डायबिटीज के घरेलू उपाय क्या हैं?

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

डायबिटीज क्या है?

डायबिटीज को मेडिकल टर्म में डायबिटीज मेलिटस कहते हैं। यह मेटाबॉलिज्म से जुड़ी बहुत पुरानी और आम बीमारी है। डायबिटीज में आपका शरीर इंसुलिन नाम के हॉर्मोन को बनाने और उसे इस्तेमाल करने की क्षमता खो देता है। डायबिटीज की बीमारी होने पर आपके शरीर में ग्लूकोज की मात्रा अत्यधिक बढ़ जाती है। यह स्तिथि आगे चल कर आंखों, किडनी, नसों और दिल से संबंधित गंभीर बीमारियों को जन्म दे सकती है। आज जानेंगे डायबिटीज से बचने के घरेलू उपाय क्या हैं? किस तरह से अपने जीवनशैली में बदलाव कर इस बीमारी से बचा जा सकता है?

डायबिटीज के घरेलू उपाय क्या हैं?

हमारी तेज-रफ्तार और भागमभाग भरी जिंदगी में डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी बड़े पैमाने पर फैल रही है। कहा जाता है कि भारत में लगभग 50 लाख लोग इस बीमारी के शिकार हैं। बदलते जीवन, अस्वास्थ्यकर जीवनशैली, तनाव और शारीरिक-मानसिक व्यायाम की कमी इस बीमारी के फैलने के कुछ अहम कारण बनते जा रहें हैं। डायबिटीज हमारे स्वास्थ्य को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचा कर हमें अंदर से खोखला कर देती है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसका पता चलने के बाद मरीज को जीवन भर के लिए एंटी-डायबिटिक दवाओं का सहारा लेना पड़ता है। हम यहां डायबिटीज के घरेलू उपाय बता रहे हैं जिनसे डायबिटिक मरीज को रक्त के शुगर स्तर को सामान्य रखने में मदद मिलेगी। 

और पढ़ें: जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

1. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है दालचीनी 

दालचीनी डायबिटीज के घरेलू उपाय के लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है। यह शरीर में नुकसानदायक कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और खून में मधुमेह शर्करा (DIABETIC  शुगर) को कम करती है। चुटकी भर दालचीनी पाउडर को उबाल कर उसकी चाय बना कर पीने से डायबिटीज को नियंत्रण में रखा जा सकता है। दरअसल दालचीनी में मौजूद 11 प्रतिशत पानी, 81 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 4 प्रतिशत प्रोटीन और 1 प्रतिशत फैट शरीर के लिए लाभकारी माना जाता है। 

2. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है करेला

करेला में मौजूद पोषक तत्व रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम करने की खूबी रखता है। करेला पूरे शरीर में न केवल ग्लूकोज मेटाबोलिज्म को कम करता है बल्कि यह इंसुलिन को भी बढ़ाता है। रोजाना सुबह एक गिलास करेला का जूस पीना चाहिए। इसके अलावा अपने खाने में करेले से बनी सब्जी शामिल करके आप उसके ज्यादा से ज्यादा फायदे हासिल कर सकते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार करेले के सेवन से खून भी साफ होता है। 

और पढ़ें: डबल डायबिटीज की समस्या के बारे में जानकारी होना है जरूरी, जानिए क्या रखनी चाहिए सावधानी

3. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है मेथी

मेथी भारतीय रसोई में आमतौर पर इस्तेमाल होती है जिसके कई फायदे हैं। यह मधुमेह को नियंत्रित करने, ग्लूकोज सहनशीलता में सुधार लाने, रक्त शर्करा के स्तर को कम करने और ग्लूकोज पर निर्भर इंसुलिन के स्राव को प्रोत्साहित करने में मदद करती है। शरीर में मौजूद ग्लूकोस लेवल को कम करने के लिए 2 चम्मच मेथी के दाने रात में भिगो कर रख दें और सुबह खली पेट उस पानी को बीज के साथ पी लें। मेथी के दानों एक पाउडर बना कर उसे ठंडे या गरम पानी के अलावा दूध के साथ भी पिया जा सकता है। दरअसल इसमें एंटीइंफ्लमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। कुछ अध्ययन में पाया गया है कि मेथी का सेवन करने से पेट में शुगर का अवशोषण कम हो जाता है और इंसुलिन उत्तेजित हो जाती है, जिससे डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। मेथी की खास बात यह है कि यह डायबिटीज के टाइप-1 और टाइप-2 दोनों में काम आती है।

और पढ़ें: सेहत के लिए शुगर या शहद के फायदे?

4. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है अलसी के बीज (फ्लेक्स सीड)

अलसी का बीज फाइबर से भरपूर होता है। फाइबर पाचन में तो मदद करता ही है साथ ही फैट और शुगर के अवशोषण में भी सहायक सिद्ध होता है। कहा जाता है कि, अलसी के बीज के आटे का सेवन करने से डायबिटीज के मरीजों में शुगर की स्तर लगभग 28 प्रतिशत तक कम हो सकती है। रिसर्च के अनुसार यह शाकाहारी लोगों के लिए वरदान है, क्योंकि मछली में पाया जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड अलसी में मौजूद होता है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स, फायबर और अल्फा लिनोलिक एसिड भी मौजूद होता है, जो शरीर को बीमारियों से लड़ने में सक्षम बनाता है।

5. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है ग्रीन टी

ग्रीन टी में काफी उच्च मात्रा में पॉलीफिनॉल मौजूद होता है। ये पॉलीफिनोल्स एक मजबूत एंटी-ऑक्सीडेंट और हाइपो-ग्लाइसेमिक तत्व माने गए हैं, इससे ब्लड शुगर को मुक्त करने में सहायता मिलती है और शरीर इन्सुलिन का बेहतर ढंग से इस्तेमाल कर पाता है। प्रतिदिन सुबह और शाम ग्रीन टी पीने से आप खुद फर्क महसूस कर सकेंगे। हाल ही में हुए शोध के मुताबिक ग्रीन टी जितना दिमाग को एकाग्रता प्रदान करता है, उससे कहीं ज्यादा शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत देता है। ग्रीन टी डिप्रेशन, अल्सरेटिव कोलाइटिस या क्रोहन रोग, वजन घटना, पेट की बीमारियां, उल्टी, दस्त में फायदेमंद है। इसके अलावा सिरदर्द,  (ऑस्टियोपोरोसिस), पार्किंसंस रोग, दिल और रक्त वाहिकाओं के रोग, डायबिटीज, लो ब्लड प्रेशर, क्रोनिक फैटिग सिंड्रोम (सीएफएस), और गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) जैसे बीमारियों से लड़ने में भी सहायक होती है। 

और पढ़ें: क्या है नाता विटामिन-डी का डायबिटीज से?

6. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है जामुन के बीज:

जामुन के बीज पत्तियां और छाल में भी औषधीय गुण होते हैं। डायबिटीज के मरीजों के लिए इसे वरदान समान माना जाता है। जामुन के बीज भी डायबिटीज कंट्रोल करने में मददगार हैं। जामुन के बीज धो कर अच्छी तरह सूखा लें और अच्छी तरह सूख जाने पर उन्हें बारीक पीस कर पाउडर बना लें। रोजाना सुबह खाली पेट जामुन के बीजों के चूरन को गुनगुने पानी के साथ पीएं। ऐसा नियमित करने से डायबिटीज कंट्रोल में रहेगा। 

7. डायबिटीज के घरेलू उपाय में शामिल है एलोवेरा

एलोवेरा का नाम सुनते ही हम चेहरे और बालों से जुड़ी खूबसूरती बढ़ाने का बेहतर विकल्प मान लेते हैं लेकिन, यह डायबिटीज के मरीज के लिए भी बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसमें विटामिन सी से लेकर कई अन्य नेचुरल लैक्सेटिव पाया जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। एलोवेरा का जूस डायबिटीज के अलावा कब्ज, मसूड़ों की परेशानी और साथ ही पेट के अल्सर जैसी बीमारियों से बचाता है।

अगर आप डायबिटीज या डायबिटीज के घरेलू उपाय से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

नोट : नए संशोधन की डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा समीक्षा

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ecosprin Tablet: इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट क्या है?

इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट क्या है in hindi, इकोस्प्रिन (एस्प्रिन) टैबलेट के उपयोग और साइड इफेक्ट क्या है। Ecosprin Tablet काे सेवन में बरतें सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Mormon Tea: मॉरमर्न टी क्या है?

जानिए मॉर्मन टी की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मॉर्मन टी उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Mormon Tea डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Mona Narang
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

पेरेंट्स आपके काम की बात, जानें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को कैसे करें कंट्रोल

जानिए शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन का प्रभाव in Hindi, शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत कैसे छुड़ाएं, बच्चों में शुगर की आदत।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मार्च 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या है ब्राउन शुगर और वाइट शुगर, जानें चीनी के प्रकार

ब्राउन शुगर और वाइट शुगर में से किसका सेवन करना चाहिए in hindi. कैलोरी की मात्रा कितनी होती है? कौन-कौन से बीमारियों को दूर करने में है सहायक Brown sugar और White sugar.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha

Recommended for you

पैरों में जलन का उपचार/burning sensation in feet

जानें,क्या है पैरों में जलन का कारण ऐसे करें उपचार

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
Published on जुलाई 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
bittle diabetes, ब्रिटल डायबिटीज

ब्रिटल डायबिटीज (Brittle Diabetes) क्या होता है, जानिए क्या रखनी चाहिए सावधानी ?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on मई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
LADA Diabetes - एलएडीए डायबिटीज

एलएडीए डायबिटीज क्या है, टाइप-1 और टाइप-2 से कैसे है अलग

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on मई 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
टी इंफ्यूजन

सिर्फ ग्रीन-टी ही नहीं, इंफ्यूजन-टी भी है शरीर के लिए लाभकारी

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Bhawana Awasthi
Published on मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें