home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Pioglitazone + Glimepiride : पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?|पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?|पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं??|कौन सी दवाएं पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के साथ इंटरैक्शन कर सकती हैं?|आपातकाल या ओवरडोज की स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?
Pioglitazone + Glimepiride : पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?

यह दवा दो दवाओं, पियोग्लीटाजोन और ग्लिमेपिराइड के संयोजन से बनी है। इसका उपयोग टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने, उचित आहार और व्यायाम करने के दौरान किया जाता है। हाई ब्लड शुगर को नियंत्रित करने से किडनी की खराबी, अंधापन, तंत्रिका समस्याओं और यौन कार्य से जुड़ी समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है। सात ही,डायबिटीज के उचित नियंत्रण से दिल के दौरे या स्ट्रोक के खतरे भी कम हो सकते हैं।

पियोग्लीटाजोन दवाओं के एक वर्ग के अंतर्गत आती है जिसे थाईअजोलिडीनेडायोंस या “ग्लिटाजोन” के रूप में जाना जाता है। यह शरीर में इंसुलिन के काम करने की प्रक्रिया को बेहतर बनाने में मदद करती है, जिससे खून में शुगर की मात्रा कम की जा सकती है।

पियोग्लीटाजोन युक्त उत्पादों का उपयोग करने से पहले उसके जोखिम और लाभों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

ग्लिमेपिराइड दवाओं के एक वर्ग से संबंधित है जिसे सल्फोनीलुरेस के रूप में जाना जाता है। यह शरीर के प्राकृतिक इंसुलिन को रिलीज करने का काम करता है।

मैं पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) का इस्तेमाल कैसे करूं?

दिन में एक बार या अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देश के अनुसार दवा की खुराक लें।

दवा की खुराक आपकी स्वास्थ्य स्थिति और उपचार की प्रक्रिया पर निर्भर कर सकती है।

अगर आप इस दवा के साथ कोलीसेवलम का सेवन कर रहे हैं, तो इसकी खुराक लेने के कम से कम 4 घंटे बाद ही कोलीसेवलम की खुराक लें। क्योंकि यह ग्लिमेपिराइड के प्रभाव को कम कर सकता है।

दवा का असर जल्दी हो इसके लिए नियमित तौर पर दवा का सेवन करें। याद रखें कि हर दिन दवा की एक निश्चित समय पर ही लें और इसके प्रभावों की जानकारी अपने डॉक्टर को बताते रहें।

दवा से सफल उपचार के प्रभाव में तीन से चार महीने तक का समय लग सकता है।

डायबिटीज की दवाओं की जगह पर इन दोनों दवाओं को निर्धारित करने से पहले आपका डॉक्टर आपके ब्लड शुगर की जांच करेंगे। इसलिए अपने चिकित्सक के निर्देशों का ध्यानपूर्वक पालन करें।

मैं पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) को कैसे स्टोर करूं?

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड को हमेशा कमरे के तापमान में ही स्टोर करें। इसे बाथरूम या फ्रिज में स्टोर न करें। पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड के अलग-अलग ब्रांड हो सकते हैं, जिन्हें स्टोर करने के दिशा-निर्देश भी अलग-अलग हो सकते हैं। इसलिए दवा के पैक को सावधानी से पढ़ें। सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस दवा को बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से भी दूर रखें।

बिना निर्देश के दवा को टॉयलेट या किसी नाले में न फेकें। अगर यह एक्सपायर हो चुका है या इसका इस्तेमाल नहीं करना है तो इसका इस्तेमाल न करें। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें : Montek LC : मोंटेक एलसी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अगर आपको पियोग्लीटाजोन या ग्लिमेपिराइड से एलर्जी है यै अन्य “ग्लिटाजोन” (जैसे, रोजग्लिटालजोन) या अन्य सल्फोनीलुरेस (जैसे, ग्लिपिजाइड, टोलब्यूमाइड) या अन्य किसी सल्फा ड्रग से एलर्जी है तो इन दवाओं को लेने से पहले, अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को इसके बारे में बताएं। इन उत्पादों में कुछ निष्क्रिय तत्व हो सकते हैं, जो एलर्जी या अन्य समस्याओं की वजह हो सकती है। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

दवा की खुराक लेने से पहले अपने डॉक्टर को अपने स्वास्थ्य स्थिति के बारे में बताएं। अगर आपको पहले कभी या मौजूदा समय में दिल से जुड़ी बीमारी , लिवर से जुड़ी बीमारी , फेफड़ों में सूजन, थायरॉइड की समस्याएं , कुछ हार्मोनल स्थिति, हाइपोनेट्रेमिया, एनीमिया, आंख (रेटिना) की समस्याएं या मूत्राशय के कैंसर जैसी स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में अपने डॉक्टर को बताएं।

खून में बहुत कम या अधिक मात्रा में शुगर होने के कारण आपको धुंधली दृष्टि, चक्कर आना या सुस्ती का एहसास हो सकता है। दवा की खुराक लेने के बाद ड्राइव न करें और न ही मशीनरी का उपयोग करें। साथ ही, ऐसे किसी भी काम या गतिविधी से बचें जिसे करने के लिए अत्यधिक सतर्क रहने की जरूरत होती हो।

इस दवा को लेते समय शराब का सेवन न करें। क्योंकि यह लो ब्लड शुगर (हाइपोग्लाइसीमिया) के खतरे को बढ़ा सकता है।

अगर आपका शरीर तनाव में होगा (जैसे बुखार, संक्रमण, चोट या सर्जरी) तो आपके ब्लड शुगर को नियंत्रित करना कठिन हो सकता है। ऐसे हालातों में अपने चिकित्सक से परामर्श करें। क्योंकि, इस दौरान आपका डॉक्टर आपके उपचार की विधि में परिवर्तन कर सकता है।

दवा की खुराक लेने के बाद धूप में न जाएं। यह दवा आपको धूप प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है। अगर घर से बाहर जा रहें तो पूरे शरीर पर सनस्क्रीन का प्रयोग करें और पूरे शरीर को ढंक लें। अगर धूप के कारण आपको सनबर्न होता है या त्वचा में कोई प्रभाव दिखाई दे तो इसके बारे में तुरंत अपने डॉक्टर को बताएं।

यह दवा महिला रोगियों में हड्डियों के फ्रैक्चर (जैसे, ऊपरी बांह, हाथ, पैर, टखने) के जोखिम को बढ़ा सकती है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए कुछ तरह की शारीरिक गतिविधियों को करते समय सावधानी बरतें।

जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे किडनी की कार्यक्षमता में गिरावट आने लगती है। इस दवा का निकास किडनी द्वारा होता है। इसलिए, बुजुर्गों को इस दवा का उपयोग करते समय लो ब्लड शुगर का खतरा अधिक हो सकता है।

इस दवा के कारण कुछ प्रजनन समस्याओं वाली महिलाओं में पीरियड्स साइकिल (ऑव्युलेशन को बढ़ावा देना) में परिवर्तन का कारण बन सकती है। इस दवा के उपयोग के साथ अगर बर्थ कंट्रोल की दवा का इस्तेमाल करती हैं तो हमेशा किसी अच्छी दवा का इस्तेमाल करें। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

प्रेग्नेंसी के दौरान डॉक्टर आपको इस दवा की सलाह नहीं देंगे। जरूरत होने पर आपका डॉक्टर आपको दूसरे उपचार के तरीकों की सलाह दे सकता है। क्योंकि, ऐसी स्थिति में इसका सेवन होने वाले नवजात शिशु में लो ब्लड शुगर के जोखिम को बढ़ा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें और सभी निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करें।

हालांकि, ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इस दवा का कैसा प्रभाव देखा जा सकता है इसके बारे में अभी उचित जानकारी नहीं है। इसलिए ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इस दवा का उपयोग न करें। जरूरत होने पर अपने डॉक्टर से इसके बारे में बात करें।

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान यह लेना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसके इस्तेमाल करने से महिलाओं को किस तरह की परेशानियां हो सकती है इसके बारे में अभी कोई खास जानकारी नहीं है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें। अगर आप प्रेग्नेंसी के दिनों में इसका सेवन करना चाहती हैं तो अपने डॉक्टर की देख रेख में ही करें।

अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के अनुसार, पियोग्लीटाजोन या ग्लिमेपिराइड की गर्भावस्था जोखिम श्रेणी एन है।

एफडीए की गर्भावस्था जोखिम श्रेणी निम्नलिखित है :

  • ए=कोई जोखिम नहीं
  • बी=कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि इसके कोई जोखिम नहीं है
  • सी=कुछ जोखिम हो सकते हैं
  • डी=जोखिम भरा हो सकता है
  • एक्स=इस बारे में मतभेद है
  • एन=कोई जानकारी नहीं है

और पढ़ें : Amlodipine + Olmesartan : एम्लोडीपिन + ओल्मेसार्टन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं??

सिरदर्द, सुस्ती, डायरिया , मतली, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश या दांत की समस्या हो सकती है। अगर इनमें से कोई भी प्रभाव लगातार बना रहता है या बिगड़ता है, तो अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट को तुरंत बताएं।

याद रखें कि आपके डॉक्टर ने इस दवा को निर्धारित किया है क्योंकि वह इसके लाभ और साइड इफेक्ट्स के जोखिम को बेहतर तरीके से समझते हैं। इस दवा का उपयोग करने वाले कई लोगों पर गंभीर दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।

अपने चिकित्सक को तुरंत बताएं अगर आपको कोई गंभीर दुष्प्रभाव दिखाई दे रहा है, जिसमें दृष्टि समस्याएं (जैसे, रंग पहचानने या रात में देखने की समस्याएं), हड्डियों में फैक्चर, लाल रंग की यूरिन पास होना, बार-बार यूरिन आना , यूरिन करते समय दर्द, भूख कम लगना, पीली आंखें या त्वचा, मानसिक बदलाव (जैसे, भ्रम), दौरे, रक्तस्राव, संक्रमण के लक्षण (जैसे, बुखार, लगातार गले में खराश)।

यह दवा लो ब्लड शुगर (हाइपोग्लाइसीमिया) का कारण बन सकती है। हालांकि, इसकी समस्या तब हो सकती है तब आप उचित मात्रा में कैलोरी का सेवन न करें या अगर आप असामान्य रूप से बहुत ज्यादा एक्सरसाइज करते हैं तो भी इसकी समस्या हो सकती है। लक्षणों में ठंडा पसीने, धुंधली दृष्टि, चक्कर आना, दिल की धड़कन तेज होना, सिरदर्द, बेहोशी, हाथों या पैरों में झुनझुनी और बहुत ज्यादा भूख शामिल हैं।

लो ब्ल्ड प्रेशर के इलाज के लिए ग्लूकोज की गोलियां खाएं। अगर आपके पास ग्लूकोज के अच्छे स्त्रोत नहीं है, तो आप इसकी जगह पर शहद या फलों का रस भी पी सकते हैं। साथ ही अपने स्वास्थ्य के बारे में तुरंत अपने डॉक्टर को भी बताएं। लो ब्लड शुगर को रोकने के लिए, नियमित समय पर भोजन करें। आपको कितनी मात्रा में और किस तरह के भोजन खाने चाहिए इसके बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से पता लगाएं।

हाई ब्लड शुगर (हाइपरग्लाइसीमिया) के लक्षणों में प्यास बढ़ना, बार-बार यूरिन आना, भ्रम होना, उनींदापन, तेजी से सांस लेना और सांस की बदबू शामिल हैं। अगर ये लक्षण होते हैं, तो अपने चिकित्सक को तुरंत बताएं।

इस दवा के इस्तेमाल से ज्यादा गंभीर समस्याएं नहीं देखी जाती हैं। हालांकि, अगर आपको किसी गंभीर एलर्जी के लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को बताएं। जिसमें शामिल हैं: दाने निकलना, खुजली होना, सूजन होना (विशेषकर चेहरे, जीभ, गले), चक्कर आना, सांस लेने में परेशानी होना।

हर कोई इन दुष्प्रभावों का अनुभव नहीं करता है। इसके अलावा ऊपर बताए गए दुष्प्रभावों को अलावा भी अगर किसी तरह के लक्षण दिखाई दे तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : Asthalin : अस्थलीन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कौन सी दवाएं पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के साथ इंटरैक्शन कर सकती हैं?

जेमफाइब्रोजिल या रिफैम्पिन जैसी अन्य दवाएं पियोग्लीटाजोन के प्रभाव को कम या ज्यादा कर सकती हैं।

बीटा-ब्लॉकर दवाएं मेटोप्रोलॉल , प्रोप्रानोलोल, ग्लूकोमा आई ड्रॉप्स जैसे टिमोलोल दिल की धड़कन को तेज होने से रोक सकती हैं। आमतौर पर ऐसा तब महसूस होता है जब आपका ब्लड शुगर बहुत कम हो जाता है। इसके अलावा चक्कर आना, भूख लगना या पसीना आना भी लो ब्लड शुगर के लक्षण हो सकते हैं।

ब्लड शुगर को कई दवाएं प्रभावित कर सकती हैं, जिनके प्रभाव को नियंत्रित करना मुश्किल हो सकता है। ऐसे किसी भी दवा का इस्तेमाल शुरू करने या बंद करने से पहले इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। नियमित तौर पर अपने ब्ल्ड शुगर की जांच करवाते रहें। अगर आपको ब्लड शुगर बढ़ने या घटने के कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो इसके बारे में तुुंरत अपने डॉक्टर को बताएं।

इसके अलावा अगर आप मौजूदा समय में किसी भी दवा का सेवन कर रहे हैं, तो यह उसके साथ भी इंटरैक्शन कर सकता है। जिसके कारण कुछ गंभीर साइड इफेक्ट्स के खतरे भी बढ़ सकते हैं। ऐसी किसी भी स्थिति से बचे रहने के लिए उन सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर का बताएं जिनका सेवन आप करते हैं। जैसे, हर्बल्स या सीधे काउंटर से खरीदी गई दवा।

क्या भोजन या एल्कोहॉल पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के साथ इंटरैक्शन कर सकता है?

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड कुछ तरह के भोजन और एल्कोहॉल के साथ लेने पर इसके काम करने के तरीका बदल सकता है। जिसके कुछ जोखिम भी हो सकते हैं। इसलिए इसके इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।

क्या कोई स्वास्थ्य स्थिति पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड (Pioglitazone + Glimepiride) के साथ इंटरैक्शन कर सकती है?

पियोग्लीटाजोन + ग्लिमेपिराइड का सेवन आपकी स्वास्थ्य स्थिति के साथ क्रिया कर सकती है। यह इंटरैक्शन आपकी स्वास्थ्य स्थिति को खराब कर सकती है। इसलिए आप अपने डॉक्टर को अपनी वर्तमान स्वास्थ्य संबंधित सभी स्थितियों के बारे में जरूर बताएं।

और पढ़ें : Clonazepam : क्लोनाज़ेपाम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

आपातकाल या ओवरडोज की स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

आपातकाल की स्थिति में, अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने निकटतम अस्पताल में जाएं।

कोई खुराक भूलने पर क्या करें?

अगर आप दवा की कोई खुराक भूल गए हैं तो खुराक याद आते ही इसे जल्द से जल्द लें। अगर आपकी अगली खुराक का समय आ गया है, तो छूटी हुई खुराक को रहने दें और अपनी नियमित खुराक निर्धारित समय पर लें। दोहरी खुराक न लें।

[mc4wp_form id=”183492″]

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Glimepiride / Pioglitazone Dosage/https://medlineplus.gov/druginfo/meds/a699016.html/ Accessed 0n 20/05/2020

Pioglitazone-Glimepiride/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5393077/Accessed 0n 20/05/2020

Pioglitazone utilization, efficacy & safety in Indian type 2 diabetic patients: A systematic review & comparison with European Medicines Agency Assessment Report/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5393077/Accessed 0n 20/05/2020

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/09/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड