स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) का कनेक्शन है बहुत पुराना, बचने के लिए इन उपायों को होगा अपनाना

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) का कनेक्शन है बहुत पुराना, बचने के लिए इन उपायों को होगा अपनाना

    तंबाकू का सेवन बॉडी के हर अंग को प्रभावित करता है। यह कई प्रकार के रिस्क और कॉम्प्लिकेशन का कारण भी बन सकता है। स्मोकिंग पूरे कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम को प्रभावित करती है जिसमें हार्ट, ब्लड और ब्लड वेसल्स शामिल है। यहां तक कि स्मोकिंग पूरे कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम को प्रभावित करती है। ऐसा कह सकते हैं कि स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) एक दूसरे से कनेक्टेड हैं। स्मोकिंग के कार्डियोवैस्कुलर साइड इफेक्ट्स गंभीर हो सकते हैं। समय के साथ ये गंभीर हृदय स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों जैसे कि स्ट्रोक और हार्ट फेलियर का कारण बन सकते हैं। इस आर्टिकल में बताया जा रहा है कि स्मोकिंग और हार्ट डिजीज का क्या संबंध है।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease)

    कार्डियोवैस्कुलर डिजीज उन बीमारियों के लिए ब्रॉड टर्म है जो हार्ट और ब्लड वेसल्स को प्रभावित करती हैं। चूंकि कार्डियोवैस्कुलर डिजीज में हार्ट और ब्लड वेसल्स से जुड़ी बीमारियां शामिल हैं इसलिए स्मोकिंग से जुड़े ज्यादातर हार्ट रिलेटेड मुद्दे इस केटेगरी में आते हैं। अगर स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) की बात की जाए तो स्मोकिंग कई बीमारियों का कारण बन सकती है।

    और पढ़ें: Heart disease and exercise: क्या एक्सरसाइज से हार्ट डिजीज को रोका या रिवर्स किया जा सकता है?

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: हाय ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure)

    हाय ब्लड प्रेशर तब होता है जब आपकी आर्टरीज में ब्लड बहुत अधिक फोर्स से फ्लो होता है। इसे हायपरटेंशन भी कहा जाता है। सिगरेट के धुएं में निकोटीन होता है जो हाय ब्लड प्रेशर का कारण बनता है। निकोटीन के नुकसानदायक रसायन है जो ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है।

    एथेरोस्केलेरोसिस (Atherosclerosis)

    एथेरोस्केलेरोसिस में आर्टरीज संकरी हो जाती है और उनमें प्लाक का बिल्ड अप हो जाता है। प्लाक कोलेस्ट्रॉल, फैट जैसे सब्सटेंस से मिलकर बनता है। प्लाक ब्लड फ्लो को रोककर ब्लड को दूसरे अंगों में पहुंचने से रोकता है और यह इंफ्लामेशन का कारण बनता है। सिगरेट का धुंआ इंफ्लामेशन को बढ़ाकर एथेरोस्केलेरोसिस को बढ़ाने का काम करता है। इंफ्लामेशन कोलेस्ट्रॉल और प्लाक बिल्डअप का कारण बनता है जो आर्टरीज में जमा हो जाता है। साथ ही स्मोकिंग हायपरटेंशन को भी बढ़ाती हे जो एथेरोस्केलेरोसिस के जोखिम को बढ़ाने का काम करती है।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: एरिथमिया (Arrhythmia)

    एरिथमिया एक अनियमित हार्टबीट की समस्या है। जिसे असामान्य हार्ट रिदम भी कहा जाता है। स्मोकिंग कार्डिएक फाइब्रोसिस या हृदय की मांसपेशियों में घाव का कारण बनती है। यह अनियमित दिल की धड़कन और तेज दिल की धड़कन का कारण बनती है जिसे टेकीकार्डिया (Tachycardia) कहा जाता है। सिगरेट में मौजूद निकोटिन हार्ट रेट को बढ़ा सकता है जो टेकीकार्डिया (Tachycardia) का कारण बनता है। स्मोकिंग और हार्ट डिजीज यह कनेक्शन यहां भी स्थापित होता है।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: कोरोनरी हार्ट डिजीज (Coronary Heart disease)

    कोरोनरी हृदय रोग (सीएचडी) तब होता है जब हृदय में धमनियां, जिन्हें कोरोनरी धमनियां कहा जाता है, हृदय में पर्याप्त रक्त नहीं ला पाती हैं। इसे इस्केमिक हृदय रोग या कोरोनरी धमनी रोग भी कहा जाता है। धूम्रपान एथेरोस्क्लेरोसिस और उच्च रक्तचाप के माध्यम से सीएचडी का कारण बन सकता है।

    समय के साथ, एथेरोस्क्लेरोसिस कोरोनरी धमनियों में प्लाक का निर्माण करता है, जिससे रक्त का गुजरना मुश्किल हो जाता है। उच्च रक्तचाप कोरोनरी धमनियों को भी नुकसान पहुंचाता है, जिससे वे और भी संकरी हो जाती हैं। इसके अतिरिक्त, सिगरेट के धुएं में मौजूद रसायन रक्त को गाढ़ा कर सकते हैं, जिससे थक्के बन सकते हैं जो कोरोनरी धमनियों को अवरुद्ध कर सकते हैं।

    और पढ़ें: Medications for Coronary Artery Disease: कोरोनरी आर्टरी डिजीज के लिए दवा कौन-कौन सी प्रिस्क्राइब की जा सकती है?

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज : स्ट्रोक (Stroke)

    धूम्रपान प्लाक और थक्कों के निर्माण को बढ़ावा देता है, जो पूरे शरीर में रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध कर सकता है। यदि यह मस्तिष्क में होता है, तो यह स्ट्रोक का कारण बन सकता है। स्ट्रोक या ब्रेन अटैक तब होता है जब मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बाधित हो जाता है। यह तब होता है जब मस्तिष्क में रक्त वाहिका अवरुद्ध हो जाती है या फट जाती है। बदले में, मस्तिष्क को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: दिल का दौरा (Heart attack)

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज

    यदि धूम्रपान हृदय में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध करता है, तो इससे दिल का दौरा पड़ सकता है। इसे मायोकार्डियल इंफार्क्शन भी कहा जाता है। पर्याप्त ऑक्सीजन युक्त रक्त के बिना, हृदय की मांसपेशियां मरने लगती हैं।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: दिल की धड़कन रुकना (Heart failure)

    दिल की विफलता तब होती है जब हृदय शरीर में पर्याप्त रक्त पंप करने में असमर्थ होता है। कई स्थितियां दिल की विफलता का कारण बन सकती हैं। धूम्रपान से संबंधित कारणों में सीएचडी और अतालता शामिल हैं। इसलिए, चूंकि धूम्रपान इन स्थितियों में योगदान देता है, इससे दिल की विफलता का खतरा भी बढ़ जाता है।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: बाहरी धमनी की बीमारी (Peripheral arterial disease)

    परिधीय धमनी रोग (पीएडी) तब होता है जब हाथ, हाथ, पैर और पैरों तक रक्त पहुंचाने के लिए धमनियां बहुत संकीर्ण हो जाती हैं। धूम्रपान सूजन और एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण पीएडी को जन्म दे सकता है। यह ऑक्सीजन युक्त रक्त को आपके अंगों तक पहुंचने से रोक सकता है।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: एब्डॉमिनल एऑर्टिक एन्यूरिज्म (Abdominal aortic aneurysm)

    महाधमनी एक प्रमुख धमनी है जो पूरे शरीर में रक्त पहुंचाती है। यह एब्डोमिन में स्थित है। सिगरेट के धुएं में मौजूद रसायन महाधमनी में प्लाक के गठन, सूजन और संकुचन को बढ़ा सकते हैं। नतीजतन, महाधमनी एक उभरा हुआ या कमजोर स्थान विकसित कर सकती है जिसे उदर महाधमनी धमनीविस्फार (Abdominal aortic aneurysm) कहा जाता है। यह समय के साथ बड़ा हो सकता है।

    अगर यह फूटता है तो जीवन के लिए खतरा हो सकता है। उदर महाधमनी धमनीविस्फार समय के साथ बड़ा हो सकता है। अगर यह फट जाता है, तो यह जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

    और पढ़ें: हार्ट अटैक और हार्ट फेलियर में क्या होता है अंतर, जानिए यहां

    स्मोकिंग छोड़ने का हार्ट पर क्या प्रभाव पड़ता है?

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) का कनेक्शन समझने के बाद ये आप समझ ही गए होंगे कि स्मोकिंग छोड़कर आप अपने दिल को कई गंभीर बीमारियों से बचा सकते हैं। स्मोकिंग को छोड़ने से निम्न फायदे हो सकते हैं।

    स्मोकिंग और हार्ट डिजीज: हार्ट रेट कम करें

    धूम्रपान आपके रक्तचाप और हृदय गति को बढ़ाता है। हालांकि, एफडीए के कुछ अध्ययनों के अनुसार, धूम्रपान बंद करने के केवल 20 मिनट में, आपकी हृदय गति सामान्य स्तर तक गिर जाएगी।

    आपके दिल में बेहतर रक्त प्रवाह

    सिगरेट के धुएं में कार्बन मोनोऑक्साइड होता है, जिससे आपके दिल तक पर्याप्त ऑक्सिजन पहुंचना मुश्किल हो जाता है, लेकिन 12 घंटों के बाद धूम्रपान बंद करने के बाद, कुछ अध्ययनों के अनुसार, आपके रक्त में कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर सामान्य हो जाएगा। इससे आपके दिल तक ज्यादा ऑक्सीजन पहुंच सकेगी।

    दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम

    जैसे ही आपका रक्तचाप सामान्य स्तर पर लौटता है, आपके दिल के दौरे का खतरा भी कम हो जाएगा। यह धूम्रपान बंद करने के 12 से 24 घंटे के भीतर शुरू हो जाता है।

    कोरोनरी हृदय रोग का कम जोखिम

    धूम्रपान छोड़ने के 1 साल बाद, कोरोनरी हृदय रोग का खतरा 50 प्रतिशत कम हो जाता है। 15 वर्षों के बाद, आपका जोखिम लगभग धूम्रपान न करने वाले के समान होगा।

    स्ट्रोक का कम जोखिम

    धूम्रपान छोड़ने के 4 साल बाद आपके स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है। आपका जोखिम लगभग धूम्रपान न करने वाले के जोखिम के समान ही होगा। धूम्रपान कैसे छोड़ें
    धूम्रपान छोड़ना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इसके लिए कड़ी मेहनत और प्रयास की आवश्यकता होती है। जाहिर है, यह जानना मुश्किल हो सकता है कि कहां से शुरू करें। लेकिन एक डॉक्टर आपके लिए कारगर योजना बनाने में मदद कर सकता है। आम रणनीतियों में शामिल हैं:

    निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी

    निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी (NRT) का उपयोग क्रेविंग को कम करने और वापसी के लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए किया जाता है। इसमें एक उत्पाद शामिल है जो विशिष्ट मात्रा में निकोटीन प्रदान करता है।

    और पढ़ें: हार्ट फेलियर के अर्ली सिम्प्टम्स का ज्ञान, बचा सकता है आपकी या किसी अन्य की जान

    काउंसिलिंग

    एक काउंसलर जो धूम्रपान बंद करने में माहिर है, आपकी मदद कर सकता है:

    • धूम्रपान बंद करने की योजना बनाएं
    • लालसा से निपटना होना
    • विड्रॉल के कारण होने वाले तनाव को प्रबंधित करें
    • मोटिवेटेड रहे
    • सर्वोत्तम परिणामों के लिए, दवा के अलावा परामर्श का प्रयास करने की अनुशंसा की जाती है।

    उम्मीद करते हैं कि आपको स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) के कनेक्शन से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में स्मोकिंग और हार्ट डिजीज से जुड़ा अन्य कोई सवाल है, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/02/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड