आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

अपने बच्चे को बॉडी पार्ट्स की पहचान करना सिखाएं इन फन और इजी एक्टिविटीज से!

    अपने बच्चे को बॉडी पार्ट्स की पहचान करना सिखाएं इन फन और इजी एक्टिविटीज से!

    जब आपका टोडलर अपना नाम और बॉडी पार्ट्स को पहचानना सीख जाता है, तो वो एक मेजर माइलस्टोन तक पहुंच जाता है। बच्चे के लिए यह सब सीखना जरूरी है। शिशु के जन्म के बाद उसे यह समझने के कुछ समय लग जाता है कि जिस हाथ को वो देख रहा है वो उसका अपना है। धीरे-धीरे वो शरीर के अन्य अंगों को लेकर अधिक जागरूक हो जाता है। अपने बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) और दूसरों को इसके बारे में बताना महत्वपूर्ण है। यह उनके विकास का हिस्सा है। आज हम इसी बारे में बात करने वाले हैं। हम यह भी जानेंगे कि उनके लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) क्यों जरूरी है और इसके लिए पेरेंट्स क्या कर सकते हैं? सबसे पहले जान लेते हैं कि आपको बच्चों को बॉडी पार्ट्स की पहचान करना कब सिखाना चाहिए?

    बच्चों को बॉडी पार्ट्स की पहचान करना कब सीखना चाहिए?

    बच्चे को बॉडी पार्ट्स (Body parts) के बारे में सीखने का कोई सही समय नहीं है। आप बच्चों को किसी भी उम्र में सिखाना शुरू कर सकते हैं। लेकिन, बच्चे के 13 से 15 महीने के होने के बाद उसे यह सीखने का अच्छा समय है। बच्चे के 18 महीने के होने पर अधिकतर बच्चे अपने कम से कम एक बॉडी पार्ट का नाम लेना सीखा जाते है। दो साल तक का टोडलर विभिन्न बॉडी पार्ट्स (Body parts) के नाम लेने में सक्षम होते हैं।

    बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) सीखाने की शुरुआत करते हुए आपके फेशियल फीचर्स भी बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। क्योंकि, टोडलर सबसे पहले उनको पॉइंट ऑउट करता है। जैसे वो अपने नाक पर हाथ रख कर उसे नोज या नाक कह सकता है। अब जानते हैं कि बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) क्यों जरूरी है?

    और पढ़ें: जानें कुछ खास पेरेंटिंग टिप्स, बच्चों के पालन-पोषण में करेंगे मदद

    बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) क्यों महत्वपूर्ण है?

    अपने बॉडी पार्ट्स को पहचानना और उनकी तरफ पॉइंट ऑउट करने से आपका बच्चा जरूरी लैंग्वेज डेवलपमेंट माइलस्टोन तक पहुंच जाता है। इसके साथ ही बॉडी पार्ट्स (Body parts) के नाम को रिपीट करने से उन्हें अपने शरीर के अंगों के बारे में सीखने में मदद मिलेगी। आप अपने बच्चे को हर एक बॉडी पार्ट के नाम के साथ ही उसके काम को भी एक्सप्लेन करें। जैसे आंखों से हम देख सकते हैं या कान से हम सुन सकते हैं। इससे बच्चा उनमे अंतर करने और जानने में सक्षम हो जाएगा। अब जानते हैं कि बच्चे को बॉडी पार्ट्स के बारे में कैसे सिखाया जा सकता है?

    और पढ़ें: प्री-टीन्स पेरेंटिंग के लिए कुछ खास टिप्स जानिए यहां!

    बच्चे को बॉडी पार्ट्स को सिखाने के क्या हैं तरीके?

    बच्चों को बॉडी पार्ट्स (Body parts) के बारे में सिखाना के लिए आप कई फन-फीलड एक्टिविटीज और बॉडी पार्ट्स गेम्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे वो बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) आसान हो जाएगा। यह कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

    जानवर का उदाहरण दें

    कई बार बच्चे अपने बॉडी पार्ट्स या किसी अन्य के बॉडी पार्ट्स (Body parts) के उदाहरण से उस बारे में नहीं समझ पाते हैं। ऐसे में आप एनिमल सॉफ्ट टॉयज या इमेजिज के इस्तेमाल से और उनकी टांगों, आंखों व नाक से बच्चे को सीखा और समझा सकते हैं। आप इससे बच्चे को यह भी समझा सकते हैं कि एनिमल्स की पूंछ होती है लेकिन मनुष्यों की नहीं होती। अगर आपके घर में कोई पालतू जानवर है, तो समझ लें कि उससे बेहतर और कुछ नहीं है। आप उसका उदाहरण दें। इससे बच्चा और भी जल्दी सीखेगा।

    बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना, Recognizing body parts for kids

    और पढ़ें: कहीं आपका बच्चा तो नहीं हो रहा चाइल्ड एब्यूज का शिकार? ऐसे करें पेरेंटिंग

    बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids): प्रॉप्स का इस्तेमाल करें

    जैसा कि पहले ही बताया गया है कि स्मॉल टॉय के इस्तेमाल से भी आप बच्चे को बॉडी पार्ट्स (Body parts) के बारे में बता सकते हैं। इसके साथ ही आप अन्य प्रॉप्स का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। अगर आप नोज कहते हैं तो हो सकता है कि बच्चा मिरर या आपके नोज पर पॉइंट पॉइंट करे। आप उसे कुछ स्टिकर्स भी दे सकते हैं और बोल सकते हैं कि उसे अपने हाथ पर रखें। इसके बाद नोटिस करें कि आपका बच्चा उसे सही से कर रहा है या नहीं

    अंगों के विभिन्न फंक्शन्स को डिस्क्राइब करें

    बच्चे उदाहरणों से बहुत अधिक सीखते। जैसे सेंसरी पर्सेप्शन्स से, आपको इसे समझाने में और आसानी होगी। आप अपनी आंखों को बंद करें और जोर से बच्चे को बोले क्लोज आईज, ओपन योर आईज आदि। इससे बच्चे आंखों और आंखों के फंक्शन के बारे में समझ जाएगा। ऐसे ही आप अन्य अंगों के साथ भी दोहरा सकते हैं।

    और पढ़ें: पेरेंटिंग स्टाइल: क्या है आपके बच्चे के विकास में आपका योगदान?

    बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids): आसान एक्टिविटीज का लें सहारा

    आप पहली बार में किसी चीज को उतना नहीं सीखते हैं। लेकिन, अगर आप बार-बार उस चीज को सुनते या पढ़ते हैं तो वो बहुत जल्दी आपको याद हो जाती। अपने बच्चों के साथ भी ऐसा ही करें और आप उनके साथ ही आसान एक्टिविटीज को करें और उनसे उनके शरीर के अंगों से संबंधित प्रश्न पूछें। इसके साथ ही कुछ ऐसे काम करने के लिए कहें, ताकि वो इनके बारे में अधिक जान पाएं। जैसे उसे अपने हाथों को धोने के लिए बोले या नाक को साफ करने के लिए कहें।

    म्यूजिक से भी मिले मदद

    अगर अभी भी आपके बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) आसान न हो या ऊपर बताई किसी भी चीज से आपको मदद न मिले, तो आप म्यूजिक की मदद ले सकते हैं। अगर आपका बच्चा किसी पर्टिकुलर नर्सरी रायम और किसी भी पॉपुलर सांग को पसंद करता है, तो आप उसके शब्दों को बॉडी पार्ट्स (Body parts) से रिप्लेस कर दें और फिर उसे गाएं। ऐसे में बच्चे को इस चीज को लर्न करने में आसानी होगी।

    और पढ़ें: Uterus Pain in Early Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी की शुरुआत में यूट्रस में दर्द के 4 सामान्य एवं 2 गंभीर कारणों को!

    इसके साथ ही अगर आप चाहते हैं कि बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) आसान हो सके, तो आप कुछ अन्य तरीकों को भी अपना सकते हैं। जैसे पार्ट्स को काउंट करें। बड़े टोडलर काउंटिंग सीखना शुरू कर देते हैं। ऐसे में बॉडी पार्ट्स (Body parts) को काउंट करने से वो दोनों स्किल्स को सीख सकता है। इसके साथ ही आप अपने अंदर के आर्टिस्ट को बाहर निकालें। एक पेपर पर अपने बच्चे के पैरों को हाथों को ट्रेस करें। उसके बाद उसे उंगलियों और अंगूठे को पहचानने के लिए कहें। ऐसे ही आप अपने चेहरे और अन्य बॉडी पार्ट्स को ट्रेस कर सकते हैं और इससे अपने बच्चे को उन्हें समझाने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में है इचि स्किन, तो इस्तेमाल किए जा सकते हैं यह बेहतरीन प्रॉडक्ट्स!

    उम्मीद है कि बच्चों के लिए बॉडी पार्ट्स को पहचानना (Recognizing body parts for kids) क्यों जरूरी है और इसके बारे में अन्य जानकारी आपको पसंद आई होगी। जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता है, तो उसे आसपास और दुनिया में होने वाली विभिन्न चीजों के बारे में जानकारी होनी चाहिए। इससे उसे सही से ग्रो होने और डिफरेंट स्किल्स को डेवलप करने में मदद मिलेगी। ऐसे ही, उसे अपने बॉडी पार्ट्स (Body parts) के बारे में जानकारी होनी चाहिए।आप फन वे में अगर बच्चे को इसे सिखाएं, तो वो आसानी से सीख जाएंगे। अगर इस बारे में आपके मन में कोई भी सवाल है, तो डॉक्टर से इस बारे में अवश्य जानें।

    आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    health-tool-icon

    बेबी वैक्सीन शेड्यूलर

    इम्यूनाइजेशन शेड्यूल का इस्तेमाल यह जानने के लिए करें कि आपके बच्चे को कब और किन टीकों की आवश्यकता है

    आपके बेबी का जेंडर क्या है?

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: