सिजोफ्रेनिया के कारण पागलों जैसी हरकत करने लगते हैं लोग

By

सिजोफ्रेनिया एक क्रोनिक मानसिक बीमारी है जिसे एक तरह से हम पागलपन भी कह सकते हैं। सिजोफ्रेनिया के कारण रोगी सोचने-समझने की स्थिति में नहीं होता है। वो खुद के साथ-साथ अपने आप-पास के व्यक्ति को भी हानि पहुंचा सकता है। ऐसे मरीजों की सोचने की गति तेज या धीमी भी हो सकती है। अक्सर वो सुनी और देखी हुई बातों को भी एक भ्रम मानने लगते हैं। सिजोफ्रेनिया के कारण पीड़ित रोगियों को पूरे जीवन तक इसके उपचार की जरूरत हो सकती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि उपचार के अभाव में लगभग 90 फीसदी रोगी सिजोफ्रेनिया के कारण आत्महत्या तक कर लेते हैं। दुनियां भीर में प्रति 1000 व्यक्ति में 1 व्यक्ति सिजोफ्रेनिया के कारण मानसिक रूप से बीमार होता है। इसके बारे में अधिक जानने के लिए आप ये क्विज खेल सकते हैं और अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं।

powered by Typeform

और पढ़ें :-

Crohns Disease : क्रोहन रोग क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

नाक से खून आना न करें नजरअंदाज, अपनाएं ये घरेलू उपचार

रूट कैनाल उपचार के बाद न खाएं ये 10 चीजें

जिम उपकरण घर लाएं और महंगी जिम को कहें बाए-बाए

Share now :

रिव्यू की तारीख फ़रवरी 13, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया फ़रवरी 13, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे