home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया, दोनों में से ज्यादा से खतरनाक कौन सा है?

निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया, दोनों में से ज्यादा से खतरनाक कौन सा है?

निमोनिया स्ट्रेप्टोकोकस बैक्टीरिया (Streptococcus Bacteria) के कारण होने वाला डिजीज है। यह फेफड़ों के वायुमार्ग में वायरल बैक्टीरियल या फंगल के कारण होने वाल इंफेक्शन है। वैसे तो निमोनिया के कई प्रकार होते हैं, पर आज हम बात करेंगे निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया (Pneumonia and Walking Pneumonia) की। वॉकिंग निमोनिया एक नॉन मेडिकल टर्म है। इसके लक्षण निमोनिया के मुकाबले काफी हल्के होते हैं। जिसे मेडिकल टर्म में एटिपिकल निमोनिया (Atypical pneumonia) कहते हैं। निमोनिया के लक्षण मरीज में कई दिनों तक नजर आ सकते हैं। कुछ गंभीर मामलों में अस्पताल में भर्ती हाेने की भी जरूरत पड़ सकती है। निमोनिया के संक्रमण होने के कई कारण हो सकते हैं। इनके कारणों को जानने से पहले आइए जानते हैं कि निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया (Pneumonia and Walking Pneumonia) के बीच संबंध क्या है?

और पढ़ें: कहीं आप भी तो नहीं कर रहे कोरोना वायरस को निमोनिया समझने की भूल!

निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया में क्या संबंध है? (Pneumonia and Walking pneumonia)

निमोनिया एक प्रकार का लंग इंफेक्शन (Infection) है, जोकि फेफड़ों में हवा के छोटे थैली को प्रभावित करता है। जिसके कारण फेफड़े में फ्लूइड (Fluid) और मवाद (Pus) भरने लगता है। जिस कारण फेफड़ों में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का आदान-प्रदान सुचारु रूप से नहीं हो पाता है। निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया दोनों ही फेफड़ों के संक्रमण हैं – वॉकिंग निमोनिया, सामान्य निमोनिया की तुलना में कम गंभीर होता है। इसके अलावा, वाॅकिंग निमोनिया की तुलना में निमोनिया के मरीजों में जान का खतरा ज्यादा होता है। निमाेनिया के लक्षण (Symptoms of pneumonia) भी ज्यादा गंभीर होते हैं, जैसे कि निमोनिया में मरीज को काफी तेज बुखार आता है और मरीज को सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। लेकिन वॉकिंग निमोनिया में मरीज को हल्का बुखार ही आता है। इसके लक्षण इतने ज्यादा गंभीर नहीं होते हैं। इन दोनों को जानने के लिए पहले आप इन दोनों के बीच को अंतर को समझें।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (Centers for Disease Control and Prevention (CDC) की रिसर्च के अनुसार निमोनिया की तुलना में वॉकिंग निमोनिया के मरीजों की रिकवरी जल्दी होती है। इसलिए यह नियमोनिया की तुलना में कम खतरनाक होते हैं।

और पढ़ें: गुड न्यूज निमोनिया की पहली स्वदेशी वैक्सीन हो गई है तैयार, डीसीजीआई ने दिया ग्रीन सिग्नल

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया (Pneumonia and Walking Pneumonia)

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया के लक्षण (Pneumonia and Walking pneumonia Symptoms)

जैसा कि आपने निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया (Pneumonia and Walking Pneumonia) के बीच के अंतर को आपने जाना। अब दोनों के लक्षणों काे जानते हैं। वाॅकिंग निमोनिया के लोगों को अलग-अलग लक्षण नजर आ सकते हैं। वॉकिंग निमोनिया के कुछ लक्षण निमोनिया से मिलते हुए भी हो सकते हैं। लेकिन दोनों के बीच लक्षणों में जो अंतर है, वो इस प्रकार हैं, जानिए: गंभीर मामलों में रोगी को अस्पताल में भर्ती होने की जरूर पड़ सकती है:
वॉकिंग निमोनिया के लक्षणों में शामिल हैं:

Quiz: क्यों जरूरी है निमोनिया की रोकथाम?

निमोनिया के लक्षण कुछ इस प्रकार है:

  • तेज बुखार आना (High fever)
  • थकान महसूस होना (Fatigue)
  • खांसी आना (cough)
  • खांसी के साथ सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होना (Chest pain, especially with deep breathing or coughing)
  • सिरदर्द होना
  • सांस लेने में दिक्कत (Shortness of breath)
  • गले में खराश (Sore throat)

और पढ़ें: बच्चे में वॉकिंग निमोनिया: कैसे बचाएं अपने बच्चों को इस समस्या से

निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया के कारण (Pneumonia and Walking pneumonia Causes)

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया दोनों ही रेस्पिटरेटरी में होने वाला इंफेक्शन है, जोकि अलग-अलग बैक्टेरिया के कारण हो सकते हैं, जैसे कि:

वॉकिंग निमोनिया (Walking pneumonia)

वॉकिंग निमोनिया आमतौर पर माइकोप्लाज्मा निमाेनिया (Mycoplasma pneumoniae) नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। अन्य बैक्टीरिया जो वॉकिंग निमोनिया का कारण बन सकते हैं उनमें शामिल हैं:

  • क्लैमाइडोफिला निमोनिया (Chlamydophila pneumoniae)
  • लीजियोनेला निमोनिया (Legionella pneumoniae), जो लेगियोनेरेस रोग (Legionnaires’ disease) का कारण बनता है, एक अधिक गंभीर प्रकार का वॉकिंग निमोनिया।

निमोनिया (Pneumonia)

जबकि निमोनिया बैक्टीरियल इंफेक्शन (Bacterial infection) के कारण होता है। निमोनिया में वायरस, बैक्टीरिया या कवक शामिल हो सकते हैं। बैक्टीरियल निमोनिया का सबसे आम कारण स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया (Streptococcus pneumoniae) नामक बैक्टीरिया है, जिसमें हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा (Haemophilus influenza) दूसरा सबसे आम कारण है।

और पढ़ें: Pneumonia: निमोनिया क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपाय

निमोनिया और वॉकिंग निमोनिया को बढ़ाने वाले रिस्क फैक्टर (Risk Factor)

निमोनिया को बढ़ाने वाले कुछ रिस्क फैक्ट इस प्रकार हैं, जैसे कि:

  • यह छोटे बच्चे को जल्दी होता है
  • 60 साल अधिक उम्र वाले लोगों में इसके होने का खतरा ज्यादा होता है
  • अस्थमा पेशेंट को (Asthma)
  • अधिक स्मोकिंग करने वालो में (Smoking)
  • प्रदूषण की समस्या अधिक होने पर

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया की जांच (Pneumonia and Walking pneumonia Diagnosis)

वैसे वॅाकिंग निमोनिया के शिकार व्यक्ति को बहुत की हल्के लक्षण होने पर मेडिकेशन की सलाह देते हैं। लेकिन कुछ मामलों में और निमोनिया में डॉक्टर कुछ जांच की सलाह दे सकते हैं, जैसे कि:

और पढ़ें: बच्चे में वॉकिंग निमोनिया: कैसे बचाएं अपने बच्चों को इस समस्या से

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया उपचार (Pneumonia and Walking pneumonia Treatment)

निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया के उपचार की बात करें तो वॉकिंग निमोनिया में हल्के लक्षण दिखते हैं, तो मरीज घर पर आसानी से ठीक हो सकता है। लेकिन निमोनिया में डॉक्टर द्वारा मेडिकेशन और कई स्थितियों में अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होती है। इसके अलावा डॉक्टर आपको ज्यादा से ज्यादा हायड्रेट रहने की सलाह देगें। इसके अलावा डॉक्टर निमोनिया में बुखार आने पर आपको कुछ एंटीबॉयोटिक्स की सलाह दे सकते हैं, जैसे कि:
  • सांस की दिक्कत होने पर ऑक्सिजन लगा सकते हैं
  • इंट्रावेनस फ्लूइड
  • ब्रिदिंग ट्रीटमेंट
  • सूजन को कम करने के लिए कोर्टिकोस्टेरोइड
  • ओरल और आईवी एंटीबायोटिक दवाएं

वॉकिंग निमोनिया यानि कि एपीटिकल निमोनिया की तुलना में निमोनिया में मरीज की स्थिति ज्यादा गंभीर होती है। गंभीर स्थिति महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से मिलें। घर पर ही खुद इलाज करने से बचें। कुछ मामलों में इसके गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

और पढ़ें: Pneumonia: निमोनिया क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपाय

वाॅकिंग निमोनिया में मेडिकेशन आपके लक्षणों पर निर्भर करता है। इसके अलावा डाॅक्टर आपको कुछ सलाह दे सकते हैं, जैसे कि:

  • पानी पीने और अपने आप को हायड्रेट रखने की (Drinking fluids)
  • डाॅक्टर लक्षणों को कम करने के लिए ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) एंटीथिस्टेमाइंस (Over-the-counter antihistamines) और खांसी की दवाएं दे सकते हैं।
    इसके अलावा, डॉक्टर बुखार कम करने वाली दवाएं, जैसे कि एसिटामिनोफेन (Acetaminophen ) या इबुप्रोफेन (Ibuprofen) लेने को बोल सकते हैं।
  • डॉक्टर आपको आराम करने के लिए बोलेंगे।

जैसा कि आपने निमोनिया और वाॅकिंग निमोनिया में अंतर जाना। लेकिन इन दोनों को आप एक समझने की गलती न करें। ऐसा भी न करें कि निमोनिया के शुरुआती लक्षण को वाॅकिंग निमोनिया समझकर घर पर ही इलाज शुरू कर दें। दोनों की केस में आप डॉक्टर से मिलें । बस इतना है कि वाॅकिंग निमोनिया में मरीज की जान को खतरा नहीं होता है। अधिक जानकारी के लिए आप आप डॉक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Pneumonia and Walking pneumonia https://radiopaedia.org/articles/atypical-pneumonia Accessed 26 April,2021

Pneumonia and Walking pneumonia https://www.lung.org/lung-health-diseases/lung-disease-lookup/pneumonia/what-causes-pneumonia Accessed 26 April,2021

Pneumonia and Walking pneumonia https://www.hopkinsmedicine.org/health/conditions-and-diseases/pneumonia Accessed 26 April,2021

Pneumonia and Walking pneumonia https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/pneumonia/symptoms-causes/syc-20354204 Accessed 26 April,2021

Pneumonia and Walking pneumonia https://familydoctor.org/condition/pneumonia/ Accessed 26 April,2021

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/04/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड