बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट कैसे बढ़ाएं ?

    बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट कैसे बढ़ाएं ?

    कई पेरेंट्स को अक्सर यही चिंता सताती है कि उनके बच्चे का पढ़ाई में मन नहीं लगता है, इसके लिए वे आखिरकार करें क्या ? बच्चों को खेलने में और घूमने में ज्यादा मजा आता है। जब उनसे पढ़ाई के लिए बोला जाए तो वे बहाने बनाने लगते हैं। पेरेंट्स की ये चिंता जायज भी है क्योंकि, बच्चों के फ्यूचर की नींव रखने का यही सही समय होता है। इस बारे में दिल्ली पब्लिक स्कूल की टीचर अरूणा गोयल ने हैलो स्वास्थ्य को बताया कि, “कई बच्चों में पढ़ाई के प्रति मन न लगने की समस्या देखी जाती है। जिसके पीछे कई कारण हो सकते हैं , यदि समय रहते बच्चे पर ध्यान दिया जाए तो उसे पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा सकता है।”

    बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट कैसे बढ़ाएं ?

    बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट जगाने के लिए जरूरी है कि आप प्रारम्भ से ही बच्चे को रोज कुछ देर पढ़ने के लिए बैठाएं और उन्हें इसके लिए प्रेरित भी करें। जिसके लिए अपनाएं कुछ टिप्स, जैसे कि-

    पढ़ाई का महत्व बताएं:

    अक्सर देखा गया है कि पेरेंट्स बच्चों को टाइम पर स्कूल जाने के लिए और होमवर्क पूरा करने के लिए प्रेरित करते हैं। लेकिन, इतने से ही पेरेंट्स की बच्चों के प्रति जिम्मेदारी पूरी नहीं हो जाती है। इसी साथ, उन्हें बच्चे को ये भी बताना चाहिए कि उनके भविष्य के लिए पढ़ाई क्यों जरूरी है। पढ़ाई करने से उनके भविष्य में क्या बदलाव होगा और कैसे उनकी पर्सनालिटी में विकास होगा। जो बच्चे पढ़कर अच्छे बन जाते हैं,लोग उन्हें ज्यादा प्यार करते हैं, इस तरह से बच्चे को समझाकर उनके अंदर पढ़ाई के प्रति इंटरेस्ट जगाया जा सकता है।

    पढ़ाई का माहौल बनाएं:

    स्कूल और ट्यूशन का एक समय बंधा होता है। जिसमें बच्चे किसी तरह पढ़ लेते हैं। लेकिन, केवल स्कूली किताबों से ही बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट नहीं जगाया जा सकता है। उनका पढ़ाई में मन लगाने के लिए उन्हें ऐसे उदाहरण दें, जो उन्हें पढ़ने को प्रेरित कर सके। घर में पढ़ाई का माहौल बना कर रखें। संभव हो, तो छुट्टी के दिन उन्हें किड्स लाइब्रेरी, बुक फेयर जैसी जगाहों पर अवश्य ले जाएं। वहां अपने से बड़े उम्र के लोगों को पढ़ते देख, उनके अंदर भी पढ़ाई के प्रति इंटरेस्ट बढ़ेगा।

    डिसिप्लिन सिखाएं:

    डिसिप्लिन जीवन के हर क्षेत्र में बहुत जरूरी है, बिना इसके कुछ भी संभव नहीं है। बेहतर जीवन बनाना हो या पढ़ाई-लिखाई में अव्वल आना हो, हर चीज में डिसिप्लिन का होना जरूरी है। इसलिए बच्चे को समय की वैल्यू जरूर सिखानी चाहिए, ताकि वे अपना हर काम सही तरीके और सही समय पर पूरा करें। यदि उनमें डिसिप्लिन होगा तो वे रोजाना अपने समय पर पढ़ाई और होमवर्क पूरा करेंगें।

    किताबें पढ़ने में इंटरेस्ट जगाएं:

    बच्चों को पढ़ने की आदत डालने के लिए उन्हें सिर्फ स्कूली किताबों पर निर्भर न रखें। बच्चे कॉमिक्स करैक्टर से बहुत प्रेरित होते हैं। बच्चों का पढ़ाई में इंटरेस्ट बढ़ाने के लिए उन्हें ऐसी शिक्षाप्रद कहानियों की किताबें ला कर दें। शिक्षा मनोवैज्ञानिक भी मानते हैं कि बच्चों को उनके इंटरेस्ट वाली किताबें पढ़ने देने से उनमें पढ़ाई को लेकर अच्छी आदत विकसित करने में मदद मिलती है।

    बच्चों के साथ उनकी पढ़ाई में शामिल हो जाएं

    बच्चे चाहें जिसकी भी पसंद की किताबें पढ़ रहे हों, आप भी उनके साथ शामिल हो जाएं। ऐसा करने से उन्हें खुशी होगी। इसी के साथ ही वे आपसे अपने पढ़ाई में मन न लगने की वजह भी शेयर कर सकते हैं। इससे उनकी समस्या का हल निकालने में आपको आसानी होगी।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    12 Strategies to Motivate Your Child to Learn/https://www.educationcorner.com/motivating-your-child-to-learn.html/Accessed on 11/12/2019

    How to Make Your Child Interested in Studying/https://parenting.firstcry.com/articles/20-tips-on-how-to-make-your-children-interested-in-study//Accessed on 11/12/2019

    The Secret Formula To Make Your Child Study And Do Homework/https://flintobox.com/blog/parenting/how-to-get-your-child-do-homework/Accessed on 11/12/2019

    Simple Ways to Encourage Learning/https://flintobox.com/blog/parenting/how-to-get-your-child-do-homework/Accessed on 11/12/2019

    Six Steps to Smarter Studying/https://kidshealth.org/en/kids/studying.html/Accessed on 11/12/2019

    Homework and Study Habits: Tips for Kids and Teenagers/https://childdevelopmentinfo.com/learning/tips-for-helping-kids-and-teens-with-homework-and-study-habits/#gs.l6v959/Accessed on 11/12/2019

     

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nikhil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/01/2020 को
    डॉ. अभिषेक कानडे के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड