Trypsin: ट्रिप्सिन क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 7, 2020
Share now

परिचय

ट्रिप्सिन क्या है?

ट्रिप्सिन (Trypsin) शरीर में पाए जाने वाला एक एंजाइम है, जो पाचन तंत्र के लिए काम करता है। ये एंजाइम प्रोटीन के साथ बायोकेमिकल रिएक्शन करता है। ये एंजाइम आंतों में पाया जाता है। वहीं, अग्न्याशय (Pancreas) में भी पाया जाता है। इसके अलावा ये फफूंद, पौधों और बैक्टीरिया में भी पाया जाता है। ट्रिप्सिन (Trypsin) ऑस्टियो आर्थराइटिस के इलाज में काम आता है। इसके अलावा इससे निर्मित दवाएं घुटनों के दर्द में असरदार होती हैं। इसका उपयोग घाव पर भी किया जाता है। आमतौर पर यह एंजाइम छोटी आंत में पाया जाता है। ट्रिप्सिन पाचन से जुड़ी समस्याओं के उपचार में लाभकारी हो सकती है। साथ ही, यह प्रभावी रूप से दर्द से राहत देता है और घुटनों को ठीक से काम करने में मदद करता है।

ट्रिप्सिन पौधों और बैक्टीरिया से भी बनाया जा सकता है। लेकिन यह आमतौर पर पशुओं के अग्न्याशय से बनाया जाता है। इसका इस्तेमाल घावों के उपचार के साथ-साथ मुंह के अल्सर के उपचार में भी लाभकारी होता है। इसके अलावा कुछ स्वास्थ्य स्थितियों के उपचार के लिए इसका इस्तेमाल अरंडी के तेल के साथ भी किया जा सकता है।

यह काम कैसे करता है?

ट्रिप्सिन मृत कोशिकाओं (Dead Cells) को हटाती है और स्वस्थ ऊतकों (Tissues) को विकसित करता है। ये अन्य एंजाइम का एक ऐसा मेल है, जो सूजन को कम करने में मदद करता है। 

यह भी पढ़ें: गुड़हल क्या है ?

उपयोग

इसका उपयोग किस लिए किया जाता है?

ट्रिप्सिन का उपयोग कई तरह की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है :

  • कोलन कैंसर और रेकटल कैंसर के उपचार में
  • डायबिटीज (मधुमेह) के उपचार में
  • पाचन तंत्र के कार्यों में सुधार लाने के लिए
  • किडनी, मूत्राशय या यूरेनरी इंफेक्शन (मूत्र पथ के संक्रमण या यूटीआई) के उपचार में
  • मांसपेशियों में घाव के उपचार के लिए
  • वायुमार्ग में संक्रमण
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस के उपचार में
  • मोच के दर्द से राहत दिलाने के लिए
  • सर्जरी के बाद सूजन ठीक करने के लिए
  • घाव को भरने में
  • व्यायाम के कारण वायुमार्ग में संक्रमण
  • मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस)
  • व्यायाम के कारण मांसपेशियों में दर्द।

निम्न स्थितियों के उपचार में ट्रिप्सिन का उपयोग कितना प्रभावकारी हो सकता है, इस दिशा में अभी भी उचित अध्ययन करने की आवश्कयता है। इसके उपयोग के बारे में अधिक जानाकरी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: जिनसेंग क्या है?

सावधानियां और चेतावनियां

ट्रिप्सिन का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अभी तक गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान इसके साथ किसी भी तरह का साइड इफेक्ट अभी तक तो नहीं देखा गया है। लेकिन, फिर भी एहतियातन इससे संबंधित दवाओं का सेवन करने से बचे। जब भी जरूरत हो तो अपने डॉक्टर के परामर्श पर ही खाएं।

जलन होना
घावों की सफाई के दौरान ट्रिप्सिन के इस्तेमाल के दौरान कई बार दर्द और जलन जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं। हालांकि, इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

विशेष सावधानियां और चेतावनी:
गर्भावस्था और स्तनपान: गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान ट्रिप्सिन के उपयोग के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। सुरक्षा के लिहाज से प्रेग्नेंसी के दौरान या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसके उपयोग के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

ये उपयोग में कितना सुरक्षित है?

ट्रिप्सिन का उपयोग त्वचा के लिहाज से पूरी तरह से सुरक्षित है। लेकिन, फिर भी इसका उपयोग डॉक्टर के परामर्श पर ही करें। इसके अलावा अगर आप ट्रिप्सिन से बनी दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो आपको अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लेना चाहिए। क्योंकि ऐसे में अभी तक सुरक्षा में कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है। 

यह भी पढ़ें: चकोतरा क्या है?

प्रभाव

ट्रिप्सिन का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के उपचार के लिएः डॉक्टर द्वारा निर्देशित खुराक का ही सेवन करें।

त्वचा के घावों पर लगाते समयः एफडीए द्वारा अनुमोदित प्रिस्क्रिप्शन उत्पाद का ही इस्तेमाल करें। इसमें क्रीम, मलहम शामिल हो सकते हैं।

ट्रिप्सिन की खुराक छूटने पर क्या करना चाहिए?

हमेशा कोशिश करें कि अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार ही एक निश्चित समय पर ट्रिप्सिन की खुराक लें। अगर किसी कारण आप इसकी कोई खुराक भूल जाते हैं, तो याद आने पर जल्द से जल्द छूटी हुई खुराक खा सकते हैं। हालांकि, ध्यान रखें कि अगर आपकी अगली खुराक के समय में बहुत ही कम समय बचा हुआ है, तो छूटी हुई खुराक का सेवन न करें। अगली खुराक को उसके तय समय और तय मात्रा में ही खाएं और अपने नियमित खुराक को पहले की ही तरह जारी रखें। इसके साथ ही, छूटी हुई खुराक की भरपाई करने के लिए अगली खुराक का अधिक सेवन न करें। उतनी ही खुराक का सेवन करें जितना एक बार में आपके लिए तय किया गया हो।

ट्रिप्सिन की खुराक ओवरडोज होने पर क्या करें?

अगर किसी ने निर्देशित खुराक से ट्रिप्सिन का ज्यादा सेवन कर लिया है और उसके कारण किसी तरह के जोखिम के लक्षण होते हैं, तो जल्द से जल्द आपातकालीन नंबर पर कॉल करें या नजदीकी अस्पताल में उपचार के लिए जाएं। अगर व्यक्ति ने ट्रिप्सिन का सेवन मौखिक तौर पर किया है, तो उल्टी कराने की कोशिश करें, ताकि ओवरडोज दाव का असर कम से कम हो। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

क्या अन्य व्यक्ति में सामान लक्षण दिखाई देने पर उसे ट्रिप्सिन की खुराक निर्देशित करनी चाहिए?

आप जिस भी मौजूदा लक्षण या स्वास्थ्य स्थिति के लिए ट्रिप्सिन का सेवन करते हैं, अगर उसके ही सामान लक्षण आपको किसी अन्य व्यक्ति में दिखाई दे, तो उस अन्य व्यक्ति को ट्रिप्सिन के सेवन की सलाह न दें। उसे जल्द से जल्द डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह देनी चाहिए।

इससे मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

त्वचा पर लगाने पर इससे किसी भी तरह का साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है। लेकिन मुंह द्वारा सेवन करने पर इसके कुछ साइड इफेक्ट्स सामने आए हैं : 

यह भी पढ़ें: कावा क्या है?

डोसेज

ट्रिप्सिन की सही खुराक क्या है?

ट्रिप्सिन की सही खुराक क्या है, इसे बता पाना मुश्किल है। क्योंकि इसका सेवन आप उम्र, सेहत और अन्य परिस्थितियों के आधार पर ही कर सकते हैं। इसलिए जब भी इसका प्रयोग करना रहे तब अपने डॉक्टर से एक बार जरूर बात कर लें। 

उपलब्ध

ये किन रूपों में उपलब्ध है?

  • टैबलेट (Tablet)
  • कैप्सूल (Capsule)
  • मलहम (Ointment)

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

Buchu: बुचु क्या है?

Celery Seeds: अजवाइन क्या है?

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Diabetic Retinopathy: डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?

डायबिटिक रेटिनोपैथी (Diabetic Retinopathy) की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, डायबिटिक रेटिनोपैथी के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shilpa Khopade

क्या वेजीटेरियन या वेगन लोगों को स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है?

वेजीटेरियन लोगों में हार्ट डिजीज का खतरा कम लेकिन स्ट्रोक का जोखिम ज्यादा रहता है, क्यों। शाकाहारी आहार से खाना के फायदे और नुकसान। Vegetarian diet in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel

Miracle Fruit: मिरेकल फ्रूट क्या है?

मिरेकल फ्रूट क्या है? Miracle Fruit in hindi, मिरेकल फ्रूट के कई प्रकार के फायदे होते हैं, आइए इसके उपयोग और इसके साइड इफेक्टस के बारें जानते हैं।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by shalu

Broken (fractured) foot: जानें पैर में चोट क्या है?

जानिए ब्रोकन लेग्स क्या है, पैर में चोट लगने के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, पैर में चोट को ठीक करने के लिए उपाय। Broken Legs in hindi

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Poonam