

इसके अलावा डॉक्टर अपने अनुभव के हिसाब से दवाएं देकर भी इलाज कर सकते हैं।

[mc4wp_form id=’183492″]

और पढ़ें: Dislocated Knee : घुटने की हड्डी खिसकना क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू नुस्खे

जीवनशैली में किन बदलावों और घरेलू उपायों की मदद से आप पैराथायरॉइड कैंसर (Parathyroid Cancer) पर नियंत्रण पा सकते हैं :

कैंसर के सभी मरीज इससे अलग- अलग ढंग से निपटते हैं। ये एक घातक बीमारी है और इस स्थिति में अपनी मानसिक स्थिति पर काबू रखना और धैर्य बनाए रखना बहुत जरूरी है। समय के साथ और आसपास के लोगों की सहायता से आप इस परेशानी की स्थिति में भी अपना ख्याल सही ढंग से रख पाएंगे।

  • आप इन तरीकों के इस्तमाल से इस स्थिति में मजबूत रह सकते हैं और जल्द ही ठीक हो सकते हैं :
  • अपने कैंसर (Cancer) के विषय में ज्यादा से ज्यादा पढ़े और जानकारी हासिल करें।
  • अपने भावों और विचारों को दोस्तों या परिवार के लोगों के साथ बाटें।
  • अपना ख्याल रखें।
  • व्यायाम करें और ज्यादा से ज्यादा चुस्त और एक्टिव रहें।
  • जिन बातों पर आपका नियंत्रण नहीं है उनके विषय में सोचना बंद कर दें और शांत मन से इलाज करवाए।

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसके अतिरिक्त किसी भी सवाल या जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से मिलें और सलाह लें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 27/12/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement