Carbidopa+Levodopa: कार्बिडोपा+लेवोडोपा क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    Carbidopa+Levodopa: कार्बिडोपा+लेवोडोपा क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    कार्बिडोपा+लीवोडोपा (Carbidopa + Levodopa) का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?

    कार्बिडोपा+लीवोडोपा पार्किंसन डिजीज या पार्किंसन जैसे लक्षण (जैसे कांपना, अकड़न, चलने में दिक्कत) के इलाज में इस्तेमाल होता है। दिमाग मे एक नैचुरल पदार्थ (डोपामाइन) की कम मात्रा होने की वजह से पार्किंसन डिजीज होती है। लीवोडोपा दिमाग मे डोपामाइन में बदल जाता है और मूवमेंट को नियंत्रित करता है। कार्बिडोपा, लीवोडोपा के टूट- फूट (breakdown) को रोकता है जिसकी वजह से ज्यादा मात्रा में लीवोडोपा दिमाग मे प्रवेश करता है। कार्बिडोपा, लीवोडोपा से होने वाले साइड इफेक्ट्स को भी कम कर सकता है जैसे मितली, उल्टी आदि।

    मैं कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa+Levodopa) को कैसे इस्तेमाल करूं?

    सामान्य रूप से दिन में तीन से चार बार डॉक्टर के निर्देश के अनुसार इस दवा को भोजन के साथ या बिना भोजन के लें।

    भोजन के साथ इस दवा को लेने से मितली की समस्या कम होती है। जब तक आपका डॉक्टर ना कहे तब तक इलाज के दौरान हाई प्रोटीन डायट (यह शरीर मे प्रवेश करने वाले लीवोडोपा की मात्रा को कम करता है) से दूर रहें। जितना ज्यादा हो सके उतना ज्यादा इस दवा की खुराक को आयरन सप्लिमेंट्स, जिसमें आयरन (जैसे मल्टीविटामिन और मिनरल्स) मौजूद हो, की खुराक से अलग करें। आयरन इस दवा के शरीर द्वारा अवशोषित होने की प्रक्रिया को कम करता है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

    इस दवा की खुराक आपकी मेडिकल स्थिति और ट्रीटमेंट के प्रति कितने संवेदनशील हैं, इस बात पर आधारित होती है। साइड इफेक्ट्स को कम करने के लिए आपका डॉक्टर खुराक को धीरे- धीरे बढ़ा सकता है। अपने डॉक्टर के निर्देशों को सावधानीपूर्वक फॉलो करें। दवा का यह कॉम्बिनेशन अलग- अलग क्षमताओं में आता है जिसके हर टैबलेट में कार्बिडोपा और लीवोडोपा की मात्रा अलग अलग होती है। इसलिए आप यह सुनिशचित कर लें कि आपके पास दोनों ड्रग्स की सही क्षमता उपलब्ध है। आपका डॉक्टर इस कॉम्बिनेशन के साथ कार्बिडोपा को अकेले भी प्रिस्क्राइब कर सकता है।

    इस दवा का ज्यादा फायदे लेने के लिए आप इसका नियमित सेवन करें। याद रखें प्रत्येक दिन इस दवा को एक ही समय पर लें।

    कुछ मरीजों को यह महसूस हो सकता है कि अगली खुराक से पहले उनके लक्षण खत्म हो रहें हैं। यह एक ऑन ऑफ प्रभाव हो सकता है जिसमें कम समय के लिए अकड़न की समस्या आ सकती है। अगर ये प्रभाव होते हैं तो खुराक में सुधार करने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें जो इन प्रभावों को कम करने में मदद कर सकता है।

    बिना डॉक्टर के निर्देश के आप इस दवा का इस्तेमाल बंद ना करें। इस दवा को अचानक से बंद करने से कुछ लक्षण औेर अधिक खराब हो सकते हैं। आपकी खुराक धीरे धीरे ही कम हो सकती है।

    अगर आपकी स्थिति में कोई सुधार ना हो या स्थिति और अधिक खराब हो जाए तो अपने डॉक्टर को जरूर बताएं।

    मैं कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa+Levodopa) को कैसे स्टोर करूं?

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा को प्रकाश और नमी से दूर कमरे के तापमान पर स्टोर करना बेहतर होता है। कार्बिडोपा + लीवोडोपा को कभी भी बाथरूम या ठंडी जगह में न रखें। मार्केट में कार्बिडोपा + लीवोडोपा के अलग-अलग ब्रांड हैं जिन्हें स्टोर करने के लिए दिशा- निर्देश भी अलग-अलग हो सकते हैं।

    जब भी कार्बिडोपा + लीवोडोपा खरीदें सबसे पहले उसके पैकेज पर लिखे जरूरी निर्देशों को अच्छे से पढ़े या फिर अपने फार्मासिस्ट से इसके बारे में पूछें। सुरक्षा के लिहाज से आपको इसे बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। बिना निर्देश के कार्बिडोपा + लीवोडोपा को टॉयलेट या किसी नाले में न फेकें। अगर यह एक्सपायर हो चुका है या इसका इस्तेमाल नहीं करना है तो इसे नष्ट कर दें। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने फार्मासिस्ट से संपर्क कर सकते हैं।

    यह भी पढ़ें : नॉरफ्लोक्स टीजेड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स, खुराक और सावधानियां

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa+ Levodopa) के इस्तेमाल से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

    अगर आपको कार्बिडोपा या लीवोडोपा से कोई एलर्जी हो या किसी दूसरी तरह की एलर्जी हो तो इस स्थिति में दवा का इस्तेमाल करने से पहले आप अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं। इस प्रोडक्ट में कुछ निष्क्रिय सामग्री होते हैं जिनसे एलर्जी या दूसरे तरह की समस्या हो सकती है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने फार्मासिस्ट से बात करें।

    इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले आप अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं अगर आपको ये सारी बीमारियां हैं जैसे; लिवर की बीमारी, ग्लूकोमा (glaucoma), सांस लेने में दिक्कत (जैसे अस्थमा), हार्ट की बीमारी (जैसे हार्ट अटैक, हार्टबीट का अनियमित होना), किडनी की बीमारी, पेट/आंतों का अल्सर, मेंटल/मूड डिसऑर्डर (जैसे डिप्रेशन, स्क्रिजोफेनिया ), ब्लड डिसऑर्डर, दौरे पड़ना, नींद की समस्या आदि।

    इस दवा के इस्तेमाल से सिर चकराना या ऊंघने की समस्या हो सकती है। इस दवा के इस्तेमाल के दौरान जब तक आप सुनिश्चित ना कर लें कि आप सुरक्षित हैं तब तक आप ना तो ड्राइव करें, ना ही कोई मशीनरी इस्तेमाल करें और ना ही कोई ऐसी एक्टिविटी करें। जिसमें सतर्क रहने की जरूरत हो। एल्कोहॉल का सेवन सीमित मात्रा में करें।

    सर्जरी करवाने से पहले उन सभी प्रोडक्ट (जिनमें प्रिस्क्रिप्शन ड्रग, नॉनप्रिस्क्रिप्शन ड्रग और हर्बल प्रोडक्ट शामिल हों) के बारे में आप अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट को बताएं जिनका इस्तेमाल आप कर रहें हैं।

    क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa+ Levodopa) का इस्तेमाल करना सुरक्षित है?

    प्रेग्नेंसी के दौरान इस दवा का इस्तेमाल तभी करें जब इसकी जरूरत हो। इसके नुकसान और फायदों के बारे में अपने डॉक्टर से चर्चा करें। लीवोडोपा ब्रेस्ट मिल्क में आसानी से प्रवेश कर जाता है लेकिन, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि कार्बिडोपा ब्रेस्ट मिल्क में प्रवेश करता है या नहीं। इसलिए ब्रेस्टफीडिंग कराते समय आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के अनुसार कार्बिडोपा + लीवोडोपा प्रेगनेंसी रिस्क कैटेगरी C (pregnancy risk category C) के अंतर्गत आता है।

    एफडीए प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी का संदर्भ नीचे दिया गया है,

    • A= कोई नुकसान नहीं
    • B= कुछ शोध में कोई नुकसान नहीं
    • C= थोडा नुकसान हो सकता है
    • D= नुकसान का पॉजिटिव प्रमाण
    • X= निषेध (CONTRAINDICATED)
    • N= कुछ पता नहीं

    यह भी पढ़ें- वृद्धावस्था में दवाइयां लेते समय ऐसे रखें ध्यान, नहीं होगा कोई नुकसान

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa +Levodopa) के इस्तेमाल से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    इसके इस्तेमाल से सिर चकराना, सिर हल्का होना, मिचली, उल्टी, भूख ना लगना, नींद की समस्या, असामान्य सपने आना या सिर दर्द आदि हो सकते हैं। अगर ये प्रभाव लंबे समय तक बने रहते हैं या फिर और अधिक खराब स्थिति में पहुंच जाते हैं तो इस बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं।

    इस दवा के इस्तेमाल से सलाइवा , यूरिन या पसीने का रंग और डार्क हो सकता है। इससे आपको कोई नुकसान नहीं होगा लेकिन, आपके कपड़े में दाग हो सकता है।

    सिर चकराने और सिर हल्का होने के खतरे को कम करने के लिए अगर आप बैठे हैं या लेटे हुए हैं तो इस स्थिति में धीरे से उठें।

    याद रखें कि आपके डॉक्टर ने इस दवा को प्रिस्क्राइब किया है क्योंकि वह जानता है इसके साइड इफेक्ट्स की तुलना में इसके फायदे ज्यादा हैं। कई सारे लोगों में इस दवा को इस्तेमाल करने के बावजूद कोई गंभीर साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं।

    इस दवा के इस्तेमाल से कुछ लोग अपने सामान्य एक्टिविटी (जैसे फोन पर बात करते समय या ड्राइव करते समय) के दौरान अचानक सो जाते हैं। कुछ स्थितियों में बिना ऊंघने के ही नींद आ जाती है। कार्बिडोपा/लीवोडोपा के ट्रीटमेंट के दौरान ऐसी नींद की स्थिति हो जाती है भले ही आप लंबे समय से इस दवा का इस्तेमाल कर रहें हों। अगर इस दवा के इस्तेमाल के दौरान आपको नींद आ रही है या आप दिन में भी सो जाते हों तो ऐसी स्थिति में बिना डॉक्टर से सलाह लिए आप ना तो ड्राइव करें और ना ही कोई खतरनाक एक्टिविटी करें। एल्कोहॉल या वो दवाइयां जिनसे ऊंघने की समस्या हो सकती है, इसके लिए आप सावधानी वाले सेक्शन को भी देखें।

    अपने डॉक्टर को बताएं यदि आपको ये सारे साइड इफेक्ट्स महसूस हों तो जैसे; मूवमेंट खराब होना जिसे नियंत्रित ना किया जा सके, पलकों का झपकना/हिलना, बेहोशी, देखने मे बदलाव होना (जैसे धुंधला दिखाई देना या कोई चीज डबल दिखाई देना), आंखों का दर्द, पेट/आंतों में दर्द, मल का काला/ देर से होना, कॉफी जैसे उल्टी का होना, मेंटल/मूड में बदलाव (जैसे उत्तेजित होना, भ्रमित होना, डिप्रेशन, आत्महत्या का विचार आना), इंफेक्शन के लक्षण (जैसे गले की खराश का ठीक ना होना), आसानी से चोट लगना/छिल जाना, थकान आना, हाथों/पैरों का कांपना, असामान्य रूप से किसी चीज की तीव्र इच्छा होना (जुआ खेलना या ज्यादा सेक्स की तीव्र इच्छा का होना)।

    अगर आपको कोई भी गंभीर साइड इफेक्ट्स महसूस हो जैसे सीने में दर्द होना, तो इस स्थिति में आप तुरंत मेडिकल सेवाओं की सहायता लें।

    ये भी पढ़ें : एम्पीसिलिन और सलबैक्टम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    अचानक इस दवा को बंद करने या इसकी खुराक को कम करने से गंभीर स्थिति हो सकती है जिसे न्यूरोलेप्टिक मैलिग्नेंट सिंड्रोम (Neuroleptic malignant syndrome) कहते हैं। आप तुरंत मेडिकल सेवाओं की सहायता लें अगर आपको ये सारे लक्षण महसूस हों जैसे; बुखार, मांसपेशियों में अकड़न, कंफ्यूजन, पसीना आना, तेज/अनियमित हार्ट बीट का होना, तेजी से सांस लेना आदि।

    इस दवा के इस्तेमाल से कभी- कभी एलर्जिक रिएक्शन होते हैं। हालांकि आप तुरंत मेडिकल सेवाओं की सहायता लें अगर आप ये सारे एलर्जिक रिएक्शन नोटिस करते हैं जैसे चकते पड़ना, खुजली/सूजन (खासतौर पर चेहरे/जीभ/गले में), सिर चकराना, सांस लेने में दिक्कत होना आदि।

    सभी लोगों को ये सारे साइड इफेक्ट्स महसूस नहीं होते हैं। यहां पर कुछ साइड इफेक्ट्स नहीं बताए गए हैं। अगर आपको इन साइड इफेक्ट्स की चिंता है तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

    यह भी पढ़ें- बच्चों के पालन-पोषण के दौरान पेरेंट्स न करें ये 5 गलतियां

    कौन सी दवाएं कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa + Levodopa) के साथ नहीं ली जा सकती हैं?

    कुछ दवाइयां इस दवा के साथ इंटरैक्ट कर सकती हैं जैसे एंटीसायकोटिक ड्रग (जैसे क्लोरप्रोमेजाइन, हालोपेरिडोल, थियोरिडाजिन), ब्लड प्रेशर में इस्तेमाल होने वाली दवाइयां (जैसे मेथिलडोपा, रेसरपीन)।

    इस दवा के साथ एमएओ (MAO) इन्हिबिटर लेने से गंभीर ड्रग इंटरैक्शन हो सकता है। इसलिए इस दवा के साथ एमएओ (MAO) इन्हिबिटर (आइसोकार्बाजाइड, लिनेजोलिड, मेथिलीन ब्लू, मोक्लोबेमाईड, फेनलजिन, प्रोकार्बाजिन, ट्रेनिलसाईप्रोमीन) का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ज्यादातर एमएओ (MAO) इन्हिबिटर का इस दवा के इलाज से दो हफ्ते पहले तक इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। हालांकि कुछ एमएओ (MAO) इन्हिबिटर (रेसाजिलिन, सैफीनामाईड, सिलेजिलिन) का आपके डॉक्टर द्वारा मॉनिटरिंग के साथ इस्तेमाल हो सकता है। इस दवा को शुरू करने या बंद करने को लेकर अपने डॉक्टर से पूछें।

    इस दवा का इंटरैक्शन कुछ लैबोरेटरी टेस्ट (जिसमें यूरिन कैटेचोलामीन/ग्लूकोस/कीटोन टेस्ट शामिल हैं) के साथ हो सकता है जिससे टेस्ट का परिणाम गलत हो जाता है। आप डॉक्टर या लैबोरेटरी कर्मी को यह सुनिश्चित करें कि आप किस दवा का इस्तेमाल करते हैं।

    अगर आप वर्तमान में कोई दवा ले रहें हैं तो यह कार्बिडोपा + लीवोडोपा उसके साथ इंटरैक्ट कर सकता है जिससे दवा का एक्शन प्रभावित होगा या फिर गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसको रोकने के लिए आप उन दवाओं की लिस्ट रखें जो डॉक्टर द्वारा पर्चे पर लिखी गई हों या ना लिखी गई हों या हर्बल प्रोडक्ट्स हो और उन्हें डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ शेयर करें। सुरक्षा के लिहाज से आप बिना डॉक्टर के सहमति के ना तो कोई दवा अपने से शुरू करें, ना ही बंद करें और ना ही उसकी खुराक को बदलें।

    क्या कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa + Levodopa) भोजन या एल्कोहॉल के साथ लेना सुरक्षित है?

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा भोजन या एल्कोहॉल के साथ इंटरैक्ट कर सकती है जिससे दवा का एक्शन प्रभावित हो सकता है या फिर गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। अगर भोजन या एल्कोहॉल के साथ कार्बिडोपा + लीवोडोपा का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो डॉक्टर या फार्मासिस्ट से जरूर सलाह लें।

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa + Levodopa) खाने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा आपके स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार इंटरैक्ट कर सकती है। इससे आपकी स्थिति और अधिक खराब हो सकती है या ड्रग का एक्शन प्रभावित हो सकता है। इसलिए अपनी मौजूदा स्वास्थ्य स्थिति के बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताएं।

    यह भी पढ़ें- Calcium : कैल्शियम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    डॉक्टर की सलाह

    नीचे दी गई जानकारी किसी चिकित्सक की सलाह नहीं है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा (Carbidopa + Levodopa) कैसे उपलब्ध है?

    कार्बिडोपा + लीवोडोपा रेगुलर टैबलेट के रूप में आती है। इसके साथ यह कैप्सूल के रूप में भी उपलब्ध है। यह लिक्विड सस्पेंशन के रूप में भी उपलब्ध है जिसे PEG-J ट्यूब की मदद से स्टमक में दिया जाता है। नाजो जेजुनल ट्यूब की मदद से इसे नाक के द्वारा भी दिया जाता है।

    इमरजेंसी या ओवरडोज की स्थिति में क्या करना चाहिए?

    इमरजेंसी या ओवरडोज की स्थिति में अपनी लोकल इमरजेंसी सेवाओं को कॉल करें या फिर अपने नजदीकी इमरजेंसी वार्ड में जाएं।

    क्या करना चाहिए अगर एक खुराक लेना भूल जाएं?

    अगर आप कार्बिडोपा + लीवोडोपा की खुराक लेना भूल जाते हैं तो याद आने पर जल्द से जल्द अपनी खुराक लें। हालांकि, अगर इसके कुछ ही समय बाद आपको अपनी अगली खुराक लेनी हो तो इसे न लें और अपनी नियमित खुराक के अनुसार ही इसका सेवन करते रहें। डबल खुराक ना लें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

    यह भी पढ़ें- बड़े ब्रांड्स की 27 दवाइयां हुईं क्वॉलिटी टेस्ट में फेल

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Anoop Singh द्वारा लिखित · अपडेटेड 19/12/2019

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement