home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Episode 4 : पॉजिटिव एटिट्यूड, थोड़ा सेल्फ डिसिप्लिन और फाइटिंग स्पिरिट, इनसे हरा सकते हैं डायबिटीज या किसी भी बीमारी को

Episode 4 : पॉजिटिव एटिट्यूड, थोड़ा सेल्फ डिसिप्लिन और फाइटिंग स्पिरिट, इनसे हरा सकते हैं डायबिटीज या किसी भी बीमारी को

किसी भी परेशानी से लड़ने के लिए जो पहली चीज काम आती है वह है पॉजिटिव एटिट्यूड। उम्र कितनी भी हो अगर इस एटिट्यूड को अपना लिया तो आप किसी भी बीमारी को मात दे सकते हैं।

वर्ल्ड डायबिटीज डे पर ‘स्वाद से मीठा गया है, जिंदगी से नहीं’ सीरीज के चौथे एपिसोड में हम ऐसे शख्स का इंटरव्यू लेकर आए हैं जो 70 वर्ष की उम्र में भी बीमारियों के (डायबिटीज टाइप 2 और हार्ट डिजीज) के साथ भी लाइफ को एंजॉय कर रहे हैं। ये गंभीर बीमारियां होने के बावजूद भी उनकी लाइफ का फंडा है ‘खाओ और खुश रहो’। वे जिस खुशनुमा तरीके से अपनी जिंदगी जी रहे हैं वह दूसरे लोगों, जो छोटी सी मुश्किल आने पर हताश या निराश हो जाते हैं के लिए मोटिवेशन है। साथ ही हमें यह सीख भी देती है कि अगर हम मुश्किलों का सामना बिना घबराए, सकारात्मक सोच और थोड़े से सेल्फ कंट्रोल के साथ करें तो बड़ी से बड़ी परेशानी का हल निकाला जा सकता है, तो चलिए अब हम उस शख्स से ही जानते हैं कि उन्होंने इस बीमारी के साथ अपनी लाइफ को आसान और प्यारा कैसे बनाया है?

और पढ़ें: सिंथेटिक दवाओं से छुड़ाना हो पीछा, तो थामें आयुर्वेद का दामन

Q-1. चलिए, नाम से शुरू करते हैं!

क्यों नहीं, मेरा नाम जतिंदर भल्ला है और मैं एक रिटायर्ड बिजनेसमैन हूं।

Q-2. आपकी उम्र क्या है?

मेरी उम्र 70 वर्ष है।

Q-3. आपको डायबिटीज की समस्या कब से है?

दिसंबर 2004, यानी पिछले 16 साल से। एक बात और बता दूं इसके साथ ही मुझे हार्ट प्रॉब्लम भी है।

Q-4. आपको किस प्रकार की डायबिटीज है और क्या वो कंट्रोल में रहती है?

मुझे टाइप 2 डायबिटीज है। हां, कुछ महीनों से कंट्रोल में है।

और पढ़ें: शुगर फ्री नहीं! अपनाएं टेंशन फ्री आहार; आयुर्वेद देगा इसका सही जवाब

Q-5. क्या आपको हार्ट और शुगर की बीमारी के चलते डॉक्टर ने किसी प्रकार की स्ट्रिक्ट डायट फॉलो करने के लिए कहा है? अगर हां, तो उसे कैसे फॉलो करते हैं?

ऐसी कोई खास स्ट्रिक्ट डायट नहीं है। बस डॉक्टर ने हार्ट हेल्थ को ध्यान में रखते हुए डीप फ्राइड फूड्स को खाने से मना किया है। साथ ही डायबिटीज के चलते व्हाइट शुगर और रिफाइंड शुगर की मनाही है। डॉक्टर के इन इंस्ट्रक्शन को मैं फॉलो करता हूं।

Q-6. पहले दिन जब आपको पता चला कि आपकी लाइफस्टाइल अब पहले जैसी नहीं रही, तो आपके मन में सबसे पहले क्या ख्याल आया था?

आपको सच बताऊं तो मेरी लाइफस्टाइल में कुछ खास बदलाव नहीं आया है। सब वैसा ही है। मैं एक फाइटर हूं और मुझे अपनी शर्तों पर जीना है, इसलिए थोड़ा परहेज करता हूं, लेकिन काफी हद तक डॉक्टर्स की सभी बातें नहीं मानता। डायबिटीज के बाद मैंने लाइफस्टाइल में जो बदलाव किया है, वो यही है कि मीठा सीमित मात्रा में खाता हूं। आप ही बताइए मीठे के बिना जिंदगी में स्वाद ही कहां है? 😉

और पढ़ें: डायबिटीज रिवर्सल हुआ अब आसान, ट्राय तो करें!

Q-7. अच्छा.. जरा हमें ये बताएं कि डायबिटीज जैसी बीमारी के साथ रहने के बाद भी आप अपनी लाइफ को कैसे एंजॉय करते हैं?

मेरी लाइफ में ज्यादा चेंजेस नहीं आए हैं। मैं अपनी लाइफ को पूरी तरह एंजॉय करता हूं। बस मैंने अपनी लाइफ में वॉक को एड कर लिया है। मैं रोज 1-1.5 घंटे वॉक करता हूं। साथ ही खाने-पीने में भी थोड़ा कॉम्प्रोमाइज करता हूं। यहां पर एक बात कहना चाहूंगा। छोटी-छोटी चीजाें में अगर आप खुशियां ढूंढेंगे और खुश होने के लिए किसी बड़ी उपलब्धि का इंतजार नहीं करेंगे तो जीवन खुशनुमा हो जाएगा। तो आज से ही खुश होने के लिए किसी बड़े सेलिब्रेशन का इंतजार मत करिए और अपने दिमाग से ये टेंशन हटा दीजिए कि मुझे ये बीमारी है या वो बीमारी है।

और पढ़ें: मधुमेह के रोगियों को कौन-से मेडिकल टेस्ट करवाने चाहिए?

Q-8. क्या आपके पास कोई ऐसी ट्रिक है, जिससे आप खाने को हेल्दी वे में ट्विस्ट कर के अपने खाने में मिठास को घोल सकते हैं?

ट्रिक तो नहीं कह सकते पर हां मैंने अपनी डेली डायट में कुछ ट्वीक्स किए हैं। मैं पूरा वेजीटेरियन हूं तो सब्जियां ज्यादा खाता हूं। चावल की जगह चपाती प्रिफर करता हूं। यहां तक कि अब चपाती भी कम ही लेता हूं। पहले मैं 3 चपाती तक खा लेता था, लेकिन अब कुछ सालों से एक ही चपाती लेता हूं खासतौर पर डिनर में। हरी सब्जियां जैसे कि तौरई, लौकी, पालक, शलजम, मैंथी, टिंडा, कद्दू आदि इन्हें ज्यादा खाता हूं। अगर आपने डायट को लेकर इतना सेल्फ डिसिप्लिन कर लिया तो आपको ज्यादा परेशानी नहीं होगी।

एक राज की बात और बताता हूं मेरी वाइफ सर्दियों के सीजन में मुझे बीटरूट का जूस और काले चने का सूप बनाकर पिलाती है यह काफी हेल्दी रहता है। आप भी इसे ट्राय कर सकते हैं। हार्ट और हीमोग्लोबिन के साथ ही ये सभी चीजें डायबिटीज को भी कंट्रोल करने में मदद करती हैं।

दूसरी चीज अब मैं चाय भी फीकी ही पीता हूं। जहां पहले 4-5 कप चीनी वाली चाय हो जाती थीं। वहीं अब 2-3 कप ही पीता हूं वो भी फीकी। इससे भी काफी मदद मिलती है।

Q-9. अच्छा! अब ये सही-सही बताइए कि आप महीने में कितनी बार चीट डे मनाते हैं? क्या खाते हैं?

महीने में 8-10 बार 😉 हालांकि, मेरी फैमिली मानती है कि मैं तकरीबन हर दिन ही चीट डे मनाता हूं और मीठ खाता हूं। खाने के बाद मीठा तो चाहिए ही ना? चाहे कभी आइसक्रीम का स्कूप हो या घर आया बर्फी का डिब्बा। घर में मीठा कुछ ना मिले ऐसा कम ही होता है क्योंकि सभी मीठे के शौकीन हैं। आए दिन कस्टर्ड, हलवा और केक जैसी चीजें मिलती ही हैं। पर कभी अगर घर में कुछ ना रखा हो या ना बने तो उन दिनों के लिए मुझे गुड़ से काम चलाने में भी कोई दिक्कत नहीं है।

Q-10 अच्छा कई बार ऐसा भी होता होगा कि घर में आपके सामने कोई मीठा खा रहा हाेता है, तो उस समय मन में क्या ख्याल आता है?

एक ही सवाल ”मुझे क्यों नहीं मिला भाई” ।

Q-11. मान लीजिए अगर आपके सामने आपकी पसंद की ये चार मिठाइयां हो और आप केवल एक ही चुन सकते हैं, तो क्या चुनेंगे-

A- रस से भरी जलेबी

B- गुलाब जामुन

C- कम मीठे वाली काजू कतली

D- गुड़ वाली मिठाई

कम मीठे वाली काजू कतली इससे ही काम चलाएंगे, क्योंकि कभी-कभी तो थोड़ा परहेज करना पड़ेगा ना 😉

और पढ़ें: Diabetic Eye Disease: मधुमेह संबंधी नेत्र रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और उपाय

Q-12. क्या डॉक्टर ने आपको मेडिसिन लेने की सलाह दी है? अगर हां, तो आप उसे नियमित तौर पर लेते हैं?

हां, मैं दवा रोज लेता हूं। जैसे डॉक्टर रिकमंड करते हैं वैसे ही टाइम टू टाइम बिना किसी लापरवाही के मेडिसिन लेता हूं। अगर हम दवा को समय पर नहीं लेते हैं या एक दो दिन के गेप में लेते हैं तो वह असरकारक नहीं रहती।

Q-13. आपको कैसे पता चलता है, जब आपके शरीर में शुगर का लेवल बढ़ा या कम हुआ है? किस तरह के बदलाव और लक्षण आप महसूस करते हैं?

यूरिन ज्यादा पास होती है और यूरिन में कुछ बदलाव जैसे कि स्मैल और डार्क कलर दिखने लगता है। इससे समझ आ जाता कि शुगर का लेवल बढ़ गया है।

Q-14. क्या आप डायबिटीज कंट्रोल के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करते हैं? अगर आपका जवाब हां है, तो किस प्रकार की एक्सरसाइज करते हैं?

लॉन्ग ईवनिंग वॉक मेरे माइंड और बाडी दोनों के लिए अच्छी है और मैं वही एंजॉय करता हूं। हार्ट पेशेंट होने की वजह से मैं हैवी कार्डियो एक्सरसाइज नहीं कर सकता। इसलिए वॉक ही मेरे लिए ठीक है। इससे मेरी सेहत भी ठीक रहती है।

Q-15. क्या डायबिटीज कभी आपकी मेंटल हेल्थ पर भारी पड़ती है? अगर आपका जवाब हां है, तो अपने आप को मेंटली फिट कैसे रखते हैं?

नहीं, मेरा एटिट्यूड पॉजिटिव है। मुझे इस बात का कोई खास टेंशन नहीं होता।

Q-16. डायबिटीज पेशेंट होने के तौर पर आपकी लाइफ का सबसे कठिन समय कौन सा रहा है?

ऐसा तो कुछ कभी नहीं हुआ। मैंने इस बीमारी को एक्सेप्ट कर लिया है। अब मैं लाइफ में थोड़ा बैलेंस रखता हूं और हमेशा आगे की ओर ही देखता हूं।

और पढ़ें: जानिए इंसुलिन के प्रकार और मधुमेह के रोगियों में इसका उपयोग

Q-17. किसी काम को करते समय आपको ऐसा महसूस होता है क्या कि आप डायबिटिक हैं और आप इसे नहीं कर सकते?

हैवी वेट नहीं उठाता हूं। हालांकि जिसकी जरूरत भी बहुत कम ही पड़ती है। अगर ऐसा कोई मौका आता है तो किसी से मदद लेकर या वेट को दो तीन पार्ट में डिवाइड करके सिचुएशन को मैनेज कर लेता हूं। इसमें कोई खास परेशानी नहीं होती है।

Q-18. जिन्हें अभी-अभी डायबिटीज हुई है, उन्हें आप डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए क्या मैसेज देना चाहेंगे?

मैं तो कहूंगा कि सब कुछ खाओ, लेकिन सीमित मात्रा में और ज्यादा फिक्र मत करो और ऐश करो। जितनी टेंशन लोगे उतनी जल्दी मरोगे हाहा 😉 तो उससे बेहतर है कि खुश रहो, खाओ पियो और मस्त रहो। कुछ फिजिकल एक्टिविटीज जरूर अपने रूटीन में शामिल करें और स्मोकिंग और एल्कोहॉल जैसी चीजें से दूर रहें।

Q-19. डायबिटीज के साथ आपका सबसे बड़ा चैलेंज क्या रहा है?

यही कि आम नहीं खा रहा हूं पिछले 14-15 सालों से।

Q-20. क्या आपको मालूम है कि डायबिटीज को पूरी तरह से रिवर्स किया जा सकता है?

हां पता है, लेकिन मैं शुगर लेवल को बढ़ने नहीं देता हूं।

Q-21. आप अपनी लाइफ का मोटो हमारे साथ शेयर करें।

खाओ पियो और लाइफ को एंजॉय करो। जियो और जीने दो। यही मेरी लाइफ का मोटो है और मैं हमेशा इसे फॉलो करता हूं। खुश रहो मरना तो सभी को है एक दिन।

अब तो आप इस इंटरव्यू को पढ़कर समझ ही गए होंगे कि थोड़े से डिसिप्लिन और माइंडफुलनेस से किसी भी बीमारी को मैनेज किया जा सकता है। फिर चाहे वह हार्ट डिजीज हो या टाइप 2 डायबिटीज। बात बस इतनी सी है कि हमें हिम्मत नहीं हारना है।

थॉमस फुलर के अनुसार, ”बीमारी आने तक स्वास्थ्य का महत्व पता नहीं चलता” इसलिए बीमारी आने का इंतजार न करते हुए पहले ही स्वास्थ्य के महत्व को समझ लिया जाए तो बेहतर है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए टाइम पर सोना टाइम पर उठना, हेल्दी फूड खाना और एक्सरसाइज करना ये तीन बेसिक हैं। अगर इन्हें ही रूटीन में फॉलो कर लिया जाए तो कई बीमारियों से बचा जा सकता है।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह इंटरव्यू सीरीज पसंद आ रही होगी और डायबिटीज का सामना कैसे करना चाहिए इससे संबंधित जरूरी जानकारियां मिल रहीं होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Manjari Khare द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/11/2020
x