Black Pepper : काली मिर्च क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

परिचय

काली मिर्च (Black Pepper) को कई सौ साल पहले मसालों का राजा कहा गया था। भारत और यूरोप के बीच शुरू हुए शुरुआती व्यापार में भी काली मिर्च का सौदा किया जाता था। भारत में काली मिर्च हर घर की रसोई के अंदर का मुख्य मसाला है। गैस, सिरदर्द, डायरिया जैसी समस्याओं में भी काली मिर्च का इस्तेमाल किया जाता है।

काली मिर्च का बोटेनिकल नाम मरिचपिप्पली (Piper nigrum) जो कि पिप्पली फैमिली (Piperaceae) से आता है। जिन लोगों को धूम्रपान की आदत होती, वो भी स्मोकिंग से दूर होने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं।

यह भी पढ़ेंः Kiwi : कीवी क्या है? जानिए उपयोग, डोज और साइड इफेक्ट्स

उपयोग

काली मिर्च (Black pepper) किस लिए प्रयोग की जाती है?

काली मिर्च का प्रयोग मुख्य रूप से पेट से संबंधित समस्याओं के लक्षणों के उपचार के लिए किया जाता है-

गैस्ट्रोएन्टराइटिस को आमतौर पर “पेट का फ्लू” या “पेट में इन्फेक्शन​” या “जठरांत्र शोथ” कहा जाता है।

काली मिर्च का प्रयोग अन्य लक्षणों के इलाज के लिए भी किया जाता है:

काली मिर्च (Black pepper) का इस्तेमाल सांस की बीमारी के इलाज और मानसिक प्रक्रियाओं में तेजी लाने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही नसों के दर्द और खुजली के इलाज में भी ये कारगर है।

यह कैसे काम करती है? 

इस बात पर अभी कम अध्ययन हुआ है कि यह कैसे काम करती है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

कुछ अध्ययन बताते हैं कि काली मिर्च कीटाणुओं (रोगाणुओं) से लड़ने में मदद करती है और पेट के पाचक रसों के प्रवाह को बढ़ाती हैं।

कैंसर के इलाज में काली मिर्च की भूमिका को लेकर मतभेद है। कुछ साक्ष्य बताते हैं कि काली मिर्च कोलन कैंसर से जान बचा सकती है, लेकिन अन्य साक्ष्य बताते हैं कि यह लिवर कैंसर को बढ़ावा दे सकती है।

एल्कलॉइड या पाइपराइन में से एक, काली मिर्च के एंटीएंड्रोजेनिक, एंटीइन्फ्लेमेटरी और हेपेटोप्रोटेक्टिव गुणों के लिए जिम्मेदार हो सकता है। एमाइड फेरुपरिन एक एंटीऑक्सीडेंट है।

यह भी पढ़ें : Potato: आलू क्या है ?

सावधानियां और चेतावनी

काली मिर्च (Black pepper) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए? 

काली मिर्च का इस्तेमाल करने से पहले निम्नलिखित स्थितियों में अपने चिकित्सक या फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें:
1. यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं- गर्भवती या स्तनपान कराने की स्थिति में किसी भी आहार या दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट या हर्बलिस्ट से जरूर परामर्श करें, क्योंकि इसका सीधा प्रभाव बच्चे और मां के स्वास्थ्य पर पड़ता है।
2. यदि आप कोई अन्य दवा ले रहे हैं- इसमें आपके द्वारा ली जा रही कोई भी दवा शामिल है, जो बिना डॉक्टर के पर्चे के खरीदने के लिए उपलब्ध है।
3. यदि आपको काली मिर्च या अन्य दवाओं या अन्य जड़ी बूटियों के किसी भी पदार्थ से एलर्जी है।
4. यदि आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या चिकित्सा स्थितियां हैं।
5. यदि आपको किसी अन्य प्रकार की एलर्जी है, जैसे कि खाद्य पदार्थ, डाई, डिब्बा बंद चीजें या जानवर से।

ये भी ध्यान रखें

गर्मी और नमी से दूर काली मिर्च को ठंडी, सूखी जगह पर रखें ।

आपको अपनी हाइपर सेंसिटिव एक्टिविटी रिएक्शन को मॉनिटर करना चाहिए। यदि ये आपके अंदर मौजूद हैं, तो काली मिर्च का उपयोग बंद करें और एंटीहिस्टामाइन या अन्य उपयुक्त थेरेपी को अपनाएं।

किसी भी हर्बल सप्लीमेंट का सेवन करने के नियम उतने ही सख्त होते हैं जितने कि अंग्रेजी दावा के। सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है। हर्बल सप्लीमेंट से होने वाले फायदे से पहले आपको इसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बल एक्सपर्ट से बात कीजिए।

यदि आप गर्भवती हैं, तो भोजन में काली और सफेद मिर्च का उपयोग करना ठीक है। लेकिन, बड़ी मात्रा में लेना असुरक्षित हो सकता है। बड़ी मात्रा में काली मिर्च का सेवन गर्भपात का कारण बन सकता है। इसके अलावा, अपनी त्वचा पर मिर्ची लगाने से बचें। अभी इस बारे में कम ही जानकारी है कि गर्भावस्था के दौरान काली मिर्च का उपयोग करना कितना सुरक्षित है।

यदि आप स्तनपान करा रही हैं, तो काली मिर्च का सेवन केवल भोजन तक सीमित रखें। अभी इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता कि दवाई के रूप में इसका ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल सुरक्षित है या नहीं ।

यह भी पढ़ें : Rosemary : रोजमेरी क्या है?

साइड इफेक्ट्स

काली मिर्च (Black pepper) से मुझे किस तरह के साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

  • काली मिर्च के कई साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:
  • आंखों में जलन, सूजन
  • हाइपर सेंसिटिव रिएक्शन या अति संवेदनशीलता
  • हल्के रूप में कैंसर को बढ़ावा
  • बड़ी मात्रा में लेने पर बच्चों में एपनिया होने का खतरा

जरूरी नहीं की दिए गए साइड इफेक्ट का ही आपको सामना करना पड़े। ये दूसरे प्रकार के भी हो सकते जिन्हें शामिल नहीं किया गया है। अगर आपको साइड इफेक्ट को लेकर कोई शंका है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

काली मिर्च (Black pepper) के साथ मेरे क्या इंटरेक्शन हो सकते है?

काली मिर्च,आपकी दवाओं और मेडिकल कंडिशन्स पर विपरीत प्रभाव डाल सकती है। इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से राय लें।

काली मिर्च में पानी की गोली या “मूत्रवर्धक” जैसा प्रभाव हो सकता है। काली मिर्च लेने से शरीर की लिथियम को बाहर निकालने की क्षमता कम हो सकती है। आगे चलकर इस बात के खतरनाक साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

काली मिर्च के साथ इंटरेक्ट करने से कई दवाओं के असर करने में बदलाव होता है, जिसमें शामिल हैं: साइटोक्रोम पी 450, फेनिटोइन, प्रोप्रानोलोल, थियोफिलाइन।

काली मिर्च के कारण प्रोप्रानोलोल, थियोफिलाइन, सीरम ड्रग एसेज का टेस्ट रिजल्ट बदल सकता है।

यह भी पढ़ें : Sabudana : साबूदाना क्या है?

मात्रा/डोसेज

दी गई जानकारी को चिकित्सा सलाह के रूप में ना देखें। हमेशा दवा का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से परामर्श करें।

आप एक दिन में 300-600mg काली मिर्च ले सकते हैं, लेकिन अधिकतम खुराक 1.5g / दिन से अधिक नहीं होनी चाहिए।

हर हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ेंः Hazelnut: हेजलनट क्या है?

उपलब्धता

काली मिर्च (Black pepper) किस रूप में आती है?

यह हर्बल सप्लीमेंट निम्नलिखित रूप में उपलब्ध हो सकता है

  • पाउडर
  • कच्ची काली मिर्च
  • काली मिर्च का तेल

हेलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

और पढ़ें : 

Sesame : तिल क्या है?

Indian Long Pepper: पिप्पली क्या है?

Irvingia Gabonensis: अफ्रीकी आम क्या है?

Jambolan: जामुन क्या है?

Share now :

रिव्यू की तारीख जुलाई 4, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 18, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे