काली मिर्च के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Black Pepper

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

काली मिर्च (Black Pepper) क्या है?

काली मिर्च एक प्रमुख मसाला है, जिसे मसालों में रानी भी कहा जाता है। इसका बोटैनिकल नाम पाइपर नाइग्रम् (Piper nigrum Linn.) है, जो पाइपरेसी (Piperaceae) प्रजाति का पौधा होता है। हिंदी में इसे काली मिर्च के अलावा अलग-अलग नामों से जाना जाता है जिसमें मरिच, मिरच, गोल मरिच, काली मरिच, दक्षिणी मरिच, चोखा मिरच जैसे नाम मुख्य हो सकते हैं। इसके अलावा, अंग्रेजी में इसे ब्लैक पेपर (Black Pepper), कॉमन पेपर (Common pepper) या पेपर (Pepper) भी कहते हैं।

ब्लैक पेपर खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ सेहत पर भी सकारात्मक प्रभाव कर सकती है। इसके पौधे मूल रूप से दक्षिण भारत में ही पाए जाते हैं। हालांकि, भारत के अलावा इंडोनेशिया, बोर्नियो, इंडोचीन और श्रीलंका जैसे देशों में भी प्रमुख तौर पर इसकी खेती की जाती है। आयुर्वेद के अनुसार एक औषधी के तौर पर इसका इस्तेमाल प्राचीन काल से चला आ रहा है। जिसके उल्लेख ग्रीस, रोम, पुर्तगाल में भी पाए जा सकते हैं।

यह दिखने में छोटी और गोल आकार की होती है, जिसका रंग काला और गहरा भूरा हो सकता है। यह स्वाद में काफी तीखा होता है। इसका पौधा लता की तरह बढ़ता है और पत्तियां पान के पत्तों जैसी होती हैं। इसके लता को बढ़ने के लिए किसी सहारे की जरूरत पड़ती है।

और पढ़ें : शतावरी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Asparagus (Shatavari Powder)

उपयोग

काली मिर्च (Black pepper) किस लिए प्रयोग की जाती है?

काली मिर्च के उपयोग की बात करें, तो इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ-साथ इसका इस्तेमाल अंदरूनी शारीरिक इंफेक्शन को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है। इसके अलावा, काली मिर्च का इस्तेमाल मुख्य रूप से पेट से संबंधित समस्याओं के लक्षणों के उपचार के लिए किया जा सकता है, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल को आमतौर पर “पेट का फ्लू” या “पेट में इंफेक्शन​” या “जठरांत्र शोथ” भी कहा जाता है। जिसके उपचार के लिए भी आप काली मिर्च का सेवन कर सकते हैं। कुछ स्थितियों में आपके डॉक्टर या हर्बलिस्ट सांस की बीमारी के इलाज और मानसिक प्रक्रियाओं में तेजी लाने के लिए भी आपको इसका सेवन करने की सलाह दे सकते हैं। हालांकि, किसी भी स्थिति में इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको अपने डॉक्टर की उचित सलाह जरूर लेनी चाहिए।

यह कैसे काम करती है? 

ब्लैक पेपर के औषधीय गुण किस तरह से शारीरिक स्थितियों को ठीक करने में काम करते हैं, इस विषय में अभी भी उचित शोध करने की आवश्यकता हो सकती है। हालांकि, कुछ अध्ययन बताते हैं कि काली मिर्च कीटाणुओं (रोगाणुओं) से लड़ने में शरीर की मदद करती है और पेट के पाचक रसों के प्रवाह को बढ़ाने में भी मदद करती है। 

वहीं, कुछ शोधों के अनुसार दावा भी किया गया है कि काली मिर्च का इस्तेमाल कैंसर के इलाज में भी किया जा सकात है। जिस पर अभी भी मतभेद बना हुआ है। कुछ साक्ष्य बताते हैं कि काली मिर्च कोलन कैंसर से बचाव कर सकती है, लेकिन अन्य साक्ष्य बताते हैं कि यह लिवर कैंसर को बढ़ावा दे सकती है।

और पढ़ें : केवांच के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kaunch Beej

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

सावधानियां और चेतावनी

काली मिर्च (Black pepper) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए? 

काली मिर्च का इस्तेमाल करने से पहले आपको निम्नलिखित स्थितियों में अपने चिकित्सक या हर्बलिस्ट से उचित परामर्श करना चाहिए, अगर

आप प्रेग्नेंटी हैं या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं

गर्भवती या स्तनपान कराने की स्थिति में किसी भी आहार या दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक या हर्बलिस्ट की उचित सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि इसका सीधा प्रभाव बच्चे और मां के स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। हालांकि, प्रेग्नेंसी के दौरान भोजन में या अन्य रूपों में एक सीमिय मात्रा में काली का उपयोग करना सुरक्षित माना जा सकता है। लेकिन, बड़ी मात्रा में इस दौरान इसका सेवन करना असुरक्षित हो सकता है। बड़ी मात्रा में काली मिर्च का सेवन गर्भपात का कारण भी बन सकता है।

अगर आप कोई अन्य दवा ले रहे हैं

किसी भी स्वास्थ्य स्थिति, सर्जरी या अन्य कारणों से अगर आप किसी भी दवा का सेवन कर रहे हैं, तो उसके बारे में पहले ही अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट को जानकारी दें। क्योंकि आपके द्वारा ली जाने वाली किसी भी दवा के साथ काली मिर्च या इसमें मौजूद तत्व किसी तरह की प्रतिक्रिया कर सकते हैं।

अगर आपको एलर्जी है

क्या आपको किसी भी खाद्य पदार्थ, हर्बल, दवा, काली मिर्च या काली मिर्च में पाए जाने वाले तत्वों से किसी तरह तरह की एलर्जी है? अगर हां, तो इसका इस्तेमाल करने से पहले इसकी पूरी जानकारी अपने डॉक्टर को दें।

काली मिर्च को कैसे स्टोर करना चाहिए?

काली मिर्च को स्टोर करते समय आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैंः

  • गर्मी और नमी वाले स्थानों, जैसे सीधे तौर पर सूर्य के प्रकाश के संपर्क या बाथरूम में इसे स्टोर न करें।
  • काली मिर्च को कमरे के सामान्य तापामन और सूखी जगह पर स्टोर करें।  
  • इस फ्रीज में स्टोर न करें।
  • लंबे समय तक इसका सुरक्षित इस्तेमाल करने के लिए आप इसे किसी एयर टाइट कंटेनर में स्टोर कर सकते हैं।
  • घर में अगर छोटे बच्चे या पालतू पशू हैं, तो उनकी पहुंच से इसे दूर रखें। 

काली मिर्च का इस्तेमाल कैसे करते हैं?

किसी भी हर्बल सप्लीमेंट का सेवन सुरक्षित माना जा सकता है। हालांकि, कुछ स्थितियों में इसके सामान्य और गंभीर दुष्प्रभाव भी देखें जा सकते हैं। सुरक्षा के लिहाज से किसी भी रूप में इसका सेवन से करने से पहले आपको अपने डॉक्चर से परामर्श करना चाहिए। काली मिर्च का इस्तेमाल करने से पहले आपको इससे जुड़े स्वास्थ्य लाभ और जोखिम के बारे में अपने डॉक्टर से जानकारी लेनी चाहिए। 

और पढ़ें : अर्जुन की छाल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Arjun Ki Chaal (Terminalia Arjuna)

साइड इफेक्ट्स

काली मिर्च (Black pepper) से मुझे किस तरह के साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

काली मिर्च के निम्न साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जिनमें शामिल हो सकते हैं:

  • आंखों में जलन, या सूजन होना
  • हाइपर सेंसिटिव रिएक्शन या अति संवेदनशीलता
  • हल्के रूप में कैंसर को बढ़ावा
  • बड़ी मात्रा में लेने पर बच्चों में एपनिया होने का खतरा भी हो सकता है।

काली मिर्च के सेवन से होने वाले सभी साइड इफेक्ट्स यहां नहीं बताए गए हो सकते हैं। अगर इसके सेवन से आपको इनमें से या किसी भी अन्य तरह के लक्षण महसूस होते हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

काली मिर्च (Black pepper) के साथ मेरे क्या इंटरैक्शन हो सकते हैं?

काली मिर्च,आपकी दवाओं और मेडिकल स्थिति पर विपरीत प्रभाव डाल सकती है। इसके इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर की उचित राय लें। साथ ही, यह भी ध्यान रखें कि काली मिर्च में पानी की गोली या “मूत्रवर्धक” जैसा प्रभाव हो सकता है। काली मिर्च लेने से शरीर की लिथियम को बाहर निकालने की क्षमता कम हो सकती है, जो आगे चलकर गंभीर समस्याओं का कारण भी बन सकता है।

इसके अलावा, काली मिर्च के साथ इंटरैक्ट करने से कई दवाओं के असर करने में भी बदलाव हो सकता है, जिसमें शामिल हैं:

और पढ़ें : गोखरू के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

मात्रा/डोसेज

दी गई जानकारी को चिकित्सा सलाह के रूप में न देखें। हमेशा दवा का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से परामर्श करें।

काली मिर्च की कितनी मात्रा का सेवन करना चाहिए?

आप एक दिन में 300 से 600mg काली मिर्च का सेवन कर सकते हैं, लेकिन इसकी अधिकतम खुराक प्रति दिन 1.5g से अधिक नहीं होनी चाहिए।

हर हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। इसकी खुराक उम्र, स्वास्थ्य स्थिति और कई अन्य स्थितियों पर भी निर्भर कर सकती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : साल ट्री के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Sal Tree

उपलब्धता

काली मिर्च (Black pepper) किस रूप में आती है?

आप इसे निम्न रूपों में प्राप्त कर सकते हैंः

  • पाउडर
  • कच्ची काली मिर्च (बीज)
  • काली मिर्च का तेल

इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

विधारा (ऐलीफैण्ट क्रीपर) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Vidhara Plant (Elephant creeper)

जानिए विधारा क्या है, फायदे और नुकसान, ऐलीफैण्ट क्रीपर के स्वास्थ्य लाभ क्या हैं, इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं, Elephant creeper के साइड इफेक्ट्स, Vidhara की दवा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

पुष्करमूल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Pushkarmool (Inula Racemosa)

जानिए पुष्करमूल के फायदे और नुकसान, पुष्करमूल का इस्तेमाल कैसे करें, Inula racemosa के साइड इफेक्ट्स, Pushkarmool की खुराक। Pushkarmool in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

शतावरी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Asparagus (Shatavari Powder)

जानिए शतावरी पाउडर के फायदे और नुकसान, इसका इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स, Asparagus के औषधीय गुण, शतावरी की डोज। Asparagus in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

अपराजिता के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Aparajita (Butterfly Pea)

अपराजिता के फायदे, अपराजिता के फूल का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कैसे लें, कितना लें, aparajita के साइड इफेक्ट्स, और सावधानियां। Aparajita in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

चिरौंजी - chironji

चिरौंजी के फायदे और नुकसान- Chironji benefits and side effects

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पर्पल नट सेज

पर्पल नट सेज के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of purple nut sedge

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज-Ayurvedic treatment to improve liver disease.

लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
आलूबुखारा - Plums

आलूबुखारा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Aloo Bukhara (Plum)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ जून 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें