Tomato: टमाटर क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

टमाटर क्या है?

टमाटर एक फल है। न्यूट्रिएंट्स से भरपूर इस फल की बेल और पत्तियां भी काफी फायदेमंद होती हैं, जिनका उपयोग कई दवाओं में किया जाता है। ज्यादातर ये लाल रंग में होते हैं लेकिन, इसके अलावा ये यैलो, ऑरेंज, ग्रीन और पर्पल कलर में भी आता है। इसमें अच्छी मात्रा  में एंटी-ऑक्सिडेंट्स होते हैं, जो दिल संबंधित बीमारियां और कैंसर की रोकथाम में मददगार है। इसमें विटामिन-सी, पोटैशियम, फोलेट और विटामिन-के भी पाया जाता है। 

टमाटर का उपयोग किस लिए किया जाता है?

दिल को रखे स्वस्थ:

टमाटर में लेकोपिन नामक पदार्थ होता है। रिसर्च के अनुसार, ये दिल के लिए बेहद लाभदायक होता है। टमाटर युक्त प्रोडक्ट्स या सप्लिमेंट्स लेने से अच्छा है, टमाटर का सेवन करें। ये दिल संबंधित परेशानियां, डायबिटीज और स्ट्रोक को दूर रखता है। टमाटर में मौजूद फायबर, पोटैशियम और विटामिन-सी हार्ट को हेल्दी रखने में मददगार होता है। 

कैंसर की रोकथाम:

टमाटर में अच्छी मात्रा में विटामिन-सी होता है, जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से कवच प्रदान करता है। इसमें लेकोपिन भी पाया जाता है। ये एक तरह का कैरोटीनॉयड है, जो प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करता है। यह हमेशा ध्यान रखें की अगर आपको या आपके किसी करीबी को कैंसर है तो इससे घबराएं नहीं बल्कि जल्द से जल्द से इलाज शुरू करें। कैंसर से बचना आसान है लेकिन, अगर सही समय पर इलाज शुरू किया गया और डॉक्टर द्वारा निर्देशों का ठीक तरह से पालन किया जाय। 

आंखो की रोशनी को करे तेज:

टमाटर विटामिन-ए का अच्छा स्त्रोत है, जो आंखों की रोशनी के लिए बहुत जरूरी है। अगर हमारे शरीर में विटामिन-ए की कमी होगी, तो आंखों की रोशनी कम होने लगती है। इसके अलावा, रात में नजर न आने वाली परेशानी को दूर रखता है। ये आंखों की ऊपरी परत कर्निया को भी सुरक्षा प्रदान करता है।

कब्ज की परेशानी से राहत:

ऐसे फूड, जिनमें अच्छी मात्रा में पानी और फाइबर होता है, वो शरीर को हाइड्रेट रखने के साथ कब्ज से राहत दिलाता है। इसमें लैक्सेटिन नामक तत्व होता है, जो पाचन क्रिया को फिट बनाने के साथ डाइजेस्टिव सिस्टम में सुधार कर कई बीमारियों से दूर रखता है।

स्किन के लिए वरदान:

टमाटर में कोलेजन पाया जाता है जो हड्डियों, त्वचा, मांसपेशियों, नाखूनों और बालों के लिए जरूरी होता है। अगर शरीर में कोलेजन लेवल कम होता है, तो स्किन पर रिंकल्स आना, हड्डियों का कमजोर होना और जॉइंट्स पेन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से बचाएं:

टमाटर में डाइयूरेटिक गुण होते हैं, जो यूरीन पास होने में मदद करते हैं। इससे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ जैसे नमक, यूरिक एसिड और अत्यधिक पानी बाहर निकल जाता है। इसके साथ ही, यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और ब्लैडर कैंसर होने की संभावना भी कम होती है।

इन परेशानियों में भी है मददगार:

कैसे काम करता है टमाटर?

न्यूट्रिशन से भरपूर:

टमाटर में लगभग 95% पानी की मात्रा होती है। इसके अलावा 5% कार्बोहाइड्रेट और फाइबर की मात्रा होती है। 100 ग्राम कच्चे टमाटर में 18 कैलोरी, 900 मिली ग्राम प्रोटीन, 3.9 ग्राम कार्ब्स, 2.6 ग्राम शुगर, 1.2 ग्राम फाइबर और 0.2 ग्राम फैट होता है।

विटामिन और मिनिरल्स:

विटामिन-सी : हमारे शरीर में विटामिन-सी एक मजबूत एंटी-ऑक्सिडेंट की तरह काम करता है। ये शरीर में मौजूद मुक्त कणों के प्रभाव को कम करता है। 

पोटैशियम : पोटैशियम एक मिनरल है, जो हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। ये ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर दिल संबंधित परेशानियों को कोसों दूर रखने में मददगार है।

फोलेट : फोलेट एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो नर्वस सिस्टम को हेल्दी तरीके से काम करने में मदद करता है। ये शरीर की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को ठीक कर नई कोशिकाओं को बनाने में भी मददगार है।

ये भी पढ़ें: Rhatany: रैतनी क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है टमाटर का उपयोग ?

  • टमाटर का सीमित मात्रा में सेवन करना सुरक्षित है। अत्यधिक मात्रा में इसकी पत्तियों का सेवन जहर का कारण बन सकता है। टमाटर एसिडिक होता है और इसका ज्यादा सेवन करने से एसिडिटी की परेशानी हो सकती है।
  • जिन लोगों को पथरी की शिकायत होती है, वो भी इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से बचें। इलमें कैल्शियम और ऑक्सलेट अच्छी मात्रा में होते हैं। शरीर में इनकी मात्रा बढ़ने लगती है तो ये पूरी तरह शरीर से नहीं निकल पाते। ये धीरे-धीरे शरीर में जमना शुरू हो जाते हैं जो किडनी स्टोन का कारण बनते हैं।
  • टमाटर में अच्छी मात्रा में पोटैशियम होता है। इसके अधिक सेवन से खून में पोटैशियम की मात्रा ज्यादा हो सकती है जो गुर्दे के कार्य को बाधित कर सकता है। इसलिए किडनी संबंधित परेशानियों से ग्रसित लोग इसका सेवन लिमिट में ही करें।
  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीड कराने वाली महिलाएं इसका अत्यधिक सेवन करने से बचें।

ये भी पढ़ें: Jojoba: होहोबा क्या है?

साइड इफेक्ट्स

टमाटर से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • पेट साफ न होना
  • एसिडीटी बनना
  • एलर्जी की समस्या
  • गले और मुंह में जलन होना 
  • चक्कर आना
  • उल्टी होना 
  • चेहरे, गले और मुंह पर सूजन आना 
  • जोड़ों में दर्द होना

हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं, तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें: Thyme: थाइम क्या है?

डोसेज

टमाटर को लेने की सही खुराक क्या है?

दवा की तौर पर टमाटर की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लिमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए, सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

ये भी पढ़ें: Bay: तेज पत्ता क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • रॉ टोमैटो
  • टोमैटो पाउडर
  • टोमैटो एक्सट्रेक्ट

अगर आप टमाटर से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:-

Gourd: लौकी क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

Papaya: पपीता क्या है?

Coconut Water: नारियल पानी क्या है?

मशरूम के फायदे: इसमें छिपे हैं कई पौष्टिक तत्व, जानें कुकुरमुत्ता के 5 फायदे

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ऑट्रिन दवा की जानकारी in hindi. डोज, साइड इफेक्ट्स, उपयोग, सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

अस्टिमिन फोर्ट दवा की जानकारी in hindi दवा के डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट्स के साथ सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन व स्टोरेज को जानने के लिए पढ़ें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Nurokind Od: न्यूरोकाइंड ओडी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

न्यूरोकाइंड ओडी टैबलेट की जानकारी in hindi. इस दवा का किस बीमारी में होता है इस्तेमाल, इसके साइड इफेक्ट्स, डोज, सावधानियां-चेतावनी को जानने के लिए पढ़ें ये लेख।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Becadexamin: बेकाडेक्सामिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए बेकाडेक्सामिन (Becadexamin) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, बेकाडेक्सामिन डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ग्रीन कॉफी बीन्स

प्यार हो जाएगा आपको ग्रीन कॉफी से, जब जान जाएंगे इसके फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Caffeine overdose- कैफीन का ओवरडोज

Caffeine Overdose: कैफीन का ओवरडोज क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज-Ayurvedic treatment to improve liver disease.

लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
बेकन प्लस

Becon Plus: बेकन प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें