backup og meta

CD4 Count : सीडी 4 काउंट क्या है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 13/12/2019

CD4 Count : सीडी 4 काउंट क्या है?

परिचय

सीडी 4 काउंट क्या है?

सीडी 4 काउंट ब्लड का मेडिकल टेस्ट है। इस टेस्ट को टी-सेल टेस्ट (T-cell Test) भी कहा जाता है। जिससे एचआईवी (HIV) का पता लगाया जाता है। आसान भाषा में इसे एचआईवी टेस्ट की एक प्रक्रिया कह सकते हैं। सीडी 4 कोशिकाएं सफेद रक्त कोशिकाओं (White Blood Cells) का प्रकार है। जो संक्रमण से शरीर की सुरक्षा करने का काम करता है। सीडी 4 कोशिकाओं को टी-लिम्फोसाइट्स (T-lymphocytes), टी-कोशिकाएं (T-cells) या टी-सहायक कोशिकाएं (T-helper cells) भी कहते हैं। 

जब किसी व्यक्ति को एड्स होता है तो एचआईवी के वायरस सीधे सीडी 4 कोशिकाओं को संक्रमित करते हैं।  इसके बाद दिन बदिन सीडी 4 कोशिकाओं की संख्या खून में कम होती जाती है और एचआईवी बढ़ता जाता है। सीडी 4 काउंट का कम होना आपके कमजोर इम्यून सिस्टम को दर्शाता है। जिससे आप किसी अन्य संक्रमण की चपेट में बहुत जल्दी आ सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : HIV test: जानें क्या है एचआईवी टेस्ट?

सीडी 4 काउंट क्यों किया जाता है?

सीडी 4 काउंट टेस्ट को डॉक्टर तब कराने के लिए कहते हैं जब आपका इम्यून सिस्टम कमजोर मालूम पड़ता है। इसके साथ ही अगर लिम्फ नोड्स में किसी तरह का संक्रमण हो तो भी सीडी 4 काउंट टेस्ट होता है। वहीं, एचआईवी एड्स के संक्रमण की स्थिति को जानने के लिए डॉक्टर सीडी 4 काउंट कराते हैं। एंटी-एचआईवी थेरिपी देने के दो या आठ हफ्ते बाद सीडी 4 काउंट दोबारा करा सकते हैं। ऐसा इसलिए कराते हैं कि पता चल सके कि एंटी-एचआईवी थेरिपी मरीज पर असर कर रही है या नहीं। वहीं, एचआईवी एड्स की ट्रीटमेंट एक बार शुरू होने के बाद डॉक्टर सीडी 4 काउंट हर तीसरे या चौथे महीने कराने के लिए कहते हैं।

यदि कोई अंग प्रत्यारोपण करना हो तो उसके लिए आपको सीडी 4 काउंट की भी आवश्यकता पड़ सकती है। अंग प्रत्यारोपण वाले रोगी विशेष दवाएं लेते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली नए अंग को प्रभावित तो नहीं करेगी। ऐसे रोगियों के लिए लो सीडी 4 काउंट टेस्ट सही है।

यह भी पढ़ें : एचआईवी (HIV) से पीड़ित महिलाओं के लिए गर्भधारण सही या नहीं? जानिए यहां

जोखिम

सीडी 4 काउंट करवाने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

सीडी 4 काउंट सुबह के समय कम और शाम के वक्त ज्यादा रहता है। ऐसे में कभी-कभी सीडी 4 काउंट टेस्ट में समस्या आती है। वहीं, निमोनिया, इंफ्लूएंजा, हर्पिस सिंपलेक्स वायरस इंफेक्शन जैसी बीमारियां सीडी 4 काउंट की रिपोर्ट को भी प्रभावित करती हैं। साथ ही कैंसर में कीमोथेरिपी भी सीडी 4 काउंट को कम कर सकती है। वहीं, अगर दूसरी तरफ बात की जाए एचआईवी की तो सीडी 4 काउंट हमेशा ये नहीं बता सकता है कि मरीज के शरीर की क्रियाएं कैसे हो रही हैं? उदाहरण के तौर पर, कुछ लोग जिनका सीडी 4 काउंट ज्यादा है वे फिर भी हमेशा बीमार रहते हैं और वहीं, कुछ लोग जिनका सीडी 4 काउंट कम है फिर भी वे कम बीमार रहते हैं व काम अच्छे से करते हैं। 

यह भी पढ़ें : इन वजहों से कम हो जाता है स्पर्म काउंट, जानिए बढ़ाने का तरीका

सीडी 4 काउंट के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

सीडी 4 काउंट में समस्याएं बहुत कम हैं। लेकिन, फिर भी आपको उससे जुड़ी संभावित समस्याओं के बारे में पता होना चाहिए। इसमें रिस्क उनके लिए ज्यादा बढ़ जाता है जो लोग संक्रमित होते हैं। उन्हें निम्न समस्या हो सकती है :

यह भी पढ़ें : एचआईवी (HIV) को हटाने के लिए वैज्ञानिकों ने खोजा ‘किल स्विच’ (kill switch)

डॉक्टर से संपर्क कब करें?

सीडी 4 काउंट टेस्ट कराने के बाद होने वाले रिस्क से अगर ज्यादा समस्या होती है तो आप अपने डॉक्टर से मिलें। क्योंकि सीडी 4 काउंट टेस्ट कराने वाले व्यक्ति का प्रतिरक्षा तंत्र पहले से ही कमजोर है इसलिए उसमें संक्रमण का खतरा बहुत ज्यादा हो सकता है। ऐसे में परेशानी ज्यादा हो या कम डॉक्टर से परामर्श ले लें। 

प्रक्रिया

सीडी 4 काउंट के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

सीडी 4 काउंट टेस्ट कराने से पहले आपको काउंसलर से मिलना चाहिए। क्योंकि जब डॉक्टर सीडी 4 काउंट टेस्ट कराने के लिए कहते हैं तो मरीज मानसिक तौर पर काफी आहत हो जाता है कि उसे एचआईवी का टेस्ट कराने के लिए कहा गया है। इस स्थिति में मरीज को एक काउंसलर की जरूरत पड़ती हा ताकि वह उसे इस टेस्ट का महत्व समझा सके। साथ ही रिपोर्ट के पॉजिटिव आने के बाद जीवनशैली में सुधार के लिए प्रेरित कर सके। 

यह भी पढ़ें : 11 महीने और महाराष्ट्र में 2400 से ज्यादा लोगों की मौत, जानिए क्या है कारण

सीडी 4 काउंट में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

सीडी 4 काउंट टेस्ट की प्रक्रिया बेहद आसान है :

  • सबसे पहले हेल्थ प्रोफेशनल आपके बाजू (Upper Arm) में एक इलास्टिक बैंड बांधेंगे। जिससे आपके खून का प्रवाह रूक जाएगा। 
  • फिर जहां से खून निकालना होगा वहां पर एल्कोहॉल से साफ करते हैं। 
  • आपके हाथ की नस में सुई डाल कर खून निकाल लेते है। 
  • निकाले हुए खून को एक ट्यूब में भर कर सुरक्षित रख देंगे। 
  • जहां से खून निकालते हैं, वहां पर रूई से दबा देते हैं ताकि खून बहना बंद हो जाए।
  • संक्रमण से बचाने के लिए खून निकाले गए स्थान पर पट्टी बांधेंगे। 

सीडी 4 काउंट के बाद क्या होता है?

सीडी 4 काउंट के दौरान बाजू पर बांधी गई पट्टी आपको टाइट महसूस हो सकती है। जिसका असर कुछ मिनटों बाद तक रहता है। वहीं, सूई जब आपके नसों में डाली जाती है तो आपको कुछ हल्का सा चुभने जैसा एहसास होगा। किसी भी तरह की समस्या होने पर आप हेल्थ प्रोफेशनल से तुरंत बात करें। 

यह भी पढ़ें : सेफ सेक्स से अनचाही प्रेग्नेंसी तक : जानिए कंडोम के 5 फायदे

रिजल्ट को समझें

सीडी 4 काउंट के रिजल्ट का क्या मतलब है?

सीडी 4 काउंट का रिजल्ट मिलने में कुछ घंटों या एक दिन का समय लग सकता है। लैबोरेट्री आपकी रिपोर्ट डॉक्टर के पास भेजती है। जब डॉक्टर आपको रिपोर्ट समझाने के लिए बुलाए तो आप अपने परिवार के किसी सदस्य के साथ जाएं। ताकि आप और आपके परिवार के सदस्य रिपोर्ट को अच्छे से समझ लें। वहीं, बता दें कि सीडी 4 काउंट की रिपोर्ट हॉस्पिटल और लैबोरेट्री के तरीकों पर निर्भर करती है। इसलिए आप अपने डॉक्टर से टेस्ट रिपोर्ट के बारे में अच्छे से समझ लें। 

यह भी पढ़ें: Barium Swallow: बेरियम स्वालो टेस्ट क्या है?

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें। 

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 13/12/2019

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement