Gastric Bypass Surgery: गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date नवम्बर 30, 2019 . 3 mins read
Share now

मूल बातें जानिए

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) जिसे रॉक्स इन व्हाई बाईपास भी कहते हैं। ये सर्जरी वजन कम करने के लिए की जाती है। इस सर्जरी में पेट के करीब एक पाउच बनाया जाता है। इस छोटी इंटेस्टाइन से जोड़ दिया जाता है। गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी के बाद खाना स्माल इंटेस्टाइन और पाउच में जाता है। इससे खाना आपके पेट का एक बड़ा हिस्सा और स्माल इंटेस्टाइन का ऊपरी हिस्सा क्रॉस नहीं करता।

गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी करने का कारण आपका वजन घटाना और उससे होने वाली बीमारियों से दूर रखना होता है : वजन से जुड़ी हुई कुछ जानलेवा बीमारियां निम्नलिखित हैं-

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) की जरुरत कब पड़ती है ?

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी की जरुरत पड़ती है जब डाइट और एक्सरसाइज काम न आ रहे हो या फिर आपके वजन से जुड़ी कोई बीमारी हो।

यह भी पढ़ें : वजन कम करने में सहायक डीटॉक्स ड्रिंक

बचाव

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) करवाने से पहले क्या पता होना चाहिए ?

हर कोई गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी नहीं करवा सकता। सर्जरी इन केसेस में नहीं करवाई सकती :

  • सब्सटांस एब्यूज की हिस्ट्री
  • सयकैट्रिक डिसऑर्डर
  • एन्ड स्टेज बीमारी ( हिपेटिक, कार्डियक या पल्मोनरी ) 

इस सर्जरी से जुड़ी समस्याएं और प्रभाव क्या हैं ?

जैसे खतरे एब्डोमिनल सर्जरी में होते है वैसे ही खतरे इस सर्जरी में भी होते है जैसे :

  • बहुत ज्यादा खून बहना
  • इन्फेक्शन
  • एनेस्थीसिया का रिएक्शन होना
  • खून के थक्कों का जमना
  • सांस लेने में परेशानी होना.
  • गैस्ट्रोइंटेस्टिनल सिस्टम में लीकेज होना
  • लम्बे समय के लिए होने वाली परेशानियां ये हो सकती हैं जैसे ;
  • बॉवेल ऑब्स्ट्रक्शन.
  • डायरिया, नौसिया या डंपिंग सिंड्रोम
  • गाल स्टोन
  • हर्निया
  • लौ ब्लड शुगर
  • कुपोषण
  • पेट में परफोरेशन
  • अल्स
  • उल्टियां 

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) जानलेवा नहीं होती।

लेकिन फिर भी समस्याओं से बचाव के तरीके या फिर सर्जरी के असर के बारे में जानना बहुत जरुरी है। किसी भी तरह के और सवाल या जानकारी के लिए अपने सर्जन या डॉक्टर को कंसल्ट करें।

यह भी पढ़ें : वजन कम करने में फायदेमंद हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

प्रक्रिया

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) की तैयारी कैसे करें ?

अगर आप गैस्ट्रिक बायपास के लिए तैयार होते है तो डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले कुछ टेस्ट और एग्जामिनेशन करने को कहेंगे, तैयारी के लिए कुछ तरीके ये हैं :

  • सर्जरी से पहले अपने डॉक्टर या हेल्थ प्रोवाइडर को अपनी दवाओं, विटामिन, मिनरल, हर्बल /डाइटरी सप्लीमेंट के बारे में बता दें। आपके किसी भी खाने पीने के समान या दवाइयों पे रोक लगाई जा सकती है।
  • अगर आप खून को पतला करने के लिए कोई दवा लेते है तो उसके बारे में भी डॉक्टर को जरूर बता दें। 
  • अगर आपको डायबिटीज है तो डॉक्टर से सलाह लें और सर्जरी के बाद क्या बदलाव करने है जान लें।
  • आपको फिजिकल एक्टिविटी प्रोग्राम शुरू करना होगा और स्मोकिंग छोड़ना पड़ेगी।
  • घर पर भी रिकवरी के लिए तैयारी कर लें। अगर आपको लगता है सर्जरी के बाद आपको किसी की हेल्प चाहिए तो किसी को जरूर बता दें।

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) के बाद क्या होता है ?

ऑपरेशन के बाद आप रिकवरी रूम में उठेंगे और डॉक्टर कॉम्प्लीकेशन्स के लिए आपकी जांच करेंगे। सर्जरी के तुरंत बाद आप खली लिक्विड फ़ूड ही ले सकते है जबतक स्माल इंटेस्टाइन के घाव भर न जाएं। आपको एक स्पेशल डाइट प्लान भी फॉलो करना पड़ेगा जिसमे आप लिक्विड से प्यूरी फ़ूड फिर सॉफ्ट फ़ूड और फिर धीरे धीरे हार्ड फ़ूड खा सकते हैं। जबतक आपकी बॉडी पूरी तरह ठीक ना हो जाए। क्या चीज कितनी और कब खानी है इसपर रोक हो सकती है। इसके साथ ही डॉक्टर्स आपको मल्टीविटामिन जैसे आयरन, कैल्शियम या विटामिन बी 12 लेने को भी कह सकते हैं।

किसी भी और सवाल या जानकारी के लिए अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले.

यह भी पढ़ें : खतरा! वजन नहीं किया कम तो हो सकते हैं हृदय रोग के शिकार

रिकवरी

गैस्ट्रिक बायपास सर्जरी (Gastric Bypass Surgery) के बाद आपको क्या करना चाहिए ?

सर्जरी के बाद कुछ डाइट टिप्स ध्यान में रखने चाहिए :

  • धीरे-धीरे खाएं और पिएं
  • छोटी-छोटी मील्स लें
  • खाने के बीच में पानी पिएं
  • खाने को अच्छे से चबाएं
  • हाई प्रोटीन खाना खाएं
  • फैट और शुगर युक्त खाना न खाएं
  • विटामिन और मिनरल सप्लीमेंट जरूर लें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Dental bonding : डेंटल बॉडिंग क्या है?

    डेंटल बॉडिंग कैसे होती है? Dental bonding in hindi डेंटल बॉडिंग के ज्यादा खतरे नहीं होते हैं, लेकिन यह बहुत लंबे समय तक के लिए टिकाउ नहीं होता है।

    Written by shalu
    सर्जरी अप्रैल 23, 2020 . 4 mins read

    Trapeziectomy: ट्रेपेज़ेक्टोमी क्या है?

    ट्रेपेज़ेक्टोमी सर्जरी कैसे की जाती है और ऑपरेशन क्यों जरूरी होता है। सर्जरी के कॉम्प्लीकेशन्स क्या होते हैं, जानें इसके बारे में।

    Written by shalu
    सर्जरी अप्रैल 23, 2020 . 4 mins read

    Umbilical Hernia Surgery: अम्बिलिकल हर्निया सर्जरी क्या है?

    when a muscle or tissue starts coming out of the internal organs through our holes. So this is what we call an umbilical hernia.

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by shalu
    सर्जरी अप्रैल 22, 2020 . 5 mins read

    Partial knee replacement : पार्शियल नी रिप्लेसमेंट क्या है?

    पार्शियल नी रिप्लेसमेंट क्यों किया जाता है? क्या पार्शियल नी रिप्लेसमेंट करने से घुटनों को कोई खतरा होता है? जानें पार्शियल नी रिप्लेसमेंट की प्रक्रिया।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 22, 2020 . 4 mins read

    Recommended for you

    एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी-Endoscopic Sinus Surgery

    Endoscopic Sinus Surgery: एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी क्या है?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on मई 17, 2020 . 4 mins read
    ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट के जोखिम क्या है

    Auditory Brainstem Implants : ऑडिटरी ब्रेनस्टेम इम्प्लांट क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    Published on मई 10, 2020 . 3 mins read
    Achilles tendon

    Achilles Tendon Rupture: अकिलिस टेंडन सर्जरी क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    Published on अप्रैल 24, 2020 . 4 mins read
    पुरुष नसबंदी ऑपरेशन/Vasectomy

    Vasectomy: पुरुष नसबंदी ऑपरेशन क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by shalu
    Published on अप्रैल 23, 2020 . 4 mins read