Tinidazole: टिनिडाजोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020
Share now

उपयोग

टिनिडाजोल (Tinidazole) का इस्तेमाल किस लिए होता है?

टिनिडाजोल एक नाइट्रोमिडाजोल दवा है, जिसका इस्तेमाल विशेष प्रकार के वजायनल संक्रमण (बैक्टीरियल वेजिनोसिस, ट्राइकोमोनिएसिस) के इलाज में होता है। साथ ही इसका इस्तेमाल कुछ विशेष प्रकार के परजीवी संक्रमण (जिआर्डिएसिस, अमीबियासिस) के उपचार में भी होता है। यह बैक्टीरिया और परजीवी के विकास को रोककर कार्य करती है।

यह दवा कुछ विशेष प्रकार के बैक्टीरिया और परजीवी संक्रमण का इलाज करती है। इसका सेवन वो भी कर सकते हैं, जिन्हें पेनिसिलिन से एलर्जी होती है। यह खांसी जुकाम, फ्लू जैसे वायरल इंफेक्शन में कारगर नहीं है। जरूरत न पड़ने पर भी किसी एंटीबायोटिक दवा का इस्तेमाल करने से भविष्य में इसकी प्रभाविकता कम हो जाती है।

यह भी पढ़ें : Disperzyme: डिस्परजाइम क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

मुझे टिनिडाजोल (Tinidazole) को कैसे लेना चाहिए?

टिनिडाजोल को मौखिक रूप से डॉक्टर की सलाह पर दिन में एक बार लिया जा सकता है। इससे आपका पेट खराब हो सकता है। इसके लिए आपको इसका सेवन खाने के साथ करना है, जिससे आपका पेट खराब नहीं होगा। टिनिडाजोल का डोज आपकी मेडिकल कंडिशन और इलाज में बॉडी की प्रतिक्रिया पर निर्भर करेगा। वहीं, बच्चों के मामले में उनका डोज वजन पर निर्भर करेगा। इसका अधिकतम फायदा लेने के लिए टिनिडाजोल का इस्तेमाल अंतराल पर करें। अपने आपको याद दिलाने के लिए रोजाना एक ही समय पर इस दवा का सेवन करें।

डॉक्टर के सुझाए गए पूरे डोज को पूरा खत्म होने तक लें। यहां तक कि शुरुआती दिनों में समस्या के लक्षण गायब हो सकते हैं, इस स्थिति में टिनिडाजोल का सेवन बंद न करें। तय समय से पहले इसका सेवन बंद करने से संक्रमण वापस लौट सकता है। यदि आपकी स्थिति में सुधार नहीं होता या यह बदतर होती है तो अपने डॉक्टर से तुंरत संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : Ammonium Chloride+Chlorpheniramine Maleate+Dextromethorphan Hydrobromide+Guaifenesin: अमोनियम क्लोराइड+क्लोरफेनीरामिन मालेट+डेक्सट्रोमेथोरफेन हाइड्रोब्रोमाइड+गुअइफेनेसिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

टिनिडाजोल (Tinidazole) को कैसे स्टोर करूं?

टिनिडाजोल को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है इसे कमरे के तापमान पर रखना। इसे सूर्य की सीधी किरणों और नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए आपको टिनिडाजोल को बाथरूम या फ्रिज में नहीं रखना है। टिनिडाजोल के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा न जाए, तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको टिनिडाजोल को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता न रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।

सावधानियां और चेतावनी

टिनिडाजोल का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

टिनिडाजोल का इस्तेमाल करने से पहले यदि आपको निम्नलिखित दिक्कते हैं तो अपने डॉक्टर बताएं :

  • यदि आपको टिनिडाजोल या किसी अन्य एंटीबायोटिक (मेट्रोनिडोजोल) (metronidazole) से एलर्जी या अन्य प्रकार की एलर्जी है, तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को इसकी सूचना दें। इस दवा में इनएक्टिव इनग्रीडिएंट्स हो सकते हैं, जो आपकी बॉडी में एलर्जी या अन्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।
  • इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपनी मेडिकल हिस्ट्री विशेषकर आपको लिवर, किडनी और ब्लड से जुड़ी हुई कुछ समस्याएं (लो ब्लड काउंट) हैं तो अपने डॉक्टर को इसकी सूचना दें।
  • टिडिडाजोल के सेवन के दौरान और इस दवा का सेवन करने के कम से कम तीन दिन तक प्रोपीलीन ग्लाइकोल (propylene glycol) वाले प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल ना करें। इससे पेट खराब/ ऐंठन, उबकाई, उल्टी, सिर दर्द और लालिमा पड़ सकती है।
  • यह दवा आपको और उनींदा बना सकती है। एल्कोहॉल या भांग आपको और ज्यादा उनींदा बना सकते हैं।
  • टिनिडाजोल आपको उनींदा बना सकती है। ऐसी स्थिति में जब तक ड्राइविंग या किसी अन्य मशीन को ऑपरेट ना करें। इसकी जगह वैकल्पिक कार्य को करें जब तक आप इन कार्यों को सुरक्षित तरीके से करने में सक्षम नहीं हो जाते। यदि आप भांग का सेवन करते हैं तो इसकी सूचना अपने डॉक्टर को दें।
  • टिनिडाजोल लाइव बैक्टीरियल वैक्सीन (जैसे टाइफायड वैक्सीन) को प्रभावित कर सकती है। इससे यह वैक्सीन उचित रूप से कार्य नहीं करेगा। जब तक डॉक्टर सलाह ना दे तब तक इस दौरान किसी भी प्रकार का टीकाकरण ना कराएं।
  • सर्जरी से पहले अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट को उन सभी प्रोडक्ट्स की सूचना दें, जिनका इस्तेमाल आप कर रहे हैं। इस लिस्ट में बिना डॉक्टर की सलाह के मार्केट में खरीद के लिए उपलब्ध दवाइयां और हर्बल प्रोडक्ट्स शामिल हैं।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान टिनिडाजोल का इस्तेमाल तभी किया जाना चाहिए, जब इसकी आवश्यकता हो। प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीनों में इस दवा के सेवन की सलाह नहीं दी जाती है। यदि आप प्रेग्नेंट हो जाती हैं या इसकी संभावना है तो इसकी सूचना अपने डॉक्टर को दें।

यह भी पढ़ें : Spasmo Proxyvon Plus: स्पास्मो प्रोक्सीवोन प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग में टिनिडाजोल का सेवन सुरक्षित है?

स्तनपान के दौरान यह दवा ब्रेस्ट मिल्क के जरिए शिशु की बॉडी में प्रवेश कर सकती है। नवजात शिशु पर इसका गलत असर पड़ सकता है। इस दवा के सेवन को खत्म करने के कम से कम तीन दिन बाद तक स्तनपान ना कराने की सलाह दी जाती है। इस स्थिति में स्तनपान कराने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें।

अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) टिनिडाजोल को प्रेग्नेंसी रिस्क की कैटेगरी C में रखा है।

एफडीएक की प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी निम्नलिखित है:

  • A=No risk (कोई खतरा नहीं)
  • B=No risk in some studies (कुछ शोध में खतरा पाया गया)
  • C=There may be some risk (इसके कुछ खतरे हो सकते हैं)
  • D=Positive evidence of risk (खतरे के सकारात्मक सुबूत)
  • X=Contraindicated (कॉन्ट्रेंडिकेटेड)
  • N=Unknown (कोई पता नहीं)
यह भी पढ़ें : Bisoprolol: बिसोप्रोलोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

साइड इफेक्ट्स

टिनिडाजोल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • डॉक्टर ने इस दवा के साइड इफेक्ट्स से ज्यादा इसके फायदों का आंकलन करके इसका सेवन करने की सलाह आपको दी है। कई लोग इस दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिन्हें गंभीर साइड इफेक्ट्स नही हुई हैं।
  • नई संक्रमण के लक्षण (जैसे गले की अकड़न, बुखार) त्वचा पर खरोंचे पड़ना/ ब्लीडिंग आना जैसे गंभीर साइड इफेक्ट्स नजर आते ही तत्काल इसकी सूचना डॉक्टर को दें।
  • टिनिडाजोल आपके यूरिन को प्रभावित करके उसे और गाढ़े रंग का कर सकती है। हालांकि, इस प्रभाव नुकसानदायक नहीं है और दवा का सेवन बंद करने से यह खुद ही चले जाते हैं।
  • मुंह में इसका स्वाद कड़वा/ धातु के समान लगेगा। टिनिडाजोल से उबकाई, पेट खराब, डायरिया या उनींदापन हो सकता है। यदि यह साइड इफेक्ट्स और ज्यादा बढ़ जाते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • इस दवा के बेहद ही गंभीर साइड इफेक्ट्स दुर्लभ मामलों में ही नजर आते हैं। हालांकि, रैश, खुजली/ सूजन (चेहरे/ जुबान/ गले), गंभीर रूप से चक्कर आना, सांस लेने में परेशानी जैसे गंभीर लक्षण नजर आते ही तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
  • अस्थिरता, दौरा पड़ना, हाथ पैरों में कंपकंपी और झुनझुनी पैदा होना जैसे बेहद ही गंभीर साइड इफेक्ट्स नजर आते ही चिकित्सा मदद लें।
  • लंबे समय तक इस दवा का इस्तेमाल करने से ओरल थ्रस या नया यीस्ट इंफेक्शन हो सकता है। यदि आपको मुंह पर पैच, वजायनल डिस्चार्ज में बदलाव या नए लक्षण नजर आते ही डॉक्टर को सूचित करें।

हालांकि, हर व्यक्ति को इस प्रकार के साइड इफेक्ट्स का अनुभव नहीं होता। उपरोक्त साइड इफेक्ट्स के अलावा भी कुछ ऐसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिन्हें सूचिबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप टिनिडाजोल के साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो डॉक्टर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: Cremaffin : क्रेमाफीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

रिएक्शन

टिनिडाजोल से क्या रिएक्शन हो सकते हैं?

कुछ प्रोडक्ट्स टिनिडाजोल के साथ रिएक्शन कर सकते हैं, जिसमें एल्कोहॉल प्रोडक्ट्स (खांसी, जुखाम के सीरप, आफ्टरशेव), प्रोपायलेन ग्लायकोल (propylene glycol), लोपिनाविर/ रिटोनाविर सॉल्युशन (lopinavir/ritonavir solution) और लीथियम शामिल हैं।

  • यदि आप डिस्लफिरम (disulfiram) ले रहे हैं या आपने पिछले दो हफ्ते पहले डिसुफिरम ली है तो टिनिडाजोल का सेवन ना करें।
  • ज्यादातर एंटीबायोटिक हार्मोनल बर्थ कंट्रोल (गर्भ निरोधक) जैसे गोली, पैच या रिंग को प्रभावित करती हैं। वहीं, कुछ एंटीबायोटिक (rifampin, rifabutin) गर्भ निरोधक की प्रभाविकता को कम कर देती हैं। इसके नतीजतन आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं। यदि आप गर्भ निरोधक का इस्तेमाल कर रही हैं तो इसकी अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।
  • टिनिडाजोल प्रयोगशाला में होने वाले कुछ टेस्ट को प्रभावित कर सकती है, जिससे नतीजे गलत आ सकते हैं। यह सुनिश्चित करें कि आपके टेस्ट लेने वाले लैब कर्मी और डॉक्टर को यह पता हो कि आप इस दवा का सेवन कर रही हैं।

टिनिडाजोल आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकती है या इनके कार्य करने के तरीके को बदल सकती है। इससे गंभीर साइड इफेक्ट्स की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे संभावित रिएक्शन से बचने के लिए उन सभी दवाइयों की लिस्ट बनाएं, जिनका आप मौजूदा समय में इस्तेमाल कर रहे हैं। इस लिस्ट में डॉक्टर की गैर लिखी दवाइयां, जो मार्केट में खरीद के लिए उपलब्ध हैं, उन्हें भी शामिल करें। इस लिस्ट को अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ साझा करें। अपनी सुरक्षा के लिए बिना डॉक्टर की मंजूरी के किसी भी दवा का सेवन शुरू, बंद या डोज में बदलाव न करें।

यह भी पढ़ें : Ibugesic Plus : इबूगेसिक प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या टिनिडाजोल फूड या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन कर सकती है?

टिनिडाजोल फूड या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन कर सकती है, जिससे दवा के कार्य करने का तरीका बदल सकता है या गंभीर साइड इफेक्ट्स की संभावना बड़ सकती है। फूड या एल्कोहॉल के साथ इसके संभावित साइड इफेक्ट्स के संबंध में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें। यह बहुत जरूरी है कि आप अपनी मौजूदा सेहत की स्थिति के बारे में डॉक्टर को बताएं।

टिनिडाजोल का हेल्थ पर क्या असर पड़ सकता है?

टिनिडाजोल आपकी हेल्थ पर असर डाल सकती है। इसका रिएक्शन आपकी सेहत के लिए गंभीर हो सकता है। इसके अलावा, इससे दवा के कार्य करने का तरीका भी बदल सकता है। इस स्थिति में यह जरूरी है कि आप अपनी मौजूदा स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में डॉक्टर को सूचना दें।

यह भी पढ़ें : Clobetasol : क्लोबेटासोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

डोसेज

ऊपर बताई गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। टिनिडाजोल का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें।

टिनिडाजोल की क्या डोज है?

ट्राइकोमोनिएसिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 2g मौखिक रूप से एक बार।

जिआर्डिएसिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 2g मौखिक रूप से एक बार।

अमीबियासिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 2g मौखिक रूप से एक बार।

वेजिनोसिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • 2g मौखिक रूप से दिन में एक बार दो दिनों तक या 1g मौखिक रूप से पांच दिनों तक।

STD प्रोफायलेक्सिस में अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज:

  • एक डोज के रूप में 2g एक बार।

जिआर्डिएसिस में बच्चों के लिए सामान्य डोज:

  • तीन साल या इससे ज्यादा के बच्चों के लिए प्रति किलो वजन के हिसाब से दिन में 50mg।
  • अधिकतम डोज: 2g प्रति दिन।

अमीबियासिस में बच्चों के लिए सामान्य डोज:

  • तीन साल या इससे ज्यादा के बच्चों के लिए प्रति किलो वजन के हिसाब से दिन में 50mg।
  • धिकतम डोज: 2g प्रति दिन।

ट्राइकोमोनिएसिस में बच्चों के लिए सामान्य डोज:

  • कुछ एक्सपर्ट्स के अनुसार: प्रति किलो वजन के हिसाब से दिन में 50mg एक बार मौखिक रूप से।
  • अधिकतम डोज: 2g प्रति दिन।

STD प्रोफायलेक्सिस में बच्चों के लिए सामान्य डोज:

  • अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के मुताबिक: एक डोज के रूप में दिन में एक बार 2g।

टिनिडाजोल किन रूप में उपलब्ध है?

टिनिडाजोल निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • ओरल टेबलेट
  • कंपाउंडिंग पाउडर

आपात स्थिति या ओवरडोज होने पर मुझे क्या करना चाहिए?

आपात स्थिति या ओवरडोज होने पर अपनी स्थानीय आपातकीलन सेवा या नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।

यदि मुझसे टिनिडाजोल का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

यदि आपसे टिनिडाजोल की डोज मिस हो जाती है तो जल्द से जल्द इसे लें। हालांकि, यदि आपका अगली खुराक का समय नजदीक आ गया है तो भूले हुए डोज को न खाएं। पहले से तय नियमित डोज को लें। एक बार में दो खुराक न खाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता है।

और पढ़ें :-

Ibuprofen + Paracetamol/Acetaminophen : इबूप्रोफेन + पेैरासिटामोल/एसिटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Paracetamol : पैरासिटामोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Chymotrypsin: कायमोट्रिप्सिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Levofloxacin: लिवोफ्लॉक्सासिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Lumbar spinal stenosis: लम्बर स्पाइनल स्टेनोसिस क्या है ?

बढती उम्र के साथ हड्डियों में रगड़ के कारण रीढ़ की हड्डी की नलिका संकुचित हो जाती है, इस स्थिति को स्पाइनल स्टेनोसिस कहा जाता है। 50 वर्ष के बाद हो सकता है।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Siddharth Srivastav

Pompe Disease: जानें पोम्पे रोग क्या है?

जानें पोम्पे रोग क्या हैं in hindi, पोम्पे रोग के लक्षण क्या हैं और किन कारणों से होता है, pompe-disease ke lakshno के दिखने पर क्या करें उपचार?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu

जानें कब और क्यों बदलता है दांतों का रंग, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सतर्क

दांतों का रंग हमारे सेहत के बारे में बताता है। दांतों को स्वस्थ रखने के लिए मुंह की देखभाल जरूरी है ताकि बीमारी से बचा जा सके।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh

Epidermal: एपिडर्मल सिस्ट क्या है?

एपिडर्मल सिस्ट त्वचा के अंदर बनने वाली सौम्य गांठ हैं जो वैसे तो कोई नुकसान नहीं पहुंचाती, फिर भी इसका उपचार कराया जाना चाहिए।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Kanchan Singh