थेराप्यूटिक फोटोग्राफी कर सकती है आपका तनाव दूर, कुछ इस तरह

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

आज मोबाइल के जमाने में लोग अपनी यादें, अच्छे पल, खुशी और सेलिब्रेशन सब कुछ उसमें कैद करके रखते हैं। लेकिन, पिछले कुछ सालों तक ये काम एक कैमरा करता था, जिसे फोटोग्राफी कहा जाता है। हालांकि, आज भी फोटोग्राफी का महत्व उतना ही है, जितना पहले था। अब लोग प्री-वेडिंग फोटोशूट्स, शादी का फोटोशूट और सभी छोटीबड़ी खुशियों के लिए आज भी कैमरे का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन, क्या आपको पता है कि फोटोग्राफी तनाव दूर करने का एक जरिया हो सकती है। जी हां, एक रिसर्च के अनुसार यह बात सामने आई है कि फोटोग्राफी तनाव दूर करने में काफी मददगार साबित होती है, जिसे थेराप्यूटिक फोटोग्राफी कहा जाता है। इस फोटोग्राफी से खुद को समझने में मदद मिलती है और आप दुनिया को किस तरह देखते हैं, यह समझने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें : Hepatitis B : हेपेटाइटिस बी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी क्या है

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी में व्यक्तिगत उपचार, विकास, या समझ के उद्देश्य से फोटो लेना, विश्लेषण करना और इस्तेमाल करना शामिल है चाहे वह जानबूझकर ली गई फोटो हो या अनजाने में लिया गया हो। थेराप्यूटिक फोटोग्राफी को रचनात्मक लेखन के साथ जोड़कर देखा जाए तो ये तस्वीरें आपको अपने बारे में और आप दुनिया को कैसे देखते हैं इसके बारे में और अधिक बताती है।  थेराप्यूटिक फोटोग्राफी तनाव दूर करने में काफी मददगार साबित होती है।

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी और फोटो थेरेपी के बीच अंतर क्या है?

इन शब्दों को अक्सर एक-दूसरे के लिए उपयोग किया जाता है हालांकि दोनों के बीच के अंतर को समझना जरूरी है क्योंकि फोटोथेरेपी एक प्रोफेशनल थेरेपिस्ट या मेंटल हेल्थ प्रोफेशनल (इसलिए फोटो “थेरेपी”) द्वारा इस्तेमाल की गई तकनीकों को बताता है। जबकि थेराप्यूटिक फोटोग्राफी अक्सर एक प्रैक्टिस और तकनीक का सेट होता है जिसका इस्तेमाल आप बिना किसी प्रोफेशनल सेटिंग के मदद के करते हैं। हालांकि कई बार जब आप खुद ये करते हैं तो आपके साथ-साथ आपके मेंटल थेरेपी प्रोफेशनल का काम भी कभी-कभी बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ेंः हाइपरटेंशन से बचाव के लिए जरूरी है लाइफस्टाइल में ये बदलाव

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी मेंटल हेल्थ के लिए कैसे बेहतर है

फोटोग्राफी मेडिटेशन की तरह माइंडफुलनेस का एक रूप हो सकता है जो अवसाद और चिंता से पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए अच्छा माना जाता है। अक्सर जब आप तस्वीरें ले रहे होते हैं तो आप अपने आप को “फ्लों” में पाते हैं जो मेडिटेशन की तरह अपने साथ कई हेल्थ बेनिफिट्स लाता है जैसे कि दिमाग को शांत करना और तनाव कम करना। कला लोगों को ऐसे अनुभवों को व्यक्त करने में मदद करती है जिन्हें शब्दों में पिरोना मुश्किल है।

अगर आप कुछ ऐसी तस्वीरें लेते है जिनपर आपको गर्व है तो ऐसी तस्वीरें आपके आत्म-सम्मान को बढ़ा सकती हैं। इसी तरह जब अपने द्वारा खिंची हुई तस्वीरें दूसरों के साथ शेयर करते हैं और उससे आपको पॉजिटिव रिएक्शन मिलता है तो आपका आत्मविश्वास बढ़ सकता हैं और इससे आप सशक्त बन सकते हैं। ऐसा होने से आपको दूसरों के साथ अपनी राय, विचार और कहानी को व्यक्त करने में ज्यादा कंफर्ट आता है। 2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने विजुवल आर्ट में भाग लिया उनमें मनोवैज्ञानिक लचीलापन में काफी बढ़त देखी गई। इस प्रक्रिया के माध्यम से न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन को बढ़ाया जा सकता है जिसकी कम अवसाद से पीड़ित लोगों में हो सकती है। ऐसा करना डिप्रेशन के व्यवहार को रोकने में मदद करने के लिए पाया गया है।

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी की मदद से व्यक्ति के सोचने का तरीका और उसका दुनिया देखने का तरीका समय के साथ बदल सकता है। न्यूरोप्लास्टी हमें बताती है कि हमारा दिमाग हमारे पूरे जीवन में लगातार बदलने और नए कनेक्शन विकसित करने की क्षमता रखता है।

अवसाद, चिंता, दर्द और बहुत कुछ को दूर करने के लिए लोग स्वयं और दूसरों की मदद करने के लिए थेराप्यूटिक फोटोग्राफी तकनीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः सैनिकों के तनाव पर भी करें सर्जिकल स्ट्राइक!

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी के फायदे

  • थेराप्यूटिक फोटोग्राफी लोगों को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में मदद करता है।
  • थेराप्यूटिक फोटोग्राफी सकारात्मक जीवन के अनुभवों पर ध्यान फोकस करने में मदद करता है, किसी पुरानी से जूझ रहे व्यक्ति को उसकी परेशानियों से निकलने में मदद करता है
  • थेराप्यूटिक फोटोग्राफी लोगों में निरंतरता, चैलेंज और नए मौके देता है जिससे व्यक्ति अपने कीमत को पहचानता है और इससे उसका आत्मविश्वास भी बढ़ता है।
  • मरीज कई बार थोड़ी देर के लिए अपनी बीमारी के बारे में भूल जाते हैं और चली आ रही गहरी भावनाओं से बच सकते हैं
  • थेराप्यूटिक फोटोग्राफी लोगों में आर्ट को लेकर खुद को व्यक्त करने में मदद करता है और एक सकारात्मक पहचान बनाएं रखने में व्यक्ति की मदद करता है
  • थेराप्यूटिक फोटोग्राफी स्ट्रेस हॉर्मोन कोर्टिसोल के स्तर को कम करके तनाव को कम करता है

यह भी पढ़ेंः एक्सरसाइज करते समय स्पोर्ट्स ब्रा पहनने के फायदे

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी से ये सीखते हैंः

थेराप्यूटिक फोटोग्राफी आपको बाहर निकलने की प्रेरण देता है। आपको पता चलता है कि हवा में बाहर निकलने से क्या होता है। मूवमेंट, धूप, ताजी हवा सभी आपके मूड को बेहतर बनाने में मदद करता हैं। एक फोटो लेने के अभियान से जब आप पड़ोस में अच्छी चहलकदमी करते हैं तो आपका मन और आत्मा थोड़ी देर के लिए बेहतर महसूस करने लगता है। फोटोग्राफी करने के लिए ऐसा महसूस न करें कि आपको इस यात्रा पर बहुत दूर जाना है बस नीचे सड़क तक पहुंचना भी बहुत अच्छा है। जब आप फोटोग्राफी पर फोकस करके परिचित रास्तों पर चलते हैं तो नई चीजें आपको नजर आएंगी और आप और ज्यादा खुश होंगे।

आपके पास बहुत सारी अद्भुत चीजें हैं जो फोटोग्राफी आपको देखने और रखने में मदद कर सकती हैं। थेराप्यूटिक फोटोग्राफी करने के लिए आपको प्रोफेशनल फोटोग्राफर होने की जरुरत नहीं है। यहां तक कि अगर आप कभी भी प्रोफेशनल फोटोग्राफर बनने की योजना नहीं बनाते हैं तो भी थेराप्यूटिक फोटोग्राफी आपके जीवन को इतने सारे तरीकों से बदल सकता है। तो इंतजार किस बात का बाहर निकलें फोटो क्लिक करना शुरु करें। ये आपको तनाव से बचा सकता है। थेराप्यूटिक फोटोग्राफी आपको खुद को समझने में मदद करती है, जिससे आप आसानी से बाहरी दुनिया को समझ सकते हैं। यह सबसे अच्छा जरिया है, जिससे आप खुद को व्यक्त करते हैं और खोजते हैं।

और पढ़ें :

Chlorpromazine Hydrochloride : क्लोरप्रोमाजाइन हाइड्रोक्लोराइड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

Lady’s Mantle: लेडीज मेंटल क्या है?

जानिए किस तरह आपका फेवरेट कार्टून आपकी मेंटल हेल्थ के बारे में बताता है

जोकर फिल्म ने मेंटल हेल्थ के प्रति लोगों को किया अवेयर, किसी को भी हो सकते हैं ये 5 तरह के डिसऑर्डर

Share now :

रिव्यू की तारीख अगस्त 17, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 23, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे