Vitamin B12: विटामिन बी-12 क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Abhishek Kanade

परिचय

विटामिन बी-12 क्या है?

विटामिन बी-12, जिसे कोबलामिन के रूप में भी जाना जाता है। शरीर के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण विटामिन है। यह लाल रक्त कोशिकाओं और डीएनए के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन बी-12 स्वाभाविक रूप से नॉनवेज फूड में अधिक पाया जाता है, जैसे कि मांस, मछली, मुर्गी, अंडे और डेयरी प्रोडक्ट आदि शामिल हैं।

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में विभिन विटामिन, मिनरल, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और फाइबर इत्यादि की आवश्यकता होती है। शरीर ज्यादातर आवश्यक तत्वों का पोषण आहार पदार्थो से हो जाता है। यह एक ऐसा विटामिन है जो स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है। भारत में कई लोगों में शामिल है। 

विटामिन B-12 को कोब्लामिन भी कहा जाता है। यह एकलौता ऐसा विटामिन है जिसमे कोबाल्ट (Cobalt) धातु पाया जाता है। यह शरीर के स्वास्थ्य और संतुलित कार्य प्रणाली के लिए बेहद आवश्यक विटामिन है। यह सबसे बड़ा और सबसे संरचनात्मक रूप से जटिल विटामिन है।

कैसे काम करता है विटामिन बी-12?

विटामिन बी 12 मस्तिष्क, नसों, रक्त कोशिकाओं और शरीर के कई अन्य हिस्सों के उचित कार्य और विकास के लिए आवश्यक है। यह शरीर में कैसे काम करता है, इस बारे में बहुत जानकारी नहीं है हमारे पास।

उपयोग

विटामिन बी-12 का उपयोग किस लिए किया जाता है?

  • यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood cells) के निर्माण हेतु बेहद जरुरी होता है।
  • शरीर में ब्लड की कमी एनीमिया (Anaemia) होने पर यह बहुत फायदेमंद होता है, जो शरीर में खून की मात्रा की उचित मात्रा बनाए रखता है।0
  • यह विटामिन शरीर में तंत्रिका प्रणाली (Nervous System) को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। इसकी कमी के कारण मस्तिष्क आघात (Brain Damage) भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें: Pernicious anemia: पारनिसियस एनीमिया क्या है?

  • शरीर में फॉलिक एसिड का अवशोषण नहीं हो पाने पर इसका इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है।
  • विटामिन B-12 की सेवन से ह्रदय रोग के खतरे को कम करता है। 
  • इससे कर्क रोग और अल्जाइमर जैसे रोगों का खतरा बहुत हद तक कम हो जाता है।
  • यह शरीर में ऊर्जा का प्रभावी रूप से संचार करता है और बुढ़ापे को दूर रखता है।

यह भी पढ़ें: कब्ज और ह्रदय रोग वालों के लिए वरदान है ज्वार (Jowar), जानें फायदे

  • यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और साथ ही तनाव से निपटने में मदद भी करता है। इसीलिए इसे एंटी स्ट्रेस विटामिन भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: 6 महीने से ऊपर के बच्चे में हीमोग्लोबिन बढ़ाने वाले फूड्स

कितना सुरक्षित है विटामिन बी-12 का उपयोग?

जब विटामिन बी-12 का सेवन खाद्य पदार्थों के माध्यम से किया जाता है, तो अधिकतर यह सुरक्षित माना जाता है। इसके लिक्विड फॉर्म को त्वचा पर लगाया जाता है या गोली के रूप में डॉक्टर द्वारा रेकमेंड किया जाता है, इंजेक्ट किया जाता है (IV द्वारा) इन तरीकों से बड़ी खुराक में भी इसका सेवन सुरक्षित माना जाता है ।

विशेष सावधानी और चेतावनी:

गर्भावस्था और स्तनपान:

अगर आप डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार लेने पर गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है। गर्भवती महिलाओं के लिए अनुशंसित मात्रा प्रति दिन 2.6 एमसीजी है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रति दिन 2.8 एमसीजी से अधिक नहीं लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें: वर्किंग वीमेन के लिए स्तनपान कराने के 7 टिप्स

सर्जिकल स्टेंट प्लेसमेंट:

कोरोनरी स्टेंट प्राप्त करने के बाद विटामिन बी-12, फोलेट और विटामिन बी-6 के संयोजन का उपयोग करने से बचें। इस संयोजन से रक्त वाहिका के सिकुड़ने का खतरा बढ़ सकता है।

कोबाल्ट या कोब्लामिन के प्रति एलर्जी या संवेदनशीलता:

यदि आपको कोबाल्ट या कोब्लामिन वाली चीजों से एलर्जी है तो विटामिन बी-12 का उपयोग न करें।

वंशानुगत नेत्र रोग:

यदि आपको वंशानुगत आंख संबंधी विकार है या अंधापन है तो इसका सेवन न करें। क्योंकि यह ऑप्टिक तंत्रिका को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे अंधापन हो सकता है।

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया:

मेगालोबलास्टिक एनीमिया को कभी-कभी विटामिन-12 के साथ इलाज द्वारा ठीक किया जाता है। हालांकि, इसके बहुत गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

लाल रक्त कोशिकाओं (पॉलीसिथेमिया वेरा) की उच्च संख्या:

यह भी पढ़ें: विटामिन-डी डेफिशियेंसी (कमी) से बचने के लिए खाएं ये 7 चीजें

विटामिन बी-12 की कमी का इलाज पॉलीसिथेमिया वेरा के लक्षणों को कम कर सकता है।

साइड इफेक्ट्स

विटामिन बी-12 से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

विटामिन बी -12 लेने के दुष्प्रभाव बहुत सीमित हैं। इसे उच्च मात्रा में विषाक्त नहीं माना जाता है, और यहां तक ​​कि 1000-एमसीजी खुराक को भी हानिकारक नहीं माना जाता है।

2001 के बाद से बी -12 की स्वास्थ्य के प्रति किसी विपरीत प्रतिक्रिया की कोई रिपोर्ट नहीं आई है, जब जर्मनी में एक व्यक्ति ने बी -12 सप्लीमेंट के परिणाम के रूप में रोजेशिया की सूचना दी।

साइनोकोबालामिन इस सप्लीमेंट का एक इंजेक्शन रूप है जिसमें साइनाइड, एक जहरीला पदार्थ के निशान होते हैं। परिणामस्वरूप, इसके संभावित प्रभावों के बारे में कुछ चिंताएं व्यक्त की गई हैं। हालांकि, कई फलों और सब्जियों में ये निशान होते हैं, और इसे कोई खास स्वास्थ्य जोखिम नहीं माना जाता है।

इस प्रकार का पूरक, हालांकि, गुर्दे की बीमारी वाले लोगों के लिए रेकमेंडेड नहीं होते हैं।

ये भी पढ़ें: Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

प्रभाव/सहभागिता

यह मेरे दवाओं या वर्तमान स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित कर सकता है?

विटामिन बी-12 आपकी दवाओं या चिकित्सा स्थितियों (अगर आप किसी प्रकार के मेडिकल ट्रीटमेंट के अंदर हैं) के साथ इंटरैक्ट कर सकता है। इसलिए सावधानी और सुरक्षा के लिए इसके उपयोग से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।विटामिन बी 12 के को प्रभावित करने वाले उत्पादों में शामिल हैं:

क्लोरैमफेनिकॉल

यह नई रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण है। क्लोरैमफेनिकॉल नई रक्त कोशिकाओं में कमी कर सकता है। लंबे समय तक क्लोरैमफेनिकॉल लेने से नई रक्त कोशिकाओं पर विटामिन बी-12 का प्रभाव कम हो सकता है। हालांकि अधिकतर लोग इसका सेवन थोड़े समय के लिए करते हैं, इसलिए यह इंटरैक्शन एक बड़ी समस्या नहीं है।

ये भी पढ़ें: Drum Stick : सहजन क्या है?

डोसेज

विटामिन बी 12 के लिए सामान्य खुराक क्या है?

वैज्ञानिक अनुसंधान में निम्नलिखित खुराक का अध्ययन किया गया है:

वयस्कों के लिए:

मुंह से सेवन करने की स्थिति में:

विटामिन बी-12 की सामान्य सप्लीमेंट खुराक प्रति दिन 1-25 mcg है।

विटामिन बी-12 के अनुशंसित आहार भत्ते (Recommended Dietary Allowance) हैं:

  • बड़े बच्चे 1.8 mcg
  • वयस्क 2.4 mcg
  • गर्भवती महिला 2.6 mcg
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए 2.8 mcg

10% से 30% वृद्ध लोग भोजन-आधारित विटामिन B12 को कुशलता से अवशोषित नहीं करते हैं, इसलिए 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को इसके साथ फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थ खाने या विटामिन B12 सप्लीमेंट लेने से आरडीए से मिलना चाहिए। वृद्ध लोगों में विटामिन बी 12 के स्तर को बनाए रखने के लिए प्रति दिन 25-100 एमसीजी की खुराक का उपयोग किया गया है।

स्किन के लिए इस्तेमाल करने पर:

एटोपिक डर्माटाइटिस (एक्जिमा) के लिए:

एक विशिष्ट विटामिन बी-12, 0.07% क्रीम (Regividerm) दो बार दैनिक उपयोग किया जाता है।

सोरायसिस के लिए:

एवोकैडो तेल और विटामिन बी-12, 0.7 मिलीग्राम/ ग्राम युक्त एक विशिष्ट क्रीम (Regividerm, Regeneratio Pharma AG, Wuppertal, Germany) का उपयोग 12 हफ्तों के लिए दो बार दैनिक रूप से किया जाता है।

निर्देश के रूप में:

विटामिन बी 12 की कमी के लिए सामान्य खुराक 5-10 दिनों के लिए 30 एमसीजी आईएम / एससी दैनिक है। चिकित्सकीय रख-रखाव के लिए, 100-200 एमसीजी एक बार मासिक रूप से उपयोग किया जाता है। साइनोकोबालामिन और हाइड्रोक्सोकोबालिन दोनों रूपों का उपयोग किया जाता है।

ये भी पढ़ें: Cumin Seed : जीरा क्या है?

दाद के लिए:

त्वचा के नीचे एक इंजेक्शन के रूप में, विटामिन बी-12 के 1000 एमसीजी, 100 मिलीग्राम थियामिन के साथ या इसके बिना 4 सप्ताह के लिए छह बार साप्ताहिक रूप से दिया गया है।

बच्चे द्वारा मुंह से सेवन करने हेतु:

विटामिन बी 12 के अनुशंसित आहार भत्ते (आरडीए) हैं:

  • शिशु 0-6 महीने – 0.4 एमसीजी
  • शिशु 7-12 महीने – 0.5 एमसीजी
  • बच्चे 1-3 वर्ष 0.9 एमसीजी
  • बच्चे 4-8 साल 1.2 एमसीजी
  • बच्चे 9-13 साल और इससे बड़े बच्चे – 1.8 एमसीजी

ये भी पढ़ें: Clove : लौंग क्या है?

उपलब्ध

विटामिन बी 12 किस रूप में आता है?

विटामिन बी 12 निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप
  • कैप्सूल
  • गोलियां

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 6, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 7, 2019